मुंह से खून आने लगे, तो यह मसूड़ों में इंफेक्शन का पहला लक्षण होता है. जब मसूड़ों में इंफेक्शन हल्का होता है, तो इसे जिंजिवाइटिस (gingivitis) कहा जाता है. वहीं, जब इस इंफेक्शन के कारण दांतों के आसपास सूजन आ जाती है, तो इसे पीरियोडोंटाइटिस (periodontitis) कहा जाता है. मसूड़ों में संक्रमण होने से डायबिटीज, हार्ट डिजीज, ऑस्टियोपोरोसिस, निमोनिया और कैंसर होने का जोखिम बढ़ जाता है. इसलिए, बेहतर है कि जल्दी से मसूड़ों में इंफेक्शन का पता चले और इसका इलाज करा लिया जाए. मसूड़ों में इंफेक्शन की दवा के तौर पर डॉक्सीसाइक्लिन, टेट्रासाइक्लिन और मीनोसाइक्लिन मददगार साबित हो सकती हैं.

आज इस लेख में आप मसूड़ों में इंफेक्शन होने की दवा के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - मसूड़ों में सूजन के घरेलू उपाय)

  1. मसूड़ों में इंफेक्शन की दवा
  2. सारांश
मसूड़ों में इंफेक्शन की दवा के डॉक्टर

मसूड़ों में इंफेक्शन को ठीक करने में दवाइयां सहायक हैं. इन्हें कई बार सर्जरी और अन्य थेरेपी के साथ लेने की सलाह दी जाती है, तो कई बार सिर्फ इन्हें लेने से मसूड़ों में इंफेक्शन ठीक हो जाता है. ये मसूड़ों में इंफेक्शन पैदा करने वाले बैक्टीरिया को दूर करने में सक्षम हैं. साथ ही ये दवाइयां दांत को खराब होने से भी रोकती हैं. मसूड़ों में इंफेक्शन की दवा में डॉक्सीसाइक्लिन व मीनोसाइक्लिन जैसी दवाएं मददगार हो सकती हैं. आइए, अब विस्तार से मसूड़ों में इंफेक्शन की दवाओं के बारे में जानते हैं -

डॉक्सीसाइक्लिन - Doxycycline

डॉक्सीसाइक्लिन ऐसी एंटीबायोटिक है, जो दांतों को खराब होने से रोकने में एंजाइम की सहायता करती है. यह बैक्टीरिया की ग्रोथ को रोकती है, जिससे मसूड़ों में होने वाला इंफेक्शन ठीक होने लगता है. यह जेल फॉर्म में भी आती है और धीरे-धीरे दवा रिलीज होती है. यह पिल फॉर्म में भी उपलब्ध है.

(यहां से खरीदें - डॉक्सीसाइक्लिन)

टेट्रासाइक्लिन - Tetracycline

टेट्रासाइक्लिन बैक्टीरिया को मसूड़ों से आगे विकसित होने से रोकती है. बैक्टीरिया की संख्या कम होने से मुंह में सूजन भी कम हो सकती है. साथ ही दांतों के आसपास से निकलने वाले खून की मात्रा में भी कमी आने लगती है. इसे डेंटिस्ट दांतों को साफ करके मुंह में रख देते हैं.

(यहां से खरीदें - टेट्रासाइक्लिन)

मीनोसाइक्लिन - Minocycline

मीनोसाइक्लिन का इस्तेमाल जिंजिवाइटिस और पीरियोडोंटाइटिस डिजीज को ठीक करने के लिए किया जाता है. यह दवा बैक्टीरिया को रोककर मसूड़ों में होने वाले इंफेक्शन को कम करती है.

(यहां से खरीदें - मीनोसाइक्लिन)

क्लोरहेक्सिडिन - Chlorhexidine

क्लोरहेक्सिडिन एक एंटी माइक्रोबियल दवा है, जिसका इस्तेमाल प्लाक और जिंजिवाइटिस को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है. यह दवा माउथ रिंस या जेलेटिन भरे हुए चिप फॉर्म में उपलब्ध है. यह अपना असर धीरे-धीरे लगभग 7 दिन में दिखाती है. माउथ रिंस का इस्तेमाल रोजाना करने की सलाह दी जाती है.

(और पढ़ें - दांतों का संक्रमण)

मसूड़ों में इंफेक्शन होने की स्थिति में मुंह से खून भी आने लग सकता है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि मुंह में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं और धीरे-धीरे दांतों तक पहुंचकर दांतों को भी खराब कर सकते हैं. मसूड़ों में इंफेक्शन की दवा के तौर पर डॉक्सीसाइक्लिन, क्लोरहेक्सिडिन व टेट्रासाइक्लिन मददगार साबित हुई हैं, लेकिन किसी भी दवा के इस्तेमाल से डेंटिस्ट से सलाह लेना जरूरी है, क्योंकि एक ही दवा का असर सब पर एक जैसा नहीं होता है.

(और पढ़ें - दांत में दर्द का उपचार)

अस्वीकरण: ये लेख केवल जानकारी के लिए है. myUpchar किसी भी विशिष्ट दवा या इलाज की सलाह नहीं देता है. उचित इलाज के लिए डॉक्टर से सलाह लें.

Dr. Tanya Sethi

Dr. Tanya Sethi

डेंटिस्ट्री
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Saumya Saran Roy

Dr. Saumya Saran Roy

डेंटिस्ट्री
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Kumar Verma

Dr. Abhishek Kumar Verma

डेंटिस्ट्री
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Raktim Phukan

Dr. Raktim Phukan

डेंटिस्ट्री
6 वर्षों का अनुभव

सम्बंधित लेख

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ