myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए किए गए तमाम इंतजामों के बावजूद राजस्थान के जयपुर शहर में कुछ संदिग्ध लोगों को समय पर अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा सका। खबर के मुताबिक, यहां तीन मेडिकल छात्रों की जांच होने में 24 दिन का समय लग गया। अब इन तीनों संदिग्धों को जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में बनाए गए आइसोलेशन वॉर्ड में भेज दिया गया है।

बता दें कि पिछले दस दिनों में जयपुर में 48 अंतरराष्ट्रीय जहाज उतरे हैं। इनमें 6,981 यात्री सवार थे। खबरों के मुताबिक, लगभग इन सभी लोगों की एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग की गई थी। बताया गया है कि अभी तक किसी भी व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं पाई गई है। हालांकि इन तीन छात्रों के मामले ने प्रशासन और लोगों को हैरान किया है।

(और पढ़ें- कोरोना वायरस के लक्षण और बचाव)

जांच में देरी पर अधिकारियों ने क्या कहा?
मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, इस कथित लापरवाही के बाद यह मामला तूल पकड़ता दिख रहा है। प्रशासन पर लग रहे आरोपों के बीच स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि कथित रूप से छात्रों की तरफ से सहयोग में कमी की वजह से उनकी जांच में देरी हुई है। अधिकारियों की मानें तो लगातार की गई कोशिशों के बाद छात्र जांच के लिए साथ आने को राजी हुए। प्रशासन का यह भी कहना है कि
 अगर इसके लिए पुलिस की मदद जरूरत पड़ती तो उसका भी इस्तेमाल किया जाता।

(और पढ़ें- जानें, कैसे फैलता है कोरोना वायरस और कैसे करें बचाव)

राजस्थान में संदिग्धों की बड़ी संख्या
मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक राजस्थान में कोरोना वायरस के संक्रमित संदिग्धों की संख्या लगातार बढ़ रही है। यहां के बाड़मेर जिले में पांच लोगों को संदिग्ध लक्षणों के चलते आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। वहीं, जोधपुर में दो से ज्यादा संदिग्ध लोगों को आम लोगों से अलग किया गया है। इस बीच, राहत की बात यह है कि चीन के वुहान शहर से वापस भारत लौटे राजस्थान के 51 लोगों में से 43 की जांच रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। आठ की रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

राजस्थान में कोरोना वायरस के फैलने का डर क्यों?
राजस्थान में कोरोना वायरस को लेकर काफी का माहौल है। मेडिकल विशेषज्ञ भी वायरस के यहां फैलने की संभावना से इनकार नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह यह है कि यहां के कई मेडिकल और अन्य विषय से जुड़े छात्र कुछ समय पहले ही वुहान से लौटे हैं। पढ़ाई के अलावा राजस्थान के कई लोग चीन में व्यापार करते हैं। उनमें से भी कई हाल ही में अजमेर व अन्य जिलों में लौटे हैं। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक कोरोना वायरस के चलते राजस्थान में लोगों को अस्पतालों में भर्ती किया गया है, उनमें अजमेर के लोग भी शामिल हैं।

(और पढ़ें- छछूंदर से फैल रहा यह वायरस, ऐसे करें बचाव)

उधर, चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी है। यहां इस जानलेवा वायरस से 722 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह संख्या 724 है। वहीं, पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 35 हजार के करीब पहुंच चुकी है। इनमें छह हजार से ज्यादा लोग ऐसे हैं, जिनकी हालत गंभीर बनी हुई है। इसके चलते कहा जा रहा है कि आने वाले दिनों में भी कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा बढ़ सकता है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें