myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

अर्थराइटिस या गठिया एक ऐसी समस्या है जिसमें जोड़ों में सूजन हो जाती है। यह समस्या एक से अधिक जोड़ों को भी प्रभावित कर सकती है। जो लोग गठिया से परेशान हैं, वे जानते हैं कि गठिया का दर्द कितना असहनीय होता है। दर्द से आराम के लिए तरह-तरह के उपाय भी आजमाते हैं। इसके बावजूद दर्द से आराम नहीं मिलता। गठिया के दर्द से राहत के लिए कई डाक्टर हीट थेरेपी की सलाह देते हैं। इससे दर्द से तो आराम मिलता ही है साथ ही गठिया की वजह से आई ऐंठन भी कम होती है।

कौन सी थेरेपी बेहतर है
गठिया में सूजन और ऐंठन को कम करने क लिए हीट थेरेपी और कोल्ड ट्रीटमेंट, दोनों उपयोगी है। लेकिन इनमें से कौन सी थेरेपी आपके दर्द को आराम देगी, इसके लिए आपको दोनों थेरेपी आजमानी होगी। ज्यादातर मामलों में हीट थेरेपी और कोल्ड थेरेपी, दोनों साथ मिलकर बेहतर काम करते हैं। इसके बावजूद अगर दर्द कम न हो तो डाक्टर से संपर्क करें। बहरहाल हीट और कोल्ड थेरेपी आपके शरीर के हीलिंग फोर्स को उत्तेजित करती है। उदाहरण के लिए, गर्मी रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करती है, रक्त प्रवाह को बढ़ाती है और मांसेपिशयों की ऐंठन को कम करती है और गर्मी दर्द की अनुभूति को भी बदल देती है। इसके विपरीत ठंड रक्त वाहिकाओं को संकुचित कर सूजन कम करती है। हालांकि पहली बार कोल्ड पैक्स इस्तेमाल करते हुए असहजता हो सकती है क्योंकि इससे प्रभावित हिस्सा सुन्न हो जाता है।

(और पढ़ें - गठिया के घरेलू उपाय)

हीट थेरेपी के प्रकार

  • डिस्पोसेबल हीट पैचेस या बेल्ट।
  • हाॅट पैक (कुछ हाॅट पैक माइक्रोवेव में भी गर्म किए जा सकते हैं)
  • नमीयुक्त सिंकाई करने का पैड।
  • गर्म पानी से नहाना।
  • प्रभावित अंग में ऊपर से गर्म पानी डालना।
  • गर्म पानी भरे टब में बैठना।
  • गर्म तौलिए या कपड़े से प्रभावित हिस्से को लपेटना।

(और पढ़ें - सिकाई करने का तरीका)

क्या हाॅट स्पा भी है उपयोगी?
ज्यादातर लोगों को गर्म पानी से नहाने से गठिया के दर्द और ऐंठन से आराम मिलता है। नमीयुक्त गर्म पानी आपकी मांसपेशियों को आराम देता है, प्रभावित अंग में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है और मांसपेशियों की कठोरता को भी कम करता है। लेकिन गर्भवती महिलाओं , हाई बीपी और हार्ट डिजीज के मरीज को हाॅट स्पा नहीं लेना चाहिए।

(और पढ़ें - जल चिकित्सा क्या है)

रहें सावधान
अगर आप हीट डीवाइज जैसे हीटिंग पैड, हीटिंग पैक, गर्म पानी में भिगोया हुआ तौलिया या हाॅट वाॅटर बैग का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो कुछ बातों पर जरूर गौर करें-

  • ध्यान रखें कि डिवाइज का तापमान आपके लिए सहन योग्य हो। पानी इतना गर्म न करें जिससे आपकी त्वचा जल जाए।
  • अगर त्वचा कहीं से कटी या छिली हुई है तो वहां गर्म डिवाइज को न लगाएं। इससे आपको तकलीफ हो सकती है।
  • किसी भी गर्म डिवाइज को 20 मिनट से ज्यादा अपनी त्वचा पर न लगाकर रखें।
  • त्वचा और गर्म डिवाइज के बीच एक पतला कपड़ा या तौलिया रख सकते हैं। इससे त्वचा सीधे-सीधे गर्म डिवाइज के संपर्क में नहीं आएगी।

(और पढ़ें - गठिया में क्या नहीं खाना चाहिए)

हीट थेरेपी गठिया के दर्द से राहत देने के लिए उपयोगी विकल्प है। हीट थेरेपी के कई प्रकार हैं, जिनका आप घर में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यकीन मानिये इससे गठिया के दर्द में आराम मिलेगा।

और पढ़ें ...