myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 से गर्भवती महिलाओं के गंभीर रूप से बीमार होने का खतरा ज्यादा होता है। अमेरिका की शीर्ष स्वास्थ्य एजेंसी सीडीसी ने अपने एक अध्ययन के आधार पर यह बात कही है। इसमें उसने कहा है कि अगर गर्भवती महिलाएं कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 के संक्रमण की चपेट में आ जाएं तो उनके आईसीयू में भर्ती होने का खतरा ज्यादा होता है। हालांकि, सीडीसी ने यह साफ किया है कि इसका मतलब यह नहीं है कि इससे गर्भवती महिलाओं के कोविड-19 से मरने का खतरा नॉन-प्रेग्नेंट महिलाओं की अपेक्षा बढ़ जाता है।

गौरतलब है कि इससे पहले सीडीसी ने कहा था कि ऐसा कोई डेटा उपलब्ध नहीं है, जिसके आधार पर यह कहा जा सके कि कोविड-19 गर्भवती बीमारी महिलाओं को अलग तरह से प्रभावित करती है। लेकिन हालिया शोध के तहत सामने आई नई जानकारी के बाद एजेंसी ने इस संबंध में अपने रुख में बदलाव किया है। अब उसका कहना है कि कोविड-19 होने पर गर्भवती महिलाओं के गंभीर रूप से बीमार होने का खतरा उन महिलाओं से अधिक होता है, जो गर्भवती नहीं हैं।

(और पढ़ें - कोविड-19 के खिलाफ 'सबसे बड़ा ब्रेकथ्रू' बताई गई डेक्सामेथासोन को स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी मंजूरी, डब्ल्यूएचओ भी दवा का कर चुका है स्वागत)

बताया गया है कि गर्भवती महिलाओं में कोविड-19 के प्रभाव को जानने के लिए किया गया यह अब तक का सबसे बड़ा अध्ययन है। इसमें शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस से संक्रमित 8,200 से अधिक गर्भवती महिलाओं और 83 हजार से ज्यादा नॉन-प्रेग्नेंट महिलाओं से जुड़ी जानकारी का विश्लेषण किया है। इन महिलाओं की उम्र 15 से 44 वर्ष के बीच है, जो जनवरी से जून के बीच कोविड-19 के टेस्ट में पॉजिटिव पाई गई थीं।

विश्लेषण के दौरान पता चला कि कोरोना वायरस की गर्भवती मरीजों में से एक-तिहाई को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा, जबकि जो महिलाएं कोविड-19 की चपेट में आने के समय प्रेग्नेंट नहीं थीं, उनमें से केवल छह प्रतिशत के अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आई। हालांकि, शोध में एक कमी भी सामने आई है। जानकारों का कहना है कि यह अध्ययन यह साफ नहीं करता कि कोविड-19 से ग्रस्त होने के बाद ये गर्भवती महिलाएं अस्पताल में डिलिवरी या गर्भावस्था से जुड़े किसी प्रोसीजर की वजह से भर्ती हुईं या फिर विशेष रूप से कोरोना वायरस के कारण एडमिट हुईं। अन्य शब्दों में कहें तो शोध से अस्पताल में भर्ती हुई सभी महिलाओं के गंभीर रूप से बीमार होने का संकेत नहीं मिलता।

(और पढ़ें - यह कहना मुश्किल कि कोविड-19 की वैक्सीन बन ही जाएगी, कोरोना वायरस से निपटने के लिए 31 अरब डॉलर की जरूरत: डब्ल्यूएचओ)

लेकिन शोध में इतना जरूर साफ हुआ कि नॉन-प्रेग्नेंट महिलाओं की अपेक्षा कोविड-19 से पीड़ित गर्भवती महिलाओं के आईसीयू और वेंटिलेटर पर जाने की संभावना ज्यादा होती है। विश्लेषण में सामने आया कि अस्पताल में भर्ती हुई कम से कम 1.5 प्रतिशत कोरोना पीड़ित गर्भवती महिलाओं को आईसीयू में भर्ती करना पड़ा, जबकि बिना गर्भावस्था वाली महिलाओं में यह दर 0.9 प्रतिशत रही। 

वहीं, आईसीयू में वेंटिलेटर पर गई 0.3 प्रतिशत नॉन-प्रेग्नेंट कोरोना पीड़िताओं की अपेक्षा गर्भवती पीड़िताओं की संख्या 0.5 प्रतिशत रही। इस आधार पर शोध के लेखकों का कहना है कि यह गर्भवती और नॉन-प्रेग्नेंट महिलाओं को कोविड-19 से होने वाले खतरे के अंतर को दर्शाता है। उन्होंने यह भी कहा कि इसका मतलब यह नहीं कि नॉन-प्रेग्नेंट महिला पीड़िताओं के मरने का खतरा कम हो जाता है। उन्होंने साफ किया कि विश्लेषण के दौरान दोनों में मरने का खतरा (0.2 प्रतिशत) समान पाया गया है।

(और पढ़ें - कोविड-19: क्या सार्स-सीओवी-2 कोरोना वायरस कई सालों से विकसित हो रहा था? शोधकर्ताओं ने दी यह महत्वपूर्ण जानकारी)

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
RemdesivirRemdesivir Injection15000.0
Fabi FluFabi Flu Tablet3500.0
CoviforCovifor Injection5400.0
AnovateANOVATE OINTMENT 20GM90.0
Pilo GoPilo GO Cream67.5
Proctosedyl BdPROCTOSEDYL BD CREAM 15GM66.3
ProctosedylPROCTOSEDYL 10GM OINTMENT 10GM63.9
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें