myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

फंगल इन्फेक्शन से जुड़े सवाल और जवाब

सवाल 10 महीना पहले

बालों में फंगल इन्फेक्शन होने से क्या होता है?

Dr. Aakash Shah MBBS

फंगल एजेंट की वजह से जब बालों में इन्फेक्शन होता है, तो इसे ट्राइकोमाइकोसिस कहा जाता है। अगर फंगल इन्फेक्शन की वजह से बाल झड़ रहे हैं तो उसका जल्द इलाज किया जाना चाहिए वरना कम समय में ही ज्यादा बाल झड़ जाते हैं या फिर स्कैल्प को नुकसान होने लगता है।

सवाल 9 महीना पहले

बालों के फंगल इन्फेक्शन को कैसे ठीक करें?

Dr. Rahul Poddar MBBS, DNB, MBBS, DNB

तेल, सिर में गंदगी जमना और डेड सेल्स यानी मृत कोशिकाओं की वजह से स्कैल्प में आसानी से फंगल इन्फेक्शन हो सकता है। तमाम फंगल इन्फेक्शन  में सबसे सामान्य है दाद। यह बालों के साथ-साथ स्कैल्प को भी प्रभावित करता है। इसके उपचार के लिए पूरी तरह बाजार में उपलब्ध उत्पादों पर ही निर्भर रहना सही नहीं है। इससे बाल खुश्क, रूखे और बेजान हो सकते हैं। बालों में फंगल इन्फेक्शन  होने पर कुछ घरेलू उपायों को आजमा सकते हैं जैसे नारियल तेल, नीबू, आलिव आयल, नीम का तेल, कास्टर आयल वगैरह लगाना। इन तेलों के नियमित इस्तेमाल से फंगल इन्फेक्शन को फैलने से भी रोका जा सकता है।

सवाल 9 महीना पहले

मुंह में फंगल इन्फेक्शन क्यों होता है?

Dr. BK Agrawal MBBS, MD

मुंह और जीभ में जब ईस्ट शेप का फंगल इन्फेक्शन ग्रो कर जाता है, इसे थ्रश कहा जाता है। थ्रश आमतौर पर छोटे बच्चे और नए जन्मे शिशु को होता है, लेकिन उन्हें यह नुकसान नहीं पहुंचाता। हालांकि वयस्कों में जब यह समस्या आती है तो उन्हें कई तरह की परेशानियों को झेलना पड़ सकता है। थ्रश होने पर मुंह में दाने होने लगते हैं, मुंह में दर्द होता है। सवाल है थ्रश क्यों होता है, तो इसकी वजह है बीमारी, गर्भावस्था, दवाओं का अत्यधिक सेवन, धूम्रपान आदि।

सवाल 8 महीना पहले

नेल फंगल इन्फेक्श को कैसे ठीक किया जा सकता है?

Dr. Tarun kumar MBBS

जैसा कि आप जानते ही हैं कि फंगल इन्फेक्शन शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है। फंगाई आमतौर पर शरीर में और विभिन्न जीवाणुओं के साथ मौजूद होते हैं। जब फंगाई ग्रो करते हैं, तो इससे आप संक्रमित हो सकते हैं। हाथ के नाखूनों या पैर के नाखूनों को ओनिकोमिकोसिस नाम का फंगल इन्फेक्शन प्रभावित करता है, जिसे टिनिया अनगियम भी कहते हैं। फंगल इन्फेक्शन नाखूनों को बहुत धीरे-धीरे प्रभावित करते हैं। यही वजह है कि नाखूनों में फंगल इन्फेक्शन होने पर बहुत दिनों तक इसके असर का पता नहीं चलता। संक्रमण होने पर शायद ही आपको शुरुआती दिनों में किसी तरह के बदलाव अपने नाखूनों में देखने को मिले। जहां तक इसके उपचार की बात है, तो नाखूनों पर फंगल इन्फेक्शन होने पर एंटीफंगल ट्रीटमेंट लिया जाता है। हालांकि यह ट्रीटमेंट लंबे समय तक चल सकता है और महंगा भी होता है। इसके साथ ही नाखूनों पर लगाने के लिए आएंटमेंट का इस्तेमाल भी किया जाता है। घरेलू उपचार की मदद से भी नाखूनों के संक्रमण को कुछ कम किया जा सकता है मसलन विक्स वेपरअब लगाएं। हालांकि इसका खांसी के लिए इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह फंगस ट्रीटमेंट के लिए भी उपयोगी है। ओरीगेनो आयल, ओलिव आयल और सनफ्लावर आयल भी नाखूनों के फंगल इन्फेक्शन पर कारगर साबित होते हैं। इसके साथ ही अपने नाखूनों को साफ रखें।