myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

योग, एक्सरसाइज का एक प्राचीन रूप है, जो शारीरिक और मानसिक स्थिति को बेहतर करता है। यह शरीर में ताकत, लचीलापन लाने के साथ-साथ ध्यान केंद्रित करने में भी मदद करता है। योग स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, लेकिन कई लोग योगाभ्यास के दौरान कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिनसे फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। तो आइए जानते हैं कि योग करने के दौरान किस तरह की गलतियां करने से बचना चाहिए।  

अत्यधिक स्ट्रेचिंग से बचें

किसी भी योगासन के दौरान ज्यादा स्ट्रेचिंग या बार-बार एक ही हिस्से पर ज्यादा दबाव डालने से चोट लग सकती है। अन्य व्यायामों की तरह ही योग में भी नियमों का ध्यान रखना पड़ता है। किसी अनुभवी व्यक्ति से योग सीखना सुरक्षित रहता है। ऐसे में आप योगासन को अच्छी तरह से समझ पाते हैं।

सांस न रोके

ज्यादातर योग क्रियाओं में सांस पर ध्यान देना जरूरी है। योगासन के दौरान सांस को रोके रहना खतरनाक हो सकता है, खासकर किसी हृदय रोगी को योग का अभ्यास करते समय विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। अक्सर कोई आसन करते समय सही पोज में आने और संतुलन बनाने के लिए हम सांस रोक लेते हैं जिससे शरीर में ऊर्जा का प्रवाह रूकने लगता है और तनाव पैदा होता है।

आप योगाभ्यास के दौरान चाहे लेटे हों, उल्टे खड़े हों या एक पैर पर खड़े हों, निरंतर सांस लेते रहना जरूरी है। यदि लगातार योग करते हुए सांस फूलने लगे तो बेहतर होगा कि आप ब्रेक लें और जब सांस की गति सामान्य हो जाए तब फिर से अभ्यास शुरू कर दें। 

(और पढ़ें - ये 6 योगासन खुल कर सांस लेने में कर सकते हैं मदद)

प्रॉप्स का इस्तेमाल

योग अभ्यास के दौरान, सपोर्ट के लिए अक्सर कुछ प्रॉप्स का इस्तेमाल किया जाता है जैसे: चादर, स्ट्रेचिंग के लिए पट्टियां, ब्लॉक्स, बड़े आकार की बॉल इत्यादि। हालांकि कुछ लोग इन प्रॉप्स के बगैर ही योग करते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जो लोग प्रॉप्स का इस्तेमाल करते हैं वे अन्य लोगों के मुकाबले कमजोर होते हैं। अपनी जरूरत के अनुसार प्रॉप्स का उपयोग करना चाहिए।

प्रॉप्स से सही पोज बनाने और शरीर के किसी विशेष हिस्से को टारगेट करने में मदद मिल सकती है। ये चोट लगने से भी बचाते हैं। प्रॉप्स हमें योग मुद्रा को सही तरीके से करने में मदद करते हैं, जिससे हम चोटिल होने से बच जाते हैं। अगर आप इन प्रॉप्स का गलत तरीके से इस्तेमाल करते हैं तो आपकी कलाई, कंधे और कमर के निचले हिस्से में चोट लग सकती है।

आपके लिए कौन-सा योगासन है बेहतर

योग के कई अलग-अलग तरह के स्‍टाईल होते हैं जैसे कि अष्‍टांग, अयंगर और शिवानंद। इनमें से कुछ योग स्‍टाईल बहुत कठोर होते हैं और कुछ शरीर के किसी विशेष हिस्‍से पर ज्‍यादा दबाव डालते हैं। जैसे कि किसी में सांस लेने पर ज्‍यादा ध्‍यान दिया जाता है तो किसी में पोस्‍चर पर। आपको कोई भी योगासन करने से पहले ये समझ लेना चाहिए कि आपके शरीर और जरूरत के अनुसार कौन-सा योगासन बेहतर है।

(और पढ़ें - चिंता खत्म करने के लिए योगासन)

योग शरीर में ताकत, लचीलापन और संतुलन में सुधार लाने के साथ-साथ तनाव को दूर और दिमाग को रिलैक्स करता है।

और पढ़ें ...