myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

योनि में दर्द कई वजहों से हो सकता है। इसमें संक्रमण, चोट आदि कई कारण हो सकते हैं। कई बार योनि में होने वाले दर्द का कारण स्पष्ट नहीं हो पाता है, ऐसे दर्द को वल्बोडायनिया कहा जाता है। शारीरिक संबंधों के कारण होने वाले संक्रमणों के चलते भी योनि में दर्द की समस्या हो सकती है। कई मौकों पर देखने को मिलता है कि दर्द और सामाजिक झेप के चलते महिलाएं इस बारे में खुलकर बात नहीं कर पाती हैं, ऐसे में समस्या गंभीर रूप ले लेती है। आमतौर पर जलन, खुजली, चुभन जैसी समस्याओं के साथ दर्द की शुरुआत होती है।

ज्यादा दर्द की स्थिति में डॉक्टर से सलाह और उपचार बहुत आवश्यक होता है। हालांकि, शुरुआती चरणों में ही अगर इसकी पहचान कर ली जाए तो इसे आसान घरेलू उपचारों के माध्यम से भी सही किया जा सकता है। आज हम आपको बताएंगे कि आखिर वह कौन से घरेलू उपाय हैं, जिन्हें प्रयोग में लाकर इस समस्या को दूर किया जा सकता है।

  1. यीस्ट संक्रमण जनित योनि का दर्द और घरेलू उपचार - Yeast Infections se Yoni ka Dard aur uske Gharelu Upchar
  2. गोनोरिया जनित योनि का दर्द और उसके घरेलू उपाय - Gonorrhea se hone wala Yoni ka Dard aur uske Gharelu Upay
  3. सूजन के कारण दर्द और उसके घरेलू उपाय - Soojan ke Karan Yoni me Dard aur uske Gharelu Upay

यीस्ट संक्रमण योनि में होने वाले दर्द के प्रमुख कारणों में से एक है। लगभग 75 फीसद महिलाएं जीवन में कभी न कभी इस तरह की समस्याओं से दो चार होती हैं। यीस्ट संक्रमण जनित योनि के दर्द के लिए दही एक उपयोगी घरेलू उपचार है। दही में लैक्टोबैसिलस एसिडोफिलस जैसे जीवित बैक्टीरिया होते हैं जो संक्रमण और उससे होने वाले दर्द को जड़ से खत्म कर सकते हैं।

आवश्यक सामग्री
दही वैक्टीरिया युक्त

इस्तेमाल करने का तरीका

  • योनि के संक्रमित हिस्सों पर दही का लेप लगाएंं
  • दही का सेवन भी फायदेमंद होता है। यह शरीर से यीस्ट को कम करने में मदद करता है।
  • अगर आपको दही पसंद नहीं है तो आप प्रोबायोटेक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

सावधानियां

  • घरेलू उपचार के लिए सादी दही का ही इस्तेमाल करें।
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें कि दही में पहले से ही मौजूद मिठास यानि शर्करा न हो। शर्करा युक्त दही लगाने से कैंडिडा फंगस के पैदा होने का खतरा होता है।

गोनोरिया यौन क्रियाकलापों द्वारा एक-दूसरे में फैलने वाला संक्रामक रोग है। इसके कारण योनि में दर्द हो सकता है। इस दर्द को दूर करने में सेब का सिरका काफी बेहतरीन औषधि मानी जाती है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण गोनोरिया से होने वाले संक्रमण को दूर करने में सहायक होता है। संक्रमण दूर होने के साथ ही दर्द भी खत्म होने लगता है।

आवश्यक सामग्री
दो से चार चम्मच सेब का सिरका

इस्तेमाल करने का तरीका

  • सेब के सिरके को योनि के आसपास के हिस्सों पर लगाएं।
  • सिरका लगाकर उसे कुछ समय के लिए ऐसे ही छोड़ दें। कुछ समय बात यह स्वत: वाष्पित हो जाएगा।
  • त्वचा पर लगाने से अगर जलन हो तो सिरके में थोड़ी मात्रा में पानी मिला लें।
  • सिरके को प्रभावित हिस्से पर लगाने के साथ इसका सेवन भी लाभदायक होता है।

कई बार योनि में सूजन के कारण दर्द होना शुरू हो जाता है। सूजन कई कारणों जैसे संक्रमण, संभोग ​जनित समस्याओं आदि के कारण हो सकता है। आमतौर पर संक्रमण के कारण योनि और आसपास के हिस्सों में सूजन आ जाती है। इस समस्या में लहसुन का उपयोग लाभदायक होता है।

आवश्यक सामग्री
लहसुन की 4 से 5 कलियां

इस्तेमाल का तरीका

  • लहसुन एंटीसेप्टिक और जीवाणुरोधी गुणों से भरपूर होता है। 
  • 4-5 लहसुन की कलियों का सेवन करें। यह बैक्‍टीरिया और खमीर संक्रमण दोनों का इलाज कर सकता है जो वैजिनाइटिस का कारण बनतें है।

कब करें सेवन

  • लहसुन की कच्ची कलियों को दिन में दो से तीन बार खाया जा सकता है।
  • भोजन में भी लहसुन को इस्तेमाल करना लाभदायक होता है।
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें