फेफड़ों का कैंसर पर आम सवालों के जवाब

सवाल4 साल से अधिक पहले

क्या ऐसा हो सकता है कि किसी व्यक्ति को फेफड़ों का कैंसर हो और उसे इस बारे में पता भी न हो?

Dr. Kuldeep Meena MBBS, MD

जी हां, ऐसा हो सकता है। अधिकतर मामलों में फेफड़ों के कैंसर का पता तब तक नहीं चलता जब तक कि यह शरीर में फैल नहीं जाता, जबकि कुछ लोगों को लंग कैंसर के कुछ शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं जैसे सीने में दर्द, खांसी और सांस लेने में तकलीफ होना। इन लक्षणों के दिखाई देने के बाद आप इसकी जांच के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं, तो तब यह पहली स्टेज पर हो सकता है और इस स्थिति में इसका इलाज काफी प्रभावी होता है।

सवाल4 साल से अधिक पहले

कुछ दिनों से मुझे कंधे में दर्द और सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। आज मैंने डॉक्टर को दिखाया था, उन्होंने जांच के बाद बताया कि मुझे लंग कैंसर है और यह दूरसी स्टेज पर है। मैं सुबह से ही बहुत डरा हुआ हूं। क्या कैंसर की वजह से मैं मर भी सकता हूं?

Dr. Prakash kumar MBBS

जी हां, फेफड़ों के कैंसर की वजह से व्यक्ति की जान जा सकती है, लेकिन यह इस बात पर निर्भर करता है कि लंग कैंसर कौन-सी स्टेज पर है। अगर लंग कैंसर पहली स्टेज पर होता है, तो इसका मतलब है कि सिर्फ एक फेफड़े में ट्यूमर पाया गया है, लिम्फ नोड्स में नहीं। दूसरी स्टेज पर कैंसर संक्रमित फेफड़ों के आसपास मौजूद लिम्फ नोड्स में फैल जाता है। तीसरी स्टेज पर संक्रमित फेफड़े की तरफ स्थित श्वास नली और दूसरे फेफड़े या गर्दन में मौजूद लिम्फ नोड्स में फैल जाता है। चौथी स्टेज जो कि सबसे घातक होती है, इसमें कैंसर पूरे शरीर और फेफड़ों के अन्य भागों में फैल जाता है।

इस स्टेज पर इसे ठीक नहीं किया जा सकता। चौथी स्टेज के लंग कैंसर में मरीज के लक्षणों को कम करने के लिए दवा दी जाती है, ताकि वह लंबे समय तक जी सके। अभी आपको दूसरे स्टेज का लंग कैंसर है, जिसका इलाज कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी और दवा की मदद से किया जा सकता है। आप नियमित रूप से डॉक्टर से सलाह लेते रहें।

सवाल4 साल से अधिक पहले

मेरे भाई को फेफड़ों का कैंसर हो गया है। हम उसका इलाज करवा रहे हैं? मैं जानना चाहता हूं कि क्या लंग कैंसर बहुत घातक है?

Dr. Mayank Yadav MBBS

डाना-फार्बर कैंसर इंस्टीट्यूट के अनुसार, फेफड़े के कैंसर से ग्रस्त लगभग 25 प्रतिशत लोगों को पीठ में दर्द की समस्या रहती है। जब लोग इसके लिए चेकअप करवाने जाते हैं, तो सबसे पहले उन्हें पीठ में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। पीठ में दर्द फेफड़े के कैंसर या किसी बीमारी के फैलने का संकेत हो सकता है।

सवाल4 साल से अधिक पहले

मेरे भाई को फेफड़ों का कैंसर हो गया है। हम उसका इलाज करवा रहे हैं? मैं जानना चाहता हूं कि क्या लंग कैंसर बहुत घातक है?

Dr. Ramraj Meena MBBS

जी हां, फेफड़ों का कैंसर बहुत ही जानलेवा है। महिला और पुरुष दोनों में सबसे ज्यादा होने वाला आम कैंसर 'फेफड़ों का कैंसर' है। कैंसर का पता लगने के बाद भी आधे से ज्यादा लोगों की मौत लंग कैंसर की वजह से हो जाती है। ग्लोबोकान (GLOBOCAN) 2012 की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सभी आयु और दोनों लिंगों में फेफड़ों के कैंसर की अनुमानित घटनाएं 70,275 थीं।

सवाल4 साल से अधिक पहले

मेरे पिता जी को फेफड़े का कैंसर है। हम उनका इलाज करवा रहे हैं, लेकिन उनका वजन दिन-ब-दिन घटता जा रहा है और उनकी भूख भी कम हो गई है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या फेफड़ों के कैंसर से ग्रस्त मरीज का वजन कम हो सकता है? अगर हां, तो ऐसा क्यों है?

Dr. Mayank Yadav MBBS

जी हां, लंग कैंसर से ग्रस्त मरीज के वजन में कमी आ सकती है, ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि कैंसर से लड़ने के लिए शरीर साइटोकिन्स नामक पदार्थ का उत्पादन करता है। इस पदार्थ की वजह से वजन घटना, मांसपेशियों को नुकसान पहुंचना और भूख कम लगने जैसी समस्या हो सकती है। इसी के साथ वजन कम होने का एक अन्य कारण कैंसर का इलाज भी है। लंग कैंसर के इलाज में रेडिएशन और कीमोथेरेपी की वजह से भूख में कमी आ सकती है।

सवाल4 साल से अधिक पहले

मेरे पापा को लंग कैंसर है। हम उनका इलाज करवा रहे हैं, उन्हें काफी समय से खांसी और सांस लेने में दिक्कत महसूस हो रही थी, लेकिन अब उन्हें चक्कर भी आने लगे हैं। मैं जानना चाहता हूं कि क्या यह भी लंग कैंसर का एक लक्षण है या यह समस्या उन्हें किसी और वजह से हो सकती है?

Dr. Vipin Khadse MBBS

नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) के अनुसार, लंग कैंसर के लक्षण बढ़ने की वजह से इससे ग्रस्त मरीज की स्थित खराब हो सकती है। जब स्थिति और खराब होती जाती है, तो सांस लेने में दिक्कत, वजन घटना और चक्कर आने जैसी समस्या हो सकती है।

सवाललगभग 4 साल पहले

मेरे पापा को लंग कैंसर है। कुछ दिनों से उनका गला भी बैठा हुआ है और उनकी आवाज भी थोड़ी बदल गई है। क्या फेफड़े के कैंसर की वजह से गला बैठना या आवाज में बदलाव आ सकता है?

Dr. Vipin Khadse MBBS

फेफड़ों के कैंसर से स्वरयंत्र तंत्रिका भी प्रभावित होती है। लंग कैंसर स्वरतंत्र को प्रभावित करता है जिसकी वजह से गला बैठ सकता है और आवाज में भी बदलाव आ सकता है। गला बैठना कई तरह की स्थितियों का एक सामान्य लक्षण है जो कि सबसे आम लेरिन्जाइटिस की समस्या में होता है। लेरिन्जाइटिस स्वर यन्त्र (वॉइस बॉक्स) में होने वाली सूजन है, जो इसके अत्यधिक प्रयोग या संक्रमण के कारण होती है। लैरिंक्स के अंदर स्वर तंत्रियां होती हैं, जिनके खुलने व बंद होने से उत्पन्न होने वाली कंपन ध्वनि बनती है। लेरिन्जाइटिस में आपकी स्वर तंत्रियों में सूजन हो जाती है, जिसके कारण आवाज में परिवर्तन आता है। कई बार तो आवाज को पहचानना भी लगभग मुश्किल हो जाता है। लंग कैंसर की वजह से लेरिन्जाइटिस भी हो सकता है, लेकिन एक बार फिर भी आप अपने पिता जी को डॉक्टर से सलाह लेने के लिए कहें।

डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ