myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मौजूदा जिंदगी में हर कोई बहुत व्यस्त हो चुका है। किसी के पास एक्सरसाइज करने का समय तक नहीं है। नतीजतन ज्यादातर लोग अस्वस्थ रहते हैं। यही नहीं ज्यादातर लोग अकड़न, मांसपेशियों में दर्द जैसी समस्या से परेशान रहते हैं। हैरानी की बात यह है कि इन दिनों इस तरह की समस्या हर उम्रवर्ग में देखी जा रही है। लेकिन योग के पास इस समस्या का बेहतरीन उपाय है। चाहे आप किसी भी उम्रवर्ग के हों या फिर आपका शरीर कितना ही जकड़ा हुआ क्यों न हो। कुछ ऐसे आसन हैं, जिन्हें कोई भी आसानी से कर सकता है। यहां हम आपको ऐसे ही आसनों के बारे में बता रहे हैं जो आपको हेल्दी और फिट रख सकते हैं।

(और पढ़ें - ध्यान करने का तरीका)

गहरी सांस लें
संस्कृत में एक कहावत है, ‘‘सांस लेने के लिए जिंदगी है, अगर आप अच्छी तरह सांस लेते हैं, आप लंबी जिंदगी जीते हैं।’’ इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आप किस तरह से गहरी सांस ले रहे हैं। आप चाहें तो प्राणायाम की तकनीकों को अपनाकर गहरी सांस ले सकते हैं। तमाम शोध यह सुझाव देते हैं कि धीरे-धीरे और गहरी सांस लेने से आपका शरीर बेहतर तरह से रिलैक्स होता है, आपकी हृदयगति बेहतर होती है, ब्लड प्रेशर कम होता है, पाचन तंत्र बेहतर तरह से काम करता है, तनाव कम होता है और दर्द में भी कमी आती है। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि इसे कोई भी कर सकता है। फिर चाहे आप किसी भी उम्रवर्ग से संबंध रखते हैं, आपको चोट लगी है या फिर आपकी शारीरिक क्षमता कम है।

(और पढ़ें - चिंता खत्म करने के लिए योगासन)

संतुलन बनाएं
हालांकि सभी योगाचार्य संतुलन बनाने में विशेषज्ञ होते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप ऐसा नहीं कर सकते। संतुलन बनाने के लिए आप वृक्षासन, गरुड़ासन कर सकते हैं। इन आसन की मदद से आपकी एकाग्र क्षमता और शारीरिक जागरूकता बढ़ती है। इसके साथ ही शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियां बेहतर तरीके से काम करती हैं। दरअसल गरुड़ासन या वृक्षासन करने के दौरान आप एक पैर से संतुलन बनाने की कोशिश करते हैं। इन आसनों की मदद से आपको यह भी पता चलेगा कि कहीं आपके दोनों पैरों के बीच किसी तरह की असामान्यता तो नहीं है। वक्त गुजरने के साथ-साथ संतुलन बनाए रखने वाले ये आसन शारीरिक और भावनात्मक रूप से स्थिरता को बढ़ाते हैं।

(और पढ़ें - कूल्हों को कम करने के लिए योग)

करें ताड़ासन
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ज्यादातर योगी पूरे दिन में कुछ घंटों के लिए ही आसन करते हैं। इसका मतलब यह है कि पूरे दिन तरह-तरह के आसन करने के बजाय कुछ आसन करें, जिससे आपको भरपूर लाभ मिल सके। ध्यान रखें कि आप जिस भी तरह का आसन करते हैं, उसकी पाॅजिशन और पोस्चर बहुत मायने रखती है। इससे आपकी सांस, पाचन और मूड तीनों प्रभावित होते हैं। वक्त गुजरने के साथ-साथ इस आसन की मदद से जोड़ों में दर्द आदि की समस्या भी कम होती है। नियमित ताड़ासन करने से आप में बेहतर पोस्चर की आदत विकसित होती है। यह आपको रोजमर्रा की जिंदगी के लिए काफी मददगार है। इस आसन को कोई भी कर सकता है। इसके लिए आपको योग में विशेषज्ञ होने की जरूरत नहीं है। हां, अगर कोई समस्या हो तो योगाचार्य से संपर्क करें।

(और पढ़ें - कमर दर्द के लिए योगासन)

सरल है अधो मुख श्वानासन
तमाम महत्वपूर्ण योगासनों में अधो मुख श्वानासन भी शामिल है। यह कंधों, पैरों और हाथों को ताकत देता है। यह रीढ़ की हड्डी को लंबा करता है और निचले, मध्य और ऊपरी कमर में दर्द से आराम देता है। यह आसन रक्त प्रवाह को विपरीत दिशा में बढ़ाकर शरीर को लाभ पहुंचाता है। इस आसन को करने के लिए भी किसी तरह की विशेषज्ञता की जरूरत नहीं है। आप इस आसन को आसानी से कर सकते हैं।

(और पढ़ें - स्लिप डिस्क के लिए योग)

फायदेमदं है बालासन
बालासन आपके शरीर के तनाव को कम कर मानसिक और शारीरिक रूप से आराम देता है। यह आपके कूल्हे, घुटने, एड़ी और जांघों को लचीला बनाता है। साथ ही पीठ के निचले हिस्से, रीढ़ की हड्डी और गर्दन को रिलैक्स करता है। अगर आप बहुत थकान महसूस करते हैं तो इस आसन को करें। इस आसन को छोटे बच्चे की तरह घुटने पर बैठकर किया जाता है। इस आसन के असंख्य लाभ हैं। तमाम उपयोगी आसनों की तरह इस आसन को भी बिना मुश्किलों के कर सकते हैं। अगर किसी को यह आसन करने में समस्या आ रही है तो उन्हें अपने घुटनों और पैरों में अतिरिक्त खिंचाव नहीं देना चाहिए।

(और पढ़ें - गठिया के लिए योग)

यहां बताए गए सभी आसन बहुत आसान हैं। इन्हें कोई भी, कभी भी कर सकता है। इन आसनों को नियमित करने से आपके पूरे स्वास्थ्य को लाभ मिलता है। अगर इन्हें करने में समस्या आये तो विशेषज्ञ से संपर्क करें।

और पढ़ें ...