• हिं

इंसानों की तरह कुत्तों में भी मोतियाबिंद की समस्या हो सकती है। कुत्तों की आंखों का लेंस, जो किसी भी ऑब्जेक्ट को देखने में फोकस करता है, वह पारदर्शी होता है। इस प्रक्रिया को अकोमोडेशन कहा जाता है। कई बार कुत्तों की आंखों में लेंस के कुछ हिस्से आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ धुंधले होने लगते हैं और ये धुंधलापन आंखों के महत्वपूर्ण हिस्सों को प्रभावित करता है जो आंख संबंधी समस्याओं के अलावा अन्य तरह की भी जटिलताएं हो सकती हैं।

अब प्रश्न उठता है कि आंखों के लेंस धुंधले क्यों हो जाते हैं? कुछ खास तरह के नस्लों में मोतियाबिंद की समस्या जन्मजात होती है, यानी इसका संबंध जीन से है। आमतौर पर मोतियाबिंद पांच साल से कम उम्र के छोटे कुत्तों को प्रभावित करता है। इसके अलावा डायबिटीज भी मोतियाबिंद का कारण बन सकता है क्योंकि अतिरिक्त मात्रा में खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने से लेंस के आसपास मौजूद जलीय घोल की संरचना बदल सकती है। इसके अलावा किसी चोट और बिजली के झटके की वजह से भी मोतियाबिंद हो सकता है।

मोतियाबिंद की गंभीरता अलग-अलग हो सकती है। शुरुआत में मोतियाबिंद लगभग 15 प्रतिशत तक आंखों के लेंस को ढक देते हैं। यह इतना हल्का होता है कि मालिक इस समस्या को शुरुआत में पकड़ नहीं पाते हैं। जब मोतियाबिंद गंभीर होने लगता है तो यह लेंस के एक बड़े हिस्से को कवर कर लेता है और धीरे-धीरे लेंस की परतों को प्रभावित करने लगता है। इसकी वजह से देखने में मुश्किल होने लगती है, ऐसे में रेटिना भी दिखाई नहीं देता है।

मोतियाबिंद स्वयं आमतौर पर दर्दनाक नहीं होते हैं, लेकिन इसकी वजह से ग्लूकोमा और यूवाइटिस जैसी समस्याएं हो सकती हैं, जिनकी वजह से तेज दर्द हो सकता है। ग्लूकोमा आंख के भीतर दबाव बढ़ने के कारण होता है और इससे अंधापन हो सकता है, जबकि यूवाइटिस आंख की मध्य परत में होने वाली सूजन को कहते हैं।

शुरुआती या अपरिपक्व मोतियाबिंद के मामले में, आई ड्रॉप आंखों को फैलने से रोकने और रेटिना पर अधिक रोशनी डालने में मदद कर सकती है। जबकि, गंभीर मोतियाबिंद की स्थिति में लेंस पायसीकरण नामक सर्जरी की आवश्यकता होती है। इस प्रक्रिया में, मोतियाबिंद को ठीक करने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग किया जाता है। इस दौरान एक वैक्यूम पंप खराब ऊतकों को बाहर निकालता है और इसके स्थान पर एक कृत्रिम यानी आर्टिफिशियल लेंस लगाया जाता है। हालांकि, सर्जरी की वजह से कुछ जटिलताएं भी हो सकती हैं।

सर्जरी के बाद कुत्ते की आंखों में अनिश्चित रूप से आई ड्रॉप डालने की जरूरत होती है। यदि सर्जरी के बाद खून बह रहा है तो यह खतरनाक हो सकता है जो कि अंधेपन का कारण भी बन सकता है। खून बहने की वजह से वह अत्यधिक भौंकने लगते हैं या उनके व्यवहार में चिड़चिड़ापन देखा जा सकता है। इसकी वजह से आंख में जलन भी हो सकती है जो दर्दनाक हो सकती है और इससे ग्लूकोमा और यूवाइटिस भी हो सकता है।

यदि ऑपरेशन से पहले कुत्ते की आंखों में जलन कम है और कुत्ता अभी वयस्क नहीं हुआ है तो ऐसे में सर्जरी के सफल होने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा, इलेक्ट्रो रेटिनोग्राम की जांच करनी चाहिए, ताकि पता चल सके कि रेटिना अब भी कार्य कर रहा है या नहीं। बता दें कि इलेक्ट्रो रेटिनोग्राम रेटिना के कामकाज को निर्धारित करता है। यदि रेटिना सही से काम नहीं कर रहा है तो ऐसे में सर्जरी की जरूरत नहीं होती है।

डायबिटीज भी कुत्तों में मोतियाबिंद का एक कारण बन सकता है। इसलिए कुत्ते के लिए स्वस्थ आहार और नियमित रूप से शारीरिक गतिविधियां महत्वपूर्ण हैं। अगर कुत्ता जन्मजात अंधेपन का शिकार है तो ऐसे में कोई भी उपाय काम नहीं आता। कुछ न दिखाई देने की स्थिति में यह जानवर गंध और सुनने की क्षमता पर भरोसा रखते हैं। ऐसी स्थिति में यदि इन जानवरों को अपने मालिक से स्नेह और समर्थन मिलता है तो इनके जीवन की गुणवत्ता उच्च हो सकती है।

(और पढ़ें - कुत्ते का स्वास्थ्य और देखभाल)

  1. कुत्तों में मोतियाबिंद के कारण - Causes of cataracts in dogs in Hindi
  2. कुत्तों में मोतियाबिंद के लक्षण - Symptoms of cataracts in dogs in Hindi
  3. कुत्तों में मोतियाबिंद का निदान - Diagnosis of cataracts in dogs in Hindi
  4. कुत्तों में मोतियाबिंद का इलाज - Treatment for cataract in dogs in Hindi
  5. कुत्तों में मोतियाबिंद का प्रबंधन - Management of cataracts in dogs in Hindi
कुत्तों में मोतियाबिंद के डॉक्टर

मोतियाबिंद ज्यादातर आनुवंशिक कारणों से होता है। पूडल, कॉकर स्पैनियल और हस्कीज कुत्तों की कुछ ऐसी नस्ल हैं, जिनमें मोतियाबिंद विकसित होने का खतरा अधिक होता है। अन्य मामलों में, मोतियाबिंद जन्मजात होता है, जिसका अर्थ है कि कुत्तों में पैदाइशी मोतियाबिंद का खतरा मौजूद होता है। पशु चिकित्सकों का कहना है कि इस समस्या से बचने का एक तरीका कम उम्र में मोतियाबिंद वाले कुत्तों को प्रजनन करने से रोका जाना हो सकता है।

कुछ कुत्तों के मालिकों का कहना है कि जैसे-जैसे उनके कुत्ते की उम्र बढ़ती है, उनकी आंखों में धुंधलापन दिखाई देने लगता है। हालांकि, यह मोतियाबिंद का संकेत हो सकता है, लेकिन जरूरी नहीं कि यह मोतियाबिंद की समस्या ही हो। लेंस, फाइबर ऊतकों से बने होते हैं जो समय के साथ छोटे और रेशेदार हो जाते हैं, जिस कारण लोगों को धुंधला दिखाई देता है। इसे न्यूक्लियर स्क्लेरोसिस कहा जाता है और यह मोतियाबिंद के समान नहीं होता है।

मोतियाबिंद तब होता है जब लेंस का आवरण बाधित हो जाता है। इससे जलन की समस्या शुरू हो जाती है और शरीर में कई तरह की असमान्यताएं होने लगती हैं, जिसके कारण मोतियाबिंद और यूवाइटिस जैसी अन्य दिक्कतें हो सकती हैं।

डायबिटीज मेलेट्स भी मोतियाबिंद का कारण बन सकता है। शरीर में शुगर की मात्रा अत्यधिक बढ़ जाने के कारण आंखों में मौजूद सोल्युशन इसे पूरी तरह से अवशोषित नहीं कर पाता है। ऐसी स्थिति में शुगर सोर्बिटोल नामक तत्व में बदल जाता है। इस तत्व में पानी को अपनी ओर खींचने की प्रवृत्ति होती है और आंखों में अत्यधिक पानी धुंधलेपन का कारण बनता है, जिससे मोतियाबिंद हो सकता है।

अगर किसी व्यक्ति को लगता है कि उसके कुत्ते की आंखों में धुंधलापन है तो जरूरी नहीं है कि यह मोतियाबिंद का संकेत हो, लेकिन ऐसे में पशु चिकत्सक को दिखाना न भूलें।

जब तक कुत्तों में मोतियाबिंद की समस्या गंभीर नहीं हो जाती है, तब तक इसके बारे में पता नहीं चलता है। हलके लक्षण होने पर कुत्ता भी इस बीमारी के प्रभाव को महसूस नहीं कर पाता है, लेकिन उन्नत मामलों में कुत्तों में निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :

  • अंधापन : कुत्ते को फर्नीचर व सीढ़ियों पर चढ़ने में परेशानी हो सकती है और अचानक किसी शोर से वे चौंक सकते हैं।
  • धुंधली आंखें : कुत्तों में मोतियाबिंद होने पर उसकी आंखों पर एक धुंधली परत नजर आ सकती है।
  • लाल और सूजी आंखें : मोतियाबिंद के साथ यूवाइटिस की समस्या एक जटिल स्थिति है, जिसकी वजह से आंखे लाल और सूजन भरी हो सकती हैं।
  • अधिक प्यास लगना और हांफना : इस तरह के लक्षण डायबिटिक कुत्तों में देखे जाते हैं जो आमतौर पर मोतियाबिंद से जुड़े होते हैं।
  • भ्रमित और आक्रामक : डायबिटीज और किसी चोट की वजह से मोतियाबिंद होने पर अचानक दिखाई देना कम हो सकता है। कुछ कुत्ते इस वजह से भयभीत हो सकते हैं जबकि कुछ अधिक आक्रामक हो जाते हैं।

अगर कुत्तों की आंखों में धुंधलापन दिखाई देता है तो यह मोतियाबिंद का एक संकेत हो सकता है, लेकिन इसकी पुष्टि के लिए पशु चिकित्सक के पास जाना जरूरी है। डॉक्टर कुत्ते के व्यवहार बारे में  प्रश्न पूछ सकते हैं, जैसे कि वह फर्नीचर पर ठीक तरह से चढ़ पाता है या नहीं?, भोजन करने के लिए वह देखकर आता है या सूंघकर?, उसे खेलने में समस्याएं होती है? या कुत्ता अक्सर गंभीर रहता है? आदि।

अगर कुत्ते को डायबिटीज है और मालिक को लगता है कि यह मोतियाबिंद का संकेत हो सकता है तो इस बारे में डॉक्टर से बात करें। इसकी पुष्टि के लिए डॉक्टर कुत्ते का शारीरिक परीक्षण, ब्लड टेस्ट और इमेजिंग टेस्ट कर सकते हैं। इन टेस्ट के जरिए न सिर्फ बीमारी की पुष्टि का बल्कि इसके कारणों का भी पता लगाया जा सकता है।

मोतियाबिंद की गंभीरता और प्रकृति की जांच करने के लिए इलेक्ट्रो रेटिनोग्राम (एक तरह का नैदानिक परीक्षण) की मदद ली जाती है। अगर रेटिना खराब हो चुकी है तो ऐसे में सर्जरी असफल हो जाएगी।

यदि पशु चिकित्सक रेटिना का अवलोकन कर पा रहे हैं, तो इसका मतलब है कि यह मोतियाबिंद का संकेत नहीं है, लेकिन यह न्यूक्लियर स्क्लेरोसिस का लक्षण हो सकता है।

कुत्ते में मोतियाबिंद के इलाज के लिए डॉक्टर की सहमति जरूरी है। अगर कुत्ते की आंखों के रेटिना में कोई खराबी नहीं है, लेंस का आवरण नरम है और आंख में सूजन कम है, तो ऐसे में सर्जरी के सफल होने की संभावना ज्यादा होती है। डायबिटीज से ग्रसित कुत्तों में, यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि वह सर्जरी और एनेस्थीसिया की प्रक्रिया को झेल पाएगा।

  • अगर कुत्ते को देखने की समस्या नहीं है और मोतियाबिंद काफी छोटा है, तो ऐसे में किसी भी सर्जिकल प्रक्रिया की जरूरत नहीं होगी।
  • फैकोमल्सिफिकेशन, मोतियाबिंद की सर्जरी का नाम है, जिसमें ध्वनि तरंगों का उपयोग करके मोतियाबिंद को ठीक किया जा सकता है। इसमें लेंस के खराब हिस्से को निकालकर उसकी जगह आर्टिफिशियल लेंस को लगाया जाता है।
  • सर्जरी के बाद, कुत्ते पर नजर रखने की जरूरत होती है। इसमें यह देखा जाता है कि कुत्ते को ब्लीडिंग और सूजन की समस्या तो नहीं है। कुत्ते को एलिजाबेथ कॉलर या ई-कॉलर या बस्टर कॉलर की जरूरत हो सकती है। ये कॉलर एक सुरक्षात्मक चिकित्सा उपकरण है, जिसे किसी कुत्ते या बिल्ली जैसी जानवरों द्वारा पहना जा सकता है। इसे पहनने से वे आंखों के पास के हिस्से को खरोंचते नहीं हैं। इसके अलावा ग्लूकोमा और यूटाइटिस के खतरे को कम करने के लिए कम से कम तीन महीने तक एंटी-इंफ्लेमेटरी आई ड्रॉप भी दिया जा सकता है।
  • अगर आप कुत्ते की सर्जरी नहीं करवाना चाहते हैं, तो पशु चिकित्सक आंखों में एंटी-इंफ्लेमेटरी आई ड्रॉप डालने की सलाह दे सकते हैं। कोई भी आई ड्रॉप मोतियाबिंद को ठीक नहीं कर सकती है, लेकिन ये अंदर संक्रमण को रोकने में मदद कर सकती है। मोतियाबिंद इंफ्लेमेटरी प्रतिक्रिया को उत्तेजित कर सकती है, जबकि एंटी-इंफ्लेमेटरी आई ड्रॉप इसे काफी हद तक रोक सकती है।

डायबिटीज अक्सर मोतियाबिंद का कारण हो सकता है, इसलिए जीवनशैली में स्वस्थ आहार और शारीरिक गतिविधियों को शामिल करना चाहिए। यदि किसी मालिक को अपने कुत्ते में मोतियाबिंद का संदेह है, तो उसे जल्द से जल्द पशु चिकित्सक के पास ले जाना चाहिए क्योंकि उचित समय पर निदान होने से बीमारी को खतरनाक होने से रोका जा सकता है।

कई स्थितियों में सर्जरी का निर्णय न लेना सही विकल्प हो सकता है। अगर कुत्ते की देखने की क्षमता  धीरे-धीरे कम हो रही है, तो ऐसे में उसका सहयोग करने की जरूरत है और अपने इस प्यारे दोस्त के जीवन को आरामदायक बनाने के लिए कुछ अतिरिक्त प्रयास करने चाहिए। आपका कुत्ता जिन फर्नीचर पर बार-बार चढ़ता हो उसे हटा दें और सीढ़ियों पर सुरक्षात्मक चीजें लगा दें, ताकि गलती से भी इसे चढ़ने उतरने में चोट का जोखिम न रहे। नजर कमजोर होने पर कुत्ता गंध और आवाज पर प्रतिक्रिया देता है। फिलहाल ध्यान रहे कि कुछ न दिखाई देने की स्थिति में भी उसे स्नेह दिया जा सकता है और उसका अच्छे से ध्यान रखकर जीवन को खुशहाल किया जा सकता है।

Dr. Surbhi Agrawal

Dr. Surbhi Agrawal

मधुमेह चिकित्सक
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Sweta S

Dr. Sweta S

मधुमेह चिकित्सक
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Khushali Vyas

Dr. Khushali Vyas

मधुमेह चिकित्सक
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Pradeep Aggarwal

Dr. Pradeep Aggarwal

मधुमेह चिकित्सक
11 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Veterinary Partner. [Internet]. Veterinary Information Network. Davis, California; Cataracts in Dogs and Cats
  2. VCA. [Internet]. VCA Inc.; Cataracts in Dogs
  3. Pet MD. [Internet]. Pet MD, LLC; Cataracts in Dogs: Everything you need to know
  4. MSD Veterinary Manual [Internet]. Merck & Co., Inc.; Disorders of the Lens in Dogs
  5. American Kennel Club. [Internet]. AKC Inc. New York.;Cloudy eyes in dogs
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ