• हिं

नए कोरोना वायरस सीओवीआईडी-19 ने पूरी दुनिया में 7,000 से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। ताजा अपडेट्स के मुताबिक, अब तक 7,177 लोग कोरोना वायरस से मारे गए हैं। इनमें से 3,226 अकेले चीन में मरे। यहां कोरोना वायरस ने 80,881 लोगों को अपना शिकार बनाया है। दूसरे नंबर पर इटली है जहां सीओवीआईडी-19 से मरने वालों की संख्या 2,158 हो गई है। इस यूरोपीय देश में कोरोना वायरस के करीब 28,000 मामले सामने आ चुके हैं। यहां जिस रफ्तार से लोग मर रहे हैं, उसे देख कर कई जानकारों को अंदेशा है कि कहीं मौतों के मामले में इटली, चीन को पीछे न छोड़ दे।

उधर, ईरान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या करीब 15,000 हो गई है। वहां इससे 853 लोगों की जानें गई हैं। हालांकि ईरान के मामले में अच्छी बात यह है कि वहां के हालात इटली के मुकाबले थोड़ी तेजी से सुधरे हैं। खबरों के मुताबिक, ईरान के कुल मरीजों में से करीब 5,000 को बचा लिया गया है, जबकि इटली के 27,980 मरीजों में से अभी तक केवल 2,749 को ही बचाया जा सका है। वहां, 1,800 से ज्यादा लोगों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।

(और पढ़ें - जानें क्यों कोरोना वायरस से अमेरिका के करोड़ों लोगों पर है गंभीर स्वास्थ्य का खतरा)

स्पेन ने दक्षिण कोरिया को पीछे छोड़ा
वहीं, स्पेन ने उम्मीद के मुताबिक दक्षिण कोरिया को पीछे छोड़ दिया है। यह रिपोर्ट लिखे जाने तक स्पेन में कोरोना वायरस के 9,942 मरीजों की पुष्टि हो चुकी थी। इनमें से 342 की मौत हो चुकी है और 272 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। जबकि दक्षिण कोरिया में कुल मामलों की संख्या 8,300 से ज्यादा है और वहां मरने वालों का आंकड़ा केवल 81 है। इसके अलावा गंभीर केसों की संख्या केवल 59 है।

यूरोप के हालात देख कर लग रहा है कि स्पेन के अलावा आने वाले दिनों में यहां के कई देश मरीजों और मौतों के मामले में दक्षिण कोरिया को पीछे छोड़ सकते हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक, जर्मनी में कोरोना वायरस के करीब 7,600 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। हालांकि यहां मरने वालों की संख्या केवल 17 है। लेकिन जर्मनी में न केवल 6,633 लोग वायरस के संक्रमण से ग्रस्त हैं, बल्कि यहां 148 लोगों की मौत भी हुई है। मौतों के मामले में युनाइटेड किंगडम भी दक्षिण कोरिया से आगे जा सकता है। यहां कोरोना वायरस ने 1,500 से ज्यादा लोगों को बीमार किया है। इनमें से अब तक 55 की मौत हो चुकी है।

(और पढ़ें - भारत में कोरोना वायरस से तीसरी मौत, कुल मामलों की संख्या 126 हुई)

वहीं, स्विट्जरलैंड में 2,300 से ज्यादा लोगों को कोरोना वायरस ने अपना शिकार बनाया है। यहां 21 लोगों की मौत भी हुई है। नीदरलैंड में 1,400 से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हैं। यहां इस वायरस ने 24 लोगों की जिंदगी ली है। हजार मरीजों की सूची में नॉर्वे (1,356), ऑस्ट्रिया (1,132), स्वीडन (1,121) और बेल्जियम (1,058) का भी नाम आता है। इसमें जल्दी ही डेनमार्क का नाम भी शामिल हो सकता है जहां कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 960 हो गई है।

अमेरिका में मृतकों का आंकड़ा सौ के करीब
अमेरिका में भी कोरोना वायरस से पैदा हुए संकटपूर्ण हालात संभाले नहीं संभल रहे हैं। वहां इस विषाणु के मरीजों की संख्या 4,743 हो गई है। वहीं, मृतकों का आंकड़ा 93 हो गया है जो जल्दी ही सौ के पार जा सकता है। बताया जा रहा है कि 12 मरीजों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है और बीमारी से रिकवर हुए लोगों की संख्या केवल 74 है। यानी 4,500 से ज्यादा मरीजों का इलाज अभी भी किया जा रहा है। बहरहाल, कोरोना वायरस ने अब तक दुनिया में एक लाख 83 हजार से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाया है। इनमें से करीब 80,000 को बचा लिया गया है। छह हजार से ज्यादा लोगों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।

(और पढ़ें - कोरोना वायरस के डर को भगाएं, घर पर ही आसानी से हैंड सैनिटाइजर बनाएं)

कोरोना वायरस से जुड़ी ताजा और अहम अंतरराष्ट्रीय अपडेट्स इस प्रकार हैं-

  • कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की संख्या 162 हुई।
  • जर्मनी में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने के बाद वहां के विदेश मंत्री ने सभी नागरिकों को घरों में रहने की अपील की।
  • फिलिपींस की बड़ी एयरलाइन ने एक महीने के लिए सभी बड़ी उड़ानें रद्द कीं।
  • लंदन के मेयर ने लोगों से गैरजरूरी संपर्क नहीं करने की अपील की।
  • फ्रांस में आम लोगों की गतिविधियों पर नियंत्रण आज से शुरू।
  • पाकिस्तान में दो दिनों में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में तीन गुना बढ़ोतरी। अब तक करीब 200 मामलों की पुष्टि, एक की मौत।
  • अमेरिका में नए कोरोना वायरस के इलाज के लिए बनाई गई वैक्सीन का ट्रायल सोमवार से शुरू। करीब एक महीने के अंतराल में मरीजों को दो-दो इंजेक्शन लगाए जाएंगे।
  • मलेशिया ने कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि की।
  • श्रीलंका ने अपने यहां आने वाली सभी उड़ानों पर दो हफ्तों के लिए रोक लगाई।
  • ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने कहा, शरीर का इम्युन सिस्टम कोरोना वायरस के खिलाफ वैसी ही प्रतिक्रिया देता है जैसी कि फ्लू के समय।