myUpchar Call

सेक्स को जीवन का अहम हिस्सा माना गया है। यह दो लोगों को भावनात्मक रूप से भी एक-दूसरे के करीब लेकर आता है। यह पढ़ने में थोड़ा अटपटा लगे, लेकिन स्वस्थ जीवन के लिए कुछ हद तक सेक्स भी जरूरी है। इससे महिला व पुरुष दोनों को फायदा होता है। जहां इसके फायदे हैं, वहीं, इसके कुछ नुकसान भी हैं, लेकिन यह कहना थोड़ा मुश्किल है कि इसके फायदे ज्यादा हैं या नुकसान।

आज इस लेख में आप विस्तार से जानेंगे कि सेक्स के फायदे क्या हैं और महिला व पुरुष को इससे नुकसान क्या हो सकता है -

अच्छी सेक्स लाइफ के लिए बेस्ट प्राइज में ऑनलाइन खरीदें डिले स्प्रे फॉर मेन

(और पढ़ें - सेक्स की जानकारी)

  1. सेक्स क्या है?
  2. सेक्स करने के फायदे - Benefits of sex in Hindi
  3. पुरुषों के लिए ज्यादा सेक्स के नुकसान - Side effects of sex for men in Hindi
  4. महिलाओं के लिए सेक्स के दुष्प्रभाव - Side effects of sex for women in Hindi
  5. सारांश
  6. अक्सर पूछे जाने वाले सवाल
यौन रोग के डॉक्टर

मुख्य रूप से पुरुष और महिला के बीच बनने वाले यौन संबंध को सेक्स कहा जाता है। सेक्स के पीछे दो मुख्य कारण माने गए हैं, एक है आनंद के लिए और दूसरा प्रजनन यानी संतान पैदा करने के लिए। सेक्स एक स्वाभाविक क्रिया है, जो सभी दो पार्टनर के बीच अलग-अलग हो सकती है।

सेक्स करने की अलग-अलग प्रक्रियाएं हैं, जिसे हर कोई अपनी पसंद व प्राथमिकता के अनुसार करता है। कोई गुदा सेक्स, तो कोई ओरल सेक्स पसंद करता है, तो किसी मास्टरबेशन करने में आनंद आता है। कुल मिलाकर, सेक्स की कोई एक तय परिभाषा नहीं है। यह हर कपल की पसंद पर निर्भर करता है।

Delay Spray For Men
₹349  ₹499  30% छूट
खरीदें

सेक्स करने से न सिर्फ आनंद का अनुभव होता है बल्कि स्वास्थ की दृष्टि से भी यह अच्छा माना जाता है। आइये जानते हैं कि सेक्स किस प्रकार से आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है -

संभोग करने से आती है अच्छी नींद - Sex improves sleep in Hindi

अगर आप सेक्स के तुरंत बाद सो जाते हैं तो यह अच्छा संकेत है। कैलीफ़ पश्चिम हॉलीवुड की मनोचिकित्सक, शनी अम्बरदार कहती हैं, संभोग के बाद प्रोलैक्टिन हार्मोन मुक्त होता है जो विश्राम और नींद के लिए प्रेरित करता है इसलिए सेक्स के बाद नींद अच्छी आती है।

यहां दिए लिंक पर क्लिक करके खरीदें आयुर्वेदिक टेस्टोस्टेरोन बूस्टर

सेक्स तनाव को कम करता है - Sex eases stress in Hindi

आपके पार्टनर के करीब जाने से चिंता और तनाव में कमी आती है। अम्बरदार कहती हैं, गले लगाने या छूने से आपके शरीर से खुशी का अनुभव कराने वाले हार्मोन (feel-good hormone) मुक्त होते हैं। कामोत्तेजना (Sexual arousal) के समय आपके मस्तिष्क से एक रसायन मुक्त होता है, जिसके कारण आपके मस्तिष्क का खुशी और प्रतिक्रिया का स्तर बढ़ जाता है। सेक्स और घनिष्ठता (intimacy) आपका आत्म सम्मान और खुशी बढ़ाते हैं। अम्बरदार के अनुसार, यह न केवल अच्छी सेहत बल्कि खुश रहने का भी एक बेहतरीन नुस्खा है।

कोविड के दौरान मानसिक तनाव के बढ़ने और उसे कम करने में सेक्स किस प्रकार फायदेमंद है, इस संबंध में एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) ने अपनी साइट पर 2020 में एक रिसर्च को पब्लिश किया था। इस रिसर्च में दावा किया गया था कि तनाव और अवसाद करने में यौन गतिविधियां फायदेमंद साबित होती हैं। साथ ही मूड डिसऑर्डर को भी इसके जरिए ठीक किया जा सकता है।

आप यहां दिए लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं कि स्तंभन दोष का आयुर्वेदिक इलाज क्या है।

संभोग बचाता है प्रोस्टेट कैंसर से - Sex prevents from prostate cancer in Hindi

एक अध्ययन के दौरान, जो लोग महीने में लगभग 21 दिन सेक्स करते हैं उनमें प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना बहुत कम होती है। इसका लाभ उठाने के लिए आपको किसी पार्टनर की ज़रूरत नहीं होती है। आप यौन-संबंध, स्वप्नदोष (nocturnal emission), हस्तमैथुन (masturbation) के द्वारा भी इसका लाभ उठा सकते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि केवल सेक्स करने से कैंसर से बचा जा सकता है। कैंसर के लिए बहुत कारक उत्तरदायी होते हैं। लेकिन इतने सेक्स से कोई नुकसान नहीं होगा।

(और पढ़ें - कैंसर के लिए आहार)

सेक्स होता है दर्द कम करने में सहायक - Sex reduces pain in Hindi

न्यूज़र्सी स्टेट यूनिवर्सिटी के रूटगेर्स में एक प्रतिष्ठित सेवा प्रोफेसर, कोमिसारुक कहते हैं कि संभोग दर्द को खत्म करने में काफी हद तक सहायक है। उनके अनुसार आप एस्पिरिन (aspirin) लेने से पहले सेक्स करके देखें आपको दर्द में ज़रूर राहत मिलेगी क्योंकि सेक्स के दौरान जो हार्मोन मुक्त होता है उससे दर्द में राहत मिलती है। संभोग के बिना उत्तेजना भी दर्द में राहत पहुँचाती है। कई महिलाओं ने बताया है कि योनि में उत्तेजना पीठ और पैर के दर्द को कम करने में मदद करती है। कोमिर्सुक के अनुसार, मासिक धर्म के दौरान होने वाली ऐंठन, जोड़ों में दर्द और सिर दर्द में भी इस उत्तेजना से राहत मिलती है।

 (और पढ़ें - सिर दर्द का घरेलू नुस्खा)

संभोग से कम होती है हृदय रोगों की संभावना - Sex lowers heart disease risk in Hindi

जीवन में अगर यौन सम्बन्ध अच्छे हों तो आपका दिल भी स्वस्थ्य रहता है। आपकी हृदय गति को सुचारु रूप से चलाने के साथ साथ संभोग आपके एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन हार्मोनों को संतुलित रखने में मदद करता है। इनमें से किसी में भी कमी होने पर आपको अनेकों समस्याओं जैसे ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) या अन्य हृदय रोगों का सामना करना पड़ सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग हफ्ते में दो बार सेक्स करते थे उनकी, हृदय रोगों के कारण मरने की सम्भावना कम होती थी जबकि जो सेक्स में बहुत कम रुचि रखते थे उन्हें हृदय रोगों का खतरा अधिक रहता था।

(और पढ़ें - हृदय रोग का उपचार)

सेक्स वजन घटाने के लिए है अच्छा व्यायाम - Sex is a good exercise to lose weight in Hindi

पिनज़ोन के अनुसार, सेक्स व्यायाम का बहुत अच्छा रूप है। सेक्स करने के दौरान विभिन्न मांसपेशियों का उपयोग होता है और हृदय गति भी बढ़ती है। दूसरे शब्दों में सेक्स के दौरान 5 कैलोरी प्रति मिनट बर्न होती है। पिनज़ोन कहते हैं की इसे व्यायाम की तरह नियमित रूप से करने से और अधिक फायदे होते हैं, ख़ास तौर से वजन घटने के लिए।

आप यहां दिए लिंक पर क्लिक करे जान सकते हैं शीघ्रपतन का आयुर्वेदिक इलाज क्या है।

सेक्स करने से रहता है महिला मूत्राशय पर नियंत्रण - Love making Improves female bladder control in Hindi

असंयमिता (incontinence) से बचने के लिए पेलविक फ्लोर की मांसपेशियों का मज़बूत होना बहुत महत्वपूर्ण है, जो लगभग 30% महिलाओं को प्रभावित करता है। अच्छा यौन सम्बन्ध एक व्यायाम की तरह है जो आपके पेलविक फ्लोर की मांसपेशियों को लाभ पहुँचता है। जब आप संभोग करती हैं तो उन मांसपेशियों में संकुचन होता है जिससे वे मज़बूत होती हैं।

(और पढ़ें - सेक्स पावर कम होने के लक्षण और सेक्स करने के तरीके)

सेक्स (सम्भोग) करने से होती है कामेच्छा में वृद्धि - Sex works as a libido booster in Hindi

प्रसूति एवं स्त्री रोग की सहायक चिकित्सकीय प्रोफेसर, लॉरेन स्ट्रिक्शर के मुताबिक, सेक्स करने से यौन सम्बन्ध तो बेहतर होते ही हैं आपकी कामेच्छा में भी सुधार होता है। महिलाओं में सेक्स करने से योनि में लुब्रिकेशन, रक्त प्रवाह और लचीलापन बढ़ता है जिससे सेक्स करने में आनंद तो आता है है साथ ही संभोग करने की इच्छा में भी बढ़ोतरी होती है। 

आप यहां दिए ब्लू लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं कि कामेच्छा में कमी का आयुर्वेदिक इलाज क्या है।

सेक्स इम्यून सिस्टम को रखता है चुस्त दुरुस्त - Sex is healthy for Immune System in Hindi

यौन स्वास्थ्य विशेषज्ञ, येवोन के फुलब्राइट के अनुसार, यौन रूप से सक्रिय लोग अन्य लोगों की तुलना में कम बीमार होते हैं। जो लोग यौन संबंध रखते हैं, उनका इम्यून सिस्टम रोगाणुओं, वायरस और अन्य बीमारी फ़ैलाने वाले कारकों के प्रति अधिक सजग रहता है। पेंसिल्वेनिया में विल्केस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया कि एक सप्ताह में एक या दो बार सेक्स करने वाले कॉलेज के छात्रों की तुलना में जिन छात्रों ने कम सेक्स किया उनमें एंटीबॉडी कम मात्रा में पायी गयी। सेक्स के अलावा आपके इम्यून को और भी चीज़ें स्वस्थ बनाती हैं, जैसे सही खान पान, सक्रिय रहना, पर्याप्त नींद लेना, सही समय पर टीकाकरण, कंडोम का प्रयोग आदि। अमाय कल्याण के सीईओ और चिकित्सा निदेशक, यूसुफ जे पिनोजोन कहते हैं कि संभोग विशेष रूप से (हस्तमैथुन के आलावा) सिस्टोलिक (Systolic) ब्लड प्रेशर को भी कम कर देता है। 

(और पढ़ें - अच्छी नींद आने के उपाय)

शिलाजीत कैप्सूल में छिपा है स्वास्थ्य का खजाना। ये myUpchar आयुर्वेद द्वार तैयार किया गया है, 100% शुद्ध शिलाजीत से भरा हुआ। इससे आप पाएंगे शारीरिक शक्ति, ताक़त, और स्वास्थ्य में सुधार। आयुर्वेदिक तरीके से बनाया गया, इसमें किसी भी प्रकार के रसायन का इस्तमाल नहीं हुआ है। आज ही ऑर्डर करें और इस लाभ उठाएं।

Shilajit Resin
₹845  ₹1299  34% छूट
खरीदें

पुरुष सेरोटोनिन हार्मोन के स्तर से प्रभावित होते हैं। जिसके कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं जैसे कामेच्छा में कमी, लिंग को बनाये रखने में परेशानी आदि। पुरुषों पर सेक्स के बाद होने वाले दुष्प्रभाव इस प्रकार हैं :

(और पढ़ें - कामेच्छा बढ़ाने के उपाय)

संभोग के बाद पैरों में दर्द होता है - Leg cramps after intercourse in Hindi

सेक्स के दौरान पैरों में दर्द होना आम बात है। आप किसी भी व्यक्ति में सम्भोग की इच्छा उसके पैरों की उंगलियां देख कर पहचान सकते हैं। इस दौरान वो ऐंठ जाती हैं। सेक्स के दौरान रीढ़ की हड्डी की नसों में बहुत सारी गतिविधियां होती हैं। जिस कारण श्रोणि (pelvis) की मांसपेशियां इस दौरान सिकुड़ जाती हैं। और कभी कभी अधिक उत्तेजना के कारण पैरों की अंगुलियां भी ऐंठ जाती हैं।

(और पढ़ें - पैर में दर्द के घरेलू उपाय)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Oil बनाया है। इस आयुर्वेदिक तेल को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं (शीघ्रपतन, लिंग में तनाव की कमी, पुरुषों में कामेच्छा की कमी) के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Men Massage Oil
₹399  ₹449  11% छूट
खरीदें

सेक्स के बाद वीर्यकोष सिकुड़ जाता है - Testicles shrink after ejaculation in Hindi

जब आप सेक्स करते हैं तब क्रिमैस्टर (cremaster) मांसपेशियां सिकुड़ जाती हैं जिस कारण आपके वीर्यकोष (testicles) ऊपर की ओर उठ जाते हैं। यह संकेत होता है इस बात का कि वो छोटे हो गए हैं। ये वही मांसपेशी है जो ठंडे पानी में भी सिकुड़ जाती है।

(और पढ़ें - वीर्य कैसे बनता है)

पुरुष संभोग के बाद थक जाते हैं - Mens get tired after having sex in Hindi

किसी भी पुरुष के लिए यह असंभव होता है कि वो सम्भोग के तुरंत बाद फिर से कोशिश करे। संभोग के बाद नसों को उस क्षेत्र में दोबारा उत्तेजना लाने के लिए फिर से उत्पन्न होने की ज़रूरत होती है। ऐसा स्खलन के दौरान मस्तिष्क में रक्त प्रवाह के पुनर्वितरण के कारण भी हो सकता है। इसलिए दोबारा उसी स्थिति में आने के लिए थोड़ा समय लगता है। लेकिन महिलाओं में ऐसा कुछ नहीं होता वो एक बार में एक से अधिक बार संभोग कर सकती हैं। सेक्स के दौरान थकान आपकी उम्र पर भी निर्भर करती है। अगर आप मात्र 20 साल के हैं तो आपको सिर्फ 5 मिनट के लिए थकान होगी लेकिन उम्र बढ़ने के साथ साथ थकान का समय भी बढ़ता जाता है और 50 की उम्र के बाद यह थकान कई दिनों में बदल जाती है। 

आप यहां दिए ब्लू लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं कि शुक्राणु की कमी का आयुर्वेदिक इलाज क्या है।

सेक्स के बाद मूत्र त्यागने में परेशानी होती है - Problem in urination after ejaculation in Hindi

स्खलन (ejaculation) के तुरंत बाद अगर आपको पेशाब का अनुभव होता है तो इसका मतलब है कि आपके पाइप भरे हुए हैं। "स्खलन के दौरान तरल पदार्थ जब आगे आता है तो अवरोधिनी मांसपेशी (sphincter muscle) मूत्राशय की गर्दन को बंद कर देती है। अन्यथा तरल पदार्थ मूत्राशय के माध्यम से वापस चला जायेगा। मांसपेशियों को सेक्स के बाद आराम करने में कुछ समय लग सकता है। यदि आप इसे ज़बरदस्ती बाहर करेंगे तो यह थोड़ा दर्दनाक हो सकता है लेकिन यह हानिकारक है। इसलिए थोड़ा सब्र करके सारी मांसपेशियों के सही हो जाने के बाद ही मूत्र त्यागें।

(और पढ़ें - शीघ्र स्खलन का इलाज)

सेक्स के बाद शिश्न में दर्द होता है - Penis pain after sex in Hindi

सेक्स के बाद शिश्न (Penis) में केवल कुछ सेकंड के लिए दर्द हो सकता है जो बिलकुल भी चिंताजनक नहीं है। जब आप अधिक तेज़ी से सेक्स करते हैं तो मांसपेशियों के सिकुड़ने से लिंग में थोड़ा दर्द होता है। आप स्पर्म 25 मील प्रति घंटे की तीव्रता से रिलीज कर सकते हैं। अगर आपको दर्द का अनुभव कुछ घंटों बाद तक या कुछ दिनों तक होता है तो इसका अर्थ है कि आपको अंडकोष, अधिवृषण (epididymis), प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग आदि में इन्फेक्शन हो गया है। इस स्थिति में डॉक्टर से सलाह ही आपके काम आ सकती है।

(और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण)

संभोग के बाद पुरुषों को नींद आती है - Men feel sleepy after sex in Hindi

एक अध्ययन के अनुसार, सेक्स के दौरान पुरुषों के मस्तिष्क में रक्त प्रवाह में एक जबरदस्त बदलाव होता है। जब आप चरमोत्कर्ष पर होते हैं तो मस्तिष्क में रक्त प्रवाह कम हो जाता है। मस्तिष्क के जिस हिस्से से (लगभग 70 प्रतिशत) आप निर्णय लेते है उसमे रक्त प्रवाह नहीं होता जिस कारण आप न्यूरॉन्स को सक्रिय नहीं कर सकते और आपको नींद आ जाती है।

(और पढ़ें - सेक्स के बाद पुरुषों को नींद आने के कारण)

किसी भी चीज़ की अधिकता हानिकारक होती है। इसलिए जीवन में हर चीज़ का आनंद एक हद में रहकर ही उठाना चाहिए। यही नियम संभोग पर भी लागू होता है। अगर सेक्स भी ज़रूरत से ज्यादा किया जायेगा तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। आइये जानते हैं महिलाओं पर सेक्स से होने वाले दुष्प्रभाव:

(और पढ़ें - पुरुषों से क्या चाहती हैं महिलाएं)

सेक्स के दौरान मूत्र मार्ग संक्रमण हो सकता है - Urinary tract infection during intercourse in Hindi

यूटीआई (UTI) मूत्र पथ के संक्रमण हैं, जो किसी के साथ भी हो सकता है। हालांकि अगर आप यौन रूप से सक्रिय महिला हैं तो आपको ये होने ही सम्भावना अधिक हो जाती है। इसलिए इससे बचने के लिए खूब पानी पिएं और अपनी योनि की सफाई का ध्यान रखें और सेक्स के पहले मूत्र त्याग ज़रूर कर लें।

(और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय)

सेक्स के बाद योनि स्राव होता है - Female fluid release after sex in Hindi

संभोग के बाद योनि से एक तरल पदार्थ निकलता है। यह कोई दुष्प्रभाव नहीं है। वास्तव में महिलाओं में बहुत कम मात्र में योनिस्राव होता है लेकिन जब अधिक मात्रा में हो तो यह चिंताजनक होता है।

(और पढ़ें - योनि स्राव का इलाज)

सेक्स के बाद दर्द का अनुभव होता है - Pain after intercourse in Hindi

सेक्स के दौरान या बाद में और खास तौर पर तो पहली बार सेक्स करने में दर्द का अनुभव होता ही है। जननांग संरचना में नाजुक और जटिल होते हैं इसलिए अगर इनमे नमी नहीं होगी तो आपको परेशानी होगी। अत्यधिक कठोर तरीके से सेक्स करना भी दर्द का कारण बन सकता है।

(और पढ़ें - सेक्स के दौरान दर्द होने का कारण)

संभोग के दौरान गैस बनती है - Queefs during sex in Hindi

योनि में गैस बनना (Queefs) बहुत ही आम बात है। जब महिला की योनि में हवा जाती है तो इसका बाहर निकलना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। लेकिन जब यह हवा निकलती है तो एक आवाज़ होती है जैसे कि गैस में होती है लेकिन इनमें सिर्फ यह अंतर होता है कि यह हवा योनि से निकलती है। इसमें आपको शर्म महसूस करने की ज़रूरत नहीं है। यह एक प्राकृतिक क्रिया है और अधिकतर महिलाओं को होती है।

(और पढ़ें - योनि में दर्द होने का कारण)

संभोग के तुरंत बाद महिलाएं सो जाती हैं - Women fall asleep immediately after love making in Hindi

संभोग के दौरान अच्छा खासा व्यायाम हो जाता है क्योंकि इस दौरान आपका शरीर लगातार गति करता है। साथ ही सेक्स आपका तनाव भी दूर करने में कारगर है। इसलिए सेक्स के बाद नींद आना आम बात है।

(और पढ़ें - महिलाओं की यौन समस्या)

सेक्स को लेकर हर किसी की व्यक्तिगत पसंद है। हर कोई अपने तरीके से सेक्स करना पसंद करता है। जहां यह जीवन में आनंद का बेहतर जरिया है, तो संतना पैदा करने के लिए भी इसे जरूरी माना गया है। एक तरफ इसके फायदे हैं, तो दूसरी तरफ इसके कुछ नुकसान हैं, जिनके बारे में इस लेख में विस्तार से बताया गया है।

(और पढ़ें - सेक्स करना क्यों जरूरी है)

क्या ओरल सेक्स करते हुए प्रोटेक्शन यूज करना ठीक है?

हां, क्योंकि बिना प्रोटेक्शन के ओरल सेक्स करते हुए सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज होने की आशंका बनी रहती है। इसलिए, बेहतर यही होगा कि इस संबंध में पार्टनर से खुलकर बात करें और ओरल सेक्स करते समय प्रोटेक्शन जरूर इस्तेमाल करें।

मास्टरबेशन को कितनी बार करना चाहिए और क्या इसे करने से नपुंसक हो जाते हैं?

कोई भी मेडिकल रिसर्च इस बात की पुष्टि नहीं करता है कि मास्टरबेशन करने से पुरुष या महिला बांझपन का शिकार हो सकती है। साथ ही मास्टरबेशन को करने के संबंध में कोई निश्चित संख्या तय नहीं है। इसलिए, अभी यह कहना मुश्किल है कि इसे कितनी बार करना चाहिए।

क्या रोज सेक्स करना सही है?

रोज सेक्स करना है या नहीं, यह प्रत्येक व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर करता है। वैसे रोज सेक्स करने के फायदे और नुकसान दोनों है। तनाव कम होना, मूड बेहतर होना, पार्टनर के साथ अच्छा रिश्ता आदि इसके फायदे में शामिल हैं, जबकि सेक्स के प्रति रुचि में कमी, शारीरिक थकावट व लत लगाना आदि इसके साइड इफेक्ट्स हैं।

क्या सेक्स करना जरूरी है?

इस लेख में हमने विस्तार से बताया है कि सेक्स करने से क्या फायदे होते हैं, लेकिन यहां हम स्पष्ट कर दें कि सेक्स करना या न करना प्रत्येक व्यक्ति की इच्छा निर्भर करता है।

Dr. Ashok kesarwani

Dr. Ashok kesarwani

सेक्सोलोजी
12 वर्षों का अनुभव

Dr. Hemant Sharma

Dr. Hemant Sharma

सेक्सोलोजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Zeeshan Khan

Dr. Zeeshan Khan

सेक्सोलोजी
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Nizamuddin

Dr. Nizamuddin

सेक्सोलोजी
5 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Oral sex
  2. Brecher J. Sex, stress, and health. Int J Health Serv. 1977;7(1):89-101. PMID: 832938
  3. Bodenmann G et al. The association between daily stress and sexual activity. J Fam Psychol. 2010 Jun;24(3):271-9. PMID: 20545400
  4. National Health Service [Internet]. UK; Benefits of love and sex.
  5. Hui Liu, Linda Waite, Shannon Shen, Donna Wang. Is Sex Good for Your Health? A National Study on Partnered Sexuality and Cardiovascular Risk Among Older Men and Women . J Health Soc Behav. 2016 Sep; 57(3): 276–296. PMID: 27601406
  6. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Heart disease and intimacy
  7. Julie Frappier et al. Energy Expenditure during Sexual Activity in Young Healthy Couples . PLoS One. 2013; 8(10): e79342. PMID: 24205382
  8. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Vaginal dryness
  9. Holly M. Thomas et al. Dyspareunia is Associated with Decreased Frequency of Intercourse in the Menopausal Transition . Menopause. 2011 Feb; 18(2): 152–157. PMID: 20962696
  10. D. Edwards, N. Panay. Treating vulvovaginal atrophy/genitourinary syndrome of menopause: how important is vaginal lubricant and moisturizer composition? . Climacteric. 2016 Mar 3; 19(2): 151–161. PMID: 26707589
  11. healthdirect Australia. Vaginal dryness. Australian government: Department of Health
  12. Paul KN, Turek FW, Kryger MH. Influence of sex on sleep regulatory mechanisms. J Womens Health (Larchmt). 2008 Sep;17(7):1201-8. PMID: 18710368
  13. Brissette S et al. Sexual activity and sleep in humans. Biol Psychiatry. 1985 Jul;20(7):758-63. PMID: 4005334
  14. Hooton TM et al. A prospective study of risk factors for symptomatic urinary tract infection in young women. N Engl J Med. 1996 Aug 15;335(7):468-74. PMID: 8672152
  15. Elya E. Moore et al. Sexual Intercourse and Risk of Symptomatic Urinary Tract Infection in Post-Menopausal Women . J Gen Intern Med. 2008 May; 23(5): 595–599. PMID: 18266044
  16. Tierney Lorenz, Sari van Anders. Interactions of Sexual Activity, Gender, and Depression with Immunity . J Sex Med. 2014 Apr; 11(4): 966–979. PMID: 23448297
ऐप पर पढ़ें