myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खुजली वाली त्वचा एक आम समस्या है जो कई लोगों को प्रभावित करती है। ये तब और परेशान करती है जब आप कोई काम कर रहे होते हैं या सो रहे होते हैं। एलर्जी, कीड़े का काट लेना, त्वचा का संक्रमण, शुष्क मौसम, साबुन और डिटर्जेंट और यहां तक कि कुछ दवाएं खुजली का कारण बनती हैं। खुजली करने से कुछ पल के लिए भले ही आराम मिल जाता हो लेकिन इससे आपकी चोट और संक्रमण और ज़्यादा फैल सकता है।

(और पढ़ें - सिर में खुजली के लिए घरेलू उपाय)

तो आज हम आपको कुछ घरेलू उपाय बताने वाले हैं जिनके इस्तेमाल से आपको खुजली से राहत मिल सकती है –

  1. त्वचा की खुजली का घरेलू उपाय है बेकिंग सोडा - Skin ki khujli ka gharelu upay hai baking soda in Hindi
  2. त्वचा की खुजली को दूर करे ओटमील से - Twacha ki khujli ko dur kare oatmeal se in Hindi
  3. खुजली को रोकने का उपाय है ठंडा पानी - Khujli ko rokne ka upay hai cold water in Hindi
  4. त्वचा की खुजली को दूर करने का घरेलू नुस्खा है नींबू - Skin ki khujli ko dur karne ka nuskha hai lemon in Hindi
  5. खुजली ठीक करने का उपाय है सेब का सिरका - Khujli thik karne ka upay hai apple vinegar in Hindi
  6. खुजली के लिए घरेलू उपाय है एलो वेरा - Khujli ke liye gharelu upay hai aloe vera in Hindi
  7. त्वचा की खुजली के लिए करें तुलसी का उपयोग - Twacha ki khujli ke liye kare basil ka upyog in Hindi
  8. खुजली मिटाने का उपाय है अजवाइन के फूल - Itching mitane ka upay hai thyme in Hindi
  9. खुजली का देसी नुस्खा है पुदीने का तेल - Khujli ka desi nuskha hai peppermint oil in Hindi
  10. खुजली से निजात पाने का तरीका है नारियल का तेल - Khujli se nijat pane ka tarika hai coconut oil in Hindi
  11. खुजली मिटाने का घरेलु उपाय है नीम - Twacha ki khujli mitane ka gharelu upay hai neem in Hindi
  12. खुजली से छुटकारा पाने का उपाय है तिल का तेल - Khujli se chutkara pane ka tarika hai sesame oil in Hindi

बेकिंग सोडा खुजली वाली त्वचा और त्वचा पर पड़ने वाले चकत्तों के लिए सबसे आम घरेलू उपाय है। बेकिंग सोडा में सूजनरोधी गुण होते हैं जो खुजली से राहत पहुंचाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, यह एक प्राकृतिक एसिड न्यूट्रलाइज़र की तरह काम करता है जिसकी मदद से खुजली की समस्या दूर होती है।

बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. ठंडे पानी से भरे टब में एक कप बेकिंग सोडा डालें।
  2. अब इस पानी को अच्छे से मिला लें जिससे बेकिंग सोडा अच्छे से उसमे घुल जाये।
  3. या तो आप इस टब में आधा घंटे के लिए बैठ जाएँ या मैग से इस पानी को अपने शरीर पर डाल लें।
  4. तौलिये से पोछने की बजाए अपने शरीर को ऐसे ही सूखने दें।
  5. इस प्रक्रिया को रोज़ाना एक बार ज़रूर करें।

दूसरा तरीका -

  1. ज़्यादा खुजली की समस्या के लिए, एक चम्मच पानी में तीन चम्मच बेकिंग सोडा को अच्छे से मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और दस मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  3. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में एक बार जरूर लगाएं। 

(और पढ़ें - बेकिंग सोडा के फायदे)

नोट - बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कभी खुली चोट पर न करें।

कोलाइडल जई (एक बेहद पतला पाउडर) खुजली वाली त्वचा को शांत करता है और आराम पहुंचाने मदद करता है। इसमें एंटी-इरिटेटिंग, सूजनरोधी और राहत पहुंचाने वाले गुण होते हैं जो खुजली से जल्द आराम दिलाते हैं।

ओटमील का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. एक या दो कप कोलाइडल जई को गुनगुने पानी के टब में मिला दें।
  2. अब या तो आप टब में बेथ जाएँ या इस मिश्रण का इस्तेमाल मग से भी कर सकते हैं।
  3. कभी भी गर्म पानी का इस्तेमाल न करें इससे आपकी समस्या और भी ज़्यादा बढ़ सकती है।
  4. आप ओटमील बाथ को पूरे दिन में तीन बार ज़रूर दोहराएं।

दूसरा तरीका -

  1. इसके अलावा एक कप कोलाइडल जई में थोड़ा पानी मिला दें और इसे तब तक ऐसे ही छोड़ दें जब तक उसका पेस्ट न बन जाये।
  2. अब इस मिश्रण को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और आधे घंटे के लिए इसे किसी कपडे ढक कर रख दें।
  3. अब इस उपाय को पूरे दिन में एक बार ज़रूर इस्तेमाल करें।
  4. अगर कोलाइडल जई आपके पास नहीं है तो आप ओट फ्लोर (oat flour) या होल ओट (whole oats) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - ओट्स के फायदे

ठंडे पानी और खुजली की उत्तेजना शरीर के एक ही तंत्रिका से होकर जाती है इसलिए अपने प्रभावित क्षेत्रों पर ठंडे पानी को लगाएं इससे आपको त्वचा में होने वाली खुजली से बेहद आराम मिलेगा। खुजली वाली त्वचा के लिए ठंडे पानी को उपयोग करने के कई तरीके हैं -

ठंडे पानी का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. ठंडे पानी को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर रगड़ें।
  2. कपडे से बंधी बर्फ को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. इसके आलावा आप ठंडे पानी से नहा भी सकते हैं।

लोग कई समय से नींबू का उपयोग त्वचा पर होने वाली खुजली के लिए कर रहे हैं। नींबू में साइट्रिक और एसिटिक एसिड होता है जिनमें एंटीसेप्टिक, एनेस्थेटिक, सूजनरोधी और एंटी-इरिटेटिंग गुण होते हैं।

नींबू का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक या दो ताज़े नींबू से उसका जूस निकाल लें।
  2. अब जूस में रूई को डुबोएं और इसे अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. अब इसे सूखने दें फिर उस क्षेत्र को गुनगुने पानी से साफ़ कर लें।
  4. जब तक स्थिति ठीक नहीं हो जाती तब तक इस उपाय को पूरे दिन में दो बार ज़रूर दोहराएं।

(और पढ़ें - नींबू के फायदे)

नोट - ये उपाय उनके लिए उपयोगी नहीं है जिनकी त्वचा सवेदनशील है।

सेब के सिरके में एंटीसेप्टिक, एंटी-इटचिंग, एंटिफंगल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो खुजली से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं।

सेब के सिरके का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. दो या तीन कप सेब के सिरके को गुनगुने पानी के टब में मिला दें।
  2. अब इस टब में 15 से 30 मिनट के लिए बैठ जाएँ या इसका इस्तेमाल आप मग से भी कर सकते हैं।
  3. फिर त्वचा को सूखने दें और फिर उसपर मॉइस्चराइज़र क्रीम लगाएं।
  4. इस प्रक्रिया को रोज़ाना पूरे दिन में एक बार ज़रूर करें।

दूसरा तरीका -

  1. अधिक खुजली का इलाज करने के लिए रूई को सेब के सिरके में डुबोकर प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  2. अब इसे आधे घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से इसे धो लें।
  3. अब इस मिश्रण का इस्तेमाल एक या दो बार कुछ दिनों के लिए ज़रूर करें।

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे

एलो वेरा में सूजनरोधी, जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण होते हैं। इसके अलावा, इसमें विटामिन ई होता है जो त्वचा को मॉइस्चराइज रखने में मदद करता है और बदले में खुजली को कम करता है।

एलो वेरा का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. एलो वेरा की पत्तियों में से सबसे पहले जेल को निकाल लें। अब इस जेल को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  2. इसे 15 मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से उस क्षेत्र को धो लें।
  3. इस आसान उपाय को रोज़ाना एक बार ज़रूर करें।

दूसरा तरीका -

  1. इसके अलावा पेस्ट बनाने के लिए एक चम्मच एलो वेरा जेल को दो चम्मच ग्रीन क्ले के साथ मिलाएं।
  2. अब इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और उसे कुछ देर सूखने दें।
  3. सूखने के बाद उस क्षेत्र को गुनगुने पानी से धो लें।
  4. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में एक बार ज़रूर करें।

(और पढ़ें - एलोवेरा के फायदे और नुकसान

तुलसी खुजली वाली त्वचा से छुटकारा दिलाने के लिए एक उपयोगी जड़ी बूटी है। तुलसी में यूगेनोल की उच्च मात्रा होती है, यह एक प्रभावी तेल है और इसमें एनेस्थेटिक भी मौजूद होता है। इसके साथ ही इसमें कपूर और थाइमोल नामक कंपाउंड पाया जाता है जो खुजली से राहत दिलाता है।

तुलसी का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. एक चम्मच सूखी तुलसी पत्तियों को दो कप उबलते पानी में डालें।
  2. कुछ मिनट के लिए बर्तन को ढक कर रख दें।
  3. अब इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए रख दें और फिर इसे रूई से प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  4. बचे हुए मिश्रण को किसी बर्तन में सरंक्षित करके रख दें।
  5. इस प्रक्रिया को जब तक चाहे तब तक करें।

दूसरा तरीका -

  1. इसके अलावा तुलसी की पत्तियों को क्रश कर लें और सीधा उन्हें प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  2. सूखने का इंतज़ार करें और फिर गुनगुने पानी से उस क्षेत्र को साफ़ कर लें।
  3. इस प्रक्रिया को जितना मर्ज़ी चाहे दोहरा सकते हैं।

(और पढ़ें - तुलसी के फायदे

अजवाइन के फूल में काफी मात्रा में थाइमोल होता है, जिसमें एनेस्थेटिक और सूजनरोधी गुण होते हैं। थाइमोल तंत्रिका तंतुओं को सुन्न कर देता है इसके साथ ही अत्यधिक खरोंच के कारण होने वाली सूजन को भी कम करने में मदद करता है।

अजवाइन के फूल का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक चम्मच सूखे अजवायन के फूल की पत्तियों को दो कप उबलते पानी में डालें।
  2. उबलने के बाद बर्तन को ढक दें और ठंडा होने का इंतज़ार करें।
  3. अब इस मिश्रण को छान लें। किसी साफ़ कपडे को इस मिश्रण में डालें और प्रभावित क्षेत्रों पर इसे लगाएं।
  4. इस प्रक्रिया को तब तक करें जब तक ये समस्या ठीक न हो जाये।
  5. कुछ मिश्रण को अगली बार के लिए किसी बर्तन में बचाकर रख दें।

(और पढ़ें - अजवाइन के फायदे

पेपरमिंट ऑयल में सूजनरोधी, एंटीसेप्टिक, एनाल्जेसिक और आरामदायक गुण होते हैं जो डरमाइटिस, खुजली या तनाव के कारण होने वाली खुजली को दूर करने में मदद करते हैं।

पुदीने के तेल का इस्तेमाल करने के दो तरीके

पहला तरीका -

  1. गुनगुने पानी के टब में पुदीने की तेल की कुछ बूंदों को डाल लें।
  2. अब उस टब में आधे घंटे के लिए बेथ जाएँ या उस पानी का इस्तेमाल आप मग से भी कर सकते हैं।
  3. इस प्रक्रिया को रोज़ाना एक बार ज़रूर करें।

दूसरा तरीका -

  1. इसके अलावा तीन से चार बूँद पुदीने के तेल को एक चम्मच नारियल का तेल, जैतून या बादाम के तेल में मिला दें।
  2. अब इस तेल के मिश्रण को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. इस तेल के मिश्रण से अच्छे से मसाज करें जिससे तेल त्वचा के अंदर तक अवशोषित हो जाएँ।
  4. इस उपाय को पूरे दिन में एक या दो बार ज़रूर दोहराएं।

(और पढ़ें - पुदीने के फायदे और नुकसान

नारियल का तेल खुजली की समस्या के लिए बेहद फायदेमंद होता है। फिर चाहे वो कीड़े के काटने से हो या रूखी त्वचा के कारण हो। नारियल का तेल इन परेशानियों से राहत दिलाने में मदद करता है।

नारियल के तेल का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. नरियल के तेल को थोड़ा गुनगुना कर लें।
  2. अब उसे उँगलियों पर लें और प्रभावित क्षेत्रों पर लगा लें।
  3. लगाने के बाद अच्छे से मसाज करें और कुछ देर के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  4. नारियल के तेल को धोने की ज़रुरत नहीं है।
  5. इससे आपकी त्वचा हाइड्रेट रहेगी और खुजली से भी राहत मिलेगी।
  6. गुनगुने नारियल के तेल को नहाने से पहले प्रभावित क्षेत्रों पर ज़रूर लगाएं।
  7. आप नहाने के बाद भी नारियल के तेल को थोड़ा थोड़ा रूई से लगा सकते हैं।

(और पढ़ें - नारियल तेल के फायदे और नुकसान

नीम खुजली और त्वचा संबंधित परेशानियों के लिए जानी जाती है। नीम की पत्तियां, छाल और तेल एंटी-फंगल, एंटीसेप्टिक, एंटी-बैक्टीरियल, सूजनरोधी और एंटी वायरल की तरह कार्य करती है। नीम की पत्तियां मुँहासे और दानों के लिए भी जानी जाती हैं। इसमें एस्ट्रिंजेंट और ठंडा रखने के गुण मौजूद होते हैं। ये सभी गुण खुजली से जुडी परेशानी का इलाज अच्छे से करते हैं। इसके अलावा ये एक्जिमा, छालरोग और डैंड्रफ के लिए भी उपयोगी मानी जाती हैं। नीम के तेल को थोड़ा सा प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और उससे मसाज करें। इस तेल को ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।

(और पढ़ें - नीम के फायदे और नुकसान)

रूखी त्वचा और सूरज के जलने (sunburn) से होने वाली समस्या के लिए तिल का तेल एक और प्राकृतिक तरीका है। यह आपकी त्वचा में आसानी से अवशोषित होता है, पोषित करता है साथ ही अंदर से त्वचा का इलाज करता है। तिल के बीज के तेल को थोड़ा सा लेकर प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं इससे खरोचने से होने वाली लालिमा और खुजली को कम करने में मदद मिलती है। इसके रोज़ाना इस्तेमाल करने से ये आपकी त्वचा पर सनस्क्रीन की तरह काम करेगा और आपकी त्वचा की नमी बरक़रार रखेगा। अगली बार से जब भी आप खुजली वाली त्वचा से पीड़ित हो तो खुजली करने के बजाए इन उपायों को अपनाएँ।

(और पढ़ें - तिल के तेल के फायदे और नुकसान)

और पढ़ें ...