मानव शरीर अनगिनत सेल्स से मिलकर बना है. शरीर में नए सेल्स बनते हैं और पुरानी सेल्स खत्म हो जाती हैं. ये प्रक्रिया लगातार चलती रहती है. वहीं, जब पुराने सेल्स नष्ट नहीं होते और नए सेल्स लगातार बनते रहते हैं, तो इस अवस्था में ट्यूमर का निर्माण होने लगता है, जो आगे चलकर कैंसर को रूप ले सकता है. कुछ कैंसर तेजी से शरीर में फैलते हैं, तो कुछ समय लेते हैं. आमतौर पर कैंसर के 4 स्टेज होते हैं. एक स्टेज से दूसरे स्टेज में जाने में समय लगता है.

आज इस लेख में हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि कैंसर कितने दिन में फैलता है -

(और पढ़ें - योनि के कैंसर का इलाज)

  1. कैंसर क्यों फैलता है?
  2. कैंसर को फैलने में कितना समय लगता है?
  3. कैंसर के स्टेज
  4. सारांश
कैंसर कब, कितने दिन में फैलता है? के डॉक्टर

जब कैंसर सेल्स उसी टिश्यू में रहते हैं, जहां वो विकसित हुए हैं, तो उसे कार्सिनोमा इन सीटू (carcinoma in situ) कहा जाता है. फिर जब ये सेल्स टिश्यू की झिल्ली को तोड़कर बाहर आ जाते हैं, तब ये कैंसर सेल्स आक्रामक हो जाते हैं और इनके फैलने का खतरा बढ़ जाता है.

कैंसर जिस अंग में विकसित हुआ था, जब उस जगह से अन्य अंगों में फैलने लगता है, तो इस अवस्था को मेटास्टेसिस कहा जाता है. बेशक, ये कैंसर सेल्स कहीं भी फैल जाएं, लेकिन ये जहां से शुरू हुए थे, इसे उसी नाम से बुलाया जाता है. उदाहरण के लिए अगर कोई कैंसर प्रोस्टेट से शुरू हुआ और बाद में फेफड़ों तक फैल गया, तो उसे प्रोस्टेट कैंसर ही कहा जाएगा. मुख्य रूप से कैंसर इनके कारण फैलता है -

टिश्यू

एक बढ़ता हुआ ट्यूमर आसपास के टिश्यू या अंगों के जरिए फैल सकता है. प्राइमरी ट्यूमर से कैंसर कोशिकाएं अलग हो सकती हैं और आसपास नए ट्यूमर बना सकती हैं.

(और पढ़ें - कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

लिम्फ सिस्टम

ट्यूमर से कैंसर कोशिकाएं पास के लिम्फ नोड्स में प्रवेश कर सकती हैं. वहां से ये पूरे लिम्फ सिस्टम में घूमते हुए शरीर के अन्य हिस्सों में नए ट्यूमर बना सकती हैं.

(और पढ़ें - कैंसर के लिए होम्योपैथिक दवा)

रक्तप्रवाह

सॉलिड ट्यूमर को बढ़ने के लिए ऑक्सीजन और अन्य पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है. ऐसे ट्यूमर जीवित रहने के लिए एंजियोजेनेसिस नामक एक प्रक्रिया के माध्यम से नई रक्त वाहिकाओं का निर्माण कर सकते हैं. इस ट्यूमर के सेल्स रक्तप्रवाह में भी प्रवेश कर सकते हैं और पूरे शरीर में फैल सकते हैं.

(और पढ़ें - टॉन्सिल कैंसर का इलाज)

जो कैंसर सेल्स ज्यादा आनुवंशिक क्षति पहुंचाते हैं, वो आमतौर पर कम आनुवंशिक क्षति वाले कैंसर सेल्स की तुलना में तेजी से बढ़ते हैं. अब यह बताना मुश्किल है कि कैंसर को फैलने में कितने दिन लगते हैं, क्योंकि ये प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य और कैंसर के प्रकार पर निर्भर करता है.

धीमी गति से बढ़ने वाले कैंसर -

तेज गति से बढ़ने वाले कैंसर -

  • एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया (एएलएल) और एक्यूट मायलोइड ल्यूकेमिया (एएमएल)
  • कुछ स्तन कैंसर, जैसे इंफ्लेमेटरी ब्रेस्ट कैंसर और ट्रिपल-नेगेटिव ब्रेस्ट कैंसर
  • बड़े बी-सेल लिंफोमा
  • लंग कैंसर
  • दुर्लभ प्रोस्टेट कैंसर जैसे कि स्मॉल सेल कार्सिनोमा या लिम्फोमा

(और पढ़ें - पेट के कैंसर का होम्योपैथिक इलाज)

आमतौर पर कैंसर की चार स्टेज होती हैं. इनको ट्यूमर, आकार और बॉडी के किस पार्ट में है, इस आधार पर बांटा जाता है -

  • स्टेज 1 - जब कैंसर एक छोटे से हिस्से में होता है और वह लिंफ नोड या टिश्यू में नहीं फैलता.
  • स्टेज 2 - कैंसर पहली स्टेज की तुलना में बढ़ गया हो, लेकिन अभी फैसला नहीं हो.
  • स्टेज 3 - पहले से कैंसर काफी बढ़ गया हो और टिश्यू के साथ-साथ लिम्फ नोड में भी फैल गया हो.
  • स्टेज 4 - कैंसर बॉडी के अन्य हिस्सों और अंगों में फैल गया हो. इस स्टेज को मेटास्टेटिक या एडवांस कैंसर स्टेज भी कहा जाता है.

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाएं)

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है. इस बीमारी को कई लोग शुरुआत में तो पहचान भी नहीं पाते, जिस कारण उनके इलाज में काफी देर हो जाती है. कैंसर शरीर के कई हिस्सों में फैल सकता है. इसकी अलग-अलग 4 स्टेज होती हैं. कैंसर की जांच टीएनएम के आधार पर की जा सकती है, जोकि कैंसर की स्टेज का पता करने का एक आसान तरीका है. शरीर में किसी भी प्रकार के असामान्य सेल ग्रोथ दिखने पर डॉक्टर से तुरंत सलाह लेना उचित है, क्योंकि शरीर में किसी भी प्रकार के बदलाव को अनदेखा करना जोखिम भरा हो सकता है.

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर का होम्योपैथिक इलाज)

Dr. Patil C N

Dr. Patil C N

ऑन्कोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Vinod Kumar Mudgal

Dr. Vinod Kumar Mudgal

ऑन्कोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Anoop Mantri

Dr. Anoop Mantri

ऑन्कोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Mehlam Kausar

Dr. Mehlam Kausar

ऑन्कोलॉजी
6 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें