ओवुलेशन एक जैविक (biological) क्रिया है। इसके दौरान गर्भाशय के अंडों का आकार विकसित हो जाता है जिससे कि गर्भ ठहर सकें। इसके लिए पीरियड के पहले दिन से लेकर दसवें दिन और मासिक धर्म की संभावित तारीख से एक सप्ताह पहले का समय छोड़कर जो दिन बचते हैं यानी 10वें दिन से लेकर 23वें दिन तक का समय आदर्श होता है। ओव्यूलेशन भ्रमित और जटिल हो सकता है। ओव्यूलेशन का ट्रैक रखने के लिए बहुत सारी चीज़ें होती हैं! चाहे आप गर्भवती हों या नहीं लेकिन इसके बारे में जानना महत्वपूर्ण है।

तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही पांच लोकप्रिय ओवुलेशन मिथक और उनसे जुड़े तथ्यों के बारे में -

आप यहां दिए लिंक पर क्लिक करके जान सकते हैं कि अनियमित पीरियड्स का इलाज क्या है।

  1. माहवारी चक्र होता है 28 दिन लंबा - Menstrual Cycles Are 28 Days Long in Hindi
  2. एक ही समय में होता है रक्त स्राव और ओव्यूलेशन - Bleeding and Ovulation at the Same Time in Hindi
  3. आप केवल एक दिन में हो सकती हैं गर्भवती - You Can Only Get Pregnant on one Day in Hindi
  4. आप पीरियड्स में गर्भवती हो सकती हैं - You Can Get Pregnant On Your Period in Hindi
  5. प्रेग्नेंट होने के दौरान हो सकते हैं पीरियड्स - You Can Have Your Period While Pregnant in Hindi
  6. सारांश

अक्सर लोगों को लगता है कि माहवारी चक्र 28 दिन लंबा होता है। लेकिन ऐसा नहीं है। यह सामान्य चक्र की औसत लंबाई होती है। लेकिन यह वास्तव में 21 से 35 दिनों तक कहीं भी खत्म हो सकता है! यह एक महिला से दूसरी महिला के बीच अलग होता है। फिर भी यह हर महीने बदल सकता है। तनाव से लेकर किसी भी बीमारी तक सब कुछ मासिक धर्म चक्र को छोटा कर सकता है (या बढ़ा सकता है)। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी के दौरान बदलते मूड से न हों परेशान, इन 9 बातों का रखें ध्यान)

Women health supplements
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

कुछ महिलाओं को लगता है कि रक्त स्राव और ओव्यूलेशन एक ही समय पर हो सकता है। लेकिन ऐसा नहीं है। हाँ, कुछ महिलाओं को ओवल्यूलेशन के आस-पास बहुत ही हल्की ब्लीडिंग (spotting) का अनुभव हो सकता है। आपके चक्र की शुरुआत में भारी रक्तस्राव होता है - लगभग 1 से 5 दिन तक जबकि ओव्यूलेशन मध्य में होता है। तो आप उन्हें एक साथ नहीं मिला सकते हैं। 

अगर मासिक धर्म में अधिक ब्लीडिंग होती है, तो उसका समाधान करने के लिए आज से लेना शुरू करें पुष्यानुग चूर्ण

कुछ महिलाओं को भ्रम है कि आप केवल एक दिन में गर्भवती हो सकती है। लेकिन ऐसा नहीं क्योंकि गर्भावस्था कभी भी ओवुलेशन के आसपास हो सकती है। इसका कारण यह है कि शुक्राणु महिला के शरीर में पांच दिन तक जीवित रह सकते हैं। इस प्रकार, जब आप संभोग करते हैं तो कई दिनों गर्भावस्था के लिए एक संभावना होती है।

आप बस एक क्लिक करेंगे और जान पाएंगे कि महिला बांझपन का इलाज कैसे किया जाता है।

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Prajnas Fertility Booster बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख पुरुष और महिला बांझपन की समस्या में सुझाया है, जिससे उनको अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं।
Fertility Booster
₹899  ₹999  10% छूट
खरीदें

आपने कुछ महिलाओं को कहते सुना होगा कि आप अपने पीरियड्स के दौरान भी गर्भवती हो सकती हैं। लेकिन ऐसा नहीं, लेकिन कभी-कभी यह सच भी हो सकता है। यह आपके चक्र की लंबाई पर निर्भर करता है। जब आपके पीरियड्स होते हैं तब ओव्यूलेशन होने में कुछ समय होता है। इसलिए यदि आपका 28 दिन या उससे अधिक का चक्र होता है, तो आपके पीरियड्स और अंडाशय के बीच का समय अधिक है। जिसमें गर्भावस्था की बहुत संभावना नहीं होती है। लेकिन यदि आपका चक्र छोटा है, तो वह समय आपके विचार से पहले हो सकता है। और चूंकि शुक्राणु पांच दिनों तक जीवित रह सकता है, इसलिए गर्भावस्था के लिए एक मौका भी हो सकता है।

आप यहां क्लिक करके समझ पाएंगे कि पीसीओडी का इलाज क्या है।

गर्भवती होने के दौरान पीरियड्स का आना नामुमकिन होता है। जब आप गर्भवती हो जाती हैं, तो एग आपकी गर्भाशय की दीवार पर लैच हो जाते हैं। तो यह कैसे बढ़ता है और विकसित होता है। याद रखें, आपकी अवधि गर्भाशय की दीवार की परत का बहाव है। ऐसा इसलिए नहीं हो सकता जब आप गर्भवती होती है। यदि गर्भावस्था के दौरान रक्तस्राव होता है तो यह स्पॉटिंग या गर्भपात हो सकता है। अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात करने से ना डरें। ईमानदार रहें और जो भी आपके मन में सवाल हैं वो पूछें। इससे वे आपकी स्थिति के अनुसार सब कुछ समझा सकेंगे।

व्हाइट डिस्चार्ज का इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

Ashokarishta
₹360  ₹400  10% छूट
खरीदें

हर महीने मासिक धर्म के समय ओवुलेशन जरूर होता है और जो महिला गर्भवती होना चाहती है, उसके लिए यह अवधि सबसे खास होती है। इसलिए, हर महिला को अपने ओवुलेशन का समय जरूर पता होना चाहिए। वहीं, ओवुलेशन से जुड़े कुछ मिथक भी हैं, जिनका स्पष्टीकरण हमने इस लेख में देने का प्रयास किया है।

ऐप पर पढ़ें