myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

किसी ऐसे व्यक्ति को ढूंढ़ना मुश्किल है, जिसके शरीर में अपने जीवनकाल में कभी भी विटामिन या खनिज की कमी न हुई हो। अधिकांश लोगों में इनकी कमी पाई जाती है। जबकि संतुलित आहार लेकर इनकी पूर्ति की जा सकती। बहरहाल, क्या आप जानते हैं कि विटामिन या खनिज की कमी होने पर इसका पता कैसे लगाया जा सकता है? विटामिन और खनिज की कमी होने पर आपके शरीर में कई ऐसे लक्षण उभरकर आते हैं, जिनसे इनकी कमी का पता लगाया जा सकता है। आइए इन लक्षणों के बारे में हम आपको बताते हैं।

कमजोर होते नाखून
अगर आपके नाखून इतने कमजोर हो गए हैं कि बार-बार टूटते हैं, तो सजग हो जाएं। इसका मतलब है कि आपमें बायोटिन की कमी है। बायोटिन को विटामिन बी 7 के नाम से भी जाना जाता है। यह शरीर में मौजूद आहार को ऊर्जा में बदलने का काम करता है। अतः बहुत ज्यादा बाल झड़ने लगे या फिर नाखून टूट रहे हैं, तो विशेषज्ञ से संपर्क करें।

(और पढ़ें - विटामिन बी 12 की कमी के लक्षण)

बहुत ज्यादा झड़ते हैं बाल
विटामिन जैसे कि आयरन, जिंक, लिनोलिक एसिड और अल्फा लिनोलेनिक एसिड, नियासिन (विटामिन बी3) और बायोटिन (विटामिन बी7) की कमी की वजह से बहुत ज्यादा बाल झड़ते हैं। बहुत ज्यादा बाल झड़ने पर लापरवाही न बरतें। बेहतर होगा बाल झड़ने को एक लक्षण के रूप में लें और डाॅक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़ें - विटामिन ई की कमी के लक्षण)

रूखी त्वचा
सर्दी के मौसम में रूखी त्वचा होना आम बात है। लेकिन अगर आपकी त्वचा सामान्य लोगों की तुलना में ज्यादा रूखी है, तो यह चिंता का विषय है। ऐसा आपकी डाइट में औषधीय तेल की कमी की वजह से हो रहा है। आप अपनी डाइट में फैटी एसिड जैसे कि ओमेगा-3 फैटी एसिड शामिल करें। यह आपकी त्वचा को अंदर से मॉइस्चराइज करता है और विषाक्त पदार्थ को निकाल बाहर करता है।

(और पढ़ें - विटामिन बी 9 की कमी के लक्षण)

मुंहासों का होना
विटामिन ए को बीटा कैरोटीन के नाम से भी जाना जाता है। यह प्रतिरक्षा तंत्र, त्वचा स्वास्थ्य, देखने की क्षमता, प्रजनन क्षमता और कोशिकाओं का आपस में संपर्क बनाए रखने में मदद करता है। अगर आपमें विटामिन ए की कमी है तो आपके चेहरे पर मुंहासे, रतौंधी, रूखी त्वचा, रूखे बाल, गाल, हाथ, जांघ और नितंब पर लाल-सफेद दाने, वर्णान्धता (कलर ब्लाइंडनेस), संक्रमित आंखें, नाखूनों पर लंबी धारियां हो सकती हैं। विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए आप अपनी डाइट में शकरकंद, गाजर, हरी सब्जियां, कद्दू, पहाड़ी खरबूजा, लाल, पीला और नारंगी रंग के शिमला मिर्च, सूखे खुबानी, मटर और ब्रोकली शामिल करें।

(और पढ़ें - चेहरे पर विटामिन की कमी के संकेत)

मांसपेशियों में सिकुड़न
मांसपेशियों में सिकुड़न मैग्नीशियम की कमी की वजह से होती है। इसके साथ ही मैग्नीशियम की कमी की वजह से आप में असामान्य हृदयगति, मांसपेशियों में ऐंठन, अंगुलियों और पैरों में सुन्नता और झुनझुनी, पैरों में बेचैनी, मतली, गर्मी लगना, चिंता, तनाव, हाई बीपी की समस्या भी होती है। मैग्नीशियम की कमी की आपूर्ति के लिए आप नट्स, बीज, हरी पत्तेदार सब्जियां, सोयाबीन, साबुत अनाज, एवोकाडो, केला, डेयरी उत्पाद और डार्क चाॅकलेट खा सकते हैं।

(और पढ़ें - विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ)

यहां दिए गए लक्षणों के आधार पर अब आप जान सकते हैं कि आपमें किस विटामिन या खनिज की कमी है। इनमें से कोई भी लक्षण दिखने पर आप अपनी डाइट को संतुलित करें। इसके बावजूद अगर समस्या कम न हो, तो डाक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें