हाल ही में एक अध्ययन में यह पाया गया कि 90% महिलाएं नहीं जानती हैं कि वे गर्भवती कब हो सकती हैं। प्रजनन क्षमता को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने की कोशिश करने से पहले, यह महत्वपूर्ण है कि आप जाने कि ओवुलेशन के लक्षण को कैसे जाना जाए ताकि आप यह जान सकें कि आपका शरीर गर्भधारण करने के लिए तैयार है या नहीं।

(और पढ़े - गर्भधारण का सही समय)

यदि आपको ओवुलेशन के बारे में पूरी और सही जानकारी है, तो आप पूरी गर्भावस्था प्रक्रिया के लिए बेहतर तैयार रह सकती हैं या यदि आप गर्भधारण नहीं करना चाहती तो इससे बच सकती हैं। ओवुलेशन के बारे में सब कुछ जानने के लिए पढ़ें यह लेख और जानें कि गर्भधारण के लिए कब आपमें सर्वाधिक प्रजनन क्षमता हैं।

(और पढ़े - ओवुलेशन से जुड़े मिथक और तथ्य)

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि ओवुलेशन क्या है, इसका समय कब होता है, साइकिल कितने दिन की होती है और ओवुलेशन के लक्षण क्या-क्या हैं। इसके साथ ही ओवुलेशन का गर्भवती होने के साथ क्या रिश्ता है?

(और पढ़े - गर्भावस्था के महीने)

यदि आप गर्भवती होने की कोशिश नहीं कर रही हैं और केवल आप महिला प्रजनन प्रणाली को थोड़ा बेहतर समझने की कोशिश कर रही हो, तो भी आपके पास इस तरह के बुनियादी प्रश्न हो सकते हैं, उन्हीं सवालों का जवाब देने की कोशिश इस लेख में की गयी है।

(और पढ़े - माँ बनने की सही उम्र)

  1. ओवुलेशन क्या है - Ovulation kya hai in hindi
  2. ओवुलेशन कब होता है और कितने दिन तक रहता है - Ovulation kab hota hai aur kitne din tak rehta hai in hindi
  3. ओवुलेशन साइकिल कितने दिन का होता है - Ovulation period kitne din hota hai in Hindi
  4. ओवुलेशन होने के लक्षण - Ovulation symptoms in Hindi
  5. ओवुलेशन टेस्ट कैसे करें - How to do Ovulation test in hindi
  6. ओवुलेशन क्या है, कब होता है, कितने दिन तक रहता है और लक्षण के डॉक्टर
  7. पीरियड के कितने दिन बाद ओवुलेशन होता है

ओवुलेशन क्या होता है

ओवुलेशन महिला की प्रजनन प्रणाली की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है, इसे हिंदी में “अंडोत्सर्ग” कहा जाता है। ओवुलेशन तब होता है जब कोई अंडा, अंडाशय से मुक्त होता है। प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के दौरान, प्रजनन हार्मोन अंडाशय को उत्तेजित करने के लिए एक साथ काम करते हैं। कुछ अपरिपक्व अंडे, जिन्हें ऊसाइट्स (डिम्बाणुजनकोशिका) भी कहा जाता है, बढ़ने लगते हैं और उन हार्मोन का जवाब देते हैं।

(और पढ़े - महिलाओं के स्वास्थ्य में हार्मोन का महत्व)

हालांकि मासिक चक्र की शुरुआत में कई ऊसाइट्स का विकास शुरू हो जाता है पर आमतौर पर केवल एक परिपक्व अंडा ही अंडाशय से मुक्त हो पाता है।

आपके हार्मोन से मिलने वाले सिग्नल की बदौलत अंडा यह जानता है कि इस यात्रा को शुरू करने का सही समय कब है। आमतौर पर आपके मासिक धर्म चक्र के लगभग 14 वें दिन यह अंडा अंडाशय से मुक्त होता है। यही हार्मोन गर्भाशय को भी संकेत भेजकर उसे अपनी अंदरूनी परत मोटी करके आने वाले संभावित बच्चे के लिए तैयार रहने के लिए कहते हैं।

(और पढ़े - गर्भ ठहरने के उपाय)

अंडाशय से मुक्त होने के बाद यह अंडा फैलोपियन ट्यूबों में 12 से 24 घंटों तक घूमता रहता है और वहाँ से गुजरने वाले किसी शुक्राणु में शामिल होने का इंतजार करता है।

(और पढ़ें - फैलोपियन ट्यूब में रुकावट)

फर्टिलिटी विंडो उस समय को कहते हैं जब किसी महिला के गर्भवती होने की सबसे अधिक संभावना होती है, एक शुक्राणु पांच दिनों तक महिला प्रजनन पथ में रहता है, इसलिए यदि आप ओवुलेशन के दिन से चार दिन पहले भी सेक्स करती हैं, तो आप गर्भ धारण कर सकती हैं।

(और पढ़े - सेक्स करने का तरीका)

अगर अंडे को कोई शुक्राणु नहीं मिलता है तो यह उर्वरित नहीं होता है, तो गर्भाशय अपनी परत को फिर से पतला कर लेता है और आपको मासिक अवधि फिर से शुरू हो जाती है।

तकनीकी रूप से, एक मासिक अवधि, ओवुलेशन के दो हफ्ते बाद रक्त और गर्भाशय के ऊतक का आपकी योनि के माध्यम से शरीर के बाहर निकलना है। उस महीने के ओवुलेशन से गर्भवती नहीं होने के बाद गर्भाशय को रीसेट करने का यह शरीर का अपना तरीका है।

(और पढ़े - पीरियड से जुड़े मिथक और तथ्य)

ओवुलेशन पीरियड कब और कितने दिन तक रहता है?

ओवुलेशन आम तौर पर 28 दिनों के मासिक धर्म चक्र में 14 वे दिन के आसपास होता है। हालांकि, सभी महिलाओं में मासिक धर्म की अवधी 28 दिन की नहीं होती है। इसलिए सटीक समय हर महिला की मासिक अवधी के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है।

(और पढ़े - असामान्य मासिक धर्म के लक्षण)

यदि आप बच्चे पैदा करने योग्य उम्र की अधिकांश महिलाओं की तरह हैं, तो आपका मासिक धर्म चक्र 28 से 32 दिनों के बीच रह सकता है और ओवुलेशन आमतौर पर उस चक्र के दिन 10 वे और 19 वे दिन के बीच होता है - आपकी अगली मासिक धर्म की अवधि से लगभग 12 से 16 दिन पहले।

(और पढ़े - पीरियड जल्दी लाने के उपाय)

ओवुलेशन पीरियड लिए आम तौर पर, यह माना जा सकता है कि आपके मासिक चक्र के मध्य बिंदु के चार दिन पहले या चार दिन बाद के समय में ओवुलेशन होता है, आप अपनी वास्तविक मासिक धर्म की अवधी के हिसाब से इसका आकलन कर सकती हैं।

(और पढ़े - पीरियड्स आगे बढ़ाने के उपाय)

दो बार ओवुलेशन होना भी संभव है लेकिन यह आमतौर पर मासिक चक्र के एक ही समय में होता है। इस तरह दो अलग-अलग अंडों के ओवुलेशन से एक जैसे नहीं दिखने वाले जुड़वां बच्चे पैदा होते हैं। यह 35 से अधिक उम्र की महिलाओं में अक्सर होता है, यह एक कारण है कि अधिक आयु वाले जोड़ों के समूह में अधिक जुड़वा बच्चे पैदा होते हैं।

दूसरा कारण यह है कि कई आईवीएफ क्लीनिक अधिक उम्र के जोड़ों के लिए दो भ्रूणों को प्रतिस्थापित करते हैं, जबकि 40 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं में आमतौर पर एक भ्रूण बदल दिया जाता है।

(और पढ़े - टेस्ट ट्यूब बेबी)

2003 में हुए एक अध्ययन से भी यह पता चला है कि कुछ महिलाओं में किसी भी मासिक धर्म चक्र में दो या तीन बार ओवुलेशन करने की क्षमता हो सकती है। इतना ही नहीं, एक साक्षात्कार में, इस अध्ययन की मुख्य शोधकर्ता ने बताया कि 10 प्रतिशत प्रतिभागियों ने वास्तव में एक महीने में दो अंडे पैदा किए।

ओवुलेशन के दिन और इस दिन तक के 6 दिनों को ही “फर्टिलिटी विंडो” कहा जाता है। यही वह समय है जब सेक्स करने पर गर्भावस्था संभावित है। शुक्राणु सेक्स के बाद फैलोपियन ट्यूबों में कई दिनों तक इंतजार कर सकता है, अंडे के मुक्त होने के बाद उसको उर्वरित करने के लिए तैयार रहता है।

(और पढ़े - सेक्स कब और कितनी बार करें)

एक बार जब अंडा फैलोपियन ट्यूबों में आ जाता है, तो यह लगभग 24 घंटे तक यहाँ रहता है इससे पहले यदि इसे उर्वरित नहीं किया जाता है, तो इस प्रकार फर्टिलिटी विंडो बंद हो जाती है।

(और पढ़े - मासिक धर्म में गर्भधारण हो सकता है क्या)

कई ऐसे संकेत हैं जिनसे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि एक महिला का अंडाशय ओवुलेशन कर रहा है, इनमें से ओवुलेशन के कुछ लक्षण निम्नलिखित हैं -

1. योनि से होने वाले स्राव में परिवर्तन
महिला के मासिक धर्म चक्र के प्रत्येक दिन के हिसाब से सर्वाइकल म्यूकस में बदलाव होते हैं। मासिक धर्म समाप्त होने के ठीक बाद योनि से स्राव सूखा होगा या कोई स्राव नहीं होगा। हालांकि, योनि कैनाल अंदर आने वाले शुक्राणु के लिए जैसे-जैसे तैयारी करती है, सर्वाइकल म्यूकस पतले से पतला और अधिक फिसलन वाला होता जाता है।

(और पढ़े - योनि से होने वाले डिस्चार्ज)

ओवुलेशन से पहले सर्वाइकल म्यूकस क्रीम जैसा होता है लेकिन ओवुलेशन के दौरान, ये स्राव कच्चे अंडे के सफेद भाग जैसा दिखता हैं और उंगलियों के बीच एक इंच से अधिक फैल जाता हैं।

यह चरण युवा महिलाओं में लगभग 5 दिन तक चल सकता है, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ ये 1-2 दिनों तक कम हो जाता है। यह सर्वाइकल म्यूकस परिवर्तन ओवुलेशन के सबसे सटीक संकेतों में से एक है।

2. बेसल बॉडी टेम्प्रेचर में परिवर्तन
शरीर के तापमान में मामूली वृद्धि भी हो सकती है। यह परिवर्तन प्रोजेस्टेरोन नामक हार्मोन के द्वारा संचालित होता है, जो अंडाशय से अंडा मुक्त होने पर स्रावित होता है। तापमान के अधिकतम स्तर पर पहुंचने से पहले आमतौर पर 2 से 3 दिनों के लिए महिला अधिक उपजाऊ होती हैं।

मामूली तापमान वृद्धि को ट्रैक करने के लिए बेसल थर्मामीटर का उपयोग किया जा सकता है। इन्हें ऑनलाइन या अधिकांश मेडिकल स्टोर से खरीदा जा सकता है।

(और पढ़ें - शरीर का तापमान कितना होना चाहिए)

3. मिट्टेलस्मेर्ज पेन
कुछ महिलाओं को ओवुलेशन के समय पेट में निचे की तरफ हल्का दर्द महसूस होता है। इसे मिट्टेलस्मेर्ज पेन कहा जाता है। यह कुछ मिनट और कुछ घंटों के बीच रह सकता है।

(और पढ़े - गर्भावस्था में पेट दर्द का इलाज)

4. ल्यूटिनिज़िंग हार्मोन में वृद्धि
मेडिकल पर मिलने वाली किसी भी ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट की मदद से ओवुलेशन से पहले पेशाब में ल्यूटीनाइज़िन्ग हार्मोन (एलएच) में वृद्धि का पता लगा सकती है।

5. संवेदनशील स्तन
कुछ महिलाएं मजाक में कहती हैं कि उन्हें पता चल जाता है कि बारिश होने वाली है क्योंकि उनके स्तनों को चोट पहुंचती है। हो सकता है ​​कि स्तन मौसम में बदलावों के प्रति संवेदनशील नहीं हो और यह केवल एक मजाक हो, लेकिन आपके स्तन शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों के प्रति सचमुच संवेदनशील होते हैं।

(और पढ़े - ब्रैस्ट से जुड़े कुछ मिथक और तथ्य)

ओवुलेशन के दौरान संभावित गर्भावस्था के लिए स्तन को तैयार करने के लिए स्तन की कोशिकाएं और एल्वियोली स्तन के ऊतक में अपनी संख्या को बढ़ाने के लिए गुणित होती हैं। इन परिवर्तनों से कुछ महिलाओं को ओवुलेशन के दौरान स्तन के ऊतक में दर्द या कोमलता का अनुभव होता है।

(और पढ़े - गर्भावस्था में स्तन दर्द का इलाज)

6. लिबिडो परिवर्तन
चूंकि शरीर आपके मस्तिष्क को बता रहा है कि अब बच्चा पैदा करने का समय है तो इसलिए कुछ महिलाओं को सेक्स ड्राइव या कामेच्छा में वृद्धि का अनुभव होता है।

(और पढ़े - कामेच्छा बढ़ाने के उपाय)

एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन के उच्च स्तर आपके शरीर को बताते हैं कि आप अब उपजाऊ हैं और यह आप में प्रजनन करने के लिए एक प्रारंभिक इच्छा (कभी-कभी यह इच्छा गर्भावस्था के दौरान भी जारी रहती है) हो सकती है।

(और पढ़े - गर्भावस्था में सेक्स)

कुछ महिलाओं के पास उनकी बढ़ती सेक्स ड्राइव के लिए अधिक ऊर्जा होती है। तो इसे रोके नहीं और अपने साथी के साथ इसका आनंद लें।

7. मतली और सिरदर्द
हालाँकि, हर महिला में ओवुलेशन के ये लक्षण नहीं होते हैं, लेकिन कभी-कभी आप को ओवुलेशन पीरियड के दौरान सिरदर्द या मतली हो सकती है। ये आपके सेक्स हार्मोन में तेजी से होने वाले परिवर्तन के कारण होता है। अच्छी हार्मोनल संतुलन वाली महिलाओं में, इस तरह के लक्षणों की आशंका नहीं होती है।

(और पढ़े - हार्मोन असंतुलन के कारण)

अगर किसी महिला का मासिक धर्म चक्र नियमित तौर पर चल रहा है, लेकिन फिर भी वह महिला गर्भवती नहीं हो पा रही है, तो ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि उसके शरीर में अंडाशय से ओवुलेशन नहीं हो रहा है।

(और पढ़े - गर्भवती नहीं हो पाने के कारण)

एक ओवुलेशन किट की मदद से आप यह देखने में सक्षम हो सकती है कि वास्तव में, आपका अंडाशय ओवुलेशन कर रहा है या नहीं। हालाँकि, ओव्यूलेशन की पुष्टि करने का सबसे सटीक तरीका डॉक्टर के पास जा कर अल्ट्रासाउंड करवाना या हार्मोनल रक्त परीक्षण है, लेकिन आपके लिए घर पर ओवुलेशन को ट्रैक करने के कई तरीके हैं, जैसे कि -

  • बेसल बॉडी टेम्प्रेचर (बीबीटी) चार्टिंग - इसमें आपके शरीर के तापमान में परिवर्तन को रिकॉर्ड करने के लिए हर सुबह आपके पूरे मासिक चक्र के दौरान बेसल थर्मामीटर से शरीर का तापमान लिया जाता है। यदि आपके शरीर का तापमान आपकी आधार रेखा से तीन दिनों तक ऊंचा रहता है तो इस बात की पुष्टि हो जाती है कि ओव्यूलेशन हुआ है।
  • ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट (ओपीके) - ये आम तौर पर आपके घर के आस-पास के किसी भी मेडिकल स्टोर पर ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) के रूप में उपलब्ध हैं। वे आपके मूत्र में एलएच (ल्यूटीनाइज़िन्ग हार्मोन) की उपस्थिति का पता लगाते हैं। यदि परिणाम रेखा, कंट्रोल रेखा जितनी डार्क या उससे अधिक डार्क दिखती है तो इसके बाद अगले कुछ दिनों में ओवुलेशन हो सकता है।
  • फर्टिलिटी मॉनीटर - ये भी ओटीसी के रूप में उपलब्ध हैं। हालाँकि ये एक अधिक महंगा विकल्प हैं, ऑनलाइन इसकी कीमत लगभग 15,000 के आस-पास है। आपकी फर्टिलिटी विंडो के छः दिनों की पहचान करने में मदद के लिए ये फर्टिलिटी मॉनिटर दो प्रकार के हार्मोन एस्ट्रोजन और एलएच को ट्रैक करते हैं।
Dr. Dyuti Navadia

Dr. Dyuti Navadia

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Sheetal Aggarwal

Dr. Sheetal Aggarwal

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Aishwarya Reddy

Dr. Aishwarya Reddy

प्रसूति एवं स्त्री रोग
7 वर्षों का अनुभव

Ritu Jain

Ritu Jain

प्रसूति एवं स्त्री रोग
10 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Mihm M, Gangooly S, Muttukrishna S. The normal menstrual cycle in women. Anim Reprod Sci. 2011 Apr;124(3-4):229-36. PMID: 20869180.
  2. Christin-Maitre S. Physiologie de l'ovulation et mode d'action de la contraception [Physiology of ovulation and mode of action of contraceptive pills]. Rev Prat. 2008 Jan 15;58(1):17-20. French. PMID: 18326357.
  3. Carlson LJ, Shaw ND. Development of Ovulatory Menstrual Cycles in Adolescent Girls. J Pediatr Adolesc Gynecol. 2019 Jun;32(3):249-253. PMID: 30772499.
  4. Richard JS. Genetics of ovulation. Semin Reprod Med. 2007 Jul;25(4):235-42. PMID: 17594604.
  5. Brown J, Farquhar C. Clomiphene and other antioestrogens for ovulation induction in polycystic ovarian syndrome. Cochrane Database Syst Rev. 2016 Dec 15;12(12):CD002249. PMID: 27976369
  6. Hernández-Angeles C, Castelo-Branco C. Early menopause: A hazard to a woman's health. Indian J Med Res. 2016 Apr;143(4):420-7. PMID: 27377497.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ