तनाव - Stress in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS

March 08, 2017

September 11, 2021

तनाव
तनाव

तनाव (स्ट्रेस) क्या है?

तनाव यह शब्द अभी भी हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। हालांकि यह कहना सुरक्षित है कि कुछ हासिल करने के लिए परेशानी या चिंता करना निश्चित रूप से आपको अपने लक्ष्य की ओर ले जाता है, लेकिन अगर आप अपने जीवन में भावनात्मक तनाव महसूस करते हैं तो यह एक स्वस्थ संकेत नहीं है। बहुत अधिक तनाव मानसिक समस्याओं का मूल कारण हो सकता है।

(और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)

चिकित्सा प्रक्रिया को समझने के लिए पहले इस समस्या को समझना होगा। आजकल ऐसे व्यक्ति की कल्पना करना असंभव है, जो मानसिक तनाव का अनुभव ना करता हो। फिर चाहे वह व्यक्तिगत, सामाजिक या आर्थिक समस्या ही क्यों ना हो। अधिकांश लोगों को इन समस्याओं से जूझने में तनाव के दौर से गुजरना पड़ता है। मानसिक तनाव या स्ट्रेस भी तन और मन दोनों पर बुरा असर डालता है जिससे कई शारीरिक और मानसिक बीमारियां जन्म लेती हैं।

(और पढ़ें - मानसिक रोग के प्रकार)

तनाव के लक्षण - Stress Symptoms in Hindi

तनाव के लक्षण इस प्रकार हैं -

  • तनाव आपको एक से अधिक तरीकों से प्रभावित करता है। यह निश्चित रूप से आपके दिमाग को प्रभावित करता है।
  • यह आपके जीवन में हस्तक्षेप कर सकता है और आपकी दैनिक गतिविधियों को बाधित कर सकता है।
  • एकाग्र ना हो पाना, कमजोर स्मरणशक्ति, भोजन सम्बन्धी आदतों में परिवर्तन इसके मुख्य लक्षणों में से एक हैं।
  • यह अवसाद, चिंता, द्विध्रुवी विकार आदि जैसे कई गंभीर मानसिक विकारों को जन्म देता है।
  • भावनात्मक प्रतिक्रियाओं का बढ़ जाना-अधिक रोना या संवेदनशील या आक्रामक होना।
  • यदि आप अत्यधिक तनावपूर्ण स्थिति से गुजर रहे हैं तो आप निष्क्रिय हो जाते हैं और कम काम करने लगते हैं। यह आपके काम की प्रगति को भी प्रभावित करता है।
  • आप बहुत आसानी से विचलित हो जाते हैं। आप लगातार अज्ञात डर के नीचे जीने लगते हैं। प्रेरणा, समर्पण और आत्मविश्वास का अभाव होने लगते है जिससे आपके संबंध प्रभावित हो सकते हैं।
  • आप अपने आप को दूसरे लोगों से अलग कर लेते हैं। लोगों में आत्महत्या के विचार आने लगते हैं।
  • इतना ही नहीं, आपके मन पर अत्यधिक तनाव के कारण स्वास्थ्य विकार जैसे डायबिटीजहाई बीपी, बालों का झड़नागठिया, सिरदर्द, सांस लेने में दिक्कत, इम्यूनिटी कमजोर होना, त्वचा की समस्याएं आदि होने लगती है।
  • तनाव आपके जीवन को बहुत कठिन बना सकता है और साथ ही स्वास्थ्य पर कई नकारात्मक प्रभाव डालता है।

मानसिक तनाव के कारण - Stress Causes in Hindi

मानसिक तनाव या स्ट्रेस हर किसी के लिए अलग होता है। आपको जिस वजह से तनाव होता है, जरुरी नहीं कि किसी और को भी उससे तनाव हो। लेकिन तनाव के कई कारणों का आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जिनमें शामिल हैं -

  • काम का प्रेशर
  • नौकरी खोना
  • शादी या आपसी रिश्ते की समस्या
  • हाल ही में ब्रेक अप या तलाक
  • परिवार में मौत
  • पढाई, करियर या आर्थिक कठिनाई
  • पारिवारिक समस्याएं

चाहे स्ट्रेस का कारण कुछ भी हो, तनाव के प्रति हर किसी के शरीर की प्रतिक्रिया समान ही होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह शारीरिक प्रतिक्रिया आपके शरीर की इन कठिन स्थितियों से निपटने का तरीका है। यह हार्मोनल, श्वसन, हृदय और तंत्रिका तंत्र में बदलाव का कारण बनता है। उदाहरण के लिए, तनाव आपके दिल की धड़कन को तेज कर सकता है, आपका श्वसन दर बढ़ सकता है, और पसीना आ सकता है। कुछ लोगों में तनाव होने से कुछ समय के लिए एनर्जी बढ़ जाती है।

इसे शरीर की "लड़ाई-या-उड़ान प्रतिक्रिया" के नाम से जाना जाता है। यह एक रासायनिक प्रतिक्रिया है जो आपके शरीर को फिजिकल रिएक्शन के लिए तैयार करती है क्योंकि इससे शरीर को लगता है कि उस पर हमला हो रहा है। इस प्रकार के तनाव ने हमारे पूर्वजों को प्रकृति की विभिन्न चुनौतियों के बावजूद जीवित रहने में मदद की।

तनाव का परीक्षण - Diagnosis of Stress in Hindi

तनाव का निदान कैसे किया जाता है?

चिकित्सक आम तौर पर रोगी के लक्षणों और जीवन की घटनाओं के बारे में पूछकर तनाव का निदान कर सकते हैं।  

निदान जटिल होता है। यह कई कारकों पर निर्भर करता है। निदान के लिए कई तकनीकों का उपयोग किया जाता है, लेकिन तनाव का निदान करने का और उसके असर को देखने का सबसे प्रत्यक्ष तरीका है - व्यापक रूप से, तनाव-उन्मुख, आमने सामने बैठ कर उसके बारे में बात या सवाल-जवाब करना। 

तनाव का इलाज और प्रबंधन (मैनेजमेंट) - Stress Treatment and Management in Hindi

तनाव का इलाज या प्रबंधन कैसे किया जा सकता है?

इलाज में स्वयं सहायता, तनाव प्रबंधन, और दवा शामिल है।

कुछ उपाय जो आप स्वयं कर सकते हैं (स्व-सहायता) 

आप तनाव की अनुभूति कम करने के लिए निम्नलिखित उपायों को आज़मा सकते हैं। ध्यान रहे कि ज़रूरी नहीं है की हर उपाय हर व्यक्ति के लिए उतना ही असरदार हो। आपको अपने लिए सबसे असरदार उपाय खोजना होगा -

  1. व्यायाम करना - अध्ययन में ये सिद्ध किया गया है कि चाहे आपकी मानसिक और शारीरिक स्थिति कैसी भी हो, व्यायाम से आपको लाभ पहुँचेगा।
  2. शराब, ड्रग्स और कैफीन का सेवन कम करना - ये पदार्थ तनाव को रोकने में मदद नहीं करते बल्कि और भी बदतर बना सकते हैं। इनका सेवन कम करें या हो सकें तो ना करें। (और पढ़ें - शराब की लत से छुटकारा पाने के तरीके)
  3. सही पोषण लें - बहुत से फल और सब्जियों के साथ एक स्वस्थ, संतुलित आहार तनाव के समय प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने में मदद करता है। खराब आहार से तनाव और बढ़ेगा।
  4. ज़रूरी चीज़ों को प्राथमिकता दें - अपने दिनचर्या में ज़रूरी कार्यों को पहचानने के लिए थोड़ा समय व्यतीत करें। फिर उन आवश्यक कामों को करने में ध्यान लगाएं।
  5. अपने लिए समय निकालें - प्रत्येक दिन थोड़ा समय अपने लिए रखें। इसका इस्तेमाल आराम करने और अपने मनपसंद काम करने के लिए करें। 
  6. श्वास व्यायाम करें और विश्राम करें - ध्यान करने से, प्राणायाम से, और योग से तनाव में राहत मिल सकती हैं। अगर इनका अभ्यास सही तकनीक से किया जाए तो ये मन को शांत करती हैं और आपको आराम करने में मदद करती है। 
  7. बातचीत करें - परिवार, दोस्तों से अपने विचारों और चिंताओं के बारे में  बात करने से आपको तनाव में मदद मिलेगी। यह सब करने से आपको यह पता चलेगा कि आप अकेले नहीं हैं, जिसे तनाव है। आपको यह भी पता चलेगा की आपकी परेशानियों को दूर करने का एक बहुत ही सरल तरीका था, जिसके बारे में आपने कभी सोचा ही नहीं।
  8. लक्षणों को स्वीकार करना - व्यक्ति अपनी समस्याओं के बारे में इतना चिंतित हो जाता है (जिससे  तनाव पैदा हो रहा है) कि वे अपने शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव की ओर ध्यान नहीं दे पाता। लक्षणों पर ध्यान देना एक्शन लेने का पहला कदम है। 
  9. अपने डीस्ट्रेसर (उन चीज़ों को करना जिनसे आपको तनाव में राहत मिले) का पता लगाएं - ज्यादातर लोगों को निम्लिखित चीज़ें करके आराम मिलता है। जैसे कि -

यदि तनाव आपके दैनिक जीवन को प्रभावित कर रहा है, तो आपको डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए। एक चिकित्सक या मनोरोग विशेषज्ञ अक्सर सहायता कर सकते हैं, उदाहरण के लिए, तनाव प्रबंधन प्रशिक्षण के माध्यम से तनाव दूर करना। 

तनाव प्रबंधन (स्ट्रेस मैनेजमेंट)

तनाव प्रबंधन आपकी मदद कर सकता है - 

  • तनाव के स्रोत को हटाने या बदलने में
  • अपने तनावपूर्ण घटना को देखने के तरीके को बदलने में  
  • अपने शरीर पर तनाव के प्रभाव को कम करने में
  • वैकल्पिक तरीकों से परेशानियों का मुकाबला करना सीखने में

दवाईयां

जब तक रोगी की कोई अवसाद या चिंता जैसी अंतर्निहित बीमारी न पता चलें तब तक चिकित्सक तनाव से लड़ने के लिए दवाएं नहीं लिखते। इन मामलों में, डॉक्टर तनाव का नहीं मानसिक बीमारी का इलाज कर रहे होते हैं। ऐसे मामलों में, एंटीडिप्रेसेंट लेने का सुझाव दिया जा सकता है। एंटीडिप्रेसेंट के प्रतिकूल प्रभाव भी हो सकते हैं।

(और पढ़ें - चिंता के घरेलू उपाय)

अगर आपको ऐसा लगता है कि आपके जीवन में तनावपूर्ण स्थिति आने वाली है। तो आप पहले से ही उस स्थिति का सामना करने के लिए अपने आपको मानसिक और शारीरिक रूप से त्यार कर लें। यदि आप पहले से ही तनाव का अनुभव कर रहे हैं, तो आपको चिकित्सा की सहायता लेनी होगी। 

ज्यादा तनाव के नुकसान - Stress Complications in Hindi

तनाव से क्या नुकसान होता है?

सबके जीवन में थोड़ा तनाव होता ही है और यह नॉर्मल है। अपने स्वास्थ्य के लिए आप जो सबसे अच्छी चीजें कर सकते हैं, उनमें से एक उस तनाव को प्रबंधित करना है, चाहे इसका स्रोत आपके कंट्रोल में हो या न हो।

हल्का तनाव अच्छा हो सकता है। यह एक ऐसी चुनौती हो सकती है जो हमें खतरे से बचने के लिए सतर्क, प्रेरित और तैयार रखती है। लेकिन बहुत अधिक तनाव हमें बीमार कर सकता है। और यह कुछ लक्षणों या बीमारियों का कारण बन सकता है।

यदि आप लगातार तनाव में रहते हैं, तो आपको शारीरिक लक्षण हो सकते हैं, जैसे सिरदर्द, पेट खराब होना, हाई ब्लड प्रेशर, सीने में दर्द, यौन स्वास्थ्य पर असर और नींद में गड़बड़ी।

तनाव से भावनात्मक समस्याएं, अवसाद, पैनिक अटैक और एंग्जायटी भी हो सकते हैं।

केवल तनाव ही अपने आप में समस्या नहीं है, ज्यादा जरुरी बात ये है कि तनाव को लेकर आपकी प्रतिक्रिया कैसी है।

उदाहरण के लिए, यदि आप धूम्रपान करते हैं, ड्रग्स लेते हैं, बहुत ज्यादा खाना खाते हैं, बहुत अधिक खर्च करते हैं, या असुरक्षित सेक्स करते हैं, तो इन सब से अधिक समस्या हो सकती है।

अगर आपको लगता है कि जिस तरह से आप जीवन के तनाव को संभाल रहे हैं, वह आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ रहा है, तो अपने डॉक्टर से बात करें ताकि आप ऐसे बदलाव करना शुरू कर सकें जो आपके शरीर और दिमाग के लिए फायदेमंद हों।



संदर्भ

  1. Selye, H. (1950, June 17). Stress and the general adaptation syndrome. British Medical Journal, 1(4667), 1383-1392. PMID: 15426759.
  2. American Psychological Association [internet] St. NE, Washington, DC. Stress.
  3. Anxiety and Depression Association of America [internet] Silver Spring, Maryland, United States. Physical Activity Reduces Stress.
  4. National Institute of Mental Health [Internet] Bethesda, MD; 5 Things You Should Know About Stress. National Institutes of Health; Bethesda, Maryland, United States
  5. Noble RE. Diagnosis of stress. Metabolism. 2002 Jun;51(6 Suppl 1):37-9. PMID: 12040539
  6. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Stress at work

तनाव के डॉक्टर

Dr. Ankit Gupta Dr. Ankit Gupta मनोचिकित्सा
10 वर्षों का अनुभव
Dr. Anil Kumar Kumawat Dr. Anil Kumar Kumawat मनोचिकित्सा
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Dharamdeep Singh Dr. Dharamdeep Singh मनोचिकित्सा
6 वर्षों का अनुभव
Dr. Samir Parikh Dr. Samir Parikh मनोचिकित्सा
24 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

तनाव की दवा - Medicines for Stress in Hindi

तनाव के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

तनाव की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Stress in Hindi

तनाव के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ