myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आपको और आपके परिवार को किसी भी दुर्घटना के लिए तैयार रहना चाहिए ताकि आप आपातकालीन स्थिति में शांत रहकर घायल व्यक्ति को प्राथमिक चिकित्सा दे सकें। प्राथमिक चिकित्सा देने के लिए आपके पास प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट ऐड बॉक्स होना आवश्यक है। फर्स्ट ऐड किट (First AId kit) आसानी से घर पर बनाई जा सकती है।

इस बॉक्स को ऐसी जगह रखें जहाँ बच्चे न पहुंच पाएं और आपातकालीन स्थिति में यह आपको जल्दी से मिल भी जाए।

इस लेख में फर्स्ट ऐड बॉक्स का मतलब, बनाने का तरीका, फायदे व महत्व, प्रकार और फर्स्ट ऐड किट में क्या होना चाहिए के बारे में बताया गया है।

  1. फर्स्ट ऐड बॉक्स क्या है - First aid box kya hai
  2. फर्स्ट ऐड बॉक्स के फायदे और महत्त्व - First aid kit ke fayde aur mahatva
  3. फर्स्ट ऐड बॉक्स कैसे बनाते हैं - First aid kit banane ka tareeka
  4. फर्स्ट ऐड बॉक्स में क्या क्या होता है - First aid box me kya kya hona chahiye
  5. फर्स्ट ऐड बॉक्स के प्रकार - First aid box kaha rakhna chahiye
  6. फर्स्ट ऐड किट कैसे इस्तेमाल करें - First aid box kaise istemal karte hai

फर्स्ट ऐड बॉक्स एक ऐसी किट होती है जिसमें आपातकालीन स्थिति में प्रयोग करने के लिए दवाएं, उपकरण और अपनी सुरक्षा करने वाला कुछ सामान होता है, जैसे दस्ताने। इस किट से आपातकालीन स्थिति में मदद मिलने से पहले घायल व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है और उसे प्राथमिक उपचार दिया जा सकता है।

फर्स्ट ऐड बॉक्स को अपनी जरूरत या दुर्घटना होने की सम्भावना के अनुसार बनाया जा सकता है। हर घर में एक फर्स्ट ऐड किट होनी चाहिए जो बच्चों की पहुंच से दूर हो। अगर आपके पास पहले से ही फर्स्ट ऐड किट होगी, तो आपको आपातकालीन स्थिति में आवश्यक सामान ढूंढने की जरूरत नहीं होगी जिससे आपका और घायल व्यक्ति का समय बचेगा।

आपको एक फर्स्ट ऐड किट अपने घर में और एक गाड़ी में रखनी चाहिए। फर्स्ट ऐंड बॉक्स बाज़ार में भी उपलब्ध होते हैं, लेकिन अगर आप घर पर इसे बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए ऐसा बक्सा लें जिसमें जगह हो, कहीं ले जाने में आसान हो और आसानी से खुल जाए।

(और पढ़ें - चोट लगना)

दुर्घटना के समय और चोट लगने पर प्राथमिक चिकित्सा करने के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स बहुत जरूरी है। छोटी-मोटी चोट को ठीक करने से लेकर इन्फेक्शन की सम्भावना को कम करने के लिए प्राथमिक उपचार किट महत्वपूर्ण है। फर्स्ट ऐड की ट्रेनिंग लेने से आपको फर्स्ट ऐड बॉक्स में मौजूद सब वस्तुओं का प्रयोग करना आ सकता है।

(और पढ़ें - संक्रमण का इलाज)

दुर्घटना कभी भी और कहीं भी हो सकती है। अगर आपके पास प्राथमिक उपचार बॉक्स है, तो आप आपातकालीन स्थिति में अपनी और दूसरों की सहायता कर सकते हैं। फर्स्ट ऐड से चोट की गंभीरता को कम किया जा सकता है।

आप अपने अासपास के लोगों को हमेशा दुर्घटना से नहीं बचा सकते, लेकिन दुर्घटना होने पर फर्स्ट ऐड किट की मदद से उनकी सहायता अवश्य कर सकते हैं।

(और पढ़ें - चोट की सूजन का घरेलू इलाज)

आप प्राथमिक चिकित्सा किट या फर्स्ट ऐड बॉक्स बाजार से खरीद सकते हैं या अपने आप घर पर भी बना सकते हैं। अगर आप घर पर इसे बना रहे हैं, तो ऐसे डब्बे का उपयोग करें जिसमें अधिक सामान आ सके, जो खराब न हो, कहीं ले जाने में आसान हो और जो आसानी से खुल सके। प्लास्टिक के बक्से और कला-संबंधी सामान रखने वाले बक्से फर्स्ट ऐड बॉक्स बनाने के लिए सबसे उचित होते हैं क्योंकि उनका वजन कम होता है, उनमें हैंडल होते हैं और उनमें अधिक सामान भी आ जाता है।

अपनी प्राथमिक चिकित्सा किट को छोटा रखें। इसमें ऐसा सामान रखें जो कई तरह से काम आ सके। फर्स्ट ऐड किट बनाने की विधि नीचे दी गई है -

  • फर्स्ट ऐड के लिए एक अच्छा बॉक्स चुनें जो बड़ा व पारदर्शी हो। कोशिश करें कि यह बॉक्स वाटर प्रूफ हो।
  • किट को ऐसी जगह रखें जहाँ से यह दिखे भी और निकालनी भी आसान हो। बच्चों को बता दें कि किट कहाँ रखी है, लेकिन इसे उनकी पहुंच से दूर रखें।
  • अपने परिवार वालों को फर्स्ट ऐड किट के बारे में और इसे इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में बताएं।
  • अपने फर्स्ट ऐड बॉक्स के सामान की समय समय पर जांच करते रहें और एक्सपायर दवाओं को बदल लें।
  • किट में रखने वाले सामान के लिए एक चेकलिस्ट बना लें ताकि आप कुछ रखना भूले नहीं।

फर्स्ट ऐड बॉक्स में उसके प्रकार के हिसाब से सामान रखा जाता है, जैसे घर में रखने वाली फर्स्ट ऐड किट और सफर में ले जाने वाली फर्स्ट ऐड किट के सामान में थोड़ा-बहुत अंतर होता है जिसके बारे में आप इस लेख के अगले भाग में पढ़ेंगे।

एक सामान्य प्राथमिक चिकित्सा किट में निम्नलिखित सामान होना चाहिए -

  • अलग-अलग अाकार और प्रकार की चिपकने वाली पट्टियां।
  • छोटी, मध्यम व बड़ी विसंक्रमित (Sterile) पट्टियां।
  • कम से कम 2 आंख पर लगाने वाली पट्टियां।
  • तिकोनी बैंडेज (Bandage)।
  • पतली पट्टियां।
  • सेफ्टी पिन (Safety pins)।
  • डिस्पोजेबल विसंक्रमित दस्ताने।
  • चिमटी।
  • कैंची।
  • पोंछने के लिए कपडा।
  • चिपकने वाली टेप।
  • थर्मामीटर (Thermometer)।
  • त्वचा पर चक्कतों के लिए उपयोग की जाने वाली हाइड्रोकोर्टीसोन (Hydrocortisone) और कैलेंडुला (Calendula) जैसी दवाएं। (और पढ़ें - त्वचा पर चकत्ते का इलाज)
  • कीड़ों के काटने पर उपयोग की जाने वाली क्रीम या स्प्रे।
  • एंटीसेप्टिक क्रीम (Antiseptic cream)।
  • पेरासिटामोल (Paracetamol), एस्पिरिन (Aspirin) और आइब्युप्रोफेन (Ibuprofen) जैसी दर्द निवारक दवाएं।
  • खांसी की दवा
  • एंटीहिस्टामिन (Antihistamine) दवाएं।
  • डिस्टिल्ड (Distilled) पानी।

फर्स्ट ऐड किट के साथ एक गाइड रखना भी उपयोगी हो सकता है।

दुर्घटना कहीं भी हो सकती है, इसीलिए घर, ऑफिस, स्कूल और सफर के दौरान आपके पास फर्स्ट ऐड किट होना आवश्यक है ताकि आप आपातकालीन स्थिति में किसी को प्राथमिक उपचार दे सकें। अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग प्रकार के फर्स्ट ऐड बॉक्स की आवश्यकता होती है।

नीचे फर्स्ट ऐड बॉक्स के अलग-अलग प्रकार और ज़रूरत के अनुसार सामग्री बताई गई है।

  1. घर के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Ghar ke liye first aid box
  2. सफर के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Safar ke liye first aid box
  3. स्कूल के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - School ke liye first aid box
  4. ऑफिस के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Office ke liye first aid box

घर के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Ghar ke liye first aid box

घर की फर्स्ट ऐड किट में निम्नलिखित वस्तुएं होनी चाहिए -

  • चिपकने वाली टेप।
  • खुजली, चकत्ते और कीड़ों के काटने के लिए एनेस्थेटिक (Anaesthetic: सुन्न करने वाले) स्प्रे या लोशन (कैलामाइन लोशन)। (और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)
  • घावों को कवर करने के लिए 4*4 की पट्टियां।
  • मोच पर लगाने के लिए गरम पट्टी। (और पढ़ें - मोच के घरेलू उपाय)
  • हर साइज की चिपकने वाली बैंडेज।
  • एलर्जिक रिएक्शन और खुजली वाले चकत्तों के लिए खाने वाली एंटीहिस्टामिन दवाएं (जैसे बेनाड्रिल)। त्वचा पर लगाने वाली एंटीहिस्टामिन (Antihistamine) क्रीम का उपयोग न करें क्योंकि इससे चकत्ते की समस्या बढ़ सकती है।
  • दास्तानें।
  • सामन्य घावों पर लगाने के लिए एंटीबायोटिक क्रीम (Antibiotic cream)।
  • घावों और जले हुए भागों को कवर करने के लिए न चिपकने वाली पट्टियां।
  • सीपीआर (CPR) देने के लिए मास्क (Mask)।
  • ऐसे बैग जिन्हें आप सील कर सकें।
  • बड़ी और छोटी सेफ्टी पिंस (Safety pins)।
  • कैंची।
  • तिकोनी बैंडेज।
  • मेडिकल चिमटी (ट्वीज़र)।

सदमे की समस्या में प्रयोग करने के लिए परिवार के सदस्यों का नाम, दवाएं, डॉक्टर का नाम, इंशोरेंस कंपनी का नाम और संपर्क करने के लिए एक व्यक्ति का नंबर जैसी जानकारी फर्स्ट ऐड बॉक्स में होनी चाहिए।

कार में राखी जाने वाली फर्स्ट ऐड किट में भी घर वाली फर्स्ट ऐड किट जैसा सामान होना चाहिए या आप घर वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स को ही कहीं जाते समय कार में रख सकते हैं।

सफर के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Safar ke liye first aid box

सफर के लिए फर्स्ट ऐड किट में निम्नलिखित वस्तुएं होनी चाहिए -

  • चिपकने वाली टेप।
  • घावों को कवर करने के लिए 4x4 की पट्टियां।
  • बदहजमी के लिए एंटासिड (Antacid) दवाएं। (और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)
  • दस्त की दवा। (और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)
  • एंटीहिस्टामिन क्रीम (Antihistamine cream)।
  • घावों और हाथ को धोने के लिए एंटीसेप्टिक (Antiseptic) साबुन।
  • हलके दर्द और हार्ट अटैक के लिए एस्पिरिन (Aspirin)।
  • हर साइज की बैंडेज (Bandage)।
  • खाने वाली एंटीहिस्टामिन दवाएं, जैसे डाइफेनहाइड्रामीन (Diphenhydramin)।
  • वस्तुओं को विसंक्रमित (Sterile) करने और आग जलाने के लिए लाइटर।
  • खांसी की दवाएं। (और पढ़ें - खांसी के लिए घरेलू उपाय )
  • दांतों की दवाएं।
  • दास्ताने।
  • छोटी टॉर्च।
  • आइबुप्रोफेन (Ibuprofen) या नप्रोसीन (Naprosyn)।
  • कीड़ों को दूर रखने वाली दवाएं (Insect repellant)।
  • छोटा चाकू।
  • चक्कतों के लिए मोलस्किन पैड (Moleskin)।
  • ज़ुकाम या एलर्जी से नाक बंद होने के लिए नाक वाले स्प्रे।
  • अपने आप न चिपकने वाली पट्टियां।
  • एंटीबायोटिक क्रीम।
  • नाक बंद की समस्या के लिए खाने वाली दवाएं।
  • सफर की अवधि और कुछ अन्य दिनों के लिए पर्याप्त दवाएं और ऐसी वस्तुएं जो आप इस्तेमाल करते हैं।
  • फ़ोन में पर्याप्त बैलेंस, जिससे आप कम से कम एक घंटा बात कर सकें और आपातकालीन स्थिति में संपर्क करने के लिए लोगों के नंबर व पता।
  • ऐसे बैग जिन्हें आप सील कर सकें।
  • सीपीआर (CPR) देने के लिए मास्क।
  • बड़ी और छोटी सेफ्टी पिंस।
  • कैंची।
  • सनस्क्रीन। (और पढ़ें - एक अच्छी सनस्क्रीन कैसे चुनें)
  • थर्मामीटर।
  • मेडिकल चिमटी।

सदमे की समस्या में प्रयोग करने के लिए परिवार के सदस्यों का नाम, दवाएं, डॉक्टर का नाम, इंशोरेंस कंपनी का नाम और संपर्क करने के लिए एक व्यक्ति का नंबर जैसी जानकारी फर्स्ट ऐड बॉक्स में होनी चाहिए।

स्कूल के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - School ke liye first aid box

स्कूल में उपयोग की जाने वाली फर्स्ट ऐड किट में इसे उपयोग करने के तरीके को बताने वाली एक गाइड के साथ निम्नलिखित वस्तुएं होनी चाहिए -

  • अलग-अलग साइज़ की पट्टियां।
  • गरम पट्टियां।
  • दस्ताने।
  • रक्तस्त्राव को रोकने के लिए ड्रेसिंग या पट्टियां।
  • एक कम्बल।
  • होश में लाने वाली दवाएं।
  • आइस पैक (Ice pack)।
  • पट्टी को काटने वाली कैंची।
  • छोटी बैंडेज।
  • चिपकने वाली टेप।
  • एंटीसेप्टिक कपडा या वाइप्स (Wipes)।
  • एंटीबायोटिक क्रीम (Antibiotic cream)।
  • सीपीआर रीससीटेटर (CPR Resuscitator)।
  • एल्युमीनियम स्पलिंट (Splint: फ्रैक्चर होने पर उपयोग की जाने वाली एक मजबूत पट्टी, जो प्रभावित क्षेत्र को हिलने नहीं देती)।
  • तिकोनी बैंडेज।
  • कपडे पर लगाने वाली टेप।
  • दबाव बनाने वाली बैंडेज।
  • टॉर्च।
  • आंख पर लगाने वाले पैड।
  • इंजेक्शन देने से पहले त्वचा को साफ करने वाले अल्कोहल पैड।
  • कीड़ों के काटने पर उपयोग किए जाने वाले पैड।
  • हैंड सैनिटाइजर (Hand Sanitizer)।

ऑफिस के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स - Office ke liye first aid box

ऑफिस के लिए फर्स्ट ऐड किट में निम्नलिखित वस्तुएं होनी चाहिए, हालांकि ऑफिस में होने वाली दुर्घटनाओं के खतरे के अनुसार आप और चीज़ें भी रख सकते हैं।

  • अलग-अलग साइज की पट्टियां।
  • चिपकने वाली बैंडेज (Bandage)।
  • तिकोनी बैंडेज।
  • घाव साफ करने के लिए सामान, जैसे रुई और हाइड्रोजन पेरोक्साइड (Hydrogen peroxide)।
  • कैंची।
  • चिमटी।
  • चिपकने वाली टेप।
  • दस्ताने।
  • रीससीटेशन (Resuscitation) के लिए उपकरण (फेफड़ों में हवा भरने वाला एक उपकरण)।
  • गरम पट्टी।
  • स्पलिंट (Splint: फ्रैक्चर होने पर उपयोग की जाने वाली एक मजबूत पट्टी, जो प्रभावित क्षेत्र को हिलने नहीं देती)
  • एक कम्बल।

आपातकालीन स्थिति में मदद बुलाने का तरीका भी ऑफिस की फर्स्ट ऐड किट में होना चाहिए ताकि समय बच सके।

फर्स्ट ऐड किट में मौजूद सभी वस्तुओं का उपयोग करना सीखें, खासकर दवाओं का। अपने परिवार के अन्य सदस्यों को भी सब वस्तुओं का इस्तेमाल करना सिखाएं क्योंकि हो सकता है आपको ही कभी फर्स्ट ऐड की आवश्यकता पड़ जाए।

फर्स्ट ऐड बॉक्स को साल में दो बार चेक करें और एक्सपायर्ड वस्तुओं को बदल दें।

  1. घर में फर्स्ट ऐड किट रखने की सबसे उचित जगह होती है रसोई क्योंकि घर का ज़्यादातर काम वहीं होता है। बाथरूम में नमी के कारण फर्स्ट ऐड किट की वस्तुएं खराब हो सकती हैं।
  2. सफर में इस्तेमाल करने के लिए फर्स्ट ऐड किट को एक सूखे बैग में रखें।
और पढ़ें ...