कुत्तों के कान में कीड़े क्या हैं?

सफेद रंग के ये कीड़े छोटे आकार के परजीवी होते हैं, जो अक्सर घरेलू पालतू जानवरों के कान में पनपते हैं। ये परजीवी इतने छोटे होते हैं कि इन्हें बिना किसी खास उपकरण की मदद से देखना लगभग असंभव है। आठ पैर वाले यह परजीवी त्वचा के अंदर या त्वचा की सतह पर पाए जाते हैं।

यह पालतू जानवरों के कान में मृत कोशिकाओं, कान की गंदगी, तेल और त्वचा के नीचे से लसीका द्रव को खाते हैं। यदि कुत्ते के कान में तीन से चार वयस्क कीड़े आ जाएं, तो उसे कई प्रकार की तकलीफ होने लगती हैं।

  1. कुत्तों के कान में कीड़े के लक्षण - Kutte ke kaan me keede ke lakshan
  2. कुत्तों के कान में कीड़े लगने के कारण - Kutte ke kaan me keede ke karan
  3. कुत्ते में कान में कीड़े का परीक्षण - Kutte ke kaan me keede ka parikshan
  4. कुत्तों के कान में कीड़े की रोकथाम - Kutte ke kaan me keede ki roktham
  5. कुत्ते के कान में कीड़े का इलाज - Kutte ke kaan me keede ka ilaj
  6. कुत्ते के कान में कीड़े का घर पर देखभाल - Kutte ke kaan me keede ka ghar par dekhbhal

कुत्तों के कान में कीड़े के संकेत क्या हैं?

कानों में खुजली करना, सिर को बार-बार हिलाना, कानों से कोई पदार्थ निकलना या कान से दुर्गंध ये सब कुत्ते के कान में संक्रमण के संकेत हैं। इनके अलावा कुछ अन्य लक्षण भी हैं, जो कुत्तों के कान में कीड़े होने पर देखे जा सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • कानों पर खरोंच के निशान
  • कान के अंदर मोटे गुच्छे
  • कान में लाल-भूरे रंग की पपड़ी बनना
  • पंजों से खरोंचने के अलावा फर्श या फर्नीचर से सिर को रगड़ने के कारण कान के पीछे वाले हिस्से पर खरोंच के निशान
  • सुनाई कम देना (गंभीर मामलों में)

कुछ कुत्तों में, तेजी से खुजली करने और सिर हिलाने पर 'ऐरल हेमेटोमा' (कान और त्वचा के उपास्थि के अंदर खून का जमा हो जाना) हो सकता है। कभी-कभी यह कीड़े कुत्ते के शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैल सकते हैं और इनकी वजह से घाव हो सकता है, पिस्सू के काटने जैसा हो सकता है।

कुत्तों के कान में कीड़े की वजह क्या हो सकती है?

परजीवी कई प्रकार के होते हैं इनमें से एक है 'ओटोडेक्टेस कीनोटिस', जो ज्यादातर बिल्लियों को प्रभावित करता है, लेकिन यह उन कुत्तों में भी पाए जाते हैं, जिन्हें बिल्लियों के साथ घर में पाला जाता है। चूंकि कान के कीड़े अत्यधिक संक्रामक होते हैं, इसलिए अक्सर यह मादा कुत्तों से उनके पिल्ले व बिल्लियों से कुत्तों के शरीर में जाते हैं।

कुत्ते में कान में कीड़े की जांच कैसे की जा सकती है?

चूंकि ये कीड़े नग्न आंखों से दिखाई नहीं देते हैं, इसलिए लक्षणों की पहचान करने के बाद अपने कुत्ते को उचित निदान के लिए पशु चिकित्सक के पास ले जाएं। आपके पशु चिकित्सक फिजिकल टेस्ट, स्किन टेस्ट और कान की जांच कर सकते हैं। 

कान के अंदर कीड़ों को देखने के लिए पशु चिकत्सक ओटोस्कोप (कान के अंदर देखने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला उपकरण) का उपयोग कर सकते हैं। इस माइक्रोस्कोप के जरिए कीड़ों की पहचान करने के लिए पशु चिकित्सक कान के अंदर की त्वचा से सेंपल लेते हैं और माइक्रोस्कोप से उसकी जांच करते हैं।

हालांकि, आप घर पर भी कान के कीड़ों की जांच कर सकते हैं। कुत्ते के लक्षणों को नोटिस करने के अलावा, आप कान की नलिका के बाहरी हिस्से से गंदगी का एक नमूना ले सकते हैं और इसे किसी ऐसी जगह पर रख सकते हैं जहां काले रंग का बैकग्रॉउंड (जैसी की कोई चार्ट या कागज) हो। चूंकि ये कीड़े सफेद रंग के होते हैं, इसलिए यदि यह जीवित हैं तो इन्हें आसानी से हिलते या चलते हुए देखा जा सकता है।

कुत्ते के कान में कीड़े लगने पर बचाव कैसे करें?

यह कीड़े अत्यधिक संक्रामक होते हैं इसलिए इन्हें फैलने से रोका नहीं जा सकता है, लेकिन जब आपका पालतू जानवर इसकी चपेट में आ जाता है तो इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है:

  • अगर आप अपने कुत्ते के कान में कीड़े होने के लक्षण (जैसे कान की त्वचा में खरोंच या बेचैनी होना) देख सकते हैं तो आपको अपने पशु चिकत्सक के पास जाकर नियमित रूप से उसके कान की सफाई कराने की जरूरत है।
  • आपका पालतू जानवर जहां सोता है वहां की समय-समय पर सफाई और उसके बिस्तर को गर्म पानी में धोना चाहिए। इस दौरान ध्यान रखें कि उसके कपड़े और बिस्तर पूरी तरह से सूखने के बाद ही इस्तेमाल किया जाए।

कुत्ते के कान में कीड़े का उपचार कैसे किया जा सकता है?

अपने कुत्ते को अस्पताल में भर्ती किए बिना कान के कीड़े का इलाज किया जा सकता है, लेकिन अपने कुत्ते को स्वस्थ रखने और कीड़ों से मुक्त रखने के लिए समय पर निदान करना जरूरी है:

कुत्तों में कीड़े के उपचार के लिए पेशेवर सलाह जरूरी है। परामर्श करने के बाद, संक्रमण की गंभीरता के आधार पर 10 से 30 दिनों के लिए दिन में एक बार ओवर-द-काउंटर दवाएं दी जा सकती हैं। ओवर-द-काउंटर वे दवाएं जो डॉक्टर के पर्चे के बिना सीधे मेडिकल स्टोर से मिल जाती हैं।

पशु चिकित्सक कान में डालने वाली दवा (इयर ड्रॉप) लिख सकते हैं। इसके अलावा वे ऐसे प्रोडक्ट लेने की सलाह दे सकते हैं, जिनमें सेलामेक्टिन होता है। सेलामेक्टिन युक्त दवाएं जो बिना नुकसान पहुंचाए शरीर से परजीवी कीड़े और अन्य आंतरिक परजीवियों को खत्म कर देती है या फिर शरीर से हटा देती है।

कभी-कभी आपके कुत्ते के कान में समस्या इतनी बढ़ सकती है कि जब आप या पशु चिकित्सक प्रभावित हिस्से को छूकर जांच करना चाहेंगे, तो वह (पालतू जानवर) ऐसा नहीं करने देगा। इस स्थिति में, पशु चिकित्सक को कुत्ते का इलाज करने से पहले बेहोश करने की आवश्यकता हो सकती है।

कुत्ते के कान में कीड़े को घर पर कैसे निकाला जा सकता है?

कुत्ते को नहलाने के बाद उसके कानों की सफाई करें ताकि उस जगह पर कीड़े पनपने न पाएं।

कानों को साफ करने के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड, सिरका या किसी अन्य घर के बने तेल का उपयोग न करें, क्योंकि यह कान की नलिका को नुकसान पहुंचा सकता है। आप कान की सफाई के लिए पशु चिकित्सक से पूछकर मेडिकेटेड इयर क्लीनर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

अपने कुत्ते के कान की नलिका में 'इयर क्लीनिंग सोलुशन' (कान में डालने वाली दवा) लगाएं और कान को बंद करके लगभग 30 सेकंड के लिए धीरे-धीरे मालिश करें।

कान की सफाई के लिए रुई का उपयोग न करें क्योंकि यह कान की नलिका को नुकसान पहुंचा सकता है या गंदगी को कान के अंदर धकेल सकता है।

अब अपने कुत्ते के सिर को हिलाएं ताकि कान में डाली गई दवा के साथ गंदगी भी नलिका से बाहर निकल सके।

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ