myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम मानसिक विकार और बाल-उत्पीड़न का एक रूप है। इसमें मां या फिर केयर टेकर बच्चे में किसी बीमारी के झूठे लक्षण होने का दावा करते हैं या वे ऐसे वास्तविक लक्षण भी पैदा कर सकते हैं, जिससे ऐसा प्रतीत हो कि बच्चा घायल या बीमार है।

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम के लक्षण

इस बीमारी से ग्रस्त केयरटेकर बच्चे में बीमारी के नकली लक्षण पैदा करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। उदाहरण के लिए :

  • बच्चे के मल या पेशाब में अलग से खून डालना
  • बच्चे को खाना न देना, ताकि उसका वजन न बढ़ने पाए
  • थर्मामीटर को गर्म करना, ताकि ऐसा लगे कि बच्चे को बुखार है
  • लैब टेस्ट के परिणामों को छिपाना
  • बच्चे में दस्त की समस्या बनाने के लिए उसे दवाइयां देना
  • बच्चे को बीमार बनाने के लिए इंजेक्शन देना

केयरटेकर से मतलब क्या है?

छोटे बच्चों की देखभाल करना एक कठिन कार्य है, लेकिन सामान्य तौर पर यह जिम्मेदारी एक मां या फिर किसी केयरटेकर की होती है।

  • केयरटेकर अक्सर किसी स्वास्थ्य देखभाल विभाग में काम करते हैं और उन्हें चिकित्सा देखभाल के बारे में अच्छी जानकारी होती है। वे बच्चे में किसी बीमारी या परेशानी को अच्छे से समझ सकते हैं। 
  • वे हेल्थ केयर टीम के साथ काम करना पसंद करते हैं और उन्हें बच्चों से खासा लगाव होता है। 
  • वे बच्चों के साथ घुल-मिल जाते हैं या यूं कहें कि वे बच्चों के प्रति समर्पित रहते हैं।

किसी केयरटेकर के लिए केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम के बारे में जानना अचंभित करने वाला होता है।

बच्चे की स्थिति

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम के कारण एक बच्चे को अस्पताल में चेकअप के लिए जाना पड़ सकता है। इस दौरान वह हॉस्पिटल में कई स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं को देखता है।

  • बच्चे को अक्सर कई टेस्ट, सर्जरी या अन्य प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ सकता है।
  • बच्चे में अजीब तरह के लक्षण दिखाई दे सकते हैं, जो किसी भी बीमारी के साथ फिट नहीं होते हैं। यह लक्षण किसी भी टेस्ट के परिणामों से मेल नहीं खाते हैं।
  • केयरटेकर बच्चे में झूठे लक्षणों की जानकारी अस्पताल या क्लिनिक में देते हैं, जबकि कोई डॉक्टर द्वारा इन लक्षणों को नोटिस नहीं किया जाता है।
  • चूंकि यह लक्षण नकली या बच्चे को प्रताड़ित करने का परिणाम होते हैं और केवल कुछ समय के लिए होते हैं, ऐसे में इन्हें नोटिस करना मुश्किल हो जाता है।
  • जैसे ही बच्चा घर जाता है तो यह लक्षण फिर दिखने लगते हैं।
  • बच्चे में खून का प्रकार क्या है इससे खून का सैंपल मैच नहीं होता है।
  • बच्चे के खून, मल और पेशाब में दवाई या रसायन मिल सकता है।

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम के कारण

इस बीमारी के कारणों के बारे में अभी तक डॉक्टरों को कोई जानकारी हासिल नहीं हो पाई है। लेकिन उनका मानना है कि हो सकता है, बच्चे की देखभाल करने वाले शख्स को बचपन में किसी ने उसे प्रताड़ित किया हो।

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम का निदान

चूंकि, इस मानसिक विकार है और इसमें जानबूझ कर झूठे लक्षणों को पैदा किया जाता है, ऐसे में एमएसपी का निदान करना कई बार मुश्किल हो जाता है। पुष्टि के लिए, डॉक्टरों को किसी संकेत को पहचानने की जरूरत है। उन्हें बच्चे के मेडिकल रिकॉर्ड की समीक्षा करनी पड़ सकती है, ताकि यह जाना जा सके कि बच्चे के साथ क्या हुआ है।

केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम इलाज

संदेह होने पर बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए सावधानी बरतने की जरूरत होती है, ऐसे में आप बच्चे की देखभाल किसी दूसरी जगह पर भी कर सकते हैं। बच्चों में चोट, संक्रमण, दवाओं, सर्जरी या टेस्ट से होने वाली जटिलताओं को ठीक करने के लिए चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता हो सकती है।

उन्हें अवसाद, चिंता और चोट के बाद होने वाला तनाव से जुड़े डिसऑर्डर से निपटने के लिए मनोचिकित्सक देखभाल की भी आवश्यकता होती है। उपचार में अक्सर व्यक्तिगत और पारिवारिक इतिहास की मदद ली जा सकती है। चूंकि, यह बाल शोषण का एक रूप है, इसलिए मुनच्युसेन सिंड्रोम की सूचना इस मामले से जुड़े अधिकारियों को दी जानी जरूरी है।

वैसे इस बीमारी का सफलतापूर्वक इलाज करना मुश्किल है, क्योंकि मुनच्युसेन सिंड्रोम से ग्रस्त होने वाले लोग इस बात को नहीं मानते हैं कि उन्हें कोई मानसिक विकार है। इसके अलावा, कई मरीज सच को छिपाने में निपुण होते हैं और वे सही स्थिति की जानकारी नहीं देते। इस वहज से सटीक उपचार करना मुश्किल हो सकता है।

फिलहाल, बाल शोषण के आरोपी को आपराधिक आरोपों का सामना करना पड़ सकता है, ऐसे में वे स्वास्थ्य समस्याओं के अलावा कानूनी दांव-पेंच में फंस सकते हैं। इसलिए घर में बाकी सदस्यों को भी केयरटेकर के व्यवहार पर ध्यान देने की जरूरत है।

  1. केयरटेकर में मुनच्युसेन सिंड्रोम के डॉक्टर
Dr. Anil Kumar Kumawat

Dr. Anil Kumar Kumawat

मनोचिकित्सा
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Dharamdeep Singh

Dr. Dharamdeep Singh

मनोचिकित्सा
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Ajay Kumar...

Dr. Ajay Kumar...

मनोचिकित्सा
14 वर्षों का अनुभव

Dr. Saurabh Mehrotra

Dr. Saurabh Mehrotra

मनोचिकित्सा
24 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें