myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

प्रोटीन हमारे शरीर के पोषण लिए एक बहुत जरूरी पोषक तत्व है। हमारे शरीर की अच्छे तरह काम करने के लिए तथा हमारे शरीर की कोशिकाओं को बनाने और सुधारने के लिए प्रोटीन अत्यंत जरूरी है। साथ में प्रोटीन हमारे शरीर की ऊर्जा ( कैलोरी) का स्रोत भी है। पानी के बाद हमारे शरीर में बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाने वाला यह दूसरा पोषक तत्व है। प्रोटीन हमारे शरीर मे शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है और हमारे शरीर की कोशिकाओ का विकास करता है।

इसके अलावा यह हमारे हार्मोन और हड्डियों के निर्माण मे भी मदद करता है। प्रोटीन का उपयोग गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिये बहुत उपयोगी है। ओक्सिजन, हाइड्रोजन और नाइट्रोजन को मिलाकर प्रोटीन का मिर्माण होता है जो हमारे शरीर को बीमारियों से बचाने में मदद करता है। प्रोटीन ही हमारे शरीर को अंदर और बाहर से मजबूती प्रदान करता है।

  1. प्रोटीन के स्रोत
  2. प्रोटीन खाने के फायदे
  3. प्रोटीन की अधिकता से नुकसान
  4. प्रोटीन की कमी के लक्षण और नुकसान
  5. प्रोटीन की मात्रा कितनी खानी चाहिए

प्रोटीन की कमी को हम अपने खान पान के माध्यम से दूर कर सकते हैं। प्रोटीन के अच्छे और प्राकृतिक स्रोत दाल, आटा, कच्ची सब्जियां, दूध, दही, राजमा व लोबिया, सोयाबीन, मूंगफली, मेवा, अंडा, चिकन, मछली हैं।

(और पढ़ें –प्रोटीन युक्त आहार)

प्रोटीन का उपयोग हमारे शरीर को सवस्थ रखने के लिए बहुत ही जरूरी है। प्रोटीन के उपयोग के अनेकों फायदे हैं। प्रोटीन हमारें मसल्‍स बनाने में मदद करता है। वजन घटाने में प्रोटीन बहुत ही फायदेमंद है। प्रोटीन से ज्‍यादा मात्रा में कैलोरी बर्न होता है और हमारा शरीर उसे पचाने में अधिक समय लगाता है जिस कारण से भूख बहुत देर से लगती है और कम खाने की जरूरत महसूस होती है, जिस कारण से हमें वजन कम करने में मदद मिलती है। प्रोटीन का उपयोग हड्डियों, लिगामेंट्स और दूसरे संयोजी ऊतकों को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के आसान उपाय)

प्रोटीन हमारे शरीर की कार्यप्रणाली को दुरुस्‍त रखता है। यह रोग प्रतिरोधक शक्ति (immune system) बढ़ाता है तथा शरीर से गंदगी निकालने में मदद करता है। प्रोटीन त्‍वचा और बालों के लिए एक अच्‍छा पोषक तत्व है। केराटिन नामक प्रोटीन हमारे बालों और नाखूनों में होता है जो बालों को मजबूत, चमकदार और लचीला बनाता है। त्वचा, बालों और नाखूनों को स्वस्थ रखने के लिए हमें प्रोटीन उचित मात्रा में उपयोग करना चाहिए। बच्‍चों की ग्रोथ के लिये प्रोटीन बहुत ही उपयोगी है। प्रोटीन घाव या चोट को तुरंत भरने में मदद करता है। प्रोटीन का उपयोग दिमाग को भी तेज बनाता है। उच्च प्रोटीन आहार ब्लड शुगरहाई बीपी, हृदय रोग संबंधी कारणों के लिए एक प्राकृतिक उपचार है।

प्रोटीन मानव शरीर के लिए बहुत ही जरूरी है। पर कभी-कभी उचित मात्रा से अधिक प्रोटीन का सेवन हमारे लिए नुकसान हो जाता है। प्रोटीन के अधिक सेवन से किडनी में पथरी, ह्रदय और लिवर सम्बंधित समस्या हो जाती है। अतः आप हमेशा प्राकृतिक रूप से की प्रोटीन की मात्रा को पूरा करें।

प्रोटीन की कमी के कारण हमारे शरीर में अनेकों समस्याएँ उत्पन्न हो जाती है जैसे बार-बार भूख लगना, पतले बाल, नाखूनों का नाजुक होना, भ्रम, चिड़चिड़ापन व अवसाद, संक्रमणों के खिलाफ प्रतिरोध में कमी, घाव भरने में बहुत देरी होना, बीमारियों से ठीक होने में लंबा समय लगाना, दिमागी थकावट, मधुमय, शारीरिक विकास मे कमी, बच्चों में कुपोषण जैसी बिमारी, जोड़ों और मांसपेशियों का दर्द, दिमाग कमज़ोर हो जाना, बार बार बीमार पड़ना, नींद ना आना, वजन बढ़ना आदि।

अनुशंसित आहार भत्ता (Recommended Daily Allowances) के अनुसार जन्म से 6 महीने के उम्र के शिशु को 10 ग्राम के करीब लेना चाहिए। 9 से 13 साल के बच्चे को 19-34 ग्राम के करीब लेना चाहिए। 14 से 18 साल के पुरुष को 50 ग्राम के करीब लेना चाहिए। 14 से 18 साल की महिला को 46 ग्राम के करीब लेना चाहिए। 19 से 50 साल के पुरुष को 52 ग्राम के करीब लेना चाहिए। 19 से 50 साल की महिला को 46 ग्राम के करीब लेना चाहिए। गर्भवती महिला को 71 ग्राम के करीब लेना चाहिए और स्तनपान कराने वाली महिला को 71 ग्राम के करीब लेना चाहिए।

यदि आपको प्रतिदिन 2000 कैलोरी की जरूरत है तो इन कैलोरी का 10 से 14% आपको प्रोटीन से मिलना चाहिए। क्योंकि हर एक ग्राम प्रोटीन में 4 कैलोरीज होती है, इसका अर्थ है की आपको प्रतिदिन 50 से 71 ग्राम प्रोटीन युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। इससे आपको 2000 कैलोरी में से 200 से 284 कैलोरी मिल जाएंगी।

और पढ़ें ...