myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हम जो खाना खाते हैं उस खाने का सही से पाचन बहुत जरूरी होता है। पाचन की प्रक्रिया में हमारा पेट एक ऐसे एसिड को उत्पन्न करता है जो खाना पचाने के लिए बहुत ही ज़रूरी होता है। पर कई बार यह एसिड आवश्यकता से अधिक मात्रा में बन जाता है। जिसके परिणामस्वरूप सीने में जलन और पेट के बीच में पीड़ा और परेशानी का एहसास होता है। इसे हम एसिडिटी या एसिड पेप्टिक रोग के नाम से जानते हैं।

पेट में गैस के आम कारण होते हैं, खान पान में अनियमितता, खाने को ठीक तरह से नहीं चबाना, और पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना आदि। अधिक मसालेदार और जंक फ़ूड आहार का सेवन करना भी पेट में गैस का कारण होता है। हड़बड़ी में खाना, तनावग्रस्त होकर खाना, धूम्रपान, मदिरापान ये सब भी एसिडिटी होने का कारण हो सकता है। हमारा आमाषय हमेशा खाना पचाने के लिए जठर रस (gastric acid ) को बनाता है। लेकिन जब आमाषयिक ग्रंथि से अधिक मात्रा में जठर रस का निर्माण होने लगता है तब हायड्रोक्लोरिक एसिड की अधिकता से पेट में गैस की समस्या पैदा हो जाती है। बदहजमी, सीने में जलन और आमाषय में छाले इस रोग के प्रमुख लक्षण हैं। भारी खाने के सेवन करने से भी पेट में गैस की समस्या बढ़ जाती है। और सुबह सुबह नाश्ता न करना और लंबे समय तक खाली पेट रहने से भी पेट की गैस आप को परेशान कर सकती है। (और पढ़ें – पेट की गैस के लिए योग)

आज हम आप को पेट के गैस या एसिडिटी से राहर पाने के लिए कुछ रेसिपी के बड़े में बताने जा रहे हैं।


  1. एलोवेरा का जूस

  2. पपीता, अलसी, कच्ची जई का मिश्रित जूस

  3. अनानास, अंगूर, हरी चाय का मिश्रित जूस

  4. गाजर, लहसुन और अल्फला का मिश्रित जूस

  5.  

एलोवेरा का जूस


एलोवेरा जूस में बहुत मात्रा में पाचक तत्व मौजूद होते हैं। एलोवेरा में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण यह पेट के रोगों में बहुत फायदेमंद होता है। एलोवेरा जूस के नियमित सेवन से कब्ज और पेट में गैस की समस्‍या भी दूर हो जाती है। (और पढ़ें - कब्ज के कारण)

एलोवेरा जूस बनाने की सामग्री :
आधा कप एलोवेरा जेल
एक नींबू का रस
तरल क्लोरोफिल १५ मिली लीटर ( यह आप किसी भी दावा ले दुकान से खरीद सकते है )
आधा कप पानी

एलोवेरा जूस बनाने की विधि :
एलोवेरा जेल, नींबू का रस, तरल क्लोरोफिल, आधा कप पानी मिक्सर में डाल कर अच्छी तरह से जूस बना लें।
अब जूस को किसी साफ गिलास में निकल लें और सेवन करें

इस जूस का सेवन सुबह खाली पेट ही करें। ध्यान रहे इस जूस के सेवन के एक घंटे बाद ही आप किसी और चीज का सेवन करें।

पपीता, अलसी, कच्ची जई का मिश्रित जूस

कच्चे पपीते में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जो कब्ज जैसी समस्या से निजात दिलाता है। इसमें ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं जो पेट में गैस बनने से रोकते हैं और पाचन में सुधार करते हैं। यह शरीर में विषाक्त पदार्थों से हमे छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है। जौ में पेट के रोगों को ख़त्म करने का गुण पाया जाता है। अलसी अपच, कब्ज, गैस समस्या से निजात दिलाता है।

पपीता, अलसी, कच्ची जई का मिश्रित जूस बनाने की सामग्री :

एक कप कटा हुआ पपीता
दस ग्राम अलसी
बीस ग्राम कच्ची जई
स्वाद के लिए शहद
दो कप पानी

पपीता, अलसी, कच्ची जई का मिश्रित जूस बनाने की विधि :

पपीता, अलसी, कच्ची जई, शहद और पानी को मिक्सर में डाल कर अच्छी तरह से जूस बना लें।

अब जूस को किसी साफ गिलास में निकल लें और सेवन करें

इस जूस का सेवन सुबह खाली पेट ही करें। ध्यान रहे इस जूस के सेवन के एक घंटे बाद ही आप किसी और चीज का सेवन करें। इस जूस को एक सप्ताह तक सेवन करने के बाद एक सप्ताह रूक कर फिर दुबारा सेवन करें।
 

अनानास, अंगूर, हरी चाय का मिश्रित जूस

अनानास में फाइबर पाया जाया है जो पाचन को बेहतर करने में लाभदायक होता है। यह गैस, कब्ज और पाचन जैसी समस्या को दूर करता है। अंगूर के रस का सेवन पेट की जलन और गैस की समस्या को दूर करता है। हरी चाय भी गैस की समस्या में उपयोगी है।

नोटः अनानास गर्भवती महिला के लिए हानिकारक हो सकता है।

अनानास, अंगूर, हरी चाय का मिश्रित जूस बनाने की सामग्री :

तीन चौथाई कप अनानास (116 ग्राम)
एक नींबू का रस
एक कप ताजा अंगूर का रस
एक कप हरी चाय
स्वाद के लिए शहद (वैकल्पिक)

अनानास, अंगूर, हरी चाय का मिश्रित जूस बनाने की विधि

अनानास, अंगूर का रस, हरी चाय और शहद को मिक्सर में डाल कर अच्छी तरह से मिला लें।

अब जूस को किसी साफ गिलास में निकल लें और नींबू का रस डाल कर सेवन करें।

इस जिस का सेवन 21 दिनों तक सुबह खाली पेट ही करें। ध्यान रहे इस जूस के सेवन के एक घंटे बाद ही आप किसी और चीज का सेवन करें।

 

 

 

गाजर, लहसुन और अल्फला का मिश्रित जूस

गाजर गैस, कब्ज और पाचन जैसी समस्या से निजात दिलाता है। लहसुन हमारे पेट संबंधी समस्याओं के लिए काफी लाभदायक है। लहसुन के सेवन से पेट में मौजूद विषाक्त पदार्थों को साफ करने में मदद मिलती है और गैस, कब्ज और पाचन जैसी समस्या से निजात मिलता है। अल्फाल्फा (रिजका) का सेवन पेट से संबधित बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। इस के उपयोग से गैस जैसी समस्या से निजात पाया जा सकता है।

गाजर, लहसुन और अल्फला का मिश्रित जूस बनाने की सामग्री :

एक कप गाजर का रस
एक फली कच्चा लहसुन (और पढ़ें - लहसुन खाने का फायदा)
एक डंठल अजवाइन
एक मुट्ठी अंकुरित अल्फला

गाजर, लहसुन और अल्फला का मिश्रित जूस बनाने की विधि

गाजर का रस, अजवाइन, लहसुन और अंकुरित अल्फला को मिक्सर में डाल कर अच्छी तरह जूस बना लें।

अब जूस को किसी साफ गिलास में निकाल लें और सेवन करें।

इस का सेवन सुबह खाली पेट ही करें। ध्यान रहे इस जूस के सेवन के दो घंटे बाद ही आप किसी और चीज का सेवन करें।

 

और पढ़ें ...