myUpchar सुरक्षा+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नाड़ीग्रन्थि पुटी क्या है?

एक गैंग्लियन सिस्ट एक द्रव से भरी सूजन होती है जो आमतौर पर जोड़ों या टेंडन के पास विकसित होती है। ये सिस्ट एक मटर के आकार से लेकर गोल्फ बॉल के आकार तक हो सकती है। इन्हें हिंदी में नाड़ीग्रन्थि पुटी कहा जाता हैं।

गैंग्लियन सिस्ट या नाड़ीग्रन्थि पुटी त्वचा के नीचे चिकनी गांठ की तरह दिखती है और महसूस होती है। ये एक जेली जैसे तरल पदार्थ से बनी होती है जिसे साइनोविअल फ्लूड कहा जाता है, जो जोड़ों और टेंडन के आसपास होता है, जो जोड़ों की गतिविधि के दौरान लूब्रिकेशन (चिकनापन) और कुशन का काम करता है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने का उपाय)

नाड़ीग्रन्थि पुटी के लक्षण क्या हैं?

गैंग्लियन या नाड़ीग्रन्थि पुटी शरीर के किसी भी जोड़ में हो सकते हैं, लेकिन कलाई (विशेष रूप से कलाई के पीछे), हाथों और उंगलियों पर ये सबसे आम होते हैं। गैंग्लियन सिस्ट हानिरहित होते हैं, लेकिन कभी-कभी दर्दनाक भी हो सकते हैं।

एक गैंग्लियन सिस्ट निम्न में से एक या अधिक लक्षणों से जुड़ा हुआ हो सकता है:

  • एक दिखाई देने योग्य गांठ, अक्सर यह एकमात्र लक्षण होता है जो महसूस होता है।
  • अगर इसे छूते हैं तो झनझनाहट या जलन हो रही है।
  • ऐसा दर्द जो संकेत देता है कि सिस्ट आपके जोड़ों या टेंडन पर दबाब डाल रहा है।
  • उभार में जूते के चलते जलन होने के कारण जूते पहनने में कठिनाई हो रही है।

(और पढ़ें - जोड़ों के दर्द का इलाज)

नाड़ीग्रन्थि पुटी क्यों होती है?

नाड़ीग्रन्थि पुटी या गैंग्लियन सिस्ट के सटीक कारण का अभी तक पता नहीं चला पाया है। एक सिद्धांत के अनुसार ट्रॉमा जोड़ों के ऊतक को तोड़ने का कारण बनता है, जिससे छोटे सिस्ट बनते हैं और बाद में अधिक बड़े हो जाते हैं। सबसे संभावित सिद्धांत के अनुसार जोड़े के कैप्सूल या टेंडन शीथ में दोष होता है जिसके कारण जोड़ों के ऊतक बाहर निकल कर एक सिस्ट या पुटी का रूप ले लेते हैं।

नाड़ीग्रन्थि पुटी का इलाज कैसे होता है?

गैंग्लियन सिस्ट अक्सर उपचार के बिना ठीक हो जाते हैं। यदि ये पुटी दर्द या बेचैनी का कारण नहीं बनती है, तो उपचार आवश्यक नहीं है। आपके डॉक्टर आपको निम्नलिखित कार्य करने की सलाह दे सकते हैं:

  • हाथ और कलाई की दोहराव वाली गतिविधियों को न करें।
  • कलाई पर ब्रेस पहनें क्योंकि यह सिस्ट को कम करने का कारण बन सकता है।
  • ऐसे जूते पहनें जो आपके पैर या टखने की पुटी को न छूते हो।

यदि आपकी नाड़ीग्रन्थि पुटी दर्द का कारण बनती है या आपकी गतिशीलता को सीमित करती है, तो आपके डॉक्टर इसे खाली कर सकते हैं। इस प्रक्रिया के दौरान, वे एक सिरिंज की मदद से पुटी का द्रव निकाल देते हैं। यदि अन्य उपचारों काम ना कर पाएं तो सर्जरी करके पुटी को हटाना ही एकमात्र विकल्प है। हालांकि पुटी को सर्जरी से हटा देने के बाद यह फिर से विकसित भी हो सकती है।

(और पढ़ें - बेचैनी दूर करने के उपाय)

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...