• हिं

Ayursun Itis Ointment

 135 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा
25 GM ऑइंटमेंट 1 ट्यूब ₹ 90

  • उत्पादक: Ayursun Pharma
  • रखने का तरीका: सामान्य तापमान में रखें
  • विक्रेता: Ayursun Pharma
    • मूल का देश: India

    Ayursun Itis Ointment की जानकारी

    Ayursun Itis Ointment बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः जोड़ों में दर्द, जोड़ों में अकड़न, जोड़ों में सूजन के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। Ayursun Itis Ointment के मुख्य घटक हैं अश्वगंधा, बाला, देवदार, गुग्गुल, पुदीना, लौंग का तेल जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Ayursun Itis Ointment की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है।

    Ayursun Itis Ointment की सामग्री - Ayursun Itis Ointment Active Ingredients in Hindi

    अश्वगंधा
    • पौधे पर आधारित घटक जो कि विषाक्त नहीं होते हैं और शरीर के कार्य में मदद करते हैं
    • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
    • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
    • ये एजेंट प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव डालते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्यों को बदलने में मदद करते हैं।
    • वे दवाएं जो उत्तेजित नसों को शांत करने के लिए तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती हैं।
    बाला
    • तनाव के कारण शरीर पर होने वाले हानिकारक प्रभावों को कम करने वाली दवाएं।
    • दर्द को कम करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं या एजेंट।
    • ऐसे घटक जो संवेदना को प्रभावित किए बिना दर्द को नियंत्रित करते हैं।
    • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • गठिया के लक्षणों को ठीक करने वाली दवाएं।
    • नसों को आराम देने वाले तत्व।
    • मानसिक विकारों के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं, जिनका उपयोग डिप्रेशन, पागलपन और सिजोफ्रेनिया के लक्षणों के लिए किया जाता है।
    देवदार
    • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
    • बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने या खत्म करने वाले पदार्थ।
    गुग्गुल
    • ये दवाएं रोगी की जागृत अवस्था को प्रभावित किए बिना दर्द को कम कर सकती हैं।
    • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
    • ये एजेंट रूमेटाइड आर्थराइटिस की वृद्धि को नियंत्रण में रखने के लिए उपयोग किए जाते हैं।
    • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
    पुदीना
    • क्रीम या घोल के रूप में माइक्रोबियल विकास को रोकने वाले घटक।
    • ये दवाएं चिड़चिड़ी या सूजन युक्त श्लेष्म झिल्ली की पीड़ा को दूर करने में मदद करती हैं।
    • वो दवा जो पेट और आंत के काम को आसान कर पाचन तंत्र को बेहतर करती है।
    • वे दवाएं जो उत्तेजित नसों को शांत करने के लिए तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती हैं।
    • शरीर में आमाशय (गैस्ट्रिक) रस के स्राव को बढ़ाने में मदद करने वाले तत्‍व।
    • ये दवाएं बैक्टीरिया को मारती हैं या उनकी गतिविधियों को रोकती हैं।
    लौंग का तेल
    • ये दवाएं रोगी की जागृत अवस्था को प्रभावित किए बिना दर्द को कम कर सकती हैं।
    • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
    • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।

    Ayursun Itis Ointment के लाभ - Ayursun Itis Ointment Benefits in Hindi

    Ayursun Itis Ointment इन बिमारियों के इलाज में काम आती है -



    Ayursun Itis Ointment के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Ayursun Itis Ointment Side Effects in Hindi

    चिकित्सा साहित्य में Ayursun Itis Ointment के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Ayursun Itis Ointment का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।



    Ayursun Itis Ointment का उपयोग कैसे करें?

    • Ayursun Itis Ointment को अपनी उंगलियों पर लें और आराम से प्रभावित हिस्से में लगाएं और Ayursun Itis Ointment लगाने के बाद अपने हाथों को ठीक तरह से धो लें।


    Ayursun Itis Ointment से जुड़े सुझाव।

    1. प्रभावित स्थान को सामान्य या गुनगुने पानी से साफ करना चाहिए।
    2. प्रभावित हिस्से को अच्छी तरह से साफ करें फिर इस पर Ayursun Itis Ointment का प्रयोग करें।
    3. प्रभावित हिस्से पर Ayursun Itis Ointment का उपयोग करने के बाद इसे कवर करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लें, क्योंकि ऐसे में हल्की सूती जालीदार पट्टी का उपयोग किया जाता है।
    4. Ayursun Itis Ointment की अत्यधिक मात्रा का उपयोग न करें। इसे निर्धारित मात्रा में ही इस्तेमाल करें।
    5. Ayursun Itis Ointment को ठंडे, सूखे स्थान पर रूम टेंपरेचर या इससे कम तापमान पर रखें। Ayursun Itis Ointment को फ्रिज में रखें से बचें।
    6. अगर आपको Ayursun Itis Ointment से एलर्जी की शिकायत हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
    7. अगर आप गर्भवती हैं तो Ayursun Itis Ointment के उपयोग से पहले डॉक्टर की सलाह ले लें।
    8. जो महिलाएं बच्‍चों को दूध पिलाती हैं उन्‍हें Ayursun Itis Ointment के सेवन के लिए डॉक्‍टर से सुझाव लेना चाहिए।
    9. Ayursun Itis Ointment की एक भी खुराक छूट जाने से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।
    10. Ayursun Itis Ointment के इस्तेमाल के दौरान प्रभावित स्थान पर गर्म पानी के प्रयोग से बचें।

    इस जानकारी के लेखक है -

    Dr. Braj Bhushan Ojha

    BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक
    10 वर्षों का अनुभव


    संदर्भ

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. Volume- I. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 19-20

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 27-28

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 56-57

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 5. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2006: Page No - 169 - 171

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 110-111

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 6. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2008: Page No 244-246



    आपको यह भी पसंद आ सकता है

    Charak Pigmento Ointment 50gm
    Charak Pigmento Ointment 50gm एक ट्यूब में 50 gm ऑइंटमेंट ₹123 ₹1283% छूट
    Arthrum Ointment - An Ayurvedic Ointment For All Type Of Pain 25gm
    Arthrum Ointment - An Ayurvedic Ointment For All Type Of Pain 25gm एक ट्यूब में 25 gm ऑइंटमेंट ₹90
    Anju Pain Cure Ointment
    Anju Pain Cure Ointment एक ट्यूब में 15 gm ऑइंटमेंट ₹70


    ₹90
    एक ट्यूब में 25 gm ऑइंटमेंट