Nagarjuna Apatyakar Ghritam

 226 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा
एक बोतल में 100 gm घृत
₹ 230
100 GM घृत 1 बोतल ₹ 230

  • विक्रेता: Nagarjun Herbal care
    • मूल का देश: India

    इसके साथ लेने पर ज्यादा असरदार

    इसके साथ लेने पर ज्यादा असरदार



    Nagarjuna Apatyakar Ghritam की जानकारी

    Nagarjuna Apatyakar Ghritam बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः कमजोर इम्यूनिटी, यौन शक्ति कम होना, पुरुषों में कामेच्छा की कमी, टेस्टोस्टेरोन की कमी, शुक्राणु की कमी के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। Nagarjuna Apatyakar Ghritam के मुख्य घटक हैं गोखरू, कौंच (कपिकच्छु), शतावरी, विदारीकंद जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Nagarjuna Apatyakar Ghritam की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है।

    Nagarjuna Apatyakar Ghritam की सामग्री - Nagarjuna Apatyakar Ghritam Active Ingredients in Hindi

    गोखरू
    • शरीर को पोषण प्रदान करने वाले तत्व।
    • लिंग (पेनिस) के इरेक्‍शन में सुधार करने वाले एजेंट्स।
    • वे दवाएं जो वीर्य के संश्‍लेषण को उत्तेजित करती हैं और पुरुषों में यौन विकारों की एक श्रृंख्‍ला को नियंत्रित करने में असरकारी हैं।
    कौंच (कपिकच्छु)
    • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
    • मस्तिष्क पर काम करते हुए नसों को आराम देने वाले एजेंट।
    • शुक्राणु का उत्पादन बढ़ाने वाले एजेंट।
    शतावरी
    • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
    • यौन इच्‍छाओं को बेहतर करने वाले तत्‍व।
    • डिप्रेशन (अवसाद) के लक्षणों में राहत दिलाने वाली दवाएं।
    • वे दवाएं जो प्रतिरक्षा प्रणाली पर काम कर इम्‍यून की प्रतिक्रिया में सुधार लाती हैं।
    विदारीकंद
    • कामेच्छा को बढ़ाने के लिए उपयोगी एजेंट।
    • ये दवाएं लिवर के कार्य में सुधार करते हैं और इसे संक्रमण से बचाते हैं।
    • वे दवाएं जो वीर्य के संश्‍लेषण को उत्तेजित करती हैं और पुरुषों में यौन विकारों की एक श्रृंख्‍ला को नियंत्रित करने में असरकारी हैं।
    • हार्मोंस को संतुलित करके महिलाओं में यौन स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं को ठीक करने वाले एजेंट्स।

    Nagarjuna Apatyakar Ghritam के लाभ - Nagarjuna Apatyakar Ghritam Benefits in Hindi

    Nagarjuna Apatyakar Ghritam इन बिमारियों के इलाज में काम आती है -



    Nagarjuna Apatyakar Ghritam की खुराक - Nagarjuna Apatyakar Ghritam Dosage in Hindi

    यह अधिकतर मामलों में दी जाने वाली Nagarjuna Apatyakar Ghritam की खुराक है। कृपया याद रखें कि हर रोगी और उनका मामला अलग हो सकता है। इसलिए रोग, दवाई देने के तरीके, रोगी की आयु, रोगी का चिकित्सा इतिहास और अन्य कारकों के आधार पर Nagarjuna Apatyakar Ghritam की खुराक अलग हो सकती है।

    आयु वर्ग खुराक
    व्यस्क
    • मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें
    • खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं
    • अधिकतम मात्रा: 20 g
    • लेने का तरीका: दूध
    • दवा का प्रकार: घृत
    • दवा लेने का माध्यम: मुँह
    • आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में एक बार


    Nagarjuna Apatyakar Ghritam के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Nagarjuna Apatyakar Ghritam Side Effects in Hindi

    चिकित्सा साहित्य में Nagarjuna Apatyakar Ghritam के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Nagarjuna Apatyakar Ghritam का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।


    इस जानकारी के लेखक है -

    Dr. Braj Bhushan Ojha

    BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक
    10 वर्षों का अनुभव


    संदर्भ

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. Volume- I. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 49-52

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 4. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 122 - 123

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 2. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 183 - 184