• हिं
  • हिं

पेट दर्द - Stomachache in Hindi

Dr. Rajalakshmi VK (AIIMS)MBBS

August 26, 2017

September 22, 2021

पेट दर्द
पेट दर्द

पेट में दर्द एक व्यक्ति के पेट के ऊपरी या निचले हिस्से में दर्द की भावना होती है जिसकी तीव्रता हल्के दर्द से लेकर अचानक तेज़ दर्द तक हो सकती है।

पेट में दर्द कुछ समय या लम्बे समय तक हो सकता है और तेज़ या कम भी हो सकता है। पेट में दर्द का स्थान ऊपरी हिस्से में दाएं या बाएं किनारे, निचले हिस्से में दाएं या बायां किनारे, ऊपरी, मध्य और निचले हिस्से में हो सकते हैं।

पेट में दर्द कई अलग-अलग कारकों के कारण हो सकता है जो आम से लेकर गंभीर हो सकते हैं जैसे अत्यधिक गैस से लेकर अन्य गंभीर स्थितियां जैसे अपेंडिसाइटिस। कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान भी पेट में दर्द का अनुभव होता है।

पेट के दर्द के कारण का निदान डॉक्टर आपके दर्द के इतिहास, शारीरिक परीक्षा और परीक्षण के आधार पर करते हैं।

पेट दर्द के प्रकार - Types of Stomach Pain in Hindi

पेट दर्द के निम्नलिखित प्रकार होते हैं -

  1. सामान्य दर्द
    सामान्य दर्द पेट के आधे या उससे अधिक हिस्से में होता है। यह दर्द कई अलग-अलग बीमारियों के साथ हो सकता है और आमतौर पर उपचार के बिना ठीक हो जाता है। अपच और पेट की समस्याएं सामान्य पेट दर्द का कारण होती हैं। घरेलु उपचार कुछ परेशानी को राहत देने में मदद कर सकता है। हल्का दर्द या कठोर दर्द जो समय के साथ ज़्यादा गंभीर हो जाता है, आंतों की रुकावट का लक्षण हो सकता है।
     
  2. स्थानीय दर्द
    स्थानीय दर्द पेट के एक हिस्से में होता है। अचानक और बदतर होने वाला स्थानीय दर्द एक गंभीर समस्या का लक्षण हो सकता है। अपेंडिसाइटिस का दर्द सामान्य दर्द के रूप में शुरू होता है लेकिन यह अक्सर पेट के एक हिस्से में होने लगता है। पित्ताशय की बीमारी या पेप्टिक अल्सर रोग का दर्द अक्सर पेट के एक हिस्से में शुरू होता है और उसी स्थान पर रहता है। स्थानीय दर्द जो धीरे-धीरे अधिक गंभीर हो जाता है वह पेट के किसी अंग की सूजन का लक्षण हो सकता है।
     
  3. ऐंठन (क्रैम्पिंग)
    क्रैम्पिंग एक प्रकार का दर्द है जो आता-जाता रहता है या होने की स्थिति या गंभीरता में बदलता रहता है। ऐंठन ज़्यादातर सामान्य ही होती है जब तक उसे गैस या मल पारित करने से राहत नहीं मिलती। कई महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान ऐंठन होती है। सामान्य ऐंठन आमतौर पर चिंता का कारण नहीं होती जब तक वह बदतर न हो, 24 घंटों से अधिक समय तक रहे या एक ही जगह पर हो। दस्त या अन्य सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं के साथ शुरू होने वाली ऐंठन काफी दर्दनाक हो सकती है लेकिन यह आमतौर पर गंभीर नहीं होती।

पेट दर्द के लक्षण - Stomach Pain Symptoms in Hindi

पेट दर्द अपने आप में एक लक्षण है जिसका मतलब यह हो सकता है कि व्यक्ति को कोई समस्या है जिसे इलाज की आवश्यकता है। अपने लक्षणों का ध्यान रखें क्योंकि इससे डॉक्टर को आपके दर्द का कारण जानने में मदद मिलेगी।
विशेष ध्यान दें अगर पेट में दर्द अचानक हो, खाने के बाद हो या दस्त के साथ हो।

यदि आपके पेट में बहुत तेज़ दर्द है या यदि यह निम्न लक्षणों में से किसी के साथ होता है, तो जल्द से जल्द चिकित्सक की सलाह लें -

  1. बुखार (और पढ़ें – बुखार के घरेलू उपचार)
  2. कई दिनों तक खाना खाने में असमर्थता
  3. मल को पारित करने में असमर्थता, खासकर यदि आपको उल्टी भी हो रही है
  4. उल्टी में रक्त आना
  5. मल में खून आना
  6. सांस लेने में तकलीफ
  7. दर्दनाक या असामान्य रूप से लगातार पेशाब आना
  8. गर्भावस्था के दौरान दर्द होना
  9. पेट स्पर्श करने में मुलायम महसूस होना
  10. पेट में चोट लगने के कारण दर्द होना
  11. दर्द कई दिनों तक रहना

ये लक्षण एक आंतरिक समस्या का संकेत हो सकते हैं जिसे जल्द से जल्द उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

पेट दर्द के कारण - Stomach Pain Causes in Hindi

पेट का दर्द कई कारणों की वजह से हो सकता है, इनमें से कुछ मुख्य कारण निम्नलिखित हैं -

  1. अपच (और पढ़ें - अपच का घरेलू इलाज)
  2. कब्ज
  3. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (एक विकार जो बड़ी आंत को प्रभावित करता है)
  4. अपेंडिसाइटिस
  5. पेट का फ्लू (वायरल गैस्ट्रोएन्टराइटिस)
  6. मासिक धर्म में ऐंठन
  7. फूड पॉइजनिंग
  8. फूड अलेर्जी
  9. लैक्टोज असहिष्णुता (दूध और डेयरी उत्पादों में पाए जाने वाली प्राकृतिक चीनी शरीर द्वारा न पचा पाना)
  10. अल्सर या फोड़ा
  11. पेल्विक क्षेत्र की सूजन की बीमारी
  12. हर्निआ
  13. पित्ताशय की पथरी
  14. एंडोमेट्रिओसिस (और पढ़ें – एंडोमेट्रिओसिस ट्रीटमेंट)
  15. क्रोहन रोग (पाचन तंत्र की सूजन)
  16. अल्सरेटिव कोलाइटिस
  17. मूत्र-पथ के संक्रमण

पेट के दर्द के कुछ अन्य कारण -

  1. कुछ दिल के दौरों और निमोनिया में भी पेट दर्द हो सकता है। (और पढ़ें – निमोनिया का घरेलू इलाज)
  2. पेल्विस या पेट और जांध के बीच के भाग की बीमारियों में पेट दर्द हो सकता है।
  3. कुछ त्वचा के चकत्ते और दाद भी पेट में दर्द कर सकते हैं।
  4. कुछ ज़हरीले कीड़ों के काटने के कारण भी पेट दर्द हो सकता है।

पेट दर्द से बचाव - Prevention of Stomach Pain in Hindi

पेट दर्द के कई कारण होते हैं जिनमें से कुछ को रोकना आपके वश में होता लेकिन जीवनशैली में कुछ बदलाव करने से आप खुद को किसी और वजह से पेट दर्द होने से रोक सकते हैं। निम्नलिखित आदतें आपकी मदद कर सकती हैं -

  1. खाने की गति कम करें
    यदि आप खाने को बड़ा-बड़ा काटकर और बिना चबाए खाते हैं, तो यह संभव है कि आप खाने के साथ हवा भी निगल लें जो आपके पेट में गैस बनती है जिससे पेट में दर्द हो सकता है। इसीलिए धीरे-धीरे चबाएं और निगलने में समय लें। 

    (और पढ़ें - पेट की गैस का घरेलू उपचार)

  2. भोजन के बीच के अंतराल को कम करें
    कुछ लोगों को भोजन के बीच के अंतराल के दौरान पेट में दर्द होता है। यदि आपको ऐसा होता है, तो पूरे दिन में छोटे-छोटे अंतराल में भोजन या स्नैक्स लें ताकि आपका पेट लंबी अवधि के लिए खाली न रहे। हालाँकि, इसके विपरीत भी हो सकता है। यदि आप ज़्यादा खा लेते हैं तो आपके पेट में दर्द हो सकता है।
     
  3. अपने खाने का ध्यान रखें
    वसायुक्त, तला हुआ या मसालेदार भोजन आपके पेट में परेशानी कर सकता है। यह आपके पाचन तंत्र की प्रक्रिया को धीमा कर सकते हैं और आपको कब्ज होने की अधिक संभावना हो सकती है। अगर आप सब्ज़िओं और फाइबर के साथ अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थ खाते हैं तो आपका पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है।
     
  4. अपने चिकित्सक से सलाह लें
    यदि आपको दूध पीने के बाद या कोई निश्चित चीज़ खाने के बाद पेट में ऐंठन होती है तो अपने डॉक्टर से सलाह लें। ऐसा हो सकता है आपको डेयरी उत्पादों या किसी अन्य प्रकार के भोजन के प्रति असंवेदनशीलता हो। आपके डॉक्टर आपको इनसे दूर रहने के तरीकों का पता लगाने में मदद कर सकते हैं।
     
  5. अधिक पानी पिएँ
    पानी आपके पेट की गतिविधि ठीक रखता है ताकि आप नियमित रहें। जब आपको प्यास लगे तो पानी पिएँ और सोडे वाले पेय पदर्थों (जैसे कोल्ड-ड्रिंक) का सेवन कम करें। कार्बन युक्त पेय पदार्थ गैस कर सकते हैं जिससे पेट दर्द हो सकता है। अल्कोहल और कैफीनयुक्त पेय पदार्थ कुछ लोगों के पेट में परेशानी पैदा कर सकते हैं इसलिए यदि आपको भी इनसे परेशानी होती है तो इनसे दूर रहें।
     
  6. अपने हाथ धोएं
    पेट के दर्द का एक सामान्य कारण जठरान्त्रशोथ (पाचन तंत्र में संक्रमण और सूजन के कारण होने वाली एक बीमारी) है जिसे कभी-कभी पेट का वायरस कहा जाता है। इससे दस्त, मतली, बुखार या सिरदर्द हो सकते हैं। रोगाणुओं को फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका यह है की विशेषकर खाने से पहले, शौचालय जाने के बाद और सार्वजनिक स्थानों पर उपस्थित होने पर बार-बार अपने हाथ धोएं।
     
  7. तनावमुक्त रहें
    कुछ लोगों को तनाव के कारण दिल की धड़कन में वृद्धि होती है या उनकी हथेलियों में पसीना आने लगता है या उन्हें पेट दर्द होता है। इसीलिए तनावमुक्त रहें और ऐसा करने के लिए आप व्यायाम, ध्यान लगाना आदि चीज़ें कर सकते हैं। यदि वे काम नहीं करते हैं, तो अपने चिकित्सक से सलाह लें।

पेट दर्द का इलाज - Stomach Pain Treatment in Hindi

दर्द के कारणों के आधार पर विभिन्न प्रकार के डॉक्टरों द्वारा पेट दर्द का इलाज किया जा सकता है। यदि दर्द गंभीर है तो आपको अस्पताल में आपातकालीन स्थिति में भर्ती होना पड़ सकता है जहां आपातकालीन दवा चिकित्सक आपकी देखभाल करेंगे।

आप पेट के दर्द को कम करने के लिए एक हीटिंग पैड का इस्तेमाल कर सकते हैं। कैमोमाइल या पुदीने की चाय गैस को कम करने में मदद कर सकती हैं। हालाँकि पेट दर्द के लिए निम्लिखित उपचार किए जा सकते हैं -

केमिस्ट से मिलने वाली दवाएं

  1. गैस के दर्द के लिए, सिमेथिकोंन युक्त दवाओं से पेट दर्द में राहत मिल सकती है।
  2. गैस्ट्रोइसोफ़ेगल रिफ़्लक्स रोग (जीईआरडी), से होने वाली जलन के लिए आप एंटासिड या एसिड कम करने वाली दवाओं का उपयोग कर सकते हैं।
  3. कब्ज के लिए, एक रेचक औषधि आपकी मदद कर सकती है।
  4. दस्त से ऐंठन के लिए, लोपरामाइड या बिस्मथ सब-सैलिसिलेट वाली दवाएं आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकती हैं। (और पढ़ें - डायरिया के घरेलू उपचार)
  5. अन्य प्रकार के दर्दों के लिए, एसिटामिनोफेन सहायक हो सकती है लेकिन एस्पिरिन, इबुप्रोफेन या नैरोप्रोसेन जैसी गैर-स्टेरायडल एंटी-इन्फ्लैमेटरी दवाओं से दूर रहें।

आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए अगर आपको इनमें से कुछ लक्षण होते हैं -

  1. गंभीर पेट में दर्द या दर्द कई दिनों तक रहना।
  2. मतली और बुखार होना।
  3. मल में खून आना।
  4. पेशाब करने में दर्द होना।
  5. मूत्र में खून आना।
  6. मल पारित नहीं कर पाना और उलटी होना।
  7. दर्द होने से पहले पेट में चोट लगना।
  8. पेट में जलन होना और दवाओं से ठीक नहीं हो पाना।

पेट दर्द कितने समय तक रहना चाहिए? - How long should stomach pain last in Hindi

साधारण तौर पर पेट दर्द एक या दो दिन में ठीक हो जाना चाहिए. अगर इससे ज़्यादा रहता है या फिर इनमें से कोई शिकायत है तो डॉक्टर की सलाह लें 

  • दर्द का बंद होने पर बार बार लौटना 
  • दस्त जैसे लक्षण जो एक दो दिनों से ज्यादा चल रहे हैं तो 
  • कम या ज्यादा बार पेशाब कर रहे हैं और इसमें दर्द होता है तो 
  • अनजाने में वजन घटाया हो तो

इसके अलावा अगर आपको दर्द होना शुरू हो गया है जो आपको पहले कभी नहीं हुआ है और बंद नहीं हो रहा है, या फिर दर्द के साथ साथ आप सुस्त भी महसूस कर रहे हैं, तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

पेट में हल्का हल्का दर्द क्यों होता है? - Why is there a slight pain in the stomach in Hindi?

पेट दर्द कई कंडीशनों में हो सकता है. हालांकि, इसकी मुख्य वजह इंफेक्शन, असामान्य बढ़त सूजन, रुकावट और आंतों में परेशानी होना है. गले, आंतों और खून में इंफेक्शन के कारण बैक्टीरिया आपके पाचन तंत्र में प्रवेश कर सकता है, जिसके चलते पेट में दर्द हो सकता है.

बाएं तरफ पेट में दर्द क्यों होता है? - Why does the stomach hurt on the left side in Hindi?

कई मामलों में पेट के निचले बाएं हिस्से में लगातार दर्द डायवर्टीकुलिटिस के कारण होता है. डायवर्टिकुला छोटे पाउच होते हैं जो कोलन में कमजोर जगहों पर दबाव से बनते हैं. डायवर्टिकुला एक तरह की नॉर्मल कंडीशन हैं और ये 50 साल से ज्यादा उम्र के बाद होती है.

पेट के निचले हिस्से में दर्द होने का क्या कारण है? - What causes pain in the lower abdomen in Hindi?

शरीर में ज्यादा हवा जाने, हाई फैट फू़ड से पेट खाली होने में देरी होती है. यहां तक ​​​​कि तनाव भी पेट की सूजन और पेट के निचले हिस्से में दर्द की वजह बन सकता है.

इसके अलावा भी निम्न कारण है जिसके चलते पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है -

  • कब्ज
  • गैस्ट्रोएन्टराइटिस
  • कलाइटिस
  • गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी)
  • अंतड़ियों में रुकावट
  • इलीअस
  • गैस्ट्रोपैरेसिस
  • क्रोहन बीमारी
  • डाइवर्टिक्युलाइटिस
  • संवेदनशील आंतों की बीमारी

पेट दर्द के लिए एंटीबायोटिक टेबलेट - Antibiotic tablet for stomach pain in Hindi

दस्त से ऐंठन के लिए, लोपरामाइड या बिस्मथ सबसालिसिलेट वाली दवाएं आपको बेहतर महसूस करा सकती हैं. अन्य प्रकार के दर्द के लिए एसिटामिनोफेन मददगार हो सकती है.



संदर्भ

  1. Sherman R. Abdominal Pain. In: Walker HK, Hall WD, Hurst JW, editors. Clinical Methods: The History, Physical, and Laboratory Examinations. 3rd edition. Boston: Butterworths; 1990. Chapter 86
  2. Fields JM, Dean AJ. Systemic causes of abdominal pain.. Emerg Med Clin North Am. 2011 May;29(2):195-210, vii. PMID: 21515176.
  3. National Health Service [Internet]. UK; Stomach ache
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Abdominal pain
  5. Healthdirect Australia. Abdominal pain. Australian government: Department of Health

पेट दर्द के डॉक्टर

Dr. Raghu D K Dr. Raghu D K गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
14 वर्षों का अनुभव
Dr. Porselvi Rajin Dr. Porselvi Rajin गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
16 वर्षों का अनुभव
Dr Devaraja R Dr Devaraja R गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव
Dr. Vishal Garg Dr. Vishal Garg गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
14 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

पेट दर्द की दवा - Medicines for Stomachache in Hindi

पेट दर्द के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

पेट दर्द की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Stomachache in Hindi

पेट दर्द के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

translation missing: hi.lab_test.sub_disease_title

translation missing: hi.lab_test.test_name_description_on_disease_page

पेट दर्द पर आम सवालों के जवाब

सवाल 3 साल से अधिक पहले

पेट दर्द क्यों होता है?

Dr. Haleema Yezdani MBBS , General Physician

पेट में दर्द होने की असंख्य वजहें हैं। यूं तो ज्यादातर पेट दर्द गंभीर नहीं होते और कुछ समय बाद बिना किसी दवाई के ठीक भी हो जाते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि पेट दर्द के प्रति लापरवाही बरती जाए। बहरहाल पेट में दर्द की कुछ वजहें हैं उल्टी, कब्ज, गैस्ट्रोएन्टराइटिस और तनाव। इसके अलावा पेट दर्द किसी गंभीर बीमारी का लक्षण भी हो सकते हैं जैसे छोटी या बड़ी आंत से संबंधित समस्या, गुर्दे में प्रॅाब्लम वगैरह।

सवाल 3 साल से अधिक पहले

पेट में दर्द कब होता है?

Dr. Ayush Pandey MBBS, PG Diploma , General Physician

पेट में दर्द सुबह, दोपहर या शाम कभी भी और किसी भी समय हो सकता है। यह पूर्णतया इसकी वजह पर निर्भर करता है। कुछ लोगों को खासकर सुबह या रात के समय पेट में दर्द होता है। इसकी वजह का पता लगाकर इसका उपचार किया जा सकता है। अगर पेट में दर्द बहुत तेज हो, तो इसे नजरंदाज किया जाना सही नहीं होता।

सवाल 3 साल से अधिक पहले

रात में पेट दर्द क्यों होता है?

Dr. B. K. Agrawal MBBS, MD , कार्डियोलॉजी, सामान्य चिकित्सा, आंतरिक चिकित्सा

रात के समय पेट में दर्द होना बहुत ही आम समस्या है। यह दर्द पाचन तंत्र से संबंधित है। हालांकि इसे हल्के में लेना सही नहीं है। कई बार रात के समय पेट में दर्द होना कैंसर होने का लक्षण भी होता है। लेकिन इस लक्षण के साथ-साथ कैंसर के अन्य लक्षण भी नजर आते हैं। अतः रात के समय सिर्फ पेट में दर्द हो तो अन्य लक्षणों पर भी गौर करें। साथ ही अपने पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के लिए रात के समय अपने खानपान का भी ख्याल रखें। इससे रात के समय हो रहे पेट दर्द से राहत मिलेगी।

सवाल 3 साल से अधिक पहले

पेट दर्द से तुरंत राहत कैसे पाएं?

Dr. Braj Bhushan Ojha BAMS , गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक

पेट दर्द से तुरंत आराम चाहिए तो वजह जानकर उसका इलाज करें जैसे-

  • एंग्जाइटी की वजह से पेट दर्द है तो कुछ देर के लिए आंखें बंद करके बैठ जाएं और गहरी सांस लें। कुछ देर अपनी सांस की गति को नोटिस करें। संभव हो तो फ्रेश एयर में ऐसा करें। दर्द से तुरंत आराम मिल जाएगा।
  • गैस की वजह से पेट में दर्द है तो गैस को रिलीज करें। अकसर हम आसपास मौजूद लोगों की वजह से ऐसा करने से संकोच करते हैं। लेकिन पेट दर्द कम करने के लिए गैस रिलीज करना बहुत जरूरी है।
  • अगर आपको पीरियड्स की वजह से पेट में दर्द है तो हॅाट वॅाटर बैग को अपने पेट पर रखें। इससे थोड़ी देर में ही आराम मिल जाएगा।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ