myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कई बार रात को बिना डिनर किए आप सो गए होंगे। इसको लेकर कभी कुछ सोचा भी नहीं होगा। जबकि रात को बिना खाना खाए सोना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अध्ययनों में भी इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि रात को भूखे पेट सोने से नींद टूट सकती है, मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं। इसके अलावा और भी कई नुकसान हो सकते हैं। 

(और पढ़ें - अच्छी गहरी नींद के लिए आयुर्वेदिक टिप्स)

आइए जानते हैं इनके बारे में।

रात को सोने से पहले क्यों खाना है जरूरी
भूखे पेट होने की वजह से रात को अच्छी तरह नींद नहीं आती। अगर आप सो भी गए होते हैं, तो भी दिमाग पूरी तरह आराम नहीं कर पाता। भूख बार-बार आपको परेशान करती है। इसके अलावा अच्छी नींद नहीं होने की वजह से मेटाबाॅलिज्म का स्तर घट जाता है और हार्मोन ग्रेनिल (भूख बढ़ाने वाला हार्मोन) का स्तर बढ़ जाता है। इससे वजन बढ़ने की आशंका रहती है। आपको बता दें कि गहरी नींद की कमी की वजह से स्वस्थ लोगों में एनर्जी का स्तर घट सकता है। समय बीतने के साथ-साथ नींद की कमी की वजह से प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर हो जाता है और कैंसर के जोखिम बढ़ जाते हैं। यही नहीं डायबिटीज की आशंका में भी बढ़ोत्तरी होती है।

भूखे पेट सोने का प्रभाव

  • वजन बढ़ सकता है:
    कुछ लोग यह सोच सकते हैं कि रात को न खाकर सोने की वजह से वे अपने वजन को संतुलित कर रहे हैं। जबकि सच्चाई यह है कि आपको जितनी ज्यादा भूख लगेगी, बाद में आप उतना ही ज्यादा खा लेंगे। अगर आप भूख बढ़ने का इंतजार करते हैं तो इससे शुगर का स्तर गिरने लगता है। नतीजतन जब भी आपको खाना मिलता है, आप खाने पर टूट पड़ते हैं। इससे भी खतरनाक यह है कि रात को भूखे पेट सोने की वजह से ब्लड शुगर बदलता है, जो मेटाबाॅलिज्म के स्तर को प्रभावित करता है। (और पढ़ें - नार्मल ब्लड शुगर लेवल कितना होना चाहिए)
     
  • अगले दिन खूब खाते हैं:
    बेशक रात को आपने अपनी डाइट को कंट्रोल कर लिया है और भूखे पेट सो गए हैं। लेकिन अगले दिन नाश्ते में आप बहुत ज्यादा खाना खा जाते हैं। हालांकि अगर आप नाश्ते में फाइबर और प्रोटीन युक्त आहार लेते हैं तो इससे वजन घटाने में मदद मिलती है। साथ ही पूरे दिन कुछ न कुछ खाने की चाह भी कम होती है। यह स्वस्थ जीवनशैली की निशानी है। लेकिन जब आप अपनी डाइट को संतुलित नहीं रखते तो जाने-अनजाने पूरे दिन कुछ न कुछ खाते रहते हैं, जो कि सही नहीं है। 
     
  • एनर्जी का स्तर कम होता है:
    क्या आपको लगता है कि रात को आपके शरीर को खाना खाने की जरूरत नहीं है? अगर हां, तो एक बार फिर सोचें। शरीर को चौबीस घंटे ऊर्जा की जरूरत होती है। शरीर हर समय कैलोरी बर्न करता है। विशेषज्ञों के अनुसार रात को पर्याप्त नींद लेने की वजह से आपका एनर्जी स्तर बेहतर होता है। लेकिन भूख की वजह से गहरी नींद नहीं ले पाते जिससे एनर्जी स्तर पूरे दिन कम रहता है। इसलिए रात को सोने से पहले कुछ न कुछ जरूर खाएं। 
     
  • मूड बदलता है:
    भूखे पेट सोने की वजह से अगले दिन हर समय गुस्सा और चिड़चिड़ेपन का अहसास बना रहता है। भूखा रहना किसी को पसंद नहीं है। इसी वजह से मूड स्विंग होता है। अतः रात को सोने से पहले खाकर सोएं। डिनर करके सोने से आपका मूड सही रहेगा। साथ ही निजी जिंदगी आराम से गुजरेगी। (और पढ़ें - गुस्सा कैसे कम करें)

कुल मिलाकर कहने की बात यह है कि भूखे पेट सोना किसी भी मायने में सही नहीं है। इससे आपका स्वास्थ्य भी प्रभावित होता है। इसलिए कोशिश करें कि रात को हल्का-फुल्का ही सही, खाकर सोएं।

और पढ़ें ...