myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हम सभी को अलग अलग तरह के व्यंजन खाना पसंद होता है, ख़ासकर बाहर का बना खाना जैसे जंक फूड (पिज़्ज़ा, बर्गर, मोमोज़ आदि)। युवा लोग विशेष रूप से खाद्य पदार्थो के नुकसान और फायदे की कोई परवाह किए बिना कुछ भी खाते रहते हैं। लेकिन जैसे उम्र बढ़ती है, हम अपने खाने पर नजर रखना शुरू करते हैं। क्योंकि उम्र के साथ विभिन्न स्वास्थ्य समस्याएं हमारे सामने आनी शुरू होती हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल भी एक ऐसा ही स्वास्थ्य मुद्दा है जो कि आम तौर पर तेल और जंक फूड के अधिक सेवन के कारण पैदा होता है।

कोलेस्ट्रॉल एक फैटी एसिड है जो कि जिगर में निर्मित होता है और कई शारीरिक कार्यों के लिए आवश्यक होता है। हालांकि, इसका असंतुलित होना हमारे शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। कई लोगों का मानना ​​है कि कोलेस्ट्रॉल स्वास्थ्य के लिए बुरा है, लेकिन आयुर्वेद का इसके लिए एक अलग ही नजरिया है।

आयुर्वेद समझता है, कोलेस्ट्रॉल एक महत्वपूर्ण तत्व है जो कि हमारे शरीर में रक्‍तवाही प्रणाली को समर्थन और चिकनाई देता है। यह शरीर के लिए बुरा नहीं है, लेकिन कोलेस्ट्रॉल में अमा की उपस्थिति हानिकारक हो सकती है। अमा चयापचय की प्रक्रिया के दौरान वह विषाक्त पदार्थ हैं जो वसा ऊतकों में जमा हो जाते हैं।

आमतौर पर अमा एक चिपचिपा, दुर्गंधयुक्त, अपशिष्ट उत्पाद है जो कि अपच के कारण बनता है। लेकिन अगर यह शरीर प्रणाली में एक बहुत लंबे समय के लिए मौजूद रहता है और अच्छे से साफ नहीं होता है तो यह अमाविष का रूप ले लेता है। जब इसकी मात्रा अधिक बढ़ जाती है, तो यह शरीर के ऊतकों में फैलना और अपशिष्ट उत्पादों को रोकना शुरू कर देता है। जब अमाविष वसा ऊतकों में बाधा डालता है, तब हाई बीपी, उच्च कोलेस्ट्रॉल और अन्य हृदय रोगों के रूप में समस्याएं उत्पन्न होती हैं। 

(और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)

इसलिए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए आपको एक स्वस्थ आहार और जीवन शैली का पालन करना ज़रूरी है। अगर आप ऐसा भोजन करते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है, तो इसके दुष्प्रभाव आपके शरीर पर ना पड़ें, इसके लिए आपको नीचे दिए गए आयुर्वेदिक निर्देशों पर ध्यान देना चाहिए -

  1. ज़्यादा कोलेस्ट्रॉल के खाने के बाद जाएं सैर पर
  2. तेल वाला खाना खाने के बाद पिएं गर्म पानी
  3. तुरंत भोजन करने के बाद सोने ना जाएँ
  4. तेलीय खाने के बाद ठंडी चीज़ें ना खाएँ
  5. अधिक कोलेस्ट्रॉल वाले भोजन के बाद करें यह आयुर्वेदिक घरेलू उपचार

तेलीय (oily) या भारी भोजन खाने के बाद, तीव्र व्यायाम के लिए ना जाएँ। इसके लिए हमेशा सैर के लिए जाना बेहतर होता है। इससे अतिरिक्त कैलोरी को जलाने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें - एक्सरसाइज के फायदे)

एक या दो गिलास गर्म पानी पीना, तेलीय खाने की आसान निकासी (evacuation) में मदद करता है। यह जिगर, पेट और आंतों को स्वस्थ रखता है और उन्हें नुकसान से बचाता है।

(और पढ़ें – पानी पीने का सही समय)

हमेशा अपने खाने के समय और बिस्तर पर जाने के बीच दो से तीन घंटे का अंतराल रखने का प्रयास करें। अगर आप तुरंत भोजन करने के बाद सोने के लिए चले जाते हैं, तो इससे ऊर्जा की खपत नहीं होती है और यह शरीर में फैट के रूप में जमा हो जाती है। 

(और पढ़ें – नींद ना आने के आयुर्वेदिक उपाय)

तेलीय खाना खाने के बाद आइस क्रीम जैसी ठंडी चीज़ें खाने का आपके जिगर, पेट और आंतों पर प्रतिकूल असर पड़ता है। इसलिए भारी भोजन के बाद ठंडी चीज़ें खाने से बचें।

ज़्यादा कोलेस्ट्रॉल के खाने के बाद लें त्रिफला

एक चम्मच त्रिफला चूर्ण को कुछ गर्म पानी, गोमूत्र या शहद के साथ दिन में दो बार लेना तेलीय खाद्य पदार्थो के प्रभाव को कम करने में वास्तव में मददगार हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए लें गुग्गुलु

गुग्गुलु एक जड़ी बूटी है जो कि कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और एक उच्च कोलेस्ट्रॉल आहार के बुरे प्रभाव को कम करने में मदद करती है। यह गोलियों के रूप में भी बाजार में आसानी से उपलब्ध है। हालांकि, यह लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर है।

जल्दी चयापचय के लिए लें काली मिर्च

काली मिर्च वसा (fat) के जल्दी चयापचय के लिए, जिगर को उत्तेजक करने में मदद करती है। चूंकि यह गर्म और मसालेदार है, तो आप काली मिर्च पाउडर के दो चुटकी शहद के साथ, दिन में दो बार, तीन से चार दिन के लिए सेवन कर सकते हैं।

तेलीय खाद्य पदार्थो के बाद लें शहद

आयुर्वेद के अनुसार, शहद तेलीय खाद्य पदार्थो के लिए अच्छी विषहर औषधियों में से एक है।

(और पढ़ें – शहद के औषधीय गुण)

अधिक कोलेस्ट्रॉल वाले भोजन के बाद लें गाय मूत्र

गाय का मूत्र भी तेलीय खाद्य पदार्थो के लिए अच्छी विषहर औषधियों और मोटापे के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
142410 भारत
33अंडमान निकोबार
3110आंध्र प्रदेश
2अरुणाचल प्रदेश
526असम
2730बिहार
238चंडीगढ़
291छत्तीसगढ़
2दादरा नगर हवेली
14053दिल्ली
67गोवा
14460गुजरात
1184हरियाणा
223हिमाचल प्रदेश
1668जम्मू-कश्मीर
377झारखंड
2182कर्नाटक
896केरल
52लद्दाख
6859मध्य प्रदेश
52667महाराष्ट्र
39मणिपुर
14मेघालय
1मिजोरम
3नगालैंड
1438ओडिशा
41पुडुचेरी
2060पंजाब
7300राजस्थान
1सिक्किम
17082तमिलनाडु
1920तेलंगाना
194त्रिपुरा
349उत्तराखंड
6532उत्तर प्रदेश
3816पश्चिम बंगाल

मैप देखें