myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

योनि में यीस्ट संक्रमण (वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन) को कैंडिडिआसिस के रूप में भी जाना जाता है। यह महिलाओं में होने वाली सबसे आम समस्याओं में से एक है। चार में से तीन महिलाएं अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार इस संक्रमण से प्रभावित होती हैं। यह संक्रमण कैंडिडा अल्बिकंस नामक कवक के अतिवृद्धि के कारण होता है।

जो गर्भवती व कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाली महिलाएं गर्भनिरोधक या एंटीबायोटिक्स गोलियां ले रही हैं, उनमें इस संक्रमण का जोखिम ज्यादा होता है।

योनि में यीस्ट संक्रमण के सामान्य लक्षणों में पेशाब के दौरान दर्द, यौन संबंध बनाते समय दर्द, योनि के बाहरी भाग में लालिमा और सूजन, योनि और लेबिया (योनि की भीतरी और बाहरी तह) में जलन और खुजली, पानी निकलना शामिल हैं। ऐसी स्थिति में डॉक्टर मलहम, क्रीम या टैबलेट लेने की सलाह दे सकते हैं।

योनि में यीस्ट संक्रमण के लिए होम्योपैथिक उपचार में क्रियोसोटम, कैंथारिस वेसिकैटोरिया, बेर्बेरिस वल्गैरिस, सेपिया ऑफिसिनेलिस, बेलाडोना, एकोनिटम नेपेलस, कैल्केरिया कार्बोनिका, सल्फर और कैलियम म्यूरिएटिकम शामिल हैं। यह उपचार योनि में खुजली, दर्द और जलन के साथ योनि स्राव को कम करने में मदद करते हैं। इन दवाइयों को जब किसी योग्य चिकित्सक के मार्गदर्शन में लिया जाता है, तो ये उपचार न केवल कवक के विकास को रोकते हैं, बल्कि संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर और प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करते हैं, जिससे इस संक्रमण के बार-बार होने का खतरा नहीं रहता है।

होम्योपैथिक डॉक्टर मरीज के भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक लक्षणों की जांच के बाद उपचार निर्धारित करते हैं। इसके अलावा खुजली की तीव्रता, योनि स्राव के रंग और गंध के आधार पर भी दवाइयां निर्धारित की जाती हैं। यही कारण है कि होम्योपैथी दवाइयां एक जैसी बीमारी वाले व्यक्तियों में एक जैसा असर नहीं करती हैं। प्रत्येक व्यक्ति को एक अनूठा उपाय मिलता है जो सभी के अनुरूप नहीं हो सकता है।

  1. योनि में यीस्ट संक्रमण के लिए दवाएं - yoni me yeast infection ke liye homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार योनि में यीस्ट इंफेक्शन वाले रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - yoni me yeast infection ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. योनि में यीस्ट इंफेक्शन के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - yoni me yeast infection ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. योनि में यीस्ट इंफेक्शन के लिए होम्योपैथिक दवा के दुष्प्रभाव और जोखिम - yoni me yeast infection ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. योनि में यीस्ट इंफेक्शन के लिए होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - yoni me yeast infection ke liye homeopathic treatment se jude tips

क्रियोसोटम
सामान्य नाम :
बीचवॉर्ड क्रियोसोट
लक्षण : क्रियोसोटम उन महिलाओं के लिए सबसे उपयुक्त उपाय है, जिन्हें तेज जलन के साथ योनि स्राव की दिक्कत होती है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों को ठीक करने में मदद करता है :

  • लेबिया में सूजन, रोगी को इस स्थिति में लेबिया में जलन भी महसूस हो सकती है
  • हर बार सेक्स के बाद ब्लीडिंग
  • पेशाब करते समय योनि में खुजली
  • लेबिया और जांघ के बीच वाले हिस्से में तेज खुजली
  • योनि से तेज पीले रंग का डिस्चार्ज
  • योनि में दर्द जो मासिक धर्म के बाद बढ़ जाता है

यह लक्षण ठंड के मौसम में, लेटने या आराम करने और खुली हवा में रहने से बदतर हो जाते हैं, जबकि गतिविधि करने, गर्म वातावरण में रहने और गर्म खाद्य पदार्थ खाने से लक्षणों में सुधार होता है।

कैंथारिस वेसिकेटोरिया
सामान्य नाम :
स्पेनिश फ्लाई
लक्षण : यह उपाय उन लोगों के लिए सर्वोत्तम है, जिन्हें बार-बार पेशाब करने की आवश्यकता होती है और गैस्ट्रिक समस्याओं का अनुभव करते हैं। अक्सर कॉफी पीने के बाद यह ​स्थिति खराब हो जाती है। यह योनि के संक्रमण में होने वाली खुजली के लिए प्रभावी है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद करता है :

  • योनि से लगातार डिस्चार्ज
  • पेशाब करने में दर्द
  • योनि में सूजन
  • गर्भाशय में संक्रमण
  • अंडाशय वाले हिस्से में जलन
  • मूत्राशय में सूजन

यह लक्षण पेशाब करने, ठंडे पेय पदार्थ पीने और प्रभावित हिस्से को छूने के बाद बदतर हो जाते हैं।

सेपिया ऑफिसिनेलिस
सामान्य नाम :
दि जूस ऑफ कटलफिश
लक्षण : सेपिया ऑफिसिनेलिस उन लोगों में सबसे अच्छा काम करता है, जो गर्म वातावरण में भी ठंड महसूस करते हैं। यह योनि संक्रमण से जुड़े दर्द, जलन और गर्मी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करता है :

  • योनि के बाहरी भाग में भारीपन लगना
  • सेक्स के दौरान दर्द
  • खुजली व पीले-हरे रंग का योनि से डिस्चार्ज
  • अनियमित रूप से मासिक धर्म आना
  • योनि के ऊपरी भाग में चुभन जैसा दर्द होना

यह लक्षण कपड़े धोने के बाद, पसीना आने पर, ठंडी हवा में और शाम व दोपहर में खराब हो सकते हैं, जबकि व्यायाम करने हाथ पैर में खिंचाव लाने, ठंडे पानी से नहाने, गर्म सिकाई करने से अस्थायी राहत मिलती है।

कैल्केरिया कार्बोनिका
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ लाइम
लक्षण : कार्बोनेट ऑफ लाइम उन लोगों में अच्छा असर करता है जो शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से थके हुए हैं। यह योनि में यीस्ट संक्रमण से जुड़ी सूजन को कम करने में मदद करता है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों में भी लाभ होता है :

  • ल्यूकोरिया, आमतौर पर मासिक धर्म से पहले, रोगी को ठंड लगती है
  • पीरियड्स के बाद योनि में खुजली और जलन
  • योनि में पसीना आना
  • गर्भाशय पॉलीप्स (एक ऐसी स्थिति है, जिसमें गर्भाशय की आंतरिक दीवार में वृद्धि होने लगती है और यह गर्भाशय गुहा की ओर फैलने लगती है)

उपरोक्त सभी शिकायतें ठंडे और नम मौसम में, खड़े होने के दौरान और पूर्णिमा के दौरान खराब हो जाती हैं, लेकिन दर्द वाले हिस्से के बल लेटने और शुष्क मौसम में इनमें सुधार होता है।

एकोनिटम नेपेलस
सामान्य नाम :
मॉन्कशूद
लक्षण : मॉन्कशूद उन लोगों के लिए सबसे उपयुक्त है जो बेचैन रहते हैं और तनाव, सुन्नता, झुनझुनी और आंतरिक शरीर में ठंडक का अनुभव करते है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में मदद करता है :

  • योनि में सूखापन
  • गर्भाशय में चुभन वाला दर्द
  • मासिक धर्म के दौरान अधिक मात्रा में डिस्चार्ज
  • योनि में गर्मी लगना

यह लक्षण ठंडी और शुष्क हवाओं में, शाम को, प्रभावित हिस्से के बल लेटने, संगीत सुनने और धूम्रपान करने से बढ़ जाते हैं, जबकि खुली हवा में इनमें सुधार होता है।

कैलियम मुरीआटिकम
सामान्य नाम :
क्लोराइड ऑफ पोटेशियम
लक्षण : कैलियम मुरीआटिकम योनि से डिस्चार्ज को कम करने के लिए एक प्रभावी उपाय है। जिनकी जीभ पर ग्रे या सफेद कोटिंग जैसा दिखाई देता है उनके लिए भी यह उपाय असरदार है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों से भी राहत मिल सकती है :

  • बहुत जल्दी या बहुत देर तक मासिक धर्म होना, इस स्थिति में गहरे रंग का डिस्चार्ज होता है जो टार की तरह दिखता है
  • गाढ़े बलगम जैसा योनि से डिस्चार्ज होना जो दूधिया सफेद रंग की तरह दिख सकता है और इस स्थिति में जलन होती है।

यह लक्षण वसायुक्त खाद्य पदार्थ खाने और किसी तरह की गतिविधि करने के बाद खराब हो जाते हैं।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : बेलाडोना योनि में दर्द और योनि में जलन के लक्षणों को कम करके योनि में यीस्ट संक्रमण का इलाज करने में मदद करता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक कर सकता है :

  • योनि में गर्मी महसूस होने के साथ सूखापन
  • मासिक धर्म के दौरान भारी मात्रा में डिस्चार्ज होना, इस स्थिति में डिस्चार्ज होने वाले खून से तेज बदबू भी आती है
  • जांघों के चारों ओर रगड़ या घिसाव महसूस होना

यह लक्षण लेटने, प्रभावित हिस्से को छूने और दोपहर के दौरान लक्षण बदतर हो जाते हैं, लेकिन सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में लेटने पर इसमें आराम मिलता है।

सल्फर
सामान्य नाम :
सब्लीमेटेड सल्फर
लक्षण : यह उपाय योनि में यीस्ट इंफेक्शन से जुड़े निम्नलिखित लक्षणों को कम करने में मदद करता है :

  • योनि में जलन
  • तेज गंध के साथ जननांग में पसीना
  • मासिक धर्म का देर से आना व कम मात्रा में डिस्चार्ज होना, यह कम समय के लिए प्रभावित करती है। योनि से काले रंग का मोटा डिस्चार्ज होना

यह​ लक्षण नहाने या प्रभावित हिस्से को धुलने के बाद, अल्कोहल लेने के बाद और रात के समय में खराब हो जाते हैं। दाहिनी ओर व गर्म और शुष्क मौसम में लेटने के बाद लक्षणों में सुधार होता है।

बेर्बेरिस वल्गैरिस
सामान्य नाम :
बरबेरी
लक्षण : यह उपाय योनि में गर्मी और जलन को कम करके योनि में यीस्ट इंफेक्शन का इलाज करने में मदद करता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करने में मददगार है :

  • सेक्स के दौरान दर्द
  • योनि में छूने पर दर्द व चुभन महसूस होना
  • जांघों के नीचे दर्द और ठंड महसूस होना
  • पेशाब के दौरान दर्द व योनि से सफेद व पीले रंग का डिस्चार्ज होना

यह लक्षण खड़े होने और आगे बढ़ने पर खराब हो जाते हैं

होम्योपैथिक दवाएं प्राकृतिक पदार्थों से बनाई जाती हैं। यह घुलनशील रूप में होती हैं। इसलिए, इन उपचारों के चिकित्सीय प्रभाव विभिन्न आहार और जीवन शैली कारकों से प्रभावित हो सकते हैं। होम्योपैथिक उपचार से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए होम्योपैथी के संस्थापक डॉ हैनिमैन ने कुछ दिशा-निर्देर्शों की सिफारिश की है :

क्या करना चाहिए

  • स्वस्थ आहार लें
  • अपने कमरे के तापमान को अपने आराम के अनुसार समायोजित (एडजस्ट) करें
  • आरामदायक कपड़े पहनें
  • अपने आसपास सफाई रखें

क्या नहीं करना चाहिए

  • मानसिक थकावट से बचें
  • नम जगहों पर न रहें

कई अध्ययनों से पता चला है कि होम्योपैथिक दवाइयां फंगल संक्रमण, विशेष रूप से योनि में यीस्ट इंफेक्शन के खिलाफ प्रभावी है। हालांकि, निष्कर्षों की पुष्टि के लिए और अधिक अध्ययन किए जाने की आवश्यकता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ हेल्थ साइंसेज एंड रिसर्च में प्रकाशित एक लैब-स्टडी से पता चला है कि सल्फर और फास्फोरस जैसे उपचार कैंडिडा अल्बिकंस के विकास को रोक सकते हैं।

लैब स्टडी और एनिमल स्टडी में पाया गया है कि सेपिया और सल्फर जैसे उपाय कैंडिडा के विकास को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

वियना में किए गए एक नैदानिक परीक्षण में पाया गया, जिसमें पाया गया कि बार-बार होने वाले वल्वोवेजिनल कैंडिडिआसिस को ठीक करने के लिए, मासिक धर्म के जब एक निश्चित चरण में इट्राकोनेजोल दवाई दी गई, तो यह क्लासिक होम्योपैथिक उपचार की तुलना में अधिक प्रभावी पाई गई।

इसके लिए 144 महिलाओं पर शोध किया गया, इनमें से कुछ को लैक्टोबैसिली के साथ व कुछ को लैक्टोबैसिली के बिना इट्राकोनेजोल दवा दी गई, इसके अलावा एक अन्य ग्रुप को होम्योपैथी ट्रीटमेंट दिया गया। लेकिन नतीजा यह रहा कि होम्योपैथी की तुलना में इट्राकोनेजोल दवाई लेने वालों के लक्षणों में जल्दी सुधार पाया गया। इसीलिए संबंधित विषय पर अभी और शोध की जरूरत है।

होम्योपैथिक दवाइयों को जब एक योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में लिया जाता है तो इस उपचार का वास्तव में कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। एक होम्योपैथिक चिकित्सक किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के सभी पहलुओं पर विचार करता है, दवाई निर्धारित करने से पहले मरीज की मानसिक और शारीरिक स्थिति की जांच की जाती है और अत्यधिक नियंत्रित खुराक में दवाई का निर्धारण किया जाता है।

इन उपायों को प्राकृतिक पदार्थों से घुलनशील रूप में बनाया जाता है और यह सुनिश्चित किया जाता है कि दवाओं की सुरक्षा और गुणवत्ता भारतीय फार्माकोपिया की शर्तों को पूरा करती हैं। इसलिए, होम्योपैथिक उपचार शरीर के सामान्य कामकाज में बाधा नहीं डालते हैं और वयस्कों के साथ-साथ शिशुओं में भी यह सुरक्षित और प्रभावी है। लेकिन होम्योपैथिक उपचार शुरू करने से पहले अनुभवी डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

महिलाओं की योनि में यीस्ट इंफेक्शन काफी आम है। यह समस्या कवक कैंडिडा के अतिवृद्धि के कारण होती हैं। इस स्थिति में कैंडिडिआसिस के लिए लंबे समय तक पारंपरिक दवाओं का सेवन करने से कुछ दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। होम्योपैथिक दवाइयों को डॉक्टर के मार्गदर्शन में ही लिया जाना चाहिए तभी यह प्रभावी और सुरक्षित होती हैं।

संक्रमण के विकास को रोकने के साथ-साथ होम्योपैथिक उपचार शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में भी सुधार करता है और इसे दोबारा होने से रोकता है।

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Vaginal yeast infection
  2. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Vaginal yeast infections.
  3. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  4. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
  5. Hahnemann Samuel. Organon of Medicine. Médi-T; [Internet]
ऐप पर पढ़ें