myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जब कुछ लोग सामाजिक स्थितियों जैसे- स्कूल, कॉलेज, ऑफिस या सबसे हाल में साइबर स्पेस में एक निश्चित शक्ति रखते हैं और वे लोग दूसरे लोगों को असहाय, कमजोर और शक्तिहीन महसूस करवाने की कोशिश करते हैं तो इसे ही डराना-धमकाना या बुलिंग कहते हैं। बुलिंग का तात्पर्य है जानबूझकर और बार-बार किसी व्यक्ति के साथ मौखिक या शारीरिक रूप से नकारात्मक व्यवहार करना, जिसका उद्देश्य उस व्यक्ति को डराना-धमकाना या नुकसान पहुंचाना होता है।

बुलिंग मुख्य रूप से 2 प्रकार की होती है: पहला है- प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष और दूसरा है- संबंधपरक। प्रत्यक्ष बुलिंग में जहां पीड़ित व्यक्ति के साथ शारीरिक और मौखिक रूप से दुर्व्यवहार किया जाता है, वहीं अप्रत्यक्ष बुलिंग अधिक घातक हो सकती है। इसमें पीड़ित व्यक्ति के खिलाफ व्यंगात्मक टिप्पणी करना, निंदात्मक ढंग से पेश की जाने वाली कोई तस्वीर उस व्यक्ति की सहमति के बिना ऑनलाइन पोस्ट करना, जानबूझकर किसी को समूह में हो रही चर्चा से बाहर करना, उस व्यक्ति के बारे में अफवाह या गलत बातें करना या उसे बदनाम करना या उसकी झूठी निंदा करना शामिल है।

साइबर बुलिंग या फिर फोन पर, किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण या सोशल मीडिया के माध्यम से की जाने वाली डराने-धमकाने की घटनाएं प्रत्यक्ष (उदाहरण- मौखिक दुर्व्यवहार यानी गाली-गलौज करना और धमकी देना) और अप्रत्यक्ष (उदाहरण- पीड़ित व्यक्ति को ध्यान में रखते हुए बदनामी भरा या गलत तरीके का जोक करना) दोनों रूप में हो सकती है। जो लोग बुलिंग या डराने-धमकाने का शिकार होते हैं उनके लिए यह एक अत्यंत तनावपूर्ण अनुभव होता है जिसके परिणामस्वरूप पीड़ित व्यक्ति चिंता, बेचैनी, आत्मसम्मान के मुद्दे और डिप्रेशन का शिकार होने के साथ ही मादक द्रव्यों का भी सेवन करने लग जाता है।

अनुसंधान से पता चलता है कि बुलिंग के व्यवहार की जड़ें सेहत और परिवार से जुड़ी समस्याओं में हो सकती हैं। उदाहरण के लिए जो बच्चे अपने घर पर अपमानजनक व्यवहार का अनुभव करते हैं या फिर परिवार में किसी को अत्याचारपूर्ण या अपमानजनक व्यवहार करते हुए देखते हैं, वे बच्चे स्कूल में या खेल के मैदान में इसी तरह के व्यवहार को अंजाम देते हैं।

जिन लोगों के साथ बुलिंग हो रही है उनके साथ-साथ जो व्यक्ति बुलिंग कर रहा है यानी धौंस दिखा रहा है उस पर इसका नकारात्मक परिणाम देखने को मिलता है। अनुसंधान से पता चलता है कि दूसरों को डराने-धमकाने और धौंस दिखाने वाला व्यक्ति आगे चलकर शराब की आदत में पड़ जाता है और बड़े होने पर उन्हें दूसरों से दोस्ती करने में भी मुश्किल होती है।

यूएस नैशनल एसोसिएशन के सामाजिक कार्यकर्ताओं के लिए पॉल आर स्मोकोव्स्की और केली हॉलैंड कोपैज ने "बुलिंग इन स्कूल: एन ओवरव्यू ऑफ टाइप्स, इफेक्ट्स, फैमिली कैरेक्टेरिस्टिक्स एंड इंटरवेंशन स्ट्रैटिजिज" में लिखा है, "एक स्टडी में यह बात सामने आयी कि दूसरों को डराने-धमकाने और धौंस दिखाने वाले लोगों में से करीब एक तिहाई लोगों में एडीएचडी (एटेंशन डेफिसिट हाइपरऐक्टिविटी डिजीज) देखने को मिलता है, 12.5 प्रतिशत में डिप्रेशन और 12.5 प्रतिशत में विपक्षी आचरण विकार था। एक अध्ययन में पाया गया कि दूसरों को बुलि करने वाले लोगों में पीड़ितों की तुलना में अत्यधिक शराब पीने और अन्य मादक पदार्थों का सेवन करने की आदत अधिक लग जाती है। शोध में पाया गया है कि वयस्कों के रूप में, दूसरों को डराने-धमकाने और बुलि करने वाले लोगों में अक्सर एक्सटर्नलाइजिंग व्यवहार (शारीरिक आक्रामकता, नियमों की अवहेलना, धोखाधड़ी, चोरी और संपत्ति का विनाश) और अति सक्रियता देखने को मिलती है। और आखिर में दूसरों को धमकाने वाले लोगों में बचपन में असामाजिक विकास के साथ जोड़ा जाता है।"

यह जानने के लिए आगे पढ़ें कि डराना-धमकाना (बुलिंग) हमारे दिमाग पर एक स्थायी प्रभाव कैसे डालता है और दूसरों को बुलि करने वाले लोगों से निपटने के लिए क्या टिप्स अपना सकते हैं।

  1. बुलिंग के प्रकार - Types of bullying in hindi
  2. बुलिंग का सेहत पर असर - Health effects of bullying in hindi
  3. बुलिंग से निपटने के टिप्स - Tips to deal with bullying in hindi
  4. आखिर में ये बातें याद रखें - Takeaway
  5. डराने-धमकाने का सेहत पर होता है कैसा असर? के डॉक्टर

बुलिंग या डराने-धमकाने से जुड़ा व्यवहार अलग-अलग तरह का होता है। एडवांसेज इन पीडियाट्रिक्स नाम के पियर-रिव्यूड जर्नल में प्रकाशित आर्टिकल के मुताबिक,
 

बुलिंग के प्रकार संकेत
शारीरिक बुलिंग ढकेलना, मारना, धक्का-मुक्की करना, लात या ठोकर मारना, गला दबाना या पीड़ित की कोई चीज ले लेना
मौखिक बुलिंग  अलग-अलग नाम से बुलाना, धमकाना, मजाक उड़ाना, नुकसान पहुंचाने की नीयत से छेड़खानी करना, मनोवैज्ञानिक रूप से धमकाना
संबंधपरक बुलिंग अफवाह उड़ाना, चुगली करना, सामान के साथ तोड़फोड़ करना, पीड़ित को बाहर करने के लिए साथियों को राजी करना
साइबर बुलिंग किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस या सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए पीड़ित को धमकी देना, परेशान करना, ताने मारना

 

(सोर्स: रश्मि शेतगिरी द्वारा 'बच्चों के बीच बुलिंग एंड विक्टिमाइजेशन')  

बुलिंग या डराना-धमकाना प्रत्यक्ष हो सकता है- धमकाने वाला व्यक्ति पीड़ित को चोट पहुंचाने, नीचा दिखाने या अपमानित करने के इरादे से सीधे चोट पहुंचाता है, धमकाता है, मारता है, ब्लैकमेल करता है या उनकी चीजें चुरा लेता है। धमकाना या बुलिंग करना अप्रत्यक्ष या संबंधपरक भी हो सकता है- जहां धमकाने वाला (बुलि करने वाला) व्यक्ति किसी तीसरे व्यक्ति को पीड़ित के बारे में कुछ कहता है या जानबूझकर पीड़ित को चोट पहुंचाने के मकसद से एक समूह में उसे कुछ अनजान रूप से अनदेखा करता है।

साइबरबुलिंग या ऑनलाइन किसी को डराना-धमकाना, बुलिंग का सबसे नया रूप है, हालांकि इसके कई लक्षण सामान्य बुलिंग की तरह ही अपरिवर्तित हैं। धमकाने या बुलि करने वाला व्यक्ति मोबाइल फोन, टेक्स्ट मेसेज, इन्स्टेंट मेसेज, ब्लॉग और फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब जैसे वेबसाइट या ई-मेल के माध्यम से अपना प्रभाव या शक्ति दिखाकर पीड़ित को बुलि करने की कोशिश करता है।

  • पीड़ित की अनुमति के बिना पीड़ित के निजी ईमेल, टेक्स्ट मेसेज या फोटो को पोस्ट या फॉरवर्ड करना
  • पीड़ित के बारे में ऑनलाइन अफवाह फैलाना
  • मेसेज, ईमेल या पोस्ट के माध्यम से पीड़ित को धमकाना
  1. स्कूल-कॉलेज में बुलिंग की घटनाएं - Bullying in school college in hindi
  2. वर्कप्लेस या ऑफिस में बुलिंग - Bullying at workplace in hindi

स्कूल-कॉलेज में बुलिंग की घटनाएं - Bullying in school college in hindi

जब से हम कल्पना कर सकते हैं उस समय से स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थानों में डराने-धमकाना (बुलिंग) की घटनाएं जारी हैं। स्कूल अथॉरिटीज की तरफ से इस समस्या के बारे में सक्रिय उपाय करने और यह सुनिश्चित करने के बावजूद कि हर छात्र धमकाने (बुलिंग) के परिणामों को अच्छी तरह से समझ ले, यह अब भी एक समस्या बनी हुई है।

अध्ययनों से पता चलता है कि हर 5 में से 1 बच्चे को स्कूल में बुलिंग का सामना करना पड़ता है। बुलिंग किस प्रकार की है- प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष या संबंधपरक, इस पर ध्यान दिए बिना हम यह जानते हैं कि बुलिंग की घटना में 2 लोग शामिल होते हैं- एक बुलि यानी धमकाने वाला व्यक्ति जो आमतौर पर या तो शारीरिक रूप से अधिक शक्तिशाली होता है या सामाजिक रूप से अधिक पसंद किया जाता है और दूसरे हैं- दर्शक या तमाशाई। दर्शक, बुलि करने वाले व्यक्ति के वे साथी हो सकते हैं जो डराने-धमकाने की प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग नहीं लेते लेकिन हस्तक्षेप करने की कोशिश किए बिना इस घटना के गवाह होते हैं।

वर्कप्लेस या ऑफिस में बुलिंग - Bullying at workplace in hindi

बहुत से लोगों को लगता है कि डराने-धमकाने या बुलिंग की घटनाएं सिर्फ छात्र समूह में स्कूल-कॉलेज तक की देखने को मिलती हैं, लेकिन आपकी यह सोच सच्चाई से बहुत दूर है। आपके ऑफिस का वातावरण भी समान रूप से विषाक्त हो सकता है। कार्यस्थल पर धमकाने या बुलिंग की घटनाओं में असभ्यता या वाद-विवाद की घटनाएं शामिल हो सकती हैं, लेकिन इसके अधिक जटिल और कपटी होने की संभावना भी है। इसमें शामिल हो सकते हैं:

  • बेवजह किसी पर चढ़ना
  • उस व्यक्ति के काम के प्रति योगदान को स्वीकार करने से इनकार करना
  • पीड़ित व्यक्ति से लोगों को अलग करने की कोशिश करना
  • पीड़ित व्यक्ति के बारे में दुर्भावनापूर्ण अफवाहें फैलाना

यह शैक्षिक संस्थानों में होने वाली बुलिंग से अलग है क्योंकि जरूरी नहीं कि यहां पर पीड़ित पारंपरिक रूप से कमजोर हो। यहां पर हो सकता है कि पीड़ित व्यक्ति की ताकत ही बुलि करने वाले व्यक्ति को ये सब करने के लिए ट्रिगर करे।

शारीरिक रूप से डराने धमकाने या बुलिंग करने के सेहत पर स्पष्ट प्रभाव नजर आ सकते हैं जैसे- खरोंच, चोट के निशान आदि। मौखिक और ऑनलाइन बुलिंग का शरीर पर कोई निशान नहीं दिखता है लेकिन ये भी उतना ही हानिकारक और नुकसानदेह होते हैं जितना शारीरिक बुलिंग। बुलिंग का व्यक्ति की मानसिक सेहत पर कैसा प्रभाव नजर आता है उस पर एक नजर डालें:

मानसिक सेहत पर बुलिंग का असर
अध्ययनों से पता चला है कि जिन बच्चों को साथियों द्वारा डराया-धमकाया या तंग किया जाता है उनमें वयस्क होने पर महत्वपूर्ण मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं देखने को मिलती हैं- यहां तक ​​कि उन बच्चों की तुलना में भी अधिक मानसिक समस्याएं जिनके माता-पिता या देखभाल करने वालों ने उनके साथ गलत व्यवहार किया था। अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि तंग करने वाले व्यक्ति और पीड़ित दोनों में अवसाद, घबराहट से जुड़ी बीमारी और व्यवहार और भावनात्मक समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है।

(और पढ़ें - घबराहट या नर्वसनेस दूर करने में काम आएंगे ये तरीके)

बुलिंग और ब्रेन पर इसका असर
इस विषय पर आश्चर्यजनक रूप से बहुत अधिक शोध किया गया है। यह दर्शाता है कि बुलिंग का शिकार पीड़ित न केवल डराने-धमकाने और बुलिंग की घटना के दौरान चिंता जैसी नकारात्मक भावनाओं का अनुभव करता है, बल्कि इस व्यवहार को वयस्क होने पर भी आगे जारी रखता है। इसका अनिवार्य रूप से यह मतलब हुआ कि मनोवैज्ञानिक आघात के अलावा, लंबे समय तक चलने वाली बुलिंग की घटनाओं की वजह से किशोरावस्था में विकसित हो रहे पीड़ित के ब्रेन के आकार में जीवन भर के लिए बदलाव हो जाता है।

हमारा मस्तिष्क विभिन्न जटिल घटकों से बना होता है। यह दो गोलार्द्धों में विभाजित है जिसमें प्रत्येक गोलार्द्ध में एक पूंछवाला (कौडेट) और एक कवच (पुटामेन) होता है जो महत्वपूर्ण कार्यों को संपादित करता है। एक अभूतपूर्व खोज में, यह पता चला कि लंबे समय तक जारी बुलिंग की घटना का शिकार होने वाले पीड़ित व्यक्ति ने अधिक मात्रा में मस्तिष्क के खंड़ों को खोया, उनके बाएं कौडेट का आकार बदल गया- जो सीखने के लिए जिम्मेदार होता है और बाएं पुटामेन का भी- जो गतिविधियों के लिए जिम्मेदार होता है।

एक दूसरे अध्ययन से पता चला है कि लंबे समय तक बुलिंग का अनुभव करने की वजह से जो तनाव उत्पन्न होता है उसमें स्ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल के कारण नुकसान हो सकता है। हाइपोथैलेमस मस्तिष्क के बेस में मौजूद एक छोटा सा क्षेत्र है जो शरीर की तनाव प्रतिक्रिया को नियंत्रित करता है। खतरे का पता लगने पर, हाइपोथैलेमस सक्रिय हो जाता है ताकि एड्रेनालाईन का उत्पादन कर सके, जो शरीर की "लड़ाई या उड़ान" हार्मोन है। यदि खतरा लंबे समय तक जारी रहता है तो कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) खून में रिलीज होने लगता है, जो शरीर को तनाव के संपर्क में आने पर अधिकतम प्रदर्शन करने की अनुमति देता है।

डराने-धमकाने या बुलिंग की घटनाएं अगर लंबे समय तक जारी रहें तो अधिवृक्क ग्रंथियां (ऐड्रिनल ग्लैंड्स) कोर्टिसोल को रिलीज करना जारी रखती हैं जिसके परिणामस्वरूप शरीर हर वक्त सतर्कता की स्थिति में रहता है। चूंकि आराम करने और इससे उबरने का समय नहीं मिलता इसलिए याददाश्त, अनुभूति, भूख और नींद जैसे कार्यों को धक्का पहुंचता है। कोर्टिसोल के लगातार रिलीज होने से पूरे शरीर में मौजूद रिसेप्टर साइट को भी नुकसान होता है और साथ ही साथ तंत्रिका कोशिकाओं की मृत्यु भी हो सकती है।

अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जो बुलिंग की घटना का शिकार हो चुका है या फिर अगर आपने खुद भी इसका सामना किया है तो ऐसी कई चीजें हैं जो इस बारे में की जा सकती हैं:

  • अक्सर, हम अपने दिमाग में इन स्थितियों को कम आंक लेते हैं। लेकिन इसकी बजाए हमें किसी से इस बारे में बात करनी चाहिए- फिर चाहे वह कोई काउंसलर हो, दोस्त हो, परिवार का सदस्य हो या मनोवैज्ञानिक। किसी विश्वासपात्र व्यक्ति से बात करने से आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि आप जिस चीज से गुजर रहे हैं वह एक वास्तविक समस्या है।
  • किसी डायरी या जर्नल में आपके साथ जो घटनाएं हो रही हों उनका एक लिखित रिकॉर्ड रखें। यदि आप बाद में इस बारे में कोई कार्रवाई करने का निर्णय लेते हैं तो उसमें यह महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।
  • इस बात की संभावना अधिक है कि आप जिस संगठन में काम करते हैं या फिर जहां पढ़ाई करते हैं वहां पर डराने-धमकाने (बुलिंग) की घटनाओं के संबंध में स्पष्ट नीतियां होंगी। इन नीतियों के बारे में खुद को अपडेट रखें।
  • यह देखने में कितना ही चुनौतीपूर्ण या डरावना अनुभव क्यों न हो, आपको किसी उच्च अधिकारी से इस मामले में बात करते हुए मामले को आगे बढ़ाने और कार्रवाई करने पर विचार करना चाहिए।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि बुलिंग की घटनाओं को हराने के लिए, हमें यह महसूस करना होगा कि यह संरचनात्मक है और इसे खत्म करने के लिए लगातार गैर-रैखिक प्रयासों की आवश्यकता होगी। स्कूल में भावनात्मक और संगठनात्मक वातावरण को बढ़ावा देकर इसे हासिल किया जा सकता है और ऑफिस या काम के वातावरण में संवेदनशीलता, पारस्परिक सम्मान और सहिष्णुता को बढ़ावा देकर पूरा किया जा सकता है।

बुलिंग को रोकने, वर्जित करने और सक्रिय रूप से अस्वीकार करने की आवश्यकता है। इसके साथ-साथ इसमें संगठित प्रतिक्रिया, जिसमें पीड़ित व्यक्ति का समर्थन और धमकाने वाले व्यक्ति को दिया जाने वाला सही परामर्श शामिल हो जिसमें बुलि करने वाले व्यक्ति को यह समझाया जाए कि उसने पीड़ित को जो नुकसान पहुंचाया है उसे ऐसा करने का अधिकार नहीं है। ऐसा करने से छात्रों की उपलब्धि और कर्मचारियों की कार्य से जुड़ी उत्पादकता में सुधार करने में मदद मिलेगी जो इच्छाशक्ति की हानि से संबंधित अनुपस्थिति के कारण प्रभावित होती है।

किशोरावस्था के दौरान, व्यक्ति का युवा मस्तिष्क अविश्वसनीय गति से विस्तार कर रहा होता है। एक समय पर डराने-धमकाने (बुलिंग) को व्यक्ति के "चरित्र विकास" या दिमाग को भरने की स्थिति के रूप में देखा जाता था, विशेषकर कॉलेजों में। लेकिन मस्तिष्क से जुड़े अनुसंधान हमें मदद कर रहे हैं यह समझने में कि बुलिंग, एक गंभीर आघात की तरह है जो मस्तिष्क में आजीवन होने वाले संरचनात्मक और रासायनिक परिवर्तनों का कारण बनता है।

इसमें कोई शक नहीं कि बुलिंग का शिकार होने वाले सभी पीड़ितों के व्यवहार या ब्रेन में लंबे समय तक किसी तरह का नुकसान नहीं होता है। लेकिन जो लोग बुलिंग करते हैं वे न केवल जीवनभर के लिए इन चीजों को अपने साथ आगे ले जाते हैं, बल्कि उन्हें किसी प्रकार के हिंसक व्यवहार के रूप में आगे की पीढ़ी को हस्तांतरित भी कर देते हैं जिस कारण यह दुष्चक्र जारी रहता है। इस तरह के मामलों में तत्काल हस्तक्षेप और पीड़ित के साथ-साथ बुलि करने वाले व्यक्ति को भी मदद की जरूरत होती है।

Dr. Naeem Shaikh

Dr. Naeem Shaikh

मनोविज्ञान
5 वर्षों का अनुभव

Dr. SIBANANDA MISHRA

Dr. SIBANANDA MISHRA

मनोविज्ञान
25 वर्षों का अनुभव

Geetika Kapoor

Geetika Kapoor

मनोविज्ञान
12 वर्षों का अनुभव

Nishtha Narula

Nishtha Narula

मनोविज्ञान
3 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें