myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

गर्म तापमान का मतलब है कि आपके लिए त्वचा देखभाल की नियमितता को बदलने का समय आ गया है। गर्मी आपकी त्वचा पर बहुत कठोर हो सकती है अगर आप अपनी अच्छे से देखभाल नहीं करते हैं। गर्मियों के शुरू होते ही त्वचा से जुडी कई तरह की समस्याएं शुरू हो जाती है। मुँहासे, स्किन रशेज़ और त्वचा का खुरदरापन इन दिनों आम हो जाता है। लेकिन आप रोजमर्रा के स्किनकेयर आहार में कुछ सरल बदलाव करके इन सब समस्याओं से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं।

  1. गर्मियों में फेस स्क्रब करें चेहरे की देखभाल - Face Scrub in Summer in Hindi
  2. मॉइस्चराइजर फॉर समर सीजन - Moisturizer for Summer Season in Hindi
  3. गर्मियों में करें स्किन टोनर का उपयोग - Skin Toner for Summer in Hindi
  4. गर्मियों के मौसम में करें सनस्क्रीन का इस्तेमाल - Sunscreen for Summer in Hindi
  5. टमाटर के फायदे गर्मियों में त्वचा देखभाल के लिए - Tomato for Skin Care in Summer in Hindi
  6. गर्मियों में करें आँखों की देखभाल - Eye Care in Summer in Hindi
  7. गर्मियों में निजी स्वच्छता है जरूरी - Personal Hygiene in Summer in Hindi
  8. गर्मियों में करें फलों और सब्जियों का सेवन - Eating Fruits and Vegetables in Summer in Hindi
  9. गर्मियों में ढीले कपड़े होते हैं आरामदायक - Wear Loose Clothes in Summer in Hindi

आपका चेहरा दुनिया के लिए आपकी पहचान होता है, इसलिए आपको वर्ष के 365 दिन इसकी देखभाल करनी चाहिए। हालांकि ग्रीष्मकालीन महीनों में आपको एक विशेष त्वचा देखभाल की जरूरत होती है। सुनिश्चित करें कि आप इन गर्म महीनों में पसीने और धूल को अपने चेहरे से साफ रखें। बहुत सारे लोग इन महीनों में पिंपल्स का सामना करते हैं। यदि आप उनमें से एक हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपना चेहरा दिन में कम से कम 3-4 बार धोते हैं। इसके लिए हर समय फेसवाश का उपयोग करने की कोई ज़रूरत नहीं है।

त्वचा विशेषज्ञ डॉ दीपाली भी चेहरे को साफ रखने के लिए एक विधि के रूप में एक्सफोलिएशन का सुझाव देती हैं। उनके अनुसार गर्मियों में सप्ताह में एक या दो बार स्क्रब का प्रयोग करना महत्वपूर्ण होता है, लेकिन जो आपकी त्वचा के प्रकार पर निर्भर करता है। मुँहासे वाली त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी, चंदन, गुलाब जल और तुलसी वाला स्क्रब और ड्राई और सामान्य त्वचा के लिए अंडे का सफेद भाग, नींबू, चंदन और बेसन और हल्दी की एक चुटकी के साथ दही इस्तेमाल करना चाहिए।

जो क्रीम आप सर्दियों के महीनों के दौरान उपयोग कर रहे थे, अब वो आपकी त्वचा के लिए अच्छे नहीं होंगी। गर्मी के महीनों में ऐसे उत्पादों की आवश्यकता होती है जो आपकी त्वचा को स्वाभाविक रूप से साँस लेने में मदद करें। गर्मियों में हल्के लोशन और सीरम जैसे उत्पादों का उपयोग करें जो रोम छिद्रों को बंद करने में मदद करते हैं जिनसे कई त्वचा समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

पानी आधारित मॉइस्चराइजर्स सामान्य त्वचा के प्रकारों के लिए सबसे अच्छे होते हैं। ऑयली स्किन के लिए, जैल-आधारित मॉइस्चराइज़र अच्छे होते हैं। नहाने के पानी में ग्लिसरीन और गुलाब जल जैसे नेचुरल मॉइस्चराइज़र बहुत ज्यादा मदद करते हैं। और नहाने से पहले भी सभी शुष्क क्षेत्रों पर 10-15 मिनट के लिए सादा दही लगाने से मदद मिलती है।

अगर आपको लगता है कि ग्रीष्मकाल के दौरान आपकी त्वचा ड्राई नहीं हो सकती है तो आप गलत है। वातानुकूलित क्षेत्रों से अंदर और बाहर जाने से ही यह ड्राई स्किन का कारण बन सकता है। न केवल चेहरे की त्वचा ड्राई होती है बल्कि इससे पूरे शरीर की त्वचा ड्राई होती है। सुनिश्चित करें कि आप रात को सोने से पहले अपनी त्वचा की अच्छे से क्लीनिंग, टोनिंग और मॉइस्चराइजिंग करते हैं। पसीना हमारी त्वचा के रोम छिद्रों के खुलने का कारण बन सकता है। इन छिद्रों को बंद करने में मदद के लिए आपको एक टोनर (त्वचा को साफ करने के बाद) उपयोग करना होगा।
 
 

किसी भी मौसम में बाहर निकलने से पहले सनस्क्रीन लगाना न भूलें। यूवी किरणें आपकी त्वचा के लिए वर्ष के किसी भी समय हानिकारक हो सकते हैं, लेकिन ये गर्मियों के महीनों में बहुत अधिकल घातक हो सकती है जब इनके एक्सपोजर का स्तर अधिक होता है। एक सनस्क्रीन चुनें जिसमें 30 न्यूनतम एसपीएफ़ (SPF) बताया गया हो। सूरज में आने से पहले 20-30 मिनट पहले इसे लगाना चाहिए। यदि आप तैरने जा रहे हैं, तो फिर से सनस्क्रीन लगाएं। इसका उपयोग फाइन लाइन्स और झुर्रियों की शुरुआत की देरी में मदद कर सकता है।

डॉ. दीपाली आपको हर 6 माह उपयोग करने के बाद ब्रांड को बदलने का सुझाव देती हैं। और हाँ, ऑयली स्किन वाले लोग भी सनस्क्रीन लगा सकते हैं। ऑयली स्किन के लिए, जैल आधारित सनस्क्रीन अच्छी होती है जबकि कॉम्बिनेशन और ड्राई स्किन के लिए मैट फ़िनिश सनस्क्रीन मॉइस्चराइज़र का उपयोग करना चाहिए।

जो भी आपकी दादी ने आपको कहा है उसे हल्के में न लें। आपकी रसोई में ऐसी सामग्री है जो गर्मियों के दौरान त्वचा को शांत करने में मदद कर सकती है। आपकी त्वचा को ताजा रखने के लिए नींबू और टमाटर बहुत अच्छे होते हैं। टमाटर का उपयोग करने का एक त्वरित तरीका है। टमाटर का रस (पानी न जोड़ें) निकालें और अपने नियमित बर्फ ट्रे का उपयोग करके इसे फ्रीज करें। इसे प्रत्येक वैकल्पिक स्क्रब के रूप में प्रयोग करें। टमाटर में मौजूद लाइकोपीन चेहरे की त्वचा के लिए चमत्कार करता है।
 
 

गर्मियों के महीनों के दौरान सूरज की किरणें 12 बजे से 4 के बीच सख्त होती है। इस समय के आसपास बाहर निकलने से बचें। यदि आप बाहर निकलते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपकी आँखें धूप के चश्मे से कवर हों और आपके होंठ बाम के साथ सुरक्षित हों। हम अक्सर भूल जाते हैं कि आंखों के चारों ओर की त्वचा बहुत नाजुक होती है और जिन पर अतिरिक्त ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अगर बहुत अधिक गर्मी आपकी आंखें जला रही है तो उन्हें स्वच्छ और ठंडे पानी से धो लें। आलू के रस में रूई को भिगोकर आँखों पर लगाएं। यदि समस्या बनी रहती है, तो डॉक्टर से परामर्श करें।

कुल मिलाकर स्वच्छता गर्मी से निपटने में काफी मदद कर सकती है। दिन में दो बार स्नान करने से न केवल आपकी त्वचा ताजा रहती है बल्कि यह गर्मियों में सुस्ती का मुकाबला करने में भी मदद करता है। यदि आप कांटेदार गर्मी से ग्रस्त हैं तो एक बाल्टी पानी में कुछ नीम के पत्तों डालकर स्नान करने से मदद मिल सकती है। जो लोग शरीर की गंध से पीड़ित हैं, वे नियमित रूप से स्नान कर सकते हैं। नमक की एक चुटकी को पानी में डालकर हाथों और पैरों को डुबोकर रखने से रक्त के प्रवाह को बढ़ावा देने में मदद मिलती है।

भारी भोजन खाने से आप इस तरह के मौसम में सुस्त हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, इससे आपकी स्किन ऑयली और पिंपल्स के लिए अतिसंवेदनशील बना सकती है। मौसमी फलों और सब्जियों का सेवन करें। शक्कर वाले पेय से दूर रहें जो कि कैलोरी से भरे हुए होते हैं। सुनिश्चित करें कि आप एक दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी का सेवन करें।

गर्मी से निपटने के लिए कपास और हल्के कपड़े आवश्यक होते हैं।  चुस्त कपड़ों से जलन हो सकती है जिससे शरीर के पसीनेदार भागों में खुजली हो सकती है। लंबे समय तक इससे चकत्ते और कभी-कभी गंभीर त्वचा संक्रमण भी होते हैं। (और पढ़ें - खुजली के उपाय)

इसके अलावा सूरज से मत डरे क्योंकि यह मूड बढ़ाने वाला होता है। सूरज की रोशनी से अधिक सेरेटोनिन उत्पन्न करने में मदद मिलती है - एक मूड बढ़ाने वाला हार्मोन होता है। बस सुनिश्चित करें कि आप निकलने से पहले त्वचा की अच्छी देखभाल करें और अपने आप को सूरज की किरणों के हानिकारक प्रभाव से बचाएं।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ