myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गाय के दूध और बकरी के दूध, दोनों के अपने अद्वितीय गुण और लाभ हैं। गाय का दूध और बकरी का दूध, दोनों पौष्टिक होते हैं। दोनों दूध के प्रकार दुर्बलता के इलाज और शक्ति की कमी के लिए उपयोगी होते हैं। बकरी का दूध और गाय के दूध दोनों माताओं में स्तन के दूध के उत्पादन में सुधार करते हैं।

(और पढ़ें – बकरी के दूध के फायदे)

इस समानता के बावजूद दोनों में कई अंतर भी हैं। आइए इन्हें समझते हैं -

  1. गाय का दूध या बकरी का दूध - Which is healthier Cow milk or Goat milk in Hindi
  1. गाय का दूध या बकरी का दूध है बेहतर अपच के लिए - Goat milk vs Cow milk digestion in Hindi
  2. गाय के दूध या बकरी के दूध के फायदे शिशुओं के लिए - Goat milk vs Cow milk for babies in Hindi
  3. बकरी के दूध या गाय के दूध का शरीर पर प्रभाव - Goat milk vs Cow milk cooling effect in Hindi
  4. गाय के दूध या बकरी के दूध के लाभ मल त्याग में - Goat milk vs Cow milk effect on bowel movement in Hindi
  5. लैक्टोज असहिष्णुता के लिए गाय का दूध या बकरी का दूध - Goat milk vs Cow milk lactose in Hindi
  6. बकरी के दूध या गाय के दूध के होमाजनाइज़ेशन के कारण साइड इफेक्ट - Goat milk vs Cow milk fat content in Hindi
  7. डेयरी एलर्जी में गाय के दूध या बकरी के दूध का महत्व - Goat milk vs Cow milk allergy in Hindi
  8. गाय का दूध या बकरी का दूध है प्रोटीन का अच्छा स्रोत - Goat milk protein versus Cow milk protein in Hindi
  9. गाय के दूध या बकरी के दूध का कोलेस्ट्रॉल पर अच्छा प्रभाव - Cow milk or Goat milk for cholesterol in Hindi
  10. गाय के दूध या बकरी के दूध में पोषक तत्व - Goat milk vs Cow milk nutrition in Hindi
  11. बकरी के दूध या गाय के दूध का स्वाद है बेहतर - Goat milk vs Cow milk taste in Hindi
  12. स्वस्थ त्वचा के लिए गाय के दूध या बकरी के दूध का फायदा - Goat milk or Cow milk for skin in Hindi

गाय का दूध या बकरी का दूध है बेहतर अपच के लिए - Goat milk vs Cow milk digestion in Hindi

बकरी का दूध पाचन बढ़ा देता है, जबकि गाय का दूध (या भैंस का दूध) ऐसा नहीं करता है। इसलिए यदि आपको अपच की समस्या है, तो यह बेहतर है कि आप गाय के दूध की बजाय बकरी का दूध लें। अपच की समस्या के दौरान भैंस का दूध नहीं लेना चाहिए। 

(और पढ़ें – सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद है गाय का दूध या भैंस का दूध?)

गाय के दूध या बकरी के दूध के फायदे शिशुओं के लिए - Goat milk vs Cow milk for babies in Hindi

गाय का दूध बकरी के दूध की तुलना में पचाने में थोड़ा ज़्यादा भारी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बकरी के दूध में फैट के तत्व छोटे होते हैं जो गाय के दूध की तुलना में आसानी से टूट जाते हैं और पच भी जाते हैं। इसलिए बकरी का दूध छोटे बच्चों के लिए पचाना ज़्यादा आसान हो सकता है। ध्यान रखें कि बकरी का दूध इंफैंट फार्मूला (infant formula) के विकल्प के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। गाय के दूध की तरह, बकरी का दूध भी आंतों में जलन और एनीमिया का कारण हो सकता है।

यदि आपके एक वर्ष की उम्र से कम बच्चे को गाय के दूध आधारित फार्मूले से एलर्जी है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद आप उसे सोया आधारित फार्मूला या एक हायपोएलर्जेनिक फार्मूला या बकरी के दूध का फार्मूला दे सकते हैं। 

(और पढ़ें – दूध पीने का सही समय क्या है)

बकरी के दूध या गाय के दूध का शरीर पर प्रभाव - Goat milk vs Cow milk cooling effect in Hindi

गाय के दूध का बकरी के दूध की तुलना में शरीर पर अधिक शीतलक प्रभाव होता है।

गाय के दूध या बकरी के दूध के लाभ मल त्याग में - Goat milk vs Cow milk effect on bowel movement in Hindi

गाय का दूध आसानी से मल त्याग में मदद करता है। लेकिन बकरी का दूध बार-बार मल त्यागने से रोकने में उपयोगी है। 

(और पढ़ें – कब्ज के रामबाण इलाज)

लैक्टोज असहिष्णुता के लिए गाय का दूध या बकरी का दूध - Goat milk vs Cow milk lactose in Hindi

हमारा शरीर हमारे खाद्य पदार्थ, विशेष रूप से चीनी, को तोड़ने में मदद करने के लिए एंजाइमों का उत्पादन करता है। बकरी के दूध में गाय के दूध की तुलना में कम लैक्टोज (चीनी) होता है जिसका मतलब है कि हमें इस लैक्टोज को तोड़ने के लिए विशेष प्रकार के एंजाइम की आवश्यकता कम है यानि बकरी का दूध हमारे पेट के कार्य को आसान बनाता है। कम लैक्टोज होने के कारण जो लोग लैक्‍टोज असहिष्‍णुता (intolerant) से पीड़ित हैं, यह उनके लिए अच्छा विकल्प है।

बकरी के दूध या गाय के दूध के होमाजनाइज़ेशन के कारण साइड इफेक्ट - Goat milk vs Cow milk fat content in Hindi

गाय के दूध को अगर रात भर फ्रिज में रखा जाए, तो अगली सुबह उसके फैट की पानी जैसी परत सतह पर आ जाती है, जबकि बकरी का दूध वैसा ही रहता है। इसलिए गाय के दूध को वैसा ही रखने और अलग परत को दूर करने के लिए गाय के दूध के साथ एक प्रक्रिया करनी होती है जिसे होमाजनाइज़ेशन कहा जाता है।

इस प्रक्रिया से फैट के अणु ख़त्म हो जाते हैं और दूध एक समान अच्छी तरह मिला हुआ बनता है। होमाजनाइज़ेशन के नुकसान भी हैं क्योंकि इसके कारण दूध में और साथ ही साथ हमारे शरीर में फ्री रेडिकल्स इकट्ठे हो जाते हैं। ये आगे चलकर स्वास्थ्य के लिए खराब साबित हो सकते हैं। बकरी के दूध में फैट के तत्व छोटे हैं और यह प्राकृतिक रूप से होमोजनाइज़्ड है। इसलिए होमाजनाइज़ेशन करने की आवश्यकता नहीं होती है और इसलिए यह आपको होमाजनाइज़ेशन से संबंधित परेशानियों से दूर रखता है|

डेयरी एलर्जी में गाय के दूध या बकरी के दूध का महत्व - Goat milk vs Cow milk allergy in Hindi

तीन साल की उम्र से कम बच्चों में सबसे आम एलर्जी है - डेयरी एलर्जी। इस एलर्जी का संबंध दूध में उपस्थित अल्फा एस 1 कैसेन (Alpha S1 Casein) नामक विशेष प्रोटीन के साथ है। यह प्रोटीन बकरी के दूध में 89% कम है। इसलिए जिन लोगों को डेयरी के प्रति संवेदनशीलता है, वह बकरी के दूध को एक विकल्प के रूप में देखते हैं। यह प्रोटीन कुछ लोगों के लिए अत्यधिक सूजन का कारण है और यही सूजन ज्यादातर बीमारियों की जड़ है।

गाय का दूध या बकरी का दूध है प्रोटीन का अच्छा स्रोत - Goat milk protein versus Cow milk protein in Hindi

बकरी का दूध प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। इसमें गाय के दूध की तुलना में कम चीनी (लैक्टोज), 13% अधिक कैल्शियम, 25% अधिक विटामिन बी-6, 47% अधिक विटामिन ए, 134% अधिक पोटेशियम, 27% अधिक सेलेनियम एंटीऑक्सीडेंट, तीन गुना अधिक नियासिन और चार गुना अधिक तांबा होता है।

(और पढ़ें – प्रोटीन खाने के फायदे)

गाय के दूध या बकरी के दूध का कोलेस्ट्रॉल पर अच्छा प्रभाव - Cow milk or Goat milk for cholesterol in Hindi

बकरी के दूध में मध्यम श्रृंखला फैटी एसिड उच्च स्तर में होता है। इसमें गाय के दूध के 15-20 प्रतिशत की बजाय 30-35 प्रतिशत होता है। यह फैटी एसिड ऊर्जा को बढ़ाते हैं जो शरीर में वसा के रूप में संग्रहीत नहीं होती है, कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और यहां तक ​​कि कोरोनरी रोग और पेट के रोगों को ठीक करने में मदद करती है। बकरी का दूध अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है और बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। 

(और पढ़ें – उच्च रक्तचाप के लिए घरेलू उपचार)

गाय के दूध या बकरी के दूध में पोषक तत्व - Goat milk vs Cow milk nutrition in Hindi

गाय के दूध में बकरी के दूध की तुलना में पांच गुना अधिक विटामिन बी-12 और दस गुना ज्यादा फोलिक एसिड होता है। बकरी के दूध में गाय के दूध में निहित फोलिक एसिड की मात्रा का 10% से भी कम होता है जिसका मतलब यह है कि शिशुओं और बच्चों के लिए दूध का पर्याप्त विकल्प होने के लिए इसके साथ फोलिक एसिड पूरक के रूप में दिया जाना चाहिए।

बकरी के दूध या गाय के दूध का स्वाद है बेहतर - Goat milk vs Cow milk taste in Hindi

बकरी के दूध का स्वाद गाय के दूध के स्वाद की तुलना में काफी स्ट्रांग है। इसलिए इसका स्वाद सबको पसंद नहीं आता है।

स्वस्थ त्वचा के लिए गाय के दूध या बकरी के दूध का फायदा - Goat milk or Cow milk for skin in Hindi

बकरी के दूध में पाए जाने वाले फैटी एसिड और ट्राइग्लिसराइड्स के मॉइस्चराइजिंग गुण त्वचा को मुलायम रखने में मदद करते हैं। बकरी के दूध में विटामिन ए का भी उच्च स्तर है, जो आपके रंग में सुधार लाता है, मुँहासों से लड़ता है और कुल मिलाकर त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करता है। वास्तव में, यह मुँहासों के लिए एक घरेलू उपचार माना जाना चाहिए। क्योंकि बकरी के दूध में पीएच का स्तर मनुष्यों जैसा है, यह कम जलन के साथ त्वचा द्वारा अवशोषित होता है और बैक्टीरिया को दूर रखता है।

(और पढ़ें – बेकिंग सोडा कर सकता है आपके मुंहासों का इलाज और त्वचा की रंगत में सुधार)

और पढ़ें ...