myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खर्राटे आमतौर पर हम तब लेते हैं जब हम हल्की नींद से गहरी नींद की ओर जा रहे होते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारे गले और मुँह के ऊतक इस समय पर रिलेक्स हो जाते हैं और श्वासमार्ग का अवरोध करते हैं। ऐसे में सांस लेने और छोड़ने में तकलीफ होती है और ज़्यादा दबाव डालना पड़ता है और इसके फलस्वरुप जो आसपास के ऊतकों में कंपन होती है, उन्हें हम खर्राटों के रूप में जानते हैं। एलर्जी, अस्थमा, सर्दी, बंद नाक और साइनस संक्रमण भी खर्राटों का कारण हो सकते हैं। यह वंशानुगत हो सकता है या कुछ दवाओं के कारण भी हो सकता है।

सोने की मुद्रा और मोटापा भी खर्राटों का कारण हो सकते हैं इसलिए खर्राटे बंद करने का सबसे अच्छा तरीका वजन कम करना है। शराब पीना, विशेष रूप से सोने से पहले, श्वासमार्ग के अवरोध और खर्राटे लेने की संभावना को बढ़ाता है। देर शाम खर्राटों को बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों को भी आपको खाने से बचना चाहिए जैसे तला हुआ भोजन, अत्यधिक शराब, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और डेयरी उत्पाद।

(और पढ़ें – खर्राटे रोकने के उपाय)

एक चीज़ जिनके कारण खर्राटे होते हैं, वह श्लेष्म या म्यूकस (mucuos) है। यदि आप गले और नाक में जमे श्लेष्म की मात्रा को कम कर सकते हैं, तो आप श्वासमार्ग को मुक्त कर सकते हैं जिससे खर्राटे कम या पूरी तरह से रूक सकते हैं। यह हासिल करने के लिए सबसे सरल तरीकों में से एक है जूस पीना।

 

  1. खर्राटों का देसी इलाज है सेब और गाजर का जूस - Apple carrot juice for snoring in hindi

सामग्री -

  1. दो सेब
  2. दो गाजर
  3. एक चौथाई नींबू
  4. अदरक की एक डंठल

इन्हें एक साथ ब्लेंड करें और स्नोरिंग को खत्म करने के लिए सोने के कुछ घंटों से पहले पी लें। ( (और पढ़ें – करेले के फायदे और नुकसान)

और पढ़ें ...