myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जापान में नए कोरोना वायरस 'सीओवीआईडी-19' से पहली मौत की पुष्टि की गई है। यह मृतक एक महिला है। चीन के बाहर जापान तीसरा देश है जहां कोरोना वायरस से किसी व्यक्ति की मौत होने की खबर आई है। इससे पहले हांगकांग और फिलिपींस में एक-एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। 

जापान के स्वास्थ्य मंत्री कातसुनोबु कातो ने गुरुवार को बयान जारी कर मृतक के बारे में जानकारी दी। खबरों के मुताबिक, एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने बताया कि मृतक महिला की उम्र 80 साल से ज्यादा थी। वह जनवरी महीने में वायरस के संपर्क में आई थी, लेकिन लक्षण सामने आने में समय लगा। महिला को निमोनिया की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तब तक उसकी हालत गंभीर हो चुकी थी। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि से पहले ही महिला की मौत हो गई।

(और पढ़ें - वायरस क्या होता है)

क्या जापान में और तेजी से बढ़ सकती मरीजों की संख्या?
वहीं, अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्टों में जापान के लिए एक और चिंताजनक खबर आई है। इसके मुताबिक, यहां दो टैक्सी चालकों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इनमें से एक टोक्यो में टैक्सी चलाता है। जापानी स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक, यह टैक्सी चालक भी बुजुर्ग है जिसकी उम्र 70 साल से ज्यादा है। इस आधार पर अनुमान लगाया जा रहा है कि हो सकता है इन दोनों चालकों ने कई यात्रियों में संक्रमण फैला दिया हो।

'डायमंड प्रिंसेस' में नए मामलों की पुष्टि
वहीं, योकोहामा बंदरगाह पर खड़े क्रूज शिप 'डायमंड प्रिंसेस' में कोरोना वायरस के 44 नए मामलों की पुष्टि हुई है। 'डायमंड प्रिंसेस' में बीती पांच फरवरी से हजारों यात्री फंसे हैं। इनमें भी 80 प्रतिशत यात्रियों की आयु कम से कम 60 साल है। यही कारण है कि शिप में संक्रमित यात्रियों की संख्या बढ़ती जा रही है। अभी कुल 218 यात्रियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है। यह संख्या और बढ़ सकती है, क्योंकि 3,500 यात्री अभी शिप के अंदर ही हैं।

(वीडियो देखें - दिल्ली से केरल तक कोरोना वायरस का खतरा)

हालांकि क्रूज शिप के बुजुर्ग यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर है। इसके मुताबिक, सरकार ने मेडिकल जांच से गुजर चुके ऐसे यात्रियों को तय शेड्यूल (19 फरवरी) से पहले ही छोड़ने का फैसला किया है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस से मरने वाले अधिकतर लोगों की उम्र 40-45 या उससे ज्यादा है। मेडिकल विशेषज्ञों का कहना है कि यह वायरस इन्हीं आयु वर्ग के लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है।

बता दें कि चीन के बाद नए कोरोना वायरस का सबसे अधिक प्रकोप जापान में देखने को मिल रहा है। यहां वायरस से संक्रमित होने की दरों में बढ़ोतरी हुई है। यह रिपोर्ट लिखे जाने तक जापान में कोरोना वायरस के कुल मामले 252 हो गए थे। यानी बीते 24 घंटों में 50 मरीज बढ़ गए। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, कुल मरीजों में से पांच की हालत गंभीर बनी हुई है।

(और पढ़ें - क्या डेटॉल से खत्म हो सकता है कोरोना वायरस)

चीन समेत अन्य एशियाई देशों में वायरस का कहर जारी
वहीं, इस वायरस के केंद्र चीन में लोगों का संक्रमित होना और मरना जारी है। ताजा अपडेट के मुताबिक, गुरुवार से अब तक कुल मामलों की संख्या 60,000 से बढ़कर करीब 64,660 हो चुकी है। इनमें 10,584 मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। इसके अलावा मरने वालों का आंकड़ा 1,365 से बढ़कर 1,488 हो गया है। हालात देखते हुए जानकारों का कहना है कि यह संख्या जल्दी ही 1,500 के पार चली जाएगी। हालांकि 7,000 लोगों को बचा लिया गया है। चीन और जापान के अलावा अन्य देशों की बात करें तो कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले सिंगापुर (58), हांगकांग (53), थाइलैंड (33) और दक्षिण कोरिया (28) में सामने आए हैं।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें