• हिं

योनि की मांसपेशियों में खिंचाव वास्तव में कई महिलाओं के लिए एक बड़ी समस्या है। यह बहुत ही असहज, अजीब और खुलकर बात न कर पाने वाली समस्या है। इसकी वजह से संभोग के दौरान उत्तेजना कम होने के कारण महिलाओं के आत्म सम्मान में भी कमी आती है। गर्भावस्था और प्रसव योनि में ढीलापन आने के प्रमुख कारण हैं। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द और प्रेग्नेंट होने के उपाय)

इस लेख में कुछ ऐसे घरेलू उपचारों के बारे में बताया गया है जो योनि की मांसपेशियों को प्राकृतिक रूप से कसने में असरदार होते हैं।

(और पढ़ें - योनि के कालेपन को दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. आंवला लाये योनि में कसाव - Yoni ko tight karne ke liye amla in Hindi
  2. योनि को टाइट करने के लिए एलोवेरा - Yoni ko tight karne ke liye aloe vera
  3. कर्क्यूमा कोमोसा करे योनि को टाइट - Curcuma comosa for vaginal tightening in Hindi
  4. योनि की मांसपेशियों में कसाव लाने में उपयोगी है जंगली रतालू - Yoni me kasav lane ke liye istemal kare jangli ratalu
  5. माजूफल (मंजाकनी) लाये योनि की दीवारों में कसाव - Manjakani laye yoni me kasav
  6. योनि का ढीलापन दूर करे विच हेज़ल से - Yoni ka dhilapan door kare witch hazel se
  7. योनि का कसाव वापस लाता है ब्लैक कोहोश - Yoni ka kasav waapis lata hai black cohosh
  8. योनि का ढीलापन दूर करने के लिए कीगल व्यायाम - Yoni ka dheelapan dur karne ke liye kegel exercise
  9. योनि में कसाव लाने के लिए करें स्क्वॉट्स व्यायाम - Yoni me kasav lane ke liye kare squats
  10. योनि का ढीलापन करते हैं दूर वैजिनल कोन - Vaginal cones for vaginal tightening in Hindi
  11. योनि की ढीली त्वचा में लाता है कसाव योग - Yog se kare yoni ki dheeli skin ko tight

विशेष रूप से भारतीय आंवला योनि की दीवारों को कसने के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक उपाय माना जाता है। आंवला, त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होता है। 

 
10 से 12 आंवले लें और उन्हें उबाल लें। इसके तत्व पानी के साथ मिश्रित हो जायेंगे। इस अर्क को एक बोतल में भर लें और सूखे स्थान पर रखें। इस मिश्रण को स्नान करने से पहले अपने योनि क्षेत्र में लगायें करें। प्रतिदिन ऐसा करने से आपकी योनि की मांसपेशियों कसाव और लचीलापन आता है।

एलोवेरा योनि की दीवारों को कसने के लिए बहुत अच्छा घरेलू उपाय है। एलोवेरा का ताजा जैल (Gel) योनि की मांसपेशियों को मज़बूत बनाने में मदद करता है। 

 
एलोवेरा का एक डंठल लें और उसमें से जैल निकाल लें। रोज़ दो चम्मच ताजा जैल योनि के आंतरिक और बाहरी भागों में लगायें। प्रभावित क्षेत्र की त्वचा की मालिश करें। एलोवेरा में पाए जाने वाले पुनरुत्पादन (Regeneration) के गुण योनि की दीवार में आ रहे ढीलेपन को रोककर उस क्षेत्र में उपस्थित मांसपेशियों को प्रभावी रूप से मजबूत करते हैं।

यह अदरक जैसा पौधा है जो योनि पर आश्चर्यजनक प्रभाव डालता है। कर्क्यूमा कोमोसा का नियमित उपयोग योनि की दीवार को फैलने से रोकता है साथ ही कई अन्य योनि सम्बन्धी समस्याओं को भी कम करने में मदद करता है।

कर्कुमा कोमोसा की जड़ का रस निकाल लें और इसे अपने जननांगों पर कोमल हाथों से लगायें। एक महीने के अंदर आप बेहतर परिणाम महसूस करेंगी।

जंगली रतालू, स्तन वृद्धि और योनि का ढीलापन दूर करने के लिए बेहद लोकप्रिय है। इस पौधे की जड़ों के अर्क (Extract) में मौजूद फाइटोएस्ट्रोजन्स (Phytoestrogens), श्रोणि और जननांग क्षेत्रों में ऊतक पुनरुत्पादन (Tissue regeneration) की प्रक्रिया को प्रोत्साहित करते हैं। इस अर्क को योनि की दीवारों पर लगाने से उनमें मज़बूती आती है।

(और पढ़ें - रतालू के फायदे और नुकसान)

माजूफल (मंजाकनी) मूल रूप से एक थाई जड़ी बूटी है जो योनि में कसाव लाने के लिए व्यापक रूप से प्रचलित है। इसमें वृक्ष की छाल से प्राप्त क्षार (Tannins), फाइटोएस्ट्रोजन्स और सिकुड़न लाने वाले गुण होते हैं जो योनि की मांसपेशियों पर एक साथ काम करते हैं और उन्हें अधिक लचीला बनाते हैं। बेहतर परिणाम के लिए स्नान करने से पहले प्रतिदिन योनि क्षेत्र में माजूफल का अर्क लगायें।

यह हेज़ल प्लांट की पत्तियों और छाल से निकला रस होता है। विच हेज़ल को योनि का ढीलापन दूर करने के लिए प्रभावी घरेलू उपाय माना जाता है। सबसे पहले सूखी छाल को पाउडर रूप में पीस लें। फिर इसे पानी में मिलाकर घोल बना लें। सप्ताह में एक बार इसकी सहायता से अपने जननांगों की सफाई करें। सिकुड़न लाने वाले गुणों के कारण विच हेज़ल योनि का ढीलापन दूर में असरदार है।

ब्लैक कोहोश भी एक प्रकार का पौधा होता है जो योनि को कुछ हद तक टोनिंग (कसाव) प्रदान करता है। इसमें फाइटोएस्ट्रोजन्स का उच्च स्तर मौजूद होता है जो योनि की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इस पौधे के पानी से अर्क बनाएं और इसे रोज़ाना अपने जननांगों पर लगायें। योनि में कसाव लाने का यह तरीका 40 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं के लिए उपयोगी माना जाता है।

हो सकता है, इन घरेलू उपचारों को अपनाने से आपको बहुत अधिक फायदा न हो क्योंकि प्रत्येक उपचार हर महिला के शरीर पर समान रूप से असरदार नहीं हो सकता। अगर ऐसा होता है तो आप डॉक्टर से संपर्क करें या कुछ अन्य सिद्ध व्यायाम भी अपना सकती हैं जैसे कीगल व्यायाम (पैल्विक क्षेत्र की मांसपेशियों पर काम करने के लिए), योनि में कसाव लाने वाले उत्पाद आदि।

ये व्यायाम कीगल मांसपेशियों को लक्षित करती हैं जो आपके पैल्विक फ्लोर का नियमन करती हैं और योनि को स्वस्थ बनाये रखने में मदद करती हैं। साथ ही साथ आपकी योनि में कसाव लाने में भी मदद करती है। कीगल एक्सरसाइज, मूत्रमार्ग की मांसपेशियों के कमजोर होने पर होने वाली असंयमिता को रोकने में भी मदद करती हैं।

  1. कीगल एक्सरसाइज करने के लिए, धीरे-धीरे अपनी योनि की मांसपेशियों को जितना संभव हो तनाव दीजिये।
  2. कुछ सेकंड के लिए इन मांसपेशियों को तानकर रखें और फिर छोड़ दें।
  3. धीरे धीरे इस प्रक्रिया को दोहरायें जिससे आपको नुकसान न पहुंचे।
  4. शुरूआती दिनों में 10 बार करें और फिर धीरे धीरे 50 या 100 से अधिक बार करने का अभ्यास करें।
  5. अगर आप इन्हे उचित रूप से कर रहे हैं तो कुछ ही समय में आप परिवर्तन महसूस कर सकें।

स्क्वॉट्स करके आप तीव्र और प्राकृतिक रूप से योनि में कसाव का अनुभव करेंगी। अधिकांश लोग स्क्वॉट्स अनुचित ढंग से करते हैं। सही तरीके से स्क्वॉट्स करने के लिए, अपने पैरों को अपने हिप की चौड़ाई के बाहर तक फैला लें। अपने पैर की उंगलियों को 30 डिग्री के कोण (Angle) से बाहर रखें। सबसे पहले कूल्हों को इस प्रकार झुकायें कि देखने में लगे कि आप बेंच पर बैठना चाहते हैं। अपनी एड़ी के ज़ोर लगाकर वापस सामान्य स्थिति में आ जाइये। यदि सही ढंग से स्क्वॉट्स करने में दिक्कत हो तो किसी ट्रेनर की सहायता लीजिये क्योंकि गलत तरीके से करने से यह खतरनाक व्यायाम साबित हो सकता है। 

 
कीगल व्यायाम की तरह स्क्वॉट्स न केवल आपके कूल्हों को टोन प्रदान करता है बल्कि यह आपकी योनि की मांसपेशियों को अधिक मजबूत बनाने में भी मदद करता है। यह एक मिश्रित अभ्यास है जो आपके पूरे शरीर को बहुत अधिक लाभ पहुंचाता है।

वैजिनल कोन आपकी योनि की दीवारों को मजबूत करने का एक शानदार प्राकृतिक तरीका है। ये एक प्रकार का चिकित्सीय उपकरण होता है जो पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों के व्यायाम करने और उनको मज़बूत बनाने में मदद करता है। इनमें भार होता है। ये व्यायाम एक दिन में दो बार 15-15 मिनट के लिए करना चाहिए। इसे करने के लिए योनि में ये कोन अंदर पहुंचना होता है।

शुरुआत में सबसे हल्का कोन फिर भारी कोन पहुंचा सकते हैं। ऐसा करने से आपकी पैल्विक मांसपेशियों को मजबूती मिलती है। हालांकि यह एक स्थिर प्रक्रिया है जिसके लिए बहुत प्रयास की आवश्यकता होती है लेकिन फिर बेहतर परिणाम भी देखने को मिलते हैं।

नियमित रूप से योनि की मांसपेशियों को टोन करने के लिए योग करना काफी अच्छा होता है। योग करने से पैल्विक फ्लोर की मासपेशियां मज़बूत होती हैं। योग जैसे सेतुबंधासन (Bridge Pose), बालासन (Child’s Pose), आदि पैल्विक मांसपेशियों को कसने के लिए उत्कृष्ट हैं क्योंकि उनमें गहरी सांस लेने की आवश्यकता अधिक होती है। दिन भर में इन्हें कई बार दोहराने से आप थोड़े समय में ही प्राकृतिक रूप से योनि में कसाव का अनुभव कर सकेंगी।

संदर्भ

  1. Dietz HP, Stankiewicz M, Atan IK, Ferreira CW, Socha M. Vaginal laxity: what does this symptom mean?. 2018 May;29(5):723-728.PMID: 28762179
  2. CherylKarcher, NeilSadick. Vaginal rejuvenation using energy-based devices. Volume 2, Issue 3, September 2016, Pages 85-88
  3. American Society of Plastic Surgeons .Nonsurgical Vaginal Rejuvenation. USA.
  4. Magon N, Alinsod R. ThermiVa: The Revolutionary Technology for Vulvovaginal Rejuvenation and Noninvasive Management of Female SUI. 2016 Aug;66(4):300-2. PMID: 27382227
  5. Obstetrics and gynaecology. Colpoperineoplasty in women with a sensation of a wide vagina. Wiley Online Library; John Wiley & Sons.
  6. Abedi P, Jamali S, Tadayon M, Parhizkar S, Mogharab F. Effectiveness of selective vaginal tightening on sexual function among reproductive aged women in Iran with vaginal laxity: a quasi-experimental study. 014 Feb;40(2):526-31. PMID: 24118497

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ