myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट क्या होता है ?

फैलोपियन ट्यूब (Fallopian Tube), गर्भाशय के दोनों ओर दो पतली ट्यूब होती हैं जो एक विकसित अंडे को अंडाशय से गर्भाशय तक लाती हैं। यह ट्यूब निषेचन (fertilization) की प्रक्रिया के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। निषेचन तब होता है जब विकसित अंडे फैलोपियन ट्यूब से होते हुए गर्भाशय में आ रहे होते हैं।

फैलोपियन ट्यूब के बंद होने से अंडे गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाते हैं, जिससे निषेचन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाती और गर्भधारण नहीं हो पाता है।

जब किसी बाधा के कारण महिला के अंडाशय से अंडे गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाते हैं, तो कहा जाता है कि उसे "फैलोपियन ट्यूब में रुकावट" होने की समस्या है।

संक्रमण, सर्जरी और बार-बार होने वाले जखम के बाद फैलोपियन ट्यूब में अंदरूनी घावों के कारण फैलोपियन ट्यूब में रुकावट हो सकती है।

आमतौर पर फैलोपियन ट्यूब बंद होने के गर्भधारण करने में समस्या के अलावा कोई लक्षण नहीं होते हैं। कुछ मामलों में, इससे पेट के एक तरफ हल्का, तेज़ या निरंतर दर्द हो सकता है।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंट न हो पाने के कारण)

अगर आप काफी समय से गर्भधारण नहीं कर पा रही हैं, तो आपके डॉक्टर फैलोपियन ट्यूब में बाधा का निदान कर सकते हैं। गर्भधारण में समस्या के अन्य कारणों के लिए आपको अल्ट्रासाउंड और अन्य परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है।

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का इलाज उपलब्ध है लेकिन यह इस पर निर्भर करता है कि रुकावट कितनी है। अगर आपकी दोनों में से एक ट्यूब में रुकावट है, तब भी आप गर्भवती हो सकती हैं क्योंकि ओवुलेशन (Ovulation) के दौरान, हर महीने अलग-अलग अंडाशय से अंडा गर्भाशय में आता है। फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के लिए निषेचन की दवाएं और सर्जरी भी उपलब्ध हैं।

(और पढ़ें - महिला बांझपन के लिए घरेलू उपाय)

  1. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के लक्षण - Blocked Fallopian Tubes Symptoms in Hindi
  2. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के कारण और जोखिम कारक - Blocked Fallopian Tubes Causes & Risks in Hindi
  3. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के बचाव के उपाय - Prevention of Blocked Fallopian Tubes in Hindi
  4. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का निदान - Diagnosis of Blocked Fallopian Tubes in Hindi
  5. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का उपचार - Blocked Fallopian Tubes Treatment in Hindi
  6. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की जटिलताएं - Blocked Fallopian Tubes Complications

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के क्या लक्षण होते हैं ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के लक्षण निम्नलिखित हैं -

  • आमतौर पर फैलोपियन ट्यूब में रूकावट होने का एकमात्र लक्षण होता है गर्भधारण करने में समस्या होना।
  • कुछ मामलों में, फैलोपियन ट्यूब बंद होने से श्रोणि (Pelvis) व पेट में दर्द हो सकता है। यह दर्द हल्का, तेज़ या निरंतर हो सकता है। इससे सम्बंधित दर्द पीरियड्स के दौरान भी हो सकता है। (और पढ़ें - masik dharm ke dard ka ilaj)
  • फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के कारणों के अपने लक्षण भी हो सकते हैं। उदाहरण के तौर पर एंडोमेट्रिओसिस (अन्तर्गर्भाशय अस्थानता) से अक्सर मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव और पेट व श्रोणि में ज़्यादा दर्द होता है और यह आपके फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के जोखिम को बढ़ाता है। (और पढ़ें - मासिक धर्म कम होने के कारण)
  • फैलोपियन ट्यूब में रुकावट बांझपन (प्रजनन क्षमता में कमी) का एक मुख्य कारण है। शुक्राणु व अंडे फैलोपियन ट्यूब में निषेचन (Fertilization) के लिए मिलते हैं, फैलोपियन ट्यूब में रुकावट से निषेचन (Fertilization) में समस्या आ सकती है। (और पढ़ें - शुक्राणु बढ़ाने के लिए उपाय)
  • कभी-कभी फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के कारण निषेचित अंडा कहीं और अटक जाता है जिससे एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) होती है।

(और पढ़ें - pregnancy ke lakshan)

अगर किसी महिला को यह आभास होता है कि उन्हें एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) की समस्या है, तो उन्हें तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं। हालांकि, कई महिलाओं को इसमें गर्भावस्था के लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि पेट के एक तरफ दर्द होना या योनि से रक्तस्त्राव होना।

(और पढ़ें - pregnant hone ka tarika)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के क्या कारण होते हैं ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के कारण निम्नलिखित हैं -

  1. पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज
    पीआईडी एक ऐसी स्थिति है जिसमें संक्रमण के कारण श्रोणि (Pelvis) में सूजन होती है। यह एक यौन संचारित रोग है जो आपकी फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का कारण बन सकता है। (और पढ़ें - sujan dur karne ke tarike)

  2. एसटीडी (यौन संचारित रोग)
    क्लैमाइडिया या सूजाक (गोनोरिया) जैसे अन्य यौन संचारित रोग के कारण भी फैलोपियन ट्यूब में बाधा उत्पन्न हो सकती है। इन समस्याओं का समाधान होने के बाद भी यह आपकी फैलोपियन ट्यूब में रुकावट पैदा कर सकते हैं।
    (और पढ़ें - dhatu rog ka upchar)

  3. एंडोमेट्रिओसिस (अन्तर्गर्भाशय अस्थानता)
    यह फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का सबसे आम कारण है। हर महीने मासिक धर्म चक्र के दौरान, आपके गर्भाशय में एक परत बनती है जो मासिक धरम के दौरान निकल जाती है। एंडोमेट्रिओसिस से ग्रस्त महिलाओं में यह परत गर्भाशय के बाहर फैलने लगती है (कुछ गंभीर मामलों में, फैलोपियन ट्यूब व योनि में)। यह परत मासिक धर्म के दौरान निकलने की जगह जमा होती जाती है जिससे फैलोपियन ट्यूब में रुकावट आ सकती है।

  4. सर्जरी
    अगर आपकी फैलोपियन ट्यूब से सम्बंधित कोई सर्जरी हुई है, तो आपको फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की समस्या हो सकती है। (और पढ़ें - अंडाशय से सिस्ट हटाने की सर्जरी)

  5. अपेंडिक्स (अपेन्डिसाइटिस)
    कुछ मामलों में, अपेंडिक्स की समस्याओं के कारण भी फैलोपियन ट्यूब में रुकावट हो सकती है।

  6. हॉर्मोन की असामान्यताएं
    हॉर्मोन में गड़बड़ी या असामान्यताओं के कारण फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की समस्या उत्पन्न हो सकती है। (और पढ़ें - महिला में हार्मोन का महत्व)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के जोखिम कारक क्या होते हैं ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के जोखिम कारक निम्नलिखित हैं -

  • अगर गर्भपात या मिसकैरेज के कारण पहले कभी यूटीआई हुआ हो। 
  • कभी पहले हुई पेट की कोई भी सर्जरी
  • अगर एक्टोपिक प्रेगनेंसी हुई हो।
  • पहले कभी फैलोपियन ट्यूब से सम्बंधित कोई सर्जरी हुई हो।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में सोने का सही तरीका)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के बचाव के क्या उपाय होते हैं ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट से बचने के लिए निम्नलिखित तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है -

(और पढ़ें - पेट में सूजन का इलाज)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के कारण गर्भवती होने में समस्या हो सकती है लेकिन यह नामुमकिन नहीं है।

अपनी समस्या के लिए डॉक्टर से अपने उपचार के बारे में बात करें। एक स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखना, अच्छे भोजन का सेवन करना और नियमित व्यायाम करना मददगार साबित हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिला का भोजन)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का निदान कैसे होता है ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का निदान करना मुश्किल हो सकता है क्योंकि यह ट्यूब खुलती व बंद होती रहती हैं जिससे यह कह पाना मुश्किल हो जाता है कि ट्यूब में रुकावट है या वह बंद है।

चिकित्सा इतिहास के आधार पर डॉक्टर फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का निदान कर सकते हैं। जैसे - अगर किसी महिला को गर्भ धारण करने में समस्या आ रही है, तो फैलोपियन ट्यूब में रुकावट इसकी एक वजह हो सकती है।

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट के निदान के लिए तीन मुख्य परीक्षण होते हैं -

  • हिस्टेरोसेलपिंगोग्राम या एचएसजी (Hysterosalpingogram or HSG)
    हिस्टेरोसेलपिंगोग्राम एक तरह का एक्स रे है जिसे करने से पहले डॉक्टर आपके गर्भाशय में सुई के माध्यम से एक डाई डालते हैं। यह डाई हानिकारक नहीं होती। यह फैलोपियन ट्यूब तक जाती है जिससे डॉक्टर उसके आंतरिक भागों को ठीक से देख पाते हैं। अगर यह डाई फैलोपियन ट्यूब में नहीं जा पाती है, तो इसकी वजह रुकावट हो सकती है। एचएसजी आपके डॉक्टर के क्लिनिक में किया जा सकता है और यह आपके मासिक धर्म चक्र के पहले भाग में किया जाना चाहिए। (और पढ़ें - सीटी स्कैन कैसे होता है)
     
  • अल्ट्रासाउंड
    अल्ट्रासाउंड भी हिस्टेरोसेलपिंगोग्राम जैसा ही होता है लेकिन इसमें फैलोपियन ट्यूब की तस्वीर बनाने के लिए ध्वनि का प्रयोग किया जाता है। (और पढ़ें - एमआरआई स्कैन क्या है)
     
  • लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy)
    लैप्रोस्कोपी में, डॉक्टर आपके शरीर में एक छोटा सा चीरा लगाते हैं और उसमें एक छोटा सा कैमरा डाला जाता है जो फैलोपियन ट्यूब की अंदर से तस्वीरें लेता है। लैप्रोस्कोपी, फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की जांच का सबसे सटीक तरीका है। हालांकि, डॉक्टर शुरूआती जांच के समय इसकी सलाह नहीं देते हैं क्योंकि यह चीरकर या काटकर की जाने वाली प्रक्रिया है।

(और पढ़ें - एंडोस्कोपी कैसे होती है)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का इलाज कैसे होता है ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का इलाज निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है -

  1. एक तरफ की फैलोपियन ट्यूब की रुकावट का इलाज मुश्किल नहीं होता है। अगर एक ही तरफ की फैलोपियन ट्यूब में रुकावट है, तो गर्भधारण करने में समस्या नहीं होनी चाहिए क्योंकि अंडे दूसरी फैलोपियन ट्यूब से भी गर्भाशय तक आ सकते हैं। अप्रभावित फैलोपियन ट्यूब के द्वारा अंडे गर्भाशय तक आने की सम्भावना बढ़ाने के लिए कुछ दवाएं भी उपलब्ध हैं। (और पढ़ें - माँ बनने की सही उम्र)

  2. दोनों तरफ की फैलोपियन ट्यूब में रुकावट हो तो बिना उपचार के गर्भवती होना असंभव होता है। अगर फैलोपियन ट्यूब आंशिक रूप से बंद है, तो आप गर्भवती हो सकती हैं लेकिन इसमें एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) का जोखिम बढ़ सकता है क्योंकि अंडे को गर्भाशय तक जाने की पूरी जगह नहीं मिलती है। इन मामलों में, उपचार के आधार पर डॉक्टर आपको आईवीएफ (टेस्ट ट्यूब बेबी) की सलाह भी दे सकते हैं। (और पढ़ें - आईवीएफ क्या होता है)

  3. अगर दोनों फैलोपियन ट्यूब में रुकावट है, तो दवाओं से इसका उपचार नहीं हो पाता है। इस मामले में, लैप्रोस्कोपी इसका सबसे सटीक इलाज होता है। कम उम्र की महिलाओं में लैप्रोस्कोपी के सफल होने की अधिक सम्भावना होती है। यह सर्जरी या तो रुकावट को ठीक कर देती है या उस ऊतक को हटा देती है जिसके कारण समस्या हो रही है। (और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए)

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की क्या जटिलताएं होती हैं ?

फैलोपियन ट्यूब में रुकावट की निम्नलिखित जटिलताएं हो सकती हैं -

  • फैलोपियन ट्यूब में रुकावट से गर्भवती होने में समस्या हो सकती है लेकिन यह नामुमकिन नहीं है। लैप्रोस्कोपी से रुकावट को हटाकर प्रजनन क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। अगर सर्जरी मुमकिन नहीं है और आपका स्वास्थ्य अच्छा है, तो आईवीएफ (टेस्ट ट्यूब बेबी) के द्वारा बच्चा किया जा सकता है। (और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले आहार)
     
  • इसकी सबसे सामान्य जटिलता है एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था)। अगर फैलोपियन ट्यूब में आंशिक रूप से रुकावट है, तो अंडा निषेचित तो हो जाता है परन्तु वह ट्यूब में फस सकता है जिससे एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) होती है जो कि एक आपातकालीन स्थिति है। (और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास)
     
  • फैलोपियन ट्यूब के एक भाग को हटाने वाली सर्जरी से भी एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (अस्थानिक गर्भावस्था) का जोखिम बढ़ता है। इन जोखिम कारकों की वजह से डॉक्टर सर्जरी की जगह आईवीएफ (टेस्ट ट्यूब बेबी) की सलाह देते हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में देखभाल कैसे करें)

और पढ़ें ...