myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

टर्नर सिंड्रोम क्या है?

टर्नर सिंड्रोम (टीएस) एक क्रोमोसोम की कमी या अधूरे क्रोमोसोम के उपस्थित होने के कारण पैदा होने वाली स्थिति है। यह सिंड्रोम लड़कियों और महिलाओं की एक समान विशेषताओं, शारीरिक लक्षणों और चिकित्सा स्थितियों का वर्णन करता है।

1938 में डॉ हेनरी टर्नर द्वारा टीएस का वर्णन पहली बार संयुक्त राज्य अमेरिका में किया गया था। टर्नर सिंड्रोम वाली एक लड़की के पास दो सामान्य X सेक्स क्रोमोसोम की बजाय केवल एक सामान्य X सेक्स क्रोमोसोम होता है।

(और पढ़ें - बेटा पैदा करने के उपाय)

टर्नर सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

टर्नर सिंड्रोम का सबसे आम लक्षण छोटा कद है, जो लगभग 5 वर्ष की आयु तक स्पष्ट हो जाता है। अंडाशय के कार्य का जल्दी ही नुकसान होना भी बहुत आम है। अंडाशय पहले तो सामान्य रूप से विकसित होते हैं, लेकिन अंडा कोशिकाएं (ओसाइट्स) आमतौर पर समय से पहले ही मर जाती हैं और अधिकांश अंडाशय ऊतक जन्म से पहले खराब हो जाते हैं।

जब तक उनको हार्मोन थेरेपी नहीं दी जाती हैं, कई प्रभावित लड़कियां यौवनकाल (प्यूबर्टी) से भी नहीं गुजरती हैं। अधिकांश लड़किया गर्भ धारण करने में असमर्थ (बांझपन) होती हैं। टर्नर सिंड्रोम वाली महिलाओं में से केवल कुछ महिलाएं युवा वयस्कता के समय तक अंडाशय के कार्य को सामान्य रूप में बरकरार रख पाती हैं।

(और पढ़ें - गर्भधारण कैसे होता है)

टर्नर सिंड्रोम क्यों होता है?

टर्नर सिंड्रोम गुणसूत्र यानी क्रोमोसोम की गड़बड़ का परिणाम है। आम तौर पर, प्रत्येक व्यक्ति में 46 क्रोमोसोम होते हैं, जो 23 जोड़े में विभाजित होते हैं, जिसमें दो सेक्स क्रोमोसोम शामिल होते हैं। क्रोमोसोम जोड़े का आधा पिता से और दूसरा भाग मां से विरासत में मिलता है। लड़कियों में आमतौर पर दो X गुणसूत्र (XX क्रोमोसोम) होते हैं, लेकिन टर्नर सिंड्रोम वाली लड़कियों में केवल एक X गुणसूत्र होता है या एक X गुणसूत्र का कुछ हिस्सा गायब होता है।

टर्नर सिंड्रोम इससे नहीं होता की किसी भी लड़की के माता-पिता ने कुछ ऐसा गलत किया है या सही नहीं किया। यह विकार सेल विभाजन में आने वाली एक अनियमित गड़बड़ है जो तब होती है जब माता-पिता की प्रजनन कोशिकाएं बनती हैं। केवल कुछ कोशिकाओं में X क्रोमोसोम की गड़बड़ वाली स्थिति के साथ पैदा होने वाली लड़कियां को मोज़ेक टर्नर सिंड्रोम होता है। अक्सर, अन्य लड़कियों की तुलना में इनके लक्षण हल्के होते हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी के लक्षण)

टर्नर सिंड्रोम का इलाज कैसे होता है?

टर्नर सिंड्रोम के लिए कोई इलाज उपलब्ध नहीं है लेकिन कई संबंधित लक्षणों का इलाज किया जा सकता है। टर्नर सिंड्रोम वाली लड़कियों और महिलाओं के दिल, किडनी और प्रजनन प्रणाली की पूरे जीवन भर नियमित रूप से जांच की आवश्यकता होती है। आमतौर पर अपेक्षाकृत सामान्य और स्वस्थ जीवन जीना संभव है।

हालांकि, सामान्य व्यक्ति की तुलना में उनकी जीवन प्रत्याशा थोड़ी कम हो सकती है, लेकिन शुरुआती चरण में संभावित समस्याओं की पहचान और इलाज के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच के साथ इसे बेहतर किया जा सकता है।

(और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय)

  1. टर्नर सिंड्रोम की दवा - Medicines for Turner Syndrome in Hindi

टर्नर सिंड्रोम की दवा - Medicines for Turner Syndrome in Hindi

टर्नर सिंड्रोम के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
GenotropinGenotropin 16 Iu Injection13866.7
HeadonHeadon 4 Iu Injection3200.18
EutropinEutropin 4 Iu Injection1619.05
SaizenSaizen 5 Mg Injection3440.0
ZomactonZomacton 12 Iu Injection3260.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...