myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

सिलिकॉन एक खनिज है जो मानव शरीर के लिए बेहद उपयोगी होता है। यह न केवल ऊतकों और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है, बल्कि त्वचा, नाखून और बालों की देखभाल के लिए भी आवश्यक होता है।

सिलिकॉन एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis/ धमनियों से संबंधित रोग), अनिद्रा, टीबी और एल्यूमीनियम से होने वाली विषाक्तता को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सिलिकॉन के इन्हीं गुणों के चलते आपको इसके बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। इसमें आपको सिलिकॉन क्या है, सिलिकॉन के फायदे, सिलिकॉन की अधिकता, सिलिकॉन को कितनी मात्रा में लेना चाहिए और सिलिकॉन के स्त्रोतों के विषय में पूरी जानकारी दी जा रही है।

(और पढ़ें - नींद न आने के घरेलू उपाय)

  1. सिलिकॉन क्या है? - Silicon kya hai?
  2. सिलिकॉन के फायदे - Silicon ke fayde
  3. सिलिकॉन की अधिकता - Silicon ki adhikta
  4. सिलिकॉन के स्त्रोत - Silicon ke srot

ऑक्सीजन के बाद पृथ्वी में सिलिकॉन ही दूसरा सबसे अधिक पाए जाने वाला तत्व है। यह शरीर के अलावा तकनीकी उपकरणों में भी काम आता है। शरीर में सिलिकॉन खनिज के रूप में मौजूद होता है। इससे जोड़ों में लचिलापन और मजबूती बनी रहती है। साथ ही चमकती त्वचा और मजबूत हड्डियों के लिए भी इस खनिज की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें - जिंक के फायदे)

शरीर में यह खनिज सिलानेट (Silanate) और सिलिसिक एसिड (Silicic Acid) के रूप में मौजूद होता है। भोजन में सिलिकॉन को शामिल किया जाना बेहद जरूरी होता है, क्योंकि इससे विटामिन डी, ग्लूकोसामाइन (Glucosamine) और कैल्शियम से शरीर को मिलने वाले फायदों में बढ़ोतरी होती है।

(और पढ़ें - विटामिन के फायदे)

कई सालों पहले सिलिकॉन को केवल पौधों और पशुओं के लिए ही जरूरी माना जाता था, लेकिन बाद में हुई रिसर्च से इस बात का पता चला कि यह मानव शरीर के लिए भी महत्वपूर्ण होता है। इसके फायदों के बारे में नीचे विस्तार से जानें -

  1. हड्डियों के लिए जरूरी होता है
    हड्डियो के जोड़ों, हड्डियों के विकास, उनके रखरखाव और लचीलेपन में कैल्शियम के साथ मिलकर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके साथ ही सिलिकॉन हड्डियों में होने वाले परिवर्तनों और टूटी हुई हड्डियों को तेजी से ठीक करने में सहायक होता है। (और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत करने के उपाय)
     
  2. एलोपीशिया के इलाज में महत्वपूर्ण होता है
    आहार में सिलिकॉन व अन्य पोषक तत्वों की कमी से आपको गंजापन हो सकता है या बालों कम सकते हैं। सिलिकॉन को नियमित रूप से आहार में शामिल करने से बाल स्वस्थ रहते हैं। इसके साथ ही बालों की चमक और मजबूती के लिए सिलिकॉन बेहद जरूरी खनिज माना जाता है। (और पढ़ें - गंजापन दूर करने के घरेलू उपाय)
     
  3. त्वचा की देखभाल करता है सिलिकॉन
    सिलिकॉन त्वचा के ऊतकों में लोच को बढ़ता है और बढ़ती उम्र के प्रभावों को कम करता है। इसके साथ ही त्वचा को चमकदार बनाता है और कोलेजन को बढ़ाकर झुर्रियों को कम करने में मदद करता है। सिलिकॉन आपकी आंखों के लिए भी आवश्यक माना जाता है। (और पढ़ें - चेहरे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय)
     
  4. नाखूनों के लिए महत्वपूर्ण होता है
    सिलिकॉन नाखूनों के स्वास्थ्य और उनके रखरखाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह अन्य पोषक तत्वों के साथ मिलकर नाखून की ऊपरी और निचली परत को मजबूत करने का काम करता है। इसके अलावा सिलिकॉन नाखून के कमजोर होने और नाखूनों में संक्रमण की समस्या को भी रोकता है। (और पढ़ें - नाखूनों की देखभाल के टिप्स)
     
  5. एथेरोस्क्लेरोसिस से बचाव करता है
    सिलिकॉन, एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis: धमनियों से संबंधित रोग) में धमनियों के अंदर बनने वाले प्लाक (गंदगी) को कम करने में सहायक होता है। धमनियों में कोलेस्ट्रोल प्लाक के रूप में इक्ट्ठा हो जाता है, इससे धमनियां कठोर हो जाती हैं और यह हार्ट अटैक और स्ट्रोक का कारण बनता है। (और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय)
     
  6. सिलिकॉन कई रोगों के इलाज में सहायक होता है
    सिलिकॉन टीबी व कई तरह के रोगों से आपकी सुरक्षा करता है। यह टूटी हुई हड्डियों के इलाज में सहायक होता है। इसके साथ ही सिलिकॉन हृदय रोग जैसे हार्ट अटैक, एथरोस्क्लेरोसिस और स्ट्रोक आदि रोगों के होने की संभावना को कम करने में सहायक होता है। (और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये आहार)
     
  7. एल्यूमीनियम विषाक्ता को कम करता है
    अल्जाइमर रोग से ग्रस्त मरीजों के मस्तिष्क में एल्यूमीनियम की अधिक मात्रा पाई जाती है। सिलिकॉन एल्यूमीनियम के साथ मिलकर शरीर में उसके अवशोषित होने को कम करता है। इससे एल्यूमीनियम से होने वाली विषाक्तता के लक्षण कम होते हैं। 

(और पढ़ें - अल्जाइमर रोग के खतरे को कम करने वाले आहार)

थोड़े समय के लिए सिलिकॉन की अधिक मात्रा लेने से आपको किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन अगर आप लंबे समय तक सिलिकॉन की अधिक मात्रा लेते हैं, तो इससे आपके स्वास्थ्य पर कई तरह के विपरीत प्रभाव पड़ सकते हैं।

सिलिकॉन की अधिकता से आपकी किडनी में पथरी (किडनी स्टोन) बनने की संभावनाएं बढ़ जाती है। इसके अलावा सिलिका पाउडर जब आपकी सांसों से शरीर के अंदर जाता है तो इससे फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है।

19 से 50 साल के व्यस्कों के लिए सिलिकॉन की 9 से 14 मिलीग्राम मात्रा को रोजाना लेना सही माना गया है।

(और पढ़ें - पथरी का घरेलू उपाय)

अन्य खनिजों की तरह ही सिलिकॉन की रोजाना आवश्यकता को आप खाद्य पदार्थों के माध्यम से पूरा कर सकते हैं। सिलिकॉन को दवा के रूप में लेने की अपेक्षा इसको खाद्य पदार्थों के द्वारा लेना उचित माना जाता है। नीचे आपको सिलिकॉन युक्त खाद्य पदार्थों के बारे में बताया जा रहा है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें