myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

क्या आपने आहार या एक्सरसाइज में कोई बदलाव न करने के बावजूद खुद को अत्यधिक तनावग्रस्त, थका हुआ महसूस किया है और वजन बढ़ने पर भी ध्यान दिया है? अगर जवाब हाँ है तो संभव है कि आपके शरीर में कोर्टिसोल का स्तर गड़बड़ हो सकता है। अधिक स्पष्ट रूप से कहा जाए तो, ये स्तर बहुत अधिक हो सकता है।

(और पढ़े - संतुलित आहार चार्ट)

कोर्टिसोल का उत्पादन जीवन के लिए आवश्यक है, ये हमें अपने आस पास के माहौल के प्रति प्रेरित, जागृत और अनुक्रियाशील (तुरंत और सकारात्मक प्रतिक्रिया देने के योग्य) रखने में मदद करता है, रक्त परिसंचरण में असामान्य रूप से कोर्टिसोल का स्तर अधिक बने रहना खतरनाक हो सकता है और लंबे समय में समस्याओं को बढ़ा देता है।

कोर्टिसोल को अक्सर "तनाव हार्मोन" (स्ट्रेस हार्मोन) कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अधिक तनाव के समय शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ता है। हालांकि, कोर्टिसोल तनाव के दौरान जारी एक हार्मोन से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। कोर्टिसोल और शरीर पर इसके प्रभाव को समझने से आपको अपने हार्मोन को संतुलित करने और अच्छे स्वास्थ्य को प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

(और पढ़े - हार्मोन असंतुलन का इलाज)

इस लेख में विस्तार से कोर्टिसोल के बारे में बताया गया है। आप जानेंगे कि कोर्टिसोल हार्मोन क्या है, यह कैसे बनता है, इसके कार्य और प्रभाव क्या-क्या हैं।

  1. कोर्टिसोल क्या है - Cortisol kya hai in hindi
  2. कोर्टिसोल हार्मोन के कार्य - Cortisol function in hindi
  3. कोर्टिसोल हार्मोन के प्रभाव - Cortisol effects on body in hindi

क्या आपने कभी तनाव महसूस किया है? हम में से अधिकांश ने यह अनुभव किया है। तनाव हमारे शरीर की सभी प्रणालियों पर गहरा प्रभाव डालता है। जब आप तनाव में होते हैं, तो आपका शरीर कोर्टिसोल नामक हार्मोन जारी करके प्रतिक्रिया देता है।

कोर्टिसोल, ग्लुकोकोर्टिकोइड्स नामक हार्मोन के समूह से संबंधित है। इस समूह के हार्मोन कोशिकाओं में मेटाबॉलिज्म (चयापचय) के विनियमन में शामिल होते हैं और वे शरीर में अलग-अलग प्रकार के तनाव को नियंत्रित करने में भी हमारी सहायता करते हैं।

(और पढ़े - तनाव दूर करने के लिए योग)

कोर्टिसोल, जिसे हाइड्रोकोर्टिसोन, कोर्टिसोन और कॉर्टिकोस्टेरोन भी कहा जाता है, सभी ग्लुकोकोर्टिकोइड्स हैं। स्टेरॉयड हार्मोन शरीर में प्राकृतिक रूप से कोलेस्ट्रॉल से संश्लेषित होकर बने हार्मोन की एक श्रेणी है। सामूहिक रूप से, वे शरीर में कई प्रकार के कार्य करते हैं। कोर्टिसोल ब्लड प्रेशर, प्रतिरक्षा कार्य और शरीर की एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रक्रियाओं को सुचारु बनाए रखने में मदद करता है।

(और पढ़े - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय)

कोर्टिसोल शरीर में दोनों एड्रेनल ग्रंथियों (जो प्रत्येक किडनी के उपर स्थित है) द्वारा बनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण हार्मोन है और यह हमारे जीवन के लिए बहुत आवश्यक हार्मोन है। मस्तिष्क के अंदर स्थित पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा एड्रेनल ग्रंथियों से जारी होने वाली कोर्टिसोल की मात्रा नियंत्रित की जाती है।

कम मात्रा में कोर्टिसोल के स्राव के कई लाभ होते हैं। यह आपको शारीरिक और भावनात्मक चुनौतियों के लिए तैयार करता है, ट्रॉमा के समय आपके शरीर में ऊर्जा का विस्फोट उत्पन्न करता है और जब आपका शरीर संक्रामक बीमारियों का सामना करता हैं तो यह प्रतिरक्षा गतिविधि को बढ़ाता है। इस कोर्टिसोल से प्रेरित सक्रिय स्थिति के बाद, आपका शरीर एक आवश्यक विश्राम की प्रतिक्रिया से गुजरता है।

कोर्टिसोल का उत्पादन तब समस्या बन जाता है जब आप निरंतर या लंबे समय तक तनाव की स्थिति में रहते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कोर्टिसोल का निरंतर उत्पादन होता है। कोर्टिसोल के लंबे समय तक अधिक स्तर पर बने रहने के कारण आपको हाई ब्लड शुगर, हाई बीपी, संक्रमण से लड़ने की क्षमता में कमी आदि समस्या हो सकती है और शरीर में वसा के जमाव में वृद्धि हो सकती है, जिससे वजन बढ़ सकता है।

(और पढ़े - वजन नियंत्रित करने के आसान उपाय)

दूसरे शब्दों में, कम समय के लिए यदि कोर्टिसोल स्राव में वृद्धि होती है तो यह हमें जीवित रहने में सहायता कर सकता है, लेकिन लंबी अवधि तक अगर इसका स्तर ऊंचा रहता है तो प्रभाव एकदम विपरीत हो सकते हैं।

कोर्टिसोल, सभी स्टेरॉयड आधारित हार्मोन की ही तरह, एक शक्तिशाली रसायन है। स्टेरॉयड-आधारित हार्मोन का कार्य करने का एक सामान्य तंत्र होता है जिसमें वे कोशिकाओं में प्रवेश करते हैं और डीएनए में जीन की गतिविधियों को संशोधित करते हैं।

(और पढ़े - हार्मोन थेरेपी कैसे होती है)

आपके शरीर में कोर्टिसोल की मात्रा आपके खाने के पैटर्न और आप कितनी शारीरिक गतिविधियों में शामिल होते हैं। एक सामान्य नियम के रूप में, आपके शरीर में कोर्टिसोल का उच्चतम स्तर सुबह उठने के ठीक बाद होता है और शाम को सबसे कम स्तर हो जाता है क्योंकि आप सोने लगते हैं।

कोर्टिसोल का मुख्य कार्य कोशिका को प्रोटीन और फैटी एसिड से ग्लूकोज बनाने के लिए उत्तेजित करना है। इस प्रक्रिया को ग्लुकोनियोजेनेसिस के रूप में जाना जाता है। कोर्टिसोल मस्तिष्क के लिए ग्लूकोज की बचत करता है और शरीर को जमा वसा से ऊर्जा के रूप में फैटी एसिड का उपयोग करने के लिए मजबूर करता है। अन्य शब्दों में, यह शरीर को वसा, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट को प्रयोग योग्य ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करता है।

कोर्टिसोल रिसेप्टर्स हमारे पूरे शरीर में बिखरे हुए होते हैं, लगभग हर सेल में वे पाए जाते हैं और विभिन्न आवश्यक कार्यों की पूर्ति करते हैं। रक्त प्रवाह में शामिल होने पर, कोर्टिसोल शरीर के कई अलग-अलग हिस्सों में जाकर कार्य कर सकता है और निम्नलिखित कार्यों को करने में शरीर की मदद कर सकता है -

“फाइट या फ्लाइट” नामक प्रतिक्रिया के लिए भी कोर्टिसोल की आवश्यकता होती है जो कथित खतरों के प्रति शरीर की एक स्वस्थ, प्राकृतिक प्रतिक्रिया है। कोर्टिसोल के उत्पादन की मात्रा आपके शरीर द्वारा नियंत्रित की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इसका संतुलन सही है।

कोर्टिसोल शरीर में सकारात्मक प्रभाव के साथ-साथ प्राकृतिक मात्रा में गड़बड़ होने पर कुछ नकारात्मक प्रभाव भी उत्पन्न कर सकता है। हालांकि, कोर्टिसोल को अक्सर नकारात्मक रूप में देखा जाता है, लेकिन हमें जीने के लिए इसकी आवश्यकता होती है। समस्या यह है कि दवाएं, व्यायाम की कमी, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और तनाव का उच्च स्तर आदि हमारे शरीर में कोर्टिसोल की मात्रा बहुत अधिक बड़ा सकते हैं।

(और पढ़े - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

कुछ दुर्लभ मामलों में, कोर्टिसोल का स्तर अधिक होने पर यह ट्यूमर  (आमतौर पर “बिनाइन” ट्यूमर जो कैंसर रहित होते हैं) का मूल कारण हो सकता है। आपके डॉक्टर आपके कोर्टिसोल के स्तर का पता करने के लिए नियमित परीक्षणों का आदेश दे सकते हैं और इसे कम करने के तरीकों के संबंध में आपको कुछ सुझाव दे सकते हैं।

कोर्टिसोल हार्मोन का स्तर दिन भर स्वाभाविक रूप से बढ़ता और घटता रहता है। एड्रेनल ग्रंथि विकार तब उत्पन्न हो सकते हैं जब एड्रेनल ग्रंथियां बहुत अधिक या बहुत कम कोर्टिसोल उत्पन्न करती हैं। कुशिंग सिंड्रोम का कारण अधिक कोर्टिसोल उत्पादन होता है, जबकि एड्रिनल इंसफिशिएंसी (एआई) का कारण बहुत कम कोर्टिसोल उत्पादन है।

कुशिंग सिंड्रोम
जब पिट्यूटरी या एड्रेनल ग्रंथियां लंबे समय तक कोर्टिसोल के असामान्य रूप से उच्च स्तर का उत्पादन करती हैं, तो आपके डॉक्टर (एंडोक्राइनोलॉजिस्ट) कुशिंग सिंड्रोम नामक गंभीर, पुराने विकार की पहचान कर सकते हैं।

कुशिंग सिंड्रोम आमतौर पर एड्रेनल या पिट्यूटरी ग्रंथियों पर होने वाले ट्यूमर के कारण होता है और अक्सर तेजी से वजन बढ़ने, चेहरे की सूजन, थकान, पेट और पीठ के ऊपरी हिस्से के आसपास जल प्रतिधारण या सूजन जैसे लक्षणों का कारण बनता है। यह 25 से 40 वर्ष की आयु के बीच की महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है, हालांकि किसी भी उम्र और लिंग के लोगों में यह स्थिति विकसित हो सकता है।

एड्रेनल इंसफिशेंसी
असामान्य रूप से कम कोर्टिसोल के स्तर का अनुभव करने के परिणामस्वरूप एडिसन रोग, एड्रेनल इंसफिशिएंसी या एड्रेनल थकान के रूप में जानी जाने वाली बीमारी हो सकती है। एडिसन की बीमारी भी दुर्लभ है और इसे ऑटोम्यून्यून बीमारी का ही एक प्रकार माना जाता है, क्योंकि यह प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा शरीर के अपने स्वस्थ ऊतकों पर हमला करने का कारण बनती है।

(और पढ़े - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

इस मामले में, एड्रेनल ग्रंथियों के भीतर ऊतक स्वयं क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, जो एड्रेनल हार्मोन का उत्पादन कैसे करते हैं, इस प्रक्रिया में बदलाव कर देते हैं। एडिसन की बीमारी के कुछ लक्षण अनिवार्य रूप से कुशिंग रोग के लक्षणों के विपरीत हैं, क्योंकि वे कोर्टिसोल में वृद्धि के बजाय में कमी के कारण पैदा होते हैं। एडिसन के लक्षणों में थकान, वजन घटना, मांसपेशियां पतली होना, मूड स्विंग और त्वचा में बदलाव शामिल हो सकते हैं।

(और पढ़े - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें