myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) एक ऐसी स्थिति है जिसमे किसी व्यक्ति के आँखों में पर्याप्त गुणवत्ता वाले आंसू नहीं बन पातें है, जिसकी वजह से आँखों की चिकनाहट चली जाती है जिससे आँखों का पोषण सरल तरीके से नहीं हो पाता है। 

आंखों में पलकों के अंदरूनी कोनों में जल निकासी नलिकाओं में प्रवाह होता है, जो नाक के पिछले हिसे से निकलता है। ड्राई आईज तब होता है जब आंसू का बनना और उसकी निकासी में संतुलन नहीं हो पाता है। सूखी आँखों वाले लोग या तो पर्याप्त आँसू पैदा नहीं करते हैं या फिर उनके आँसू खराब गुणवत्ता के होते है। 

आँखों की पलकों के आसपास कई ग्रंथियों द्वारा आंसू उत्पादित किए जाते हैं। आंसू उत्पादन उम्र के साथ घट जाती है, विभिन्न चिकित्सा स्थितियों के साथ या फिर कुछ दवाइयों के एक साइड इफेक्ट के कारण। पर्यावरण की स्थिति, जैसे कि हवा और सूखी जलवायु, आंसू वाष्पीकरण में वृद्धि की  वजह से भी आंसू की मात्रा में कमी आ सकती है। आंसू उत्पादन की सामान्य मात्रा कम हो जाती है या आँसू आँखों से बहुत तेज़ी से लुप्त होते है ये सुखी आँखों के लक्षण विकसित कर सकती हैं। 

आँसू तीन परतों से बने होते हैं: तेल, पानी और बलगम प्रत्येक पुरजा आँख के सामने की सतह को बचाता है और उसका पोषण करता है। एक चिकनी तेल की परत पानी की परत के बाष्पीकरण को रोकने में मदद करती है, जबकि मूसिन परत आँख की सतह पर समान रूप से आँसू फैलाने में मदद करती है। यदि आँसू बहुत तेज़ी से लुप्त हो जाते हैं तब यह कॉर्निया पर सही मात्रा में आंसू नहीं फैलाते जो आंसू की तीन परतो में से किसी की कमी से होती है जिससे सूखी आँख के लक्षण विकसित हो सकते हैं। 

सूखी आँख का सबसे आम रूप तब होता है जब आँसू में पानी की परत की मात्रा अपर्याप्त होती है। इस स्थति को केराटोकोंजेक्टिवेटिस सिसा (केसीएस) कहते हैं जिसे सूखी आँख सिंड्रोम भी कहा जाता है। सूखी आँखों वाले लोगो को चिढ़, किरकिरा, लापरवाही या जलती हुई आंखों का अनुभव हो सकता है और उनके आँखों में कुछ चुभने की भावना, अतिरिक्त पानी और धुंधला दृष्टि की भी समस्या हो सकती है जो आँखों के सतह को नुकसान पंहुचा सकता है और आपके दृष्टि को भी ख़राब कर सकती है। 

सूखी आँखों के उपचार के लिए आँखों में सामान्य आंसू का प्रवाह जरुरी है जो सूखापन से संबंधित असुविधा को कम करने में और नेत्र स्वास्थ्य बनाए रखने में मदद करता है। 

  1. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के चरण - Stages of Dry Eye Syndrome in Hindi
  2. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के लक्षण - Dry Eye Syndrome Symptoms in Hindi
  3. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के कारण - Dry Eye Syndrome Causes in Hindi
  4. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) से बचाव - Prevention of Dry Eye Syndrome in Hindi
  5. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) का परीक्षण - Diagnosis of Dry Eye Syndrome in Hindi
  6. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) का इलाज - Dry Eye Syndrome Treatment in Hindi
  7. ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Dry Eye Syndrome in Hindi?
  8. आंखों में सूखापन (ड्राई आई सिंड्रोम) की दवा - Medicines for Dry Eye Syndrome in Hindi
  9. आंखों में सूखापन (ड्राई आई सिंड्रोम) के डॉक्टर

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के चरण - Stages of Dry Eye Syndrome in Hindi

ड्राई आइज़ के लक्षण और प्रत्येक चरण का उपचार:

सूखी आँख का रोग एक पुरानी और प्रगतिशिल बीमारी है जो पीड़ितों को दैनिक आधार पर प्रभावित करती है, और पर्याप्त रूप से इलाज न करने पर यह बढ़ती रहती है। एक मरीज को सूखी आँख के रोग के चार चरणों में से एक होने की आशंका होती है, जो इसके लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है जिसके अनुसार इसके उपचार की योजना बनाई जाती है। नीचे सूखी आँख रोग के चार चरणों में से प्रत्येक चरण को एक विस्तृत रूप से दिखाया गया है, जो संजय एन. राव, एमडी द्वारा पहचाने गए थे और इन्होने  इसके उपचार का सुझाव दिया।  

 ड्राई आईज (सूखी आँख) की शुरुआत हलके लक्षणों के साथ होती है, जिसमे धुंधलापन, हल्की जलन और खुजली शामिल है। बीमारी के शुरुआती चरणों के दौरान मरीज अपनी आंखों को रगड़ता और कई बार पलकों को झपकाता है। जब कंजुक्टीवीय धुंधले हो जाते हैं तब आँख के डॉक्टर इस लक्षण को देख के पहचान जाते हैं की यह पहला चरण है और 12 सेकंड से कम में आंसू फिल्म टूटने लगते है जो सूखी आँखों का लक्षण होता है।  

जिन मरीजों को स्तर 1 के लक्षण होते हैं उन्हें खुद से ही सूखी आंख रोग के बारे में विस्तृत जानकारी लेनी चाहिए ताकि सुखी आँख के संभावित पर्यावरणीय या चिकित्सीय कारणों के बारे में जानकारी मिल सके और वह बाद के चरणों में होने वाली बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए उपाय की तलाश कर सके। डॉक्टर इस चरण में अक्सर कृत्रिम आंसू के विकल्प का सुझाव देतें हैं और नम गर्मी उपचार के दैनिक उपयोग से आँखों की नमी बनी रहती है।  

ड्राई आइज़ का दूसरा चरण- संक्रमित लक्षण

जैसे जैसे यह रोग दूसरे चरण में पहुँचता है तो वक्षीय सतह की सूजन और खराब हो जाती है और यह सूजन बढ़ जाती है। जिससे इसके लक्षण और गंभीर हो जाते हैंं, जैसे की सूखापन, पीलापन और आंखो का लाल होना। एक पेशेवर आँख चिकित्सक आंसू फिल्म में दृश्य संकेतों की तलाश करके सूखी आँखों के दूसरे चरण की पहचान करता है और इस चरण में आंसू फिल्म के टूटने का समय 2 सेकंड से 7 सेकंड तक होता है।  
सूखे नेत्र रोग के दूसरे चरण में मरीजों को अपने उपचार को बढ़ा देना चाहिए और ओक्यूलर सतह की सूजन को कम करने के लिए कई बार नम गर्मी चिकित्सा का उपयोग करना चाहिए, जो ओक्यूलर सतह की सूजन को कम करने में मदद करता है। 

रुक-रुक कर ठंड चिकित्सा देने पर भी सूजन और सम्बंधित असुविधाएं को कम करने में मदद करती है। ब्रूडर मॉइस्ट हीट थेरेपी को कुछ घंटो के लिए फ्रीजर में रखे और फिर अपने आँखों पर इस थेरेपी का इस्तेमाल करे यह आपको ड्राई आईज में काफी आराम देगा। 

 

ड्राई आइज का तीसरा चरण - गंभीर लक्षण 

ड्राई आइज के तीसरे चरण में रोगी कई गंभीर तरह के लक्षण अनुभव करता है जो आंसू की हाइपरसमोलरायटी बढ़ने और ओकुलर सतह  में आई सूजन से होती है। ड्राई आईज रोग के अग्रिम चरणों में तंत्रिका संबंधी संचार जो नेत्र सतह और ग्रंथियों के बीच होती है जिससे आंसू पैदा होते है उसे यह बाधित करता है जिससे सूजन का स्व-स्थायी चक्र बनता है।  एक पेशेवर नेत्र चिकित्सक इस चरण की पहचान इसके लक्षण से करता है जिसमे चिह्नित कान्जेक्टीविंग धुंधला हो जाना, सेंट्रल कॉर्नियल धुंधला हो जाना, और तीन सेकंड से कम में एक आंसू-फिल्म के टूटने का समय इस चरण को दर्शाता है। 

ड्राई आईज का चौथा चरण :

सूखे नेत्र रोग के तीसरे चरण में व्यक्तियों को चरण एक और चरण दो रोगियों के जैसे ही सुझाव दिया जाता है जिसमें आवश्यक पर्यावरणीय और जीवन शैली में बदलाव शामिल होते हैं, और नमी गर्मी चिकित्सा और कोल्ड थेरेपी के नियमित उपयोग भी इसमें शामिल हैं। आँखों के डॉक्टर अक्सर इस चरण में कांटेक्ट लेंस का सुझाव देतें हैं जो आँखों में नमी बनाये रखने में मदद करता है। 

सुखी आँख रोग का इलाज अगर पुरे तरीके से न हो तो आगे चलकर  यह चौथे चरण में प्रगति करता है। सुखी आँख के चौथे चरण में सबसे गंभीर लक्षण  जैसे की धुंधलापन, चिपचिपाहट, जलन, आंखो में चुभन, शरीर के बाहरी भागो में सनसनी, ग्रैक्टिनेस, सूखापन, फोटोफोबिया और खुजली शामिल हैं। (और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

सूखी नेत्र रोग के सबसे अग्रीम चरणों में एक आँख का डॉक्टर एंटी- इन्फ़्लम्मतोरिएस दवाएं लेने और संभव सर्जरी कराने की राय देता है। रोगियों को सूजन से होने वाली दर्द को शांत करने के लिए नम गर्मी थेरेपी और कोल्ड थेरेपी लेनी चाहिए, जो स्वस्थ तेलों और आँसू को प्रोत्साहित करने में मदद करता है। 

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के लक्षण - Dry Eye Syndrome Symptoms in Hindi

शुष्क आंख सिंड्रोम (डीईएस), या केरटोकोनजंक्टिविटिस सिसा (केसीएस) की गंभीरता के आधार पर निम्नलिखित सबसे आम लक्षण होते हैं -

शरीर के बहरी अंगो में सनसनी, कुरकुरापन, अतिरक्‍तता, चिपचिपा निर्वहन, नेत्र जलन, आक्साइड सूखापन, अत्यधिक आंसू (पलटा स्राव के लिए माध्यमिक), प्रकाश की असहनीयता, खुजली, उतार चढ़ाव या धुंधली दृष्टि

इसके लक्षण धुएं से भरे या शुष्क वातावरण में अधिक परेशान करते हैं जिसमें इंडोर हीटिंग, या अधिक समय तक कम्पयूटर के सामने बैठना शामिल है। ओक्यूलर सर्फेस डिसीज इंडेक्स (ओएसडीआई) क्वेश्नेयर में इस तरह के संक्रमण निर्धारित मात्रा में पाए जाते है। 

आंखो को अधिक समय  तक उपयोग करने या अत्यधिक पर्यावरणीय परिस्थितियों के जोखिम के साथ बने रहने से ड्राई आइज सिंड्रोम के लक्षण दिन की समाप्ति के साथ और प्रभावी हो जाते है।  मेइबॉमीयन ग्लैंड डिसफंक्शन (एमजीडी) वाले मरीजों में पलकों के लाल होने और कंजाक्तिवा की शिकायतें होती हैं, लेकिन जब सुबह आप जागते हैं तब इसके लक्षण और ख़राब हो जातें हैं। 

विडंबना यह है कि सूखी आंख सिंड्रोम वाले कुछ मरीज़ो को आंखों में अधिक पानी बनने की शिकायत होती है, जब सूखी आंख सिंड्रोम के साक्ष्य मौजूद होते हैं इस लक्षण के अक्सर सूखने से गंभीर कॉर्नियल की सतह की बीमारी को समझाया जाता है। 

कुछ प्रणालीगत दवाएं आंखो में अधिक आंसू के बनने को कम करती हैं, जैसे कि एंटीहिस्टामाइंस, बीटा ब्लॉकर्स, और मौखिक गर्भ निरोधक भी शामिल है। 
कई सामयिक दवाएं आंसू उत्पादन भी कम करती हैं, जिसमें एंटीहिस्टामाइंस, बीटा ब्लॉकर्स और कई अन्य ग्लूकोमा दवाएं भी शामिल हैं।

संयोजी ऊतक रोग (सीटीडी), संधिशोथ (आरए), या थायरॉयड असामान्यताओं के लिए मरीज का चिकित्सा इतिहास महत्वपूर्ण हो सकता है। सिस्टम की संपूर्ण समीक्षा प्राप्त की जानी चाहिए, विशेष रूप से शुष्क मुँह, गठिया, त्वचीय परिवर्तन, बीमारी, वजन घटाने और लिम्फैडेनोपैथी पर ध्यान केंद्रित करना।

 

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) के कारण - Dry Eye Syndrome Causes in Hindi

कई कारणों से सूखी आंखों का विकास हो सकता है:

उम्र- सूखी आँखें प्राकृतिक उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का एक हिस्सा होता है। 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को शुष्क आँखों के कुछ लक्षण अनुभव होते हैं। 

लिंग- गर्भावस्था के कारण हार्मोनल परिवर्तनों के कारण महिलाओ में सूखी आंखों के विकसित होने की अधिक संभावना होती हैं,ऐसी अवस्था में मौखिक गर्भ निरोधकों और रजोनिवृत्ति का उपयोग करते हैं।

दवाएं- एंटीहिस्टामाइंस, डेंगैनेस्टेन्ट्स, ब्लड प्रेशर दवाएं और एंटीडिपेंटेंट्स सहित कुछ दवाएं आंसू के बनने को कम कर सकती हैं।

चिकित्सा की स्थिति- रुमेटीयस गठिया, मधुमेह और थायरॉयड समस्याओं वाले लोगों को सूखी आँखों के लक्षण होने की अधिक संभावना होती हैं। इसके अलावा, पलकों (ब्हेफेराइटिस) पर सूजन, आंख की सतह में सूजन, या पलकों को अंदर या बाहर मोड़ने के कारण सूखी आंखों की समस्या विकसित हो सकती हैं।

पर्यावरण की स्थिति- धुएं, हवा और शुष्क जलवायु के संपर्क में आंसू वाष्पीकरण में वृद्धि होती है जो  सूखी आंख के लक्षण हो सकते हैं। नियमित रूप से पलक में विफलता, जैसे कि लंबे समय तक कंप्यूटर स्क्रीन को घूरते रहना, आँखों को सुखाने में योगदान भी कर सकते हैं।

अन्य कारक- कांटेक्ट लेंस का दीर्घकालिक उपयोग शुष्क आँखों के विकास का एक कारक हो सकता है। अपवर्तक नेत्र शल्य चिकित्सा, जैसे कि लैसिक, आंसुओं के बनने को कम कर सकती है और सूखी आंखों में योगदान कर सकती है।

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) से बचाव - Prevention of Dry Eye Syndrome in Hindi

यदि आपको सूखी आँख का अनुभव होता है तो उन स्तिथियों पर ध्यान देना चाहिए जिसके कारण आपके लक्षण पैदा होने की समभावना होती है। फिर आपको सूखी आँख के लक्षणों को रोकने के लिए उन परिस्थियों से बचने का कोशिश करनी चाहिए। 

आँखों में किसी भी प्रकार की हवा जाने से रोके जैसे की हेयर ड्रायर की हवा हो, या फिर कार हीटर की हवा हो, या फिर एयर कंडीशनर और पंखे के हवा को प्रत्यक्ष रूप से आँखों में जाने से रोके। 
सर्दियों में, एक आर्मीडिफायर  का इस्तेमाल करें जो हवा को शुष्क बनाने के लिए उसमे नमी जोड़ सकता है। 

-धुप से बचने के लिए चश्मे जो आँखों की रक्षा करें पहनने चाहिए। हवा और शुष्क हवा को रोकने के लिए चश्मा जिसमें शीर्ष और पक्षों में सुरक्षा ढाल जोड़ा जा सकता है, जहाँ से आप चस्मा खरीदते हैं वहां इस ढाल के बारे में पूछे जो सूखी आँख में काफी मदद करता है। 

-लम्बे कामो के दौरान आँखों को बीच बीच में आराम देना चाहिए जैसे की यदि आप पढ़ रहे है या फिर कोई ऐसा काम कर रहे हैं जिसमे विसुअल कंसंट्रेशन (दृश्य एकाग्रता) की जरुरत हो, तो कुछ मिनटों के लिए ब्रेक लेना जरुरी है, अपनी आँखें कुछ समय के लिए बंद करें या  अपनी पलकों को कुछ सेकण्ड्स के लिए बार बार ऊपर नीचे करना चाहिए यह आँसू फैलाने की प्रक्रिया में मददगार होती है। 


-अपने पर्यावरण से अवगत रहें ऊंचाई पर, रेगिस्तानी क्षेत्रों में और हवाई जहाज के सफर में हवा बेहद सूखी होती है ऐसे मोहोल में समय व्यतीत करते समय अपने आंसू के वाष्पीकरण को कम करने के लिए  कुछ समय के लिए अपनी आँखें  बंद और खोलते रहें जो आपकी आँखों के लिए सहायक हो सकता है।  

कंप्यूटर स्क्रीन को  अपनी आंखो से नीचे ही रखें - यदि आपकी कंप्यूटर स्क्रीन नेत्र स्तर से ऊपर है, तो आप अपनी आंखें स्क्रीन को देखने के लिए व्यापक रूप से  ज्यादा खोलेंगे। कंप्यूटर स्क्रीन को  आँखों से  नीचे रखें ताकि आप अपनी आंखों को आपको पूरी तरह न खोलना पड़े । इससे आंखों के झपके के बीच आपके आँसू के बाष्पीकरण को धीमा करने में मदद मिल सकती है।

 -धूम्रपान बंद करें और धूम्रपान से बचें, यदि आप धूम्रपान करते हैं तो अपने चिकित्सक से धूम्र-पान छोड़ने की रणनीति के लिए सलाह लें जो आपके लिए लाभदायक हो। और यदि आप धूम्र-पान नहीं करते हैं तो उन लोगों से दूर रहे जो धूम्र-पान करते हो क्यूंकि धूम्र-पान का धुआँ आपके आँखों को और ख़राब कर सकता हैं। 

-कृत्रिम आँसू का प्रयोग नियमित रूप से करें यदि आप सूखी आँखों से परेशान हैं, तो आंखों में आँख की दवा का उपयोग करें, भले ही आपकी आंखों की चिकनाई अच्छी तरह से बनी हो फिर भी हमेसा आँख की दवा का उपयोग करे जिससे आँखों में चिकनाहट बनी रहे। 

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) का परीक्षण - Diagnosis of Dry Eye Syndrome in Hindi

सूखी आंखों का निदान आंखों के परीक्षण द्वारा किया जा सकता है। यह परिक्षण आंखों द्वारा उत्पादित आँसू की मात्रा और गुणवत्ता पर केंद्रित होता है।

ड्राई आइज के मरीज में उसकी बीमारी का इतिहास, मरीज की सामान्य स्वास्थ्य समस्या के साथ साथ दवाओं या पर्यावरणीय कारक भी हो सकते है। 

आंख के  बाहरी भाग का परीक्षण, ढक्कन संरचना और गतिशीलता सहित झपकी भी शामिल है। 

उज्ज्वल प्रकाश और बढ़ाई का उपयोग करते हुए पलकें और कॉर्निया का मूल्यांकन करना। 

किसी भी असामान्यता के लिए मात्रा और आँसू की गुणवत्ता को मापना। आंसू प्रवाह को बेहतर ढंग से देखने के लिए और आँखों की बाहरी सतह में किसी भी बदलाव को उजागर करने के लिए आंखों में विशेष रंजियां डाली जा सकती हैं जो अपर्याप्त आँसू के कारण होते हैं।
परिक्षण से मिली जानकारी से आपका चिकित्सक पता कर सकता की आपको ड्राई आईज है या नहीं और इलाज  के लिए आपको सलाह दे सकते हैं।

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) का इलाज - Dry Eye Syndrome Treatment in Hindi

सूखी आंखें एक गंभीर स्थिति हो सकती हैं, लेकिन आपके ऑप्टोमेट्रिस्ट आपकी आँखों को स्वस्थ और आरामदायक रखने  के लिए और अपने दृष्टिकोण को प्रभावित होने से रोकने के लिए उपचार बता सकते  हैं।

शुष्क आँखों का प्रबंधन और उपचार करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले प्राथमिक दृष्टिकोण में शामिल हैं- ओवर-द-काउंटर कृत्रिम आंसू समाधान, आंसुओं का संरक्षण, आंसू उत्पादन में वृद्धि, और पलक या आंख की सतह की सूजन का इलाज करना जो सूखी आँखों में योगदान देती है।

आँसू जोड़ना

शुष्क आँखों के मामूली मामलों अक्सर ओवर-द-काउंटर कृत्रिम आंसू समाधानों का उपयोग कर प्रबंधित किया जा सकता है। प्राकृतिक आंसू उत्पादन को पूरा करने के लिए जितनी जरूरत होती है, उतनी बार इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। संरक्षक-मुक्त कृत्रिम आंसू समाधान की सिफारिश की जाती है क्योंकि उनके पास कम योजक होते हैं, जो आंखों को अधिक परेशान कर सकते हैं।

ड्राई आइज से ग्रसित रोगी  जिन्हें कृत्रिम आंसू से लाभ नही होता उन्हें अपनी आखों के उपचार  के लिए एक कदम और लेना पड़ता है। 

आँसू का संरक्षण करना आंखों में प्राकृतिक आँसू रखने से सूखी आंखों के लक्षण कम हो सकते हैं। यह आंसू नलिकाओं को अवरुद्ध करके किया जा सकता है जिसके द्वारा आँसू सामान्य रूप से निकाला जाता हैं। आंसू नलिकाओं को छोटे सिलिकॉन या जेल-जैसे प्लग से अवरुद्ध किया जाता है जरुरत पड़ने पे इसे निकाला जा सकता है, यदि आवश्यक हो तो शल्य प्रक्रिया स्थायी रूप से आंसू नलिकाओं को बंद कर सकती है, दोनों ही सूरतों में उद्देश्य होता है कि  आंखो  में उपलब्ध आसूं को लंबे समय तक बनाए रखा जा सके ताकि ड्राई आइज के जुड़ी समस्या न हो  

आपका ऑप्टोमेट्रिस्ट आंसू उत्पादन में वृद्धि के लिए आंखों की दवा को लिख सकता है जो आंसू उत्पादन में वृद्धि करता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड के पोषण से  सूखी आँखों में मदद मिलती है।

योगदान पलक या ओकुलर सतह सूजन का इलाज करना- आँखों में सूजन कम करने के लिए आपका चिकित्सक आपको आईज ड्राप या मलहम, 
गर्म संपीड़ित और ढक्कन की मालिश या फिर पलक क्लीनर का सुझाव देते हैं जो ड्राई आईज में मदद करते हैं। 

ड्राई आई सिंड्रोम (आंखों में सूखापन) में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Dry Eye Syndrome in Hindi?

विशेषज्ञो के मुताबिक लगभग 33 मिलियन अमेरिकी सूखी आंखों के लक्षणों का अनुभव करते हैं, जिनमें सूखापन, कुरकुरापन और जलन शामिल है। विशेषज्ञो के अनुसार, सूखी आंख पूरे शरीर की अंतर्निहित स्वास्थ्य की स्थिति से सीधे संबंधित है। शरीर के उचित जलयोजन और महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के नियमित दैनिक सेवन से समय के साथ सूखी आंखों के कई लक्षणों को रोकने, यहां तक कि कम करने में मदद मिलती। सामान्य तौर पर, जो लोग ताजा फल और सब्जियां, साबुत अनाज और मध्यम मात्रा में मछली जैसे स्वस्थ आहार खाते हैं, ऐसे लोगो में आंखों की समस्याओं का खतरा कम होता हैं।

 

विशेषज्ञों  के अनुसार, सूखी आंख सिंड्रोम के रोगियों को अक्सर अधिक पानी पीने से आराम मिलता है और इस बीमारी में राहत मिलती है, भले ही पानी को आम तौर पर भोजन नहीं माना जाता है लेकिन यह मानव शरीर के लिए सबसे आवश्यक पोषक तत्व है, और आज के अधिकांश लोग जीर्ण निर्जलीकरण से ग्रस्त हैं, डॉ. बाटमैंजेलिज के अनुसार जल: स्वास्थ्य के लिए, उपचार के लिए, जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। चिकित्सा संस्थानों की सिफारिश है कि ज्यादातर महिलाओं को लगभग 90 औंस पानी की आवश्यकता होती है और अधिकांश पुरुषों को कम से कम 125 औंस की आवश्यकता होती है। आपके शरीर में खाने से  20 प्रतिशत पानी आना चाहिए और बाकी शुद्ध पेयजल से आना चाहिए।

आवश्यक फैटी एसिड पोषक तत्व आंसू फिल्म के दोनों पानी और तेलयुक्त जलीय परतों के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता हैं। आवश्यक फैटी एसिड का सबसे अच्छा भोजन स्रोत मछली का तेल और ठंडे पानी की मछली होती हैं, जैसे सैल्मन, हलिबूट, सार्डिन और टूना। अन्य अच्छे स्रोतों में सन बीज के तेल और सन बीज शामिल हैं जो अनाज या फलों के रस पर छिड़का जा सकता हैं। विजन वर्क्स यूएसए के डॉ. मार्क ग्रॉसमैन के अनुसार, सूखी आंखों का अनुभव करने वाले लोगों ने आवश्यक फैटी एसिड और विटामिन बी -6 और सी को बढ़ाने से, 10 दिनों के भीतर आंसू उत्पादन में वृद्धि होती है।

मुक्त कट्टरपंथी क्षति के कारण भी सूखी आँखों के लक्षण हो सकते हैं। ऑक्सीडेटिव तनाव - शरीर में उम्र बढ़ने की वजह से; अल्प खुराक; व्यायाम की कमी; और अस्वास्थ्य जीवन शैली कारक जैसे धूम्रपान, अधिक शराब, दवाएं और पुराने तनाव से होती है। हमारे शरीर को एंटीऑक्सिडेंट्स काफी आसानी से खाद्य भोजन खाने से मिल सकता है जैसे की फलों और बहुरंगी सब्जियों, विशेष रूप से काले, पत्तेदार हरे पौधे, पालक और चार्ड में प्रचुर मात्रा में भोजन खाने से एंटीऑक्सिडेंट आसानी से प्राप्त होते हैं। सबसे अधिक एंटीऑक्सिडेंट युक्त फल में से कुछ में अकाई बेरी, गोजी बेरी, एसीरला चेरी और अन्य तीखा जामुन भी शामिल हैं।

सभी खनिज भोजन आंखों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन दो विशेष रूप से फायदेमंद हैं, विशेषज्ञों के अनुसार शुष्क आँख वाले रोगियों में पोटेशियम आमतौर पर बहुत कम होता है। पोटेशियम के सर्वोत्तम खाद्य स्रोतों में केल्प, डेलस, गेहूं के बीज, बादाम, पेकान, केले, किशमिश, अंजीर और एवोकैडो शामिल हैं। "नैदानिक ​​उपचार के लिए प्रिस्क्रिप्शन" के अनुसार आंख के संवहनी कोटिंग में कई एंजाइमों के मेटाबोलिक फ़ंक्शन में जस्ता(जिंक) एक कारक होता है। जस्ता के लिए कुछ अच्छे खाद्य स्रोतों में शराब बनाने वाले खमीर, डल्स, मछली, केल्पा, फलियां, यकृत, मशरूम, सूरजमुखी के बीज शामिल है।  

Dr. Vishakha Kapoor

Dr. Vishakha Kapoor

ऑपथैल्मोलॉजी

Dr. Svati Bansal

Dr. Svati Bansal

ऑपथैल्मोलॉजी

Dr. Srilathaa Gunasekaran

Dr. Srilathaa Gunasekaran

ऑपथैल्मोलॉजी

आंखों में सूखापन (ड्राई आई सिंड्रोम) की दवा - Medicines for Dry Eye Syndrome in Hindi

आंखों में सूखापन (ड्राई आई सिंड्रोम) के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Sandimmun NeoralSANDIMMUN NEORAL 100MG CAPSULE 50S4039
PolybionPOLYBION 2ML INJECTION24
RenolenRenolen Eye Drop53
SoftdropsSoft Drops Liquigel181
IriviscIrivisc 0.5%W/V Eye Drop87
Ultra GelUltra Gel 1% Eye Drop98
Wat RWat R 0.5%W/V Eye Drop71
WeticaWetica 0.5% W/V Eye Drop72
WetterWetter Eye Drop65
Bjain Leonurus cardiaca DilutionBjain Leonurus cardiaca Dilution 1000 CH63
Zona FreshZona Fresh 0.5%W/V Eye Drop232
ZyaquaZyaqua 0.5% W/V Eye Drop109
CoheviscCohevisc 1.0%W/V Eye Drops0
Zyaqua ForteZyaqua Forte 1% W/V Eye Drop140
EubriEubri 0.1% Eye Drop394
VasozineVasozine 0.05% Eye Drop12
Schwabe Leonurus cardiaca CHSchwabe Leonurus cardiaca 1000 CH96
Add Fresh TearsAdd Fresh Tears Eye Drop63
Fair EyeFair Eye Cream599
Bjain Chelidonium Majus DilutionBjain Chelidonium Majus Dilution 1000 CH175
Advance TearAdvance Tear Eye Drop140
HylaHyla 0.1% W/V Eye Drop276
AfteeAftee Eye Drop57
Al DewAl Dew Eye Drop87

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. National Health Service [Internet]. UK; Dry eyes
  2. National institute of eye. Facts About Dry Eye. National Institutes of Health. [internet].
  3. National institute of eye. Facts About Dry Eye. National Institutes of Health. [internet].
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Dry eye syndrome
  5. American academy of ophthalmology. What Is Dry Eye?. California, United States. [internet].
और पढ़ें ...