myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

थर्मामीटर प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों में से एक सबसे आम उपकरण है जिसका उपयोग हर घर में किया जाता है।

अगर आपको या आपके बच्चे को बुखार महसूस हो रहा है, तो आपको थर्मामीटर का उपयोग करके शरीर का तामपान देखने की आवश्यकता होगी। इसीलिए थर्मामीटर के बारे में जानकारी होना और थर्मामीटर ठीक से देखना आना आवश्यक है।

(और पढ़ें - बुखार कम करने के घरेलू उपाय)

शरीर के तापमान की सही जांच करने से इलाज भी सही तरीके से किया जा सकता है और समस्या को सही से समझा भी जा सकता है।

इस लेख में थर्मामीटर क्या है, थर्मामीटर का अविष्कार किसने किया, प्रकार और इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में बताया गया है।

(और पढ़ें - फर्स्ट ऐड बॉक्स)

  1. थर्मामीटर क्या होता है - Thermometer kya hai in hindi
  2. थर्मामीटर का आविष्कार किसने किया - Thermometer ki khoj ya avishkar kisne ki in hindi
  3. थर्मामीटर के प्रकार - Thermometer ke kitne prakar hote hain in hindi
  4. थर्मामीटर का उपयोग कैसे करें - Thermometer ka upyog karne ka tarika in hindi
थर्मामीटर क्या होता है - Thermometer kya hai in hindi

थर्मामीटर या मेडिकल थर्मामीटर, मनुष्यों और जानवरों के शरीर के तापमान का माप लेने वाला एक उपकरण होता है। मनुष्यों के स्वास्थ की जांच करने के लिए उनके शरीर के तापमान को मापा जाता है। शरीर का तापमान सामान्य से अधिक या बहुत कम होने का मतलब है कि आपको कोई स्वास्थ समस्या हो सकती है।

थर्मामीटर की नोक को मुंह में जीभ के नीचे, बगल में या गुदा में रखा जाता है, जिससे शरीर का सही तापमान रिकॉर्ड होता है।

पुराने प्रकार के थर्मामीटर में "मरकरी" (Mercury) या अल्कोहल का उपयोग करके शरीर के तापमान को नापा जाता था, लेकिन नए प्रकार के थर्मामीटर में इसके लिए इंफ्रारेड किरणों का उपयोग किया जाता है।

(और पढ़ें - शरीर का तापमान कितना होता है)

थर्मामीटर का आविष्कार किसने किया - Thermometer ki khoj ya avishkar kisne ki in hindi

ऐसा माना जाता है कि थर्मामीटर की खोज 1592 के आस-पास मशहूर वैज्ञानिक ‘गैलीलियो गैलीली’ (Galileo Galilei) ने की थी, लेकिन अठारवीं शताबदी तक ऐसे 35 नए थर्मामीटर की खोज की जा चुकी थी। 1700-30 के बीच भौतिकशास्री ‘डेनियल गैब्रीएल फेरनहाइट’ (Daniel Gabriel Fahrenheit) ने एक सटीक मरकरी वाले थर्मामीटर का अविष्कार किया था।

थर्मामीटर के निम्नलिखित दो प्रकार होते हैं।

  1. मरकरी थर्मामीटर - Mercury thermometer in hindi
  2. डिजिटल थर्मामीटर - Digital thermometer in hindi

मरकरी थर्मामीटर - Mercury thermometer in hindi

मरकरी थर्मामीटर - Mercury thermometer in hindi

मरकरी थर्मामीटर में एक कांच की ट्यूब में मरकरी (जिसे पारा भी कहा जाता है) भरा होता है और ट्यूब के ऊपर सामान्य तपमान लिखे होते हैं। तापमान में बदलाव के कारण मरकरी फैलता और सिकुड़ता है, जिससे तापमान का पता लगाया जाता है। तापमान ज़्यादा होने पर मरकरी फैलता है, जिससे वह ऊपर की ओर चढ़ने लगता है। इसे आम भाषा में पारा चढ़ना भी कहते हैं।

इस थर्मामीटर का साइज एक स्ट्रॉ या पीने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पाइप के जितना होता है जिसके अंदर सिल्वर-सफ़ेद रंग का तरल पदार्थ होता है। यह घरों व स्कूलों में इस्तेमाल किया जाता है।

डिजिटल थर्मामीटर - Digital thermometer in hindi

डिजिटल थर्मामीटर - Digital thermometer in hindi

डिजिटल थर्मामीटर एक ऐसा थर्मामीटर है जिसमें तापमान एक एलसीडी स्क्रीन पर आता है। यह एक बैट्री से चलने वाला थर्मामीटर होता है जिसमें "सेंसर" (sensor: शारीरिक कारकों को महसूस करने वाला एक उपकरण या तकनीक) और एलसीडी स्क्रीन होते हैं।  

डिजिटल थर्मामीटर प्लास्टिक के बने होते हैं और एकदम सही तापमान दिखाते हैं। इसका साइज ऐसा होता है जिससे इसे साथ में कहीं लेकर जाना और इस्तेमाल करना आसान होता है। डिजिटल थर्मामीटर सेल्सियस में तापमान मापते हैं।

(और पढ़ें -  बुखार में क्या खाना चाहिए)

थर्मामीटर का उपयोग कैसे करें - Thermometer ka upyog karne ka tarika in hindi

शरीर का सही तापमान पता लगाने के लिए थर्मामीटर का सही से उपयोग करना आना चाहिए। इसके लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  • सही थर्मामीटर चुनें
  1. थर्मामीटर का सही प्रकार और इस्तेमाल करने के लिए सही जगह व्यक्ति की उम्र पर निर्भर करते हैं।
  2. छः माह तक की उम्र के नवजात शिशुओं के लिए उनके गुदा में एक डिजिटल थर्मामीटर का उपयोग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसे सबसे सटीक माना जाता है।
  3. बच्चों में थर्मामीटर का उपयोग सावधानी से करें। तीन साल तक की उम्र के बच्चों में गुदा से डिजिटल थर्मामीटर का उपयोग करके तपमाप लेना सही माना जाता है।
  4. सामान्य प्रकार के थर्मामीटर मुंह, बगल और गुदा से तापमान लेने के लिए नवजात शिशुओं, बड़े बच्चों और वयस्कों के लिए भी सही माने जाते हैं।
  5. तीन से पांच साल की उम्र के बाद शरीर के किसी भी भाग में किसी भी प्रकार के थर्मामीटर का उपयोग करना सही होता है। गुदा में डिजिटल थर्मामीटर का उपयोग करना सबसे सटीक होता है, लेकिन यह व्यक्ति के लिए असुविधाजनक हो सकता है। (और पढ़ें - बुखार के लक्षण)
  • थर्मामीटर का इस्तेमाल
  1. मुंह से तापमान लेना - मुंह में पीछे की तरफ जीभ के नीचे थर्मामीटर रखकर तापमान लेना सटीक होता है। इसके लिए थर्मामीटर को उसके कवर से बाहर निकालें। अगर आप डिजिटल थर्मामीटर इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसे ऑन करें। थर्मामीटर को जीभ के नीचे जितना हो सके उतना पीछे की ओर रखें व अपने होठों को बंद कर लें और थर्मामीटर से आवाज़ आने तक मुंह बंद रखें। इसमें कुछ मिनट का समय लग सकता है, इसीलिए थर्मामीटर पर तापमान (रीडिंग) आने तक मुंह से सांस लें। तापमान लेने के बाद थर्मामीटर को साबुन और हलके गर्म पानी से  साफ करें और फिर ठन्डे पानी से धो दें। खाने-पीने या धूम्रपान करने के बाद कम से कम 20 मिनट इंतज़ार करें। (और पढ़ें - धूम्रपान के नुकसान)
  2. गुदा से तापमान लेना - गुदा से तापमान लेने का प्रयोग आमतौर पर बच्चों और नवजात शिशुओं के लिए किया जाता है, लेकिन इससे वयस्कों का तापमान लेना भी सटीक होता है, हालांकि यह व्यक्ति के लिए असहज हो सकता है। गुदा में थर्मामीटर डालने से पहले उसे पानी या पेट्रोलियम जेली पर आधारित किसी पदार्थ से चिकना कर लें। व्यक्ति के कूल्हों को खोलें और थर्मामीटर के आगे वाली नोक को आधा इंच से ज़्यादा गुदा के अंदर न डालें। अगर थर्मामीटर अंदर नहीं जा रहा है, तो जबरदस्ती न करें। थर्मामीटर से आवाज़ आने तक इंतज़ार करें और फिर आराम से इसे बाहर निकाल लें। तापमान लेने के बाद थर्मामीटर और अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें। ऐसा न करने से कई प्रकार की बीमारियां फ़ैल सकती हैं। गुदा में प्रयोग करने के लिए लचीली नोक वाला थर्मामीटर खरीदें। गुदा में बगल और मुंह के मुकाबले तापमान एक डिग्री तक ज़्यादा हो सकता है।
  3. बगल से तापमान लेना - शरीर का तापमान लेने के लिए बगल में भी थर्मामीटर रखा जा सकता है, हालाँकि यह गुदा और मुंह से तापमान लेने के मुकाबले कम विश्वसनीय होता है। बगल में थर्मामीटर रखने से पहले बगल को अच्छे से सुखा लें। थर्मामीटर की नोक को बगल के बीच के हिस्से में रखें और बांह को नीचे कर लें। थर्मामीटर से आवाज़ आने तक इंतज़ार करें। गर्म पानी से नहाने या एक्सरसाइज करने के बाद कम से कम एक घंटे तक तापमान न लें। अधिक सटीक बनाने के लिए दोनों बगल से तापमान लें और औसत निकाल लें। बगल का तापमान शरीर की अन्य जगहों से कम होता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में बुखार का इलाज)

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...

References

  1. FDA [Internet]. US Food and Drug Administration Non-contact Infrared Thermometers
  2. NHS [Internet]. National Health Services; How do I take a temperature?
  3. EPA [Internet]. United States Environmental Protection Agency; Mercury Thermometers
  4. Mayo Clinic [Internet]. Mayo Foundation for Medical Education and Research (MFMER). Rochester, MN; Thermometers: Understand the options
ऐप पर पढ़ें