myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हमारा स्वास्थ्य पैसे की तरह है, जब तक हम इसे नहीं खो देते हैं तब तक हमें इसकी सही कदर नहीं होती है। हर किसी को अपने स्वास्थ्य को अधिक महत्व देना चाहिए लेकिन दुर्भाग्य से, हम में से अधिकांश अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में इस्ते व्यस्त होते हैं कि हम अपने स्वास्थ्य को अनदेखा करते हैं।

याद रखें कि आपके स्वास्थ्य और आपके शरीर के बीच संबंध है और जो भी आप अपने दैनिक दिनचर्या में करते हैं, उसका स्वास्थ्य पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कुछ आम अस्वस्थ आदतों को नष्ट करने या बदलने से, आप अपने शरीर को स्वस्थ, शारीरिक और मानसिक रूप से ठीक रख सकते हैं।

  1. नींद ना आना है स्वास्थ्य के लिए खराब - Lack of Sleep Bad for Health in Hindi
  2. फास्ट फूड के नुकसान करें सेहत को खराब - Fast Food not Good for Health in Hindi
  3. सोडा पेय है स्वास्थ्य के लिए हानिकारक - Soda Water Bad for Your Health in Hindi
  4. मोबाइल फोन अधिक उपयोग है सेहत के लिए अभिशाप - Excessive Use of Mobile Phones is Harmful for Health in Hindi
  5. पेनकिलर के दुष्प्रभाव सेहत के लिए - Painkiller not Good for Health in Hindi
  6. मूत्र को रोकने के दुष्प्रभाव करें सेहत पर असर - Ignoring the Urge to Pass Stools Bad for Health in Hindi
  7. सेहत के नहीं है अच्छा लंबे समय तक बैठना - Prolonged Sitting Affect your Health in Hindi
  8. लिफ्ट का लगातार उपयोग करता है स्वास्थ्य खराब - Always Taking Elevator not Good for Health in Hindi
  9. सूर्य के प्रकाश की कमी बढ़ाएँ स्वास्थ्य मुश्किलें - Avoiding the Sun Completely Affect your Health in Hindi
  10. नकारात्मक सोच करें मानसिक स्वास्थ्य पर असर - Negative Thinking Bad for Health in Hindi

यदि आपका व्यस्त कार्यक्रम आपकी रात की नींद को प्रभावित कर रहा है तो अपना शेड्यूल बदलने के लिए कदम उठाएं ताकि आप पर्याप्त नींद का आनंद ले सकें।

राष्ट्रीय नींद फाउंडेशन के अनुसार, वयस्कों को हर रात कम से कम 7 से 8 घंटे सोना चाहिए। बच्चों और किशोरों को 9 से 11 घंटे तक नींद की जरूरत होती है।

खरभ नींद खरभ प्रतिरक्षा के साथ साथ कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के साथ जुड़ी हुई है। नियमित रूप से नींद का अभाव संक्रमण के जोखिम और अन्य गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों को बढ़ाता है जैसे हृदय रोग, स्ट्रोक, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह और मोटापा

आपकी नींद के समय का भी आपके जीवन काल पर सीधा प्रभाव पड़ता है। स्लीप जर्नल में प्रकाशित एक 2007 के अध्ययन से पता चला है कि नींद की अवधि में वृद्धि और कमी दोनों मृत्यु दर की वृद्धि से जुड़ी हुई है। (और पढ़ें - नींद के लिए घरेलू उपाय)

नींद के साथ-साथ, नेशनल स्लीप फाउंडेशन ने बेहतर सतर्कता और प्रदर्शन के लिए 20 से 30 मिनट की छोटी झपकी की सलाह भी दी है।

यदि आपके पास खाना बनाने का समय नहीं है, तो आपको फास्ट फूड के लिए चलना सबसे अच्छा समाधान लगता है।

लेकिन फास्ट फूड आपके आहार के लिए बहुत कम या कोई पोषक तत्व का योगदान नहीं देता है। इसके बजाय, इन खाद्य पदार्थों को अधिक कैलोरी, वसा, चीनी और नमक सामग्री के साथ पैक किया जाता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है।

इस तरह का अस्वस्थ भोजन कई स्वास्थ्य समस्याओं में योगदान देता है। मोटापा, टाइप 2 मधुमेह, हृदय रोग, स्ट्रोक, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मनोभ्रंश और कई प्रकार के कैंसर एक अस्वस्थ आहार से संबंधित हैं। इसके अलावा फास्ट फूड पर जीवित रहने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। 

(और पढ़ें - स्ट्रोक का इलाज)

अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए, अपना स्वयं का खाना बनाने के लिए समय निकालें। खाना पकाने में आर्गेनिक फलों और सब्जियों, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ, कम वसा वाले डेयरी आइटम और स्वस्थ वसा को शामिल करें। इसके अलावा, अपने नमक और चीनी का सेवन सीमित करें।

व्होल-ग्रेन में सैंडविच, दलिया, सूप और सलाद कुछ आसान चीजें हैं जो आप घर पर तैयार कर सकते हैं और दोपहर के भोजन के लिए पैक कर सकते हैं।

हमारी प्यास बुझाने के लिए हम में से बहुत से अक्सर पानी की जगह सोडा के सेवन करते हैं यह जाने कि यह हमारे लिए कितना हानिकारक है।

मिठाई सोडा पेय अतिरिक्त वजन, टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा देते हैं। डायट सोडा भी स्वस्थ नहीं हैं, क्योंकि ये वजन बढ़ाने पर नियंत्रण करने के बजाय, ये आपकी भूख और चीनी की लालसा को प्रोत्साहित करते हैं।

कुछ सोडा में कैफीन भी होता है जो निर्जलीकरण के लिए योगदान देता है। तो, ऐसे पेय के साथ अपनी प्यास को बुझाना अच्छा विचार नहीं है। जब प्यास लग रही हो तो केवल सादे पानी का चयन करें और कुछ नहीं। प्यास बुझाने के लिए यह सबसे अच्छा पेय है इसके अलावा, यह कैलोरी-मुक्त है।

कई बार, लोगों को यह भी नहीं पता होता है कि वे पर्याप्त पानी नहीं पी रहे हैं।

राष्ट्रीय किडनी फाउंडेशन के मुताबिक, एक स्वस्थ वयस्क को गुर्दे की स्वस्थ रखने के लिए कम से कम 10 से 12 गिलास तरल पदार्थ पीना चाहिए और इसे शरीर अच्छी तरह हाइड्रेटेड रहता है।

सेल फोन और हेडफ़ोन का अत्यधिक उपयोग एक वैश्विक आदत बन रहा है। इस आदत का आपके स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

बीएमसी पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन में यह बताया गया है कि 1 वर्ष के दौरान युवा वयस्कों (20 से 24 वर्ष) में उच्च मोबाइल फोन उपयोग के साथ तनाव, अवसाद और नींद के विकारों के लक्षण जुड़े थे।

न सिर्फ मोबाइल, ई-रीडर्स भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं हैं। नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की प्रोसिडिंग्स में प्रकाशित एक 2015 के अध्ययन के अनुसार, लाइट-एमिटिंग ई-रीडर का उपयोग नींद, सिरकाडियन टाइम और सुबह की सतर्कता को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है।

सामान्य दर्द को कम करने के लिए हर समय दर्द निवारक पर भरोसा करना एक गंभीर समस्या नहीं हो सकता है लेकिन इसके कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

हालांकि ये अस्थायी रूप से दर्द को कम करने में सहायता करते हैं, ये दर्द निवारक कई दुष्प्रभावों के साथ आते हैं। वे गैस्ट्रोइंटेस्टिनल संबंधी संकट पैदा कर सकते हैं, गुर्दे, लिवर या हृदय के कार्यों को ख़राब करना आदि।

इसके अलावा, मादक दर्द की दवाएं भी उनींदापन या ड्रोसिनेस्स और कब्ज पैदा कर सकती हैं। जब आप उन्हें लंबी अवधि के लिए लेते हैं तो भी आप नशीली दवाओं पर अपनी निर्भरता को विकसित करते हैं। 

(और पढ़ें - कब्ज के लक्षण)

दर्द को मारने के लिए गोली के बजाय, कुछ प्राकृतिक उपाय और वैकल्पिक दर्द प्रबंधन तकनीक जैसे एक्यूप्रेशर, योग या ध्यान की कोशिश करें।

यदि दर्द बनी रहता है, तो अस्थायी सुधारों के साथ समस्या को दबाने के बजाय अपने चिकित्सक से सटीक कारण और उपचार का पता लगाना सुनिश्चित करें।

जब आप काम में लीन हो जाते हैं, कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण, ड्राइविंग या यात्रा कर रहे हैं तो आप नेचर कॉल (मूत्र या शौच के लिए जाना) में विलंब करते हैं।

लेकिन अगर आप टॉयलेट का इस्तेमाल करने की इच्छा को अनदेखा करते हैं, तो आप अपने मूत्राशय और गुर्दे पर तनाव डाल रहे हैं। नियमित आधार पर लंबे समय के लिए मूत्र को बनाए रखना किडनी की विफलता, गुर्दा की पथरी और असंयम का कारण बन सकता है।

जब मूत्र लंबे समय तक मूत्राशय में रहता है, यह मूत्र में जीवाणुओं को कई गुणा करने का कारण बनता है, जो मूत्र पथ के संक्रमण या किडनी संक्रमण का कारण बन सकता है।

इसी तरह, मल को पारित करने की इच्छा को रोक कर रखना भी एक बुरी आदत है। जब मल शरीर में लंबे समय तक रहता है, तो कोलन शरीर में द्रव को वापस अवशोषित करता है जो कब्ज और दस्त का कारण बनाते हैं।

भले ही आप अपने कंप्यूटर या टीवी स्क्रीन के सामने बैठे हों, लंबे समय तक बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है।

कोई भी ब्रेक ना लेकर लंबी अवधि तक बैठना मोटापे और चयापचयी सिंड्रोम सहित कई स्वास्थ्य चिंताओं का कारण बन सकता है (ऐसी स्थिति का क्लस्टर जिसमें रक्तचाप, उच्च रक्त शर्करा, सामान्य कोलेस्ट्रॉल का स्तर आदि शामिल है)।

अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन में यह बताया गया है कि बिना कोई शारीरिक गतिविधि किए लंबे समय तक टेलीविज़न / स्क्रीन देखने से मृत्यु दर और हृदय संबंधी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

यह आपके पोस्चर के साथ-साथ आपकी रीढ़ और जोड़ों के लिए भी खराब है। लंबे घंटों के लिए बैठने के नकारात्मक प्रभावों से बचाने के लिए लगातार विराम लें। बैठने के हर 1 घंटे के लिए 10 मिनट का ब्रेक लें।

यदि आप सीढ़ियों पर चढ़ने पर विचार करते हैं, जब लिफ्ट काम नहीं कर रही है, तो आपको इसमें दो बार सोचने की जरूरत नहीं है।

सीढ़ियों को लेने और लिफ्ट छोड़ने के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। यह उन लोगों के लिए एक नि: शुल्क कसरत है जिनके पास व्यायाम या जिम जाने के लिए समय नहीं है।

सीढ़ियों पर चढ़ना आपके दिल के लिए अच्छा है। यह आपके खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है और आपके अच्छे कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा सकता है। यह तनाव को कम, तनाव से लड़ सकता है, वजन बनाए रख सकता है और आपके जोड़ों को मजबूत कर सकता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिसौरी-कोलम्बिया शोधकर्ताओं द्वारा 2008 के एक अध्ययन ने रोग नियंत्रण और रोकथाम के केंद्रों के दावे का समर्थन किया है कि दैनिक शारीरिक गतिविधि में कमी, मधुमेह और हृदय रोग सहित कई रोगों के जोखिम कारकों का एक वास्तविक कारण है।

सीढ़ियों के साथ-साथ रोजाना 20 से 30 मिनट के लिए पैदल चलें, सप्ताह में कुछ समय में एरोबिक अभ्यास का आनंद लें और सप्ताहांत पर तैराकी, साइकिल चलाना, ट्रेकिंग या अन्य खेलों का चुनाव करें।

त्वचा पर पराबैंगनी (यूवी) सूर्य के हानिकारक प्रभावों की बढ़ती जागरूकता के साथ, कुछ लोग सूरज की रोशनी से पूरी तरह से बचते हैं।

दिन के चोटी के घंटे के दौरान कठोर सनराइज से परहेज करते समय ठीक है, पूरी तरह से सूर्य के प्रकाश से बचने का कोई अच्छा विचार नहीं है।

शरीर के लिए विटामिन डी की कमी के लिए सूर्य के प्रकाश की आवश्यकता होती है। विटामिन डी की कमी के कारण कई स्वास्थ्य जटिलताएं हो सकती हैं।

जर्नल ऑफ़ इन्व्हेस्टीएटिव मेडिसीन में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन में यह बताया गया है कि विटामिन डी सहज और अनुकूली प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं के मॉड्यूलेशन के लिए महत्वपूर्ण है। इसकी कमी संक्रमण के बढ़ते जोखिम से जुड़ी होती है और कई ऑटोइम्यून बीमारियां होती हैं।

कैंसर महामारी विज्ञान, बायोमार्कर्स और रोकथाम में प्रकाशित एक और 2011 का अध्ययन इस बात पर प्रकाश डाला है कि सामान्य सूर्य के जोखिम से कार्डियोवैस्कुलर रोग और मृत्यु दोनों के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है।

नकारात्मक सोच और तनाव के कारण आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

गंभीर तनाव, विशेष रूप से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। कार्नेगी मेलॉन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा 2012 के एक अध्ययन के अनुसार, पुराना मनोवैज्ञानिक तनाव शरीर की सूजन को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करता है और रोगों के विकास और प्रगति को बढ़ावा देता है।

दूसरी ओर, सकारात्मक सोच बेहतर मनोवैज्ञानिक और शारीरिक कल्याण को बढ़ावा देती है। रोचेस्टर में मेयो क्लिनिक के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक 2000 के अध्ययन के मुताबिक सकारात्मकता आपके जीवन काल को भी बढ़ा सकती है।

सकारात्मक सोच के हर दिन अभ्यास करें। इसके अलावा, छूट लाने और तनाव का प्रबंधन करने में सहायता करने के लिए गहरी साँस लेने और ध्यान जैसे विश्राम तकनीकों का प्रयास करें।
 

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें