myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हर पुरुष शरीरिक रूप से सुडौल दिखना चाहता है। कई बार आप किसी अभिनेता को देखकर उसके जैसी बॉडी बनाने की चाह रख लेते हैं। अपनी इस चाह को पूरा करने के लिए आप जिम में जाकर घंटों पसीना बहाते हैं। कई मामलों में तो आप सुबह के साथ-साथ शाम को भी जिम जाते हैं।

ज्यादातर पुरुषों और युवाओं के दिमाग में यह सवाल रहता है कि एक्सरसाइज दिन में एक बार की जानी चाहिए या फिर दो बार। इसको लेकर लोगों में तरह-तरह की अवधारणाएं प्रचलित हैं। अपने शरीर पर किसी भी तरह का प्रयोग करने से पहले आपको एक बार उसके वैज्ञानिक तर्कों के बारे में जानना भी बेहद जरूरी है।

बिना किसी तथ्य की सच्चाई जाने आपको अपने शरीर पर किसी भी तरह का प्रयोग नहीं करना चाहिए। यहां तक की आपको अपने फिटनेस ट्रेनर पर भी आंख मूंदकर विश्वास नहीं करना चाहिए। यह आपका शरीर है, जिसे एक बार नुकसान होने पर उसकी भरपाई आपको ही करनी होगी। ऐसे में आज हम आपको इन्हीं तथ्यों की सच्चाई के बारे में बताने जा रहे हैं।

दिन में दो बार वर्कआउट करने को लेकर एक फिटनेस एक्सपर्ट ने कहा, ‘एक्सरसाइज के शुरुआती दिनों में जब आप एक दिन में दो बार कठिन एक्सरसाइज नहीं कर रहे होते हैं, ऐसे में एक्सरसाइज को बांटकर सुबह और शाम को करना असल में एक अच्छा तरीका है। इससे आपके शरीर को आराम करने में मदद मिलती है। इसके साथ शरीर सही से एक्सरसाइज कर पाने में सक्षम होता है।’

(और पढ़ें - एरोबिक्स एक्सरसाइज कैसे की जाती है?)

फिटनेस गोल्स के हिसाब से लें निर्णय
हालांकि, आप दिन में दो बार एक्सरसाइज कितनी देर तक करते हैं यह आपके फिटनेस स्तर और लक्ष्य पर निर्भर करता है। इसके तहत आप सुबह 30 मिनट और शाम को दोबारा 30 मिनट एक्सरसाइज कर सकते हैं। दिन में दो बार एक्सरसाइज करने से पहले आपको यह ध्यान रखना होगा कि कुछ एक्सरसाइज को पूरा करने में समय लगता है। उदाहरण के लिए वेटलिफ्टिंग को कार्डियो के मुकाबले करने में ज्यादा समय लगता है। इसलिए आप इसे दिन में दो बार बांट नहीं सकते।

जानकारों के मुताबिक, 60-90 मिनट की अवधि के दौरान आप शारीरिक और दिमागी रूप से थक जाते हैं। ऐसे में एक्सरसाइज को बांटकर दो बार करने से आप ज्यादा दृढ़निश्चित होंगे। इसके अलावा आपके अंदर ऊर्जा और ताकत का स्तर भी ज्यादा रहेगा।

एक्सरसाइज करने से आपको थकावट का अहसास हो सकता है, लेकिन जब आप आराम करते हैं तब आपकी मांसपेशियों की मरम्मत होती है। इस दौरान वह और ज्यादा मजबूत और आकार में बढ़ जाती हैं। असल में यह बदलाव जिम में वर्कआउट करते वक्त नहीं होता है बल्कि इस विश्राम की अवधि के दौरान होता है।

वर्कआउट से पहले शरीर को दें आराम
कुछ अध्ययनों में पता चला है कि मांसपेशियों की थकावट एक्सरसाइज करने के दो दिन तक रहती है। ऐसे में उनकी मरम्मत और चोटिल होने से बचाने के लिए 48 घंटों का समय पर्याप्त है।

फिटनेस एक्सपर्ट्स का मानना है कि यदि आपने हाल ही में एक्सरसाइज शुरू की है तो आपको कम से कम 72 घंटों का आराम करना चाहिए, जबकि कुछ लोगों का मानना है कि शरीर के आराम के लिए 8 घंटों की नींद काफी है।

(और पढ़ें - जुंबा डांस से घटेगी चर्बी

अपना फिटनेस लेवल जरूर देखें
ज्यादातर एथलीट या बॉडीबिल्डर्स किसी खास प्रतियोगिता के लिए अपने आपको तैयार करने की खातिर दिन में दो बार एक्सरसाइज करते हैं। उनके पास दिन में दो बार एक्सरसाइज करने का पर्याप्त समय भी होता है।

इसका मतलब यह नहीं कि आपको दिन में दो बार एक्सरसाइज करने की अवधारणा का पूरी तरह से समर्थन करना चाहिए। यदि आपके पास दिन में दो बार एक्सरसाइज करने के सही तरीके के बारे में उचित जानकारी है तो यह आपके लिए बेहतर है।

यदि आपकी फिटनेस का स्तर अच्छा है और आप दिन में दो बार एक्सरसाइज करना चाहते हैं, तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि बिच में 6 घंटों का अंतर होना चाहिए।

(और पढ़ें - 6 एक्सरसाइज जो आपके कंधों को बनाएंगी सुडौल)

और पढ़ें ...