myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

चीन की फिजाओं में फैला कोरोना वायरस अब लोगों की नसों में घुलकर उन्हें बेमौत मार रहा है। तमाम मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक इस खतरनाक और जानलेवा वायरस के कारण अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। वायरस के खतरनाक होने का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अब यह चीन की सरहदों को पार कर एशिया और दुनिया के बाकी देशों में लोगों को अपना शिकार बना रहा है।

हालात की गंभीरता को समझते हुए डब्ल्यूएचओ इसका समाधान निकालने में लगा है, तो दूसरी ओर चीन से सात समंदर पार अमेरिका में भी कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। अमेरिकी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अधिकारियों के मुताबिक पीड़ित युवक (30 साल की उम्र) वॉशिंगटन के स्नोहोमिश काउंटी का रहने वाला है, जिसको अभी वॉशिंगटन के ही एक रिजनल मेडिकल सेंटर में भर्ती कराया गया है। वहीं, चीन की बात करें तो अधिकारियों का कहना है कि स्थिति काफी गंभीर है और इस वायरस से अब तक लगभग 600 लोग प्रभावित हो चुके हैं।

(और पढ़ें - वायरस क्या है और होने वाली बीमारियां)

एशिया में कोरोना वायरस का असर अधिक
वायरस के चलते लोगों की होती अकाल मृत्यु के कारण प्रशासन सतर्क है और बीमारी फैलने के डर से चीन के वुहान शहर में लोगों के आने और जाने पर सख्ती बढ़ा दी गई है। वहीं, वायरस के एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने की पुष्टि के बाद चीन के सबसे बड़े फेस्टिवल लुनार न्यू ईयर को रद्द कर दिया गया है।

हालांकि, चीन में अभी लुनार न्यू ईयर की छुट्टियां चल रही हैं, लेकिन छुट्टियां खत्म होने पर लाखों चीनी लोग देश और विदेश की यात्रा कर सकते हैं, ऐसी स्थिति में वायरस के फैलने की आशंका और अधिक बढ़ जाएगी। इस लिहाज से थाइलैंड, जापान, दक्षिण कोरिया, ताइवान और अब अमेरिका में भी इस वायरस के फैलने के कारण व्यापाक महामारी का खतरा पैदा हो गया है।

कोरोना वायरस क्या है और इसके लक्षण?
कोरोना वायरस एक प्रकार का वायरस है, जो आमतौर पर स्तनधारियों को सांस लेने के दौरान प्रभावित करता है, जिनमें इंसान भी शामिल हैं। यह वायरस सामान्य सर्दी, निमोनिया और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम यानी एसएआरएस (SARS) से जुड़ा है। इसके अलावा यह वायरस व्यक्ति की आंत को भी प्रभावित कर सकता है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानि डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्थ संगठन) के अनुसार, यह वायरस सी-फूड (मछली, केकड़ा और ऑक्टोपस आदि) से जुड़ा है और इसकी शुरुआत चीन के हुवेई प्रांत के वुहान शहर से हुई है। गंभीर बात यह है कि यह वायरस ना केवल इंसानों बल्कि पशुओं को भी अपना शिकार बना रहा है। अगर इसके शुरुआती लक्षणों की बात करें तो संक्रमित व्यक्ति में कई तरह के संकेत दिखाई दे सकते हैं, जैसे-

  • छींक आना
  • नाक बहना
  • थकान महसूस होना
  • खांसी आना
  • गले में खराश होना
  • अस्थमा के अटैक आना

(और पढ़ें - नोरो वायरस के लक्षण और इलाज)

व्यक्ति से व्यक्ति में फैल रहा कोरोना वायरस
वुहान शहर से इस वायरस की पहचान के एक महीने बाद अब कोरोना वायरस दुनिया के बाकी हिस्सों में फैल चुका है। एशिया के कई देशों में इस वायरस से संक्रमित लोगों की पुष्टि हुई है तो ऑस्ट्रेलिया में भी वायरस से जुड़ा संदिग्ध मामला सामने आया है, जिसकी अभी तक कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। समुद्री जीवों के जरिए फैलने वाला यह वायरस अब व्यक्ति से व्यक्ति में फैल रहा है।

हालांकि, शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक इस वायरस के इंसानों के बीच फैलने की आशंका कम थी, लेकिन चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों की ओर से जारी किए गए बयान में यह बताया कि गया है कि अब यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल रहा है। अधिकारियों का कहना है कि एक संक्रमित व्यक्ति के जरिए कोरोना वायरस ने अस्पताल के 14 मेडिकल स्टाफ को अपनी जद में ले लिया। इसका मतलब है कि यह बीमारी पहले की तुलना में अब कहीं ज्यादा आसानी से लोगों को अपना शिकार बना रही है।

ब्रिटेन के शोधकर्ताओं के द्वारा की गई एक रिसर्च के मुताबिक एक अनुमान के तौर पर यह पाया गया है कि वुहान में कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या अभी काफी कम दिखाई पड़ रही है, जबकि वायरस से संक्रमित लोगों की वास्तविक संख्या 1700 के लगभग हो सकती है।

(और पढ़ें - इबोला के वायरस से लड़ेगी नई वैक्सीन)

कोरोना वायरस से बचाव और इलाज
वैसे अभी तक कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन या दवा उपलब्ध नहीं है, लेकिन बचाव के तौर कुछ जरूरी उपाय हैं, जिनकी मदद से आप खुद इस वायरस से आपनी रक्षा कर सकते हैं। जैसे-

  • आराम करें और ज्यादा तनाव से बचें
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं
  • धूम्रपान ना करें और धुएं वाले क्षेत्रों में जाने से बचें
  • दर्द और बुखार की स्थिति में एसिटामिनोफेन, इबुप्रोफेन या नेप्रोक्सेन की दवा लें।
  • घर में ह्यूमिडिफायर (हवा को नम बनाने वाली मशीन) का इस्तेमाल करें।

यह बचाव भी जरूरी
myUpchar से जुड़ी डॉक्टर अर्चना निरूला के मुताबिक क्योंकि अभी तक यह निश्चित या तय नहीं हो सका है कि कोरोना वायरस छूने से फैल रहा या फिर सांस लेने से। इसलिए बचाव का एक रास्ता हो सकता है कि आप भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। 

कुल मिलाकर देखा जाए तो चीन समेत एशिया के कई देशों में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। इस वायरस के चलते अब तक सैकड़ों की संख्या में लोग प्रभावित हुए हैं, जबकि कई लोगों की मौत हो चुकी है। फिलहाल बीमारी का कोई इलाज उपलब्ध नहीं है, मगर बचाव एक मात्र ऐसा रास्ता है जो आपको इस बीमारी से सुरक्षा दे सकता है। 

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें