myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 संकट के चलते दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में बंद पड़ी गैर-आपातकालीन सेवाएं इस हफ्ते से फिर से शुरू हो सकती है। हालांकि इससे पहले ही दिल्ली एम्स में एक फैकल्टी मेंबर में कोरोना वायरस पाए जाने की खबर आई है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, एम्स के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. डीके शर्मा ने कहा है कि एम्स में नॉन-एमरजेंसी ओपीडी सेवाओं की बहाली को लेकर बातचीत चल रही है। कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए करीब दो महीने पहले सरकार ने लॉकडाउन की घोषणा की थी। तब से एम्स में कई प्रकार की सामान्य चिकित्सा सेवाएं बंद पड़ी हैं।

खबरों के मुताबिक, डॉ. डीके शर्मा ने बताया कि सेवाओं की बहाली को लेकर संस्थान में दो तरह की बहस चल रही है। कुछ सदस्यों का कहना है कि एक बार सारी ओपीडी खोलने से बेहतर है कि अलग-अलग चरण में सेवाएं फिर से शुरू की जाएं। इस बारे में राय रखी गई है कि शुरुआत में चार-पांच सेवाएं शुरू की जाएं और धीरे-धीरे बाकी सेवाएं उनमें जोड़ दी जाएं। डॉ. शर्मा के मुताबिक, इस बारे में फैसला जल्दी ही ले लिया जाएगा।

(और पढ़ें - कोविड-19 के खिलाफ सबसे बड़ी उम्मीद बनी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन सवालों के घेरे में, जानें इसकी वजह)

20 मई से सेवाएं शुरू होने के आसार
इस बीच, मंगलवार को आई कुछ मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, दिल्ली एम्स में ओपीडी सेवाओं की शुरुआत 20 मई यानी कल से ही हो सकती है। एम्स प्रबंधन के हवाले से बताया गया है कि 20 मई से नए ओपीडी में पंजीकरण जारी रहेगा। पुराने ओपीडी हॉल को भी पंजीकरण के लिए रखे जाने की बात कही जा रही है। खबर के मुताबिक, दोनों ओपीडी की बहाली से सोशल डिस्टेंसिंग लागू करने में सहूलियत होगी।

एम्स के एक अन्य अधिकारी ने मीडिया से बातचीत में कहा है कि कोविड-19 के चलते पहले से तय कई ऑपरेशनों पर रोक लगा दी गई थी। अब आने वाले समय में इन सभी ऑपरेशनों को अंजाम देना एक बड़ी चुनौती होगी। अधिकारी के मुताबिक, इससे निपटने के लिए ट्रॉमा और आपातकालीन विभाग के ऑपरेशन थियेटर की मदद ली जा सकती है। साथ ही एम्स की अन्य शाखाओं से भी मदद मांगी जा सकती है।

(और पढ़ें - बांग्लादेश में इन दो दवाओं के मिश्रण से कोविड-19 के दर्जनों मरीजों के ठीक होने का दावा, जानें इनके बारे में)

एम्स का फैकल्टी मेंबर कोरोना पॉजिटिव
दिल्ली एम्स के ओपीडी को ऐसे समय में फिर से खोलने की चर्चा हो रही है, जब राजधानी में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। खबर है कि एम्स के एक फैकल्टी मेंबर में भी कोरोना वायरस होने की पुष्टि हुई है। यह जानकारी सामने आने के बाद पीड़ित के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है। डॉ. डीके शर्मा ने बताया कि पिछले दो महीनों के दौरान कुल 92 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ताजा मामले के अलावा इन मरीजों में दो रेजिडेंट डॉक्टर, 13 नर्सिंग स्टाफ, तीन तकनीशियन, 11 अस्पताल अटेंडेंट, 12 सफाईकर्मी और 45 सुरक्षागार्ड शामिल हैं। यहां यह भी बता दें कि एम्स में कोविड-19 के मरीजों को ट्रॉमा सेंटर की इमारत में रखा गया है, जबकि वहां के मरीजों को अस्पताल की मुख्य इमारत में शिफ्ट किया गया है।

(और पढ़ें - भारत में कोविड-19 के एक लाख से ज्यादा मरीजों की पुष्टि, कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक 3,163 मौतें)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
168990 भारत
33अंडमान निकोबार
3436आंध्र प्रदेश
3अरुणाचल प्रदेश
1024असम
3376बिहार
289चंडीगढ़
415छत्तीसगढ़
2दादरा नगर हवेली
17386दिल्ली
69गोवा
15934गुजरात
1721हरियाणा
295हिमाचल प्रदेश
2164जम्मू-कश्मीर
511झारखंड
2781कर्नाटक
1150केरल
74लद्दाख
7645मध्य प्रदेश
59मणिपुर
27मेघालय
1मिजोरम
25नगालैंड
1723ओडिशा
51पुडुचेरी
2197पंजाब
8635राजस्थान
1सिक्किम
20246तमिलनाडु
2425तेलंगाना
251त्रिपुरा
716उत्तराखंड
7284उत्तर प्रदेश
62228महाराष्ट्र
4813पश्चिम बंगाल

मैप देखें