myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 एक बिलकुल नया इंफेक्शन है और दिसंबर 2019 में पहली बार इसके मामले सामने आए थे। चूंकि अब तक इस बीमारी का कोई इलाज या वैक्सीन खोजा नहीं जा सका है। लिहाजा प्रिकॉशन से जुड़े सभी जरूरी कदम उठाकर ही हम इस इंफेक्शन से बच सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO की मानें तो इस नए कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 से होने वाली बीमारी कोविड-19 से खुद को बचाने और बीमारी को फैलने से रोकने के लिए 5 जरूरी कदम उठाने की जरूरत है:

कोरोना वायरस से बचने के लिए अपना चेहरा छूने से खुद को रोकना क्यों जरूरी है यह जानने के लिए पहले हमें ये समझना होगा कि आखिर यह वायरस फैलता कैसे है। अगर आप किसी ऐसी सतह को छूते हैं जिस पर कोविड-19 का वायरस सक्रिय है तो वायरस आपके हाथों पर चिपक जाता है और फिर अगर बिना हाथ धोए, आप अपने चेहरे को हाथ लगाते हैं तो यह वायरस आपके हाथ से चेहरे तक पहुंच जाता है और फिर आंख, नाक और मुंह की श्लेष्मा झिल्ली के जरिए यह वायरस शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता है।

(और पढ़ें: कोविड-19 महामारी के दौरान ऐसे धोएं कपड़ें और रहें संक्रमण मुक्त)

लेकिन कितनी भी कोशिश कर लें अपने चेहरे को बार-बार छूने की आदत को छोड़ना इतना आसान नहीं है। यह आदत इतनी सहज है कि कई बार हम इसे नोटिस भी नहीं कर पाते कि आखिर हम दिनभर में कितनी बार अपने चेहरे को छूते हैं। जर्नल ऑफ ऑक्यूपेशनल एंड इन्वायरनमेंटल हाइजीन में साल 2008 में प्रकाशित एक स्टडी में यह बात सामने आयी कि औसतन एक व्यक्ति 1 घंटे में करीब 16 बार अपने चेहरे को छूता है। वहीं, एक दूसरी स्टडी अमेरिकन जर्नल ऑफ इंफेक्शन कंट्रोल में छपे शोध के अनुसार, 1 घंटे में मेडिकल स्टूडेंट्स ने लगभग 23 बार अपने चेहरे पर हाथ रखा और इनमें से 44 प्रतिशत बार उन्होंने श्लेष्मा झिल्ली को भी हाथ लगाया। 

चेहरा छूने की अपनी इस आदत को छोड़ने के लिए आप इन टिप्स को अपना सकते हैं: 

  1. आपने चेहरे को कितनी बार छूआ इसकी गिनती रखें
  2. अपने हाथों को व्यस्त रखें
  3. उन वजहों को दूर करें जो आपको चेहरा छूने के लिए प्रेरित करती हैं
  4. इस आदत को किसी नई आदत से बदल दें
  5. ग्लव्स या फेसकवर यूज करना शुरू कर दें
  6. अपनी आंखों का खास ध्यान रखें
  7. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचना है तो चेहरा छूने की आदत छोड़ें, अपनाएं ये टिप्स के डॉक्टर

आप चाहें तो इसके लिए कोई ऐप इस्तेमाल करें, डेली प्लैनर या फिर कागज के टुकड़े पर लिखते जाएं- आपने कितनी बार अपने चेहरे को छूआ है उसकी गिनती रखें। आपको अपने ऐक्शन्स पर ज्यादा ध्यान रखना है। रिसर्च की मानें तो आप जब तक गिनती करते रहेंगे, पहले की तुलना में आप अपने ऐक्शन को कम बार दोहराएंगे। लेकिन आपको अपनी इस आदत को लंबे समय तक जारी रखना होगा क्योंकि एक बार आपने अपने ऐक्शन को ट्रैक करना बंद कर दिया तो आप वापस अपने चेहरे को छूना शुरू कर देंगे। 

हर बार जब अपनी आंख, नाक या मुंह को छूने की इच्छा हो तो सतर्क और अधिक जागरूक रहें। ये दो तरकीब निश्चित रूप से काम करेंगी। लॉकडाउन के समय जब आप घर पर हैं तो यह सुनिश्चित करें कि आपके हाथ फ्री न हो। हाथ में टिश्यू होने से भी मदद मिल सकती है। यह याद दिलाएगा कि अपने हाथों को चेहरे से दूर रखने की जरूरत है। अगर टीवी देखने के दौरान चेहरा छूने की आदत है तो आप इस दौरान हाथों में रुबिक्स क्यूब रख सकते हैं, बुनाई कर सकते हैं, मोती की माला रख सकते हैं या फिर हाथों में स्ट्रेस बॉल रख सकते हैं।

(और पढ़ें: ICMR ने जतायी आशंका, कोविड-19 संक्रमित मां से बच्चे में फैल सकता है संक्रमण)

जब आप अपनी इस आदत पर ध्यान देंगे तब आपको पता चलेगा आप अपना चेहरा कब और क्यूं छूते हैं। वे वजहें जो आपको चेहरा छूने के लिए प्रेरित करती हैं वे बेहद कॉमन हो सकती हैं, जैसे- तनाव या चिंता में होने पर नाखून चबाना, चेहरे पर मौजूद किसी पुराने घाव या दाग को खुजाना, फटे होंठों को बार-बार छूना या फिर चेहरे पर आने वाले बालों को हटाना। आप चाहें तो इसके लिए अपने नाखून काट सकते हैं या फिर ऐसा नेलपेंट लगा सकती हैं जिसकी खुशबू अच्छी न हो, फटे होंठों के लिए लिप बाम का इस्तेमाल करें और बालों को अच्छे से बांधकर रखें ताकि वे चेहरे पर न आएं।

यदि अपने हाथों को अपने चेहरे से दूर रखने में आप असमर्थ हैं, तो इस आदत को एक नई आदत के साथ बदलने का प्रयास करें। जब भी चेहरा छूने की जरूरत महसूस हो उस वक्त अपने बाजू को या फिर हथेलियों के पीछे वाले हिस्से को रगड़ना शुरू कर दें। धीरे-धीरे आप देखेंगे कि आप अपने मस्तिष्क को ट्रिक करने में कामयाब हो जाएंगे और जब भी आपको चेहरा छूने की जरूरत महसूस होगी आप वैकल्पिक ऐक्शन को अपनाएंगे।

अगर ऊपर बताए गए सभी प्रयास विफल हो जाते हैं और आप अब भी अपने चेहरे को छूने से परहेज नहीं कर सकते हैं, तो जब घर पर हों तब हाथों में ग्लव्स या चेहरे पर फेसकवर लगाना शुरू कर दें। यह एक प्रभावी रिमांडर के रूप में काम कर सकता है कि आपको अपना चेहरा नहीं छूना चाहिए। हाथों में ग्लव्स पहनकर जब आप चेहरे को छूएंगे तो आपको असहज महसूस होगा जिससे आपकी इस आदत में कमी आएगी। इसके अलावा आप चाहें तो हर वक्त फेसकवर लगाकर भी रख सकते हैं। हालांकि इन दोनों ही चीजों को कीटाणुमुक्त रखना न भूलें।

दिनभर घर पर रहना और घर से काम करना या टीवी-फिल्म-मोबाइल देखते रहने की वजह से आंखों पर काफी बुरा असर पड़ सकता है। ऐसा करने से आंखों में भारीपन और खुजली महसूस होने लगती है जिस वजह से आपको आंखें रगड़ने का मन करने लगता है। लिहाजा बेहद जरूरी है कि आप हर 20 मिनट में 20 सेकंड के लिए स्क्रीन से ब्रेक जरूर लें। साथ ही रात में अपनी आंखों को पूरा आराम दें। अगर आंखों में ड्राइनेस हो रही हो तो ह्यूमिडिफायर यूज करें।

Dr. Neha Gupta

Dr. Neha Gupta

संक्रामक रोग
16 वर्षों का अनुभव

Dr. Lalit Shishara

Dr. Lalit Shishara

संक्रामक रोग
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Alok Mishra

Dr. Alok Mishra

संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Amisha Mirchandani

Dr. Amisha Mirchandani

संक्रामक रोग
8 वर्षों का अनुभव

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
AlzumabAlzumab Injection6995.16
AnovateANOVATE OINTMENT 20GM90.0
Pilo GoPilo GO Cream67.5
Proctosedyl BdPROCTOSEDYL BD CREAM 15GM66.3
ProctosedylPROCTOSEDYL 10GM OINTMENT 10GM63.9
RemdesivirRemdesivir Injection15000.0
Fabi FluFabi Flu 200 Tablet1292.0
CoviforCovifor Injection5400.0
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें