myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

Planet Ayurveda Heartburn Capsule

उत्पादक: Planet Ayurveda

115 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

Planet Ayurveda Heartburn Capsule

उत्पादक: Planet Ayurveda

115 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

₹1215.0 ₹1350.0
10% छूट

कैप्सूल Pack Size: 60 NOS

दवा उपलब्ध नहीं है

115 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

cashback
cashback
cashback
पर्चा अपलोड करके आर्डर करें

पर्चा अपलोड करके ऑर्डर करें वैध पर्चा कैसा होता है ? आपके अपलोड किए गए पर्चे

Planet Ayurveda Heartburn Capsules की जानकारी

Planet Ayurveda Heartburn Capsules बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः सीने में जलन, एसिडिटी, पाचन तंत्र के रोग, बदहजमी के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। Planet Ayurveda Heartburn Capsules के मुख्य घटक हैं गिलोय, अकिका पिश्ति , मुक्ता, जहर मोहरा भस्म, कामदुधा रस जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Planet Ayurveda Heartburn Capsules की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है। 

Planet Ayurveda Heartburn Capsules के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Planet Ayurveda Heartburn Capsules Side Effects in Hindi

चिकित्सा साहित्य में Planet Ayurveda Heartburn Capsules के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Planet Ayurveda Heartburn Capsules का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।

Select Language Preference

Planet Ayurveda Heartburn Capsules का पैक साइज, कीमत - Planet Ayurveda Heartburn Capsules Price and Pack Size in Hindi

Planet Ayurveda Heartburn Capsule

दवा उपलब्ध नहीं है

References

  1. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 53-55
  2. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 7. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2008: Page No 3 - 4