myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कई बच्चों को दूध पीना पसंद नहीं होता है। बच्चे दूध का रंग देखकर दूध पीने से मना कर देते हैं या दूध में स्मेल आ रही है, कहकर बहाने बनाते हैं। ऐसे में बच्चे दूध में मौजूद पोषक तत्वों से वंचित रह जाते हैं। इसलिए हर माँ अपने बच्चे के लिए बाजार में मौजूद कई प्रकार के मिश्रित स्वाद वाले उत्पादों का सहारा लेती है।

किंतु इन उत्पादो को हम जितना अच्छा और पोषक मानते हैं, ये बच्चो के स्वास्थ्य के लिए उतने भी अच्छे नहीं होते हैं। इसलिए बच्चों के ज़रूरी पोषण और स्वास्थ्य के लिए आप घर पर मिलने वाले प्राकृतिक उत्पादों को बच्चों के दूध में स्वाद बढ़ाने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

  1. बादाम का दूध बच्चों के लिए - Almond Milk for Toddlers in Hindi
  2. बच्चे को दूध पिलाएं गाजर डालकर - Carrot Milk for Kids in Hindi
  3. चॉकलेट मिल्क है बच्चे को दूध पिलाने का तरीका - Chocolate Milk for Babies in Hindi
  4. बच्चे को दूध पिलाना हो तो मिलाएँ खजूर और दूध - Dates Milk for Kids in Hindi
  5. बच्चे को दूध पिलाने के लिए डालें सूखे मेवे - Dry Fruits Milk for Toddlers in Hindi
  6. शिशु को दूध पिलाने के लिए दें हल्दी दूध - Turmeric Milk for Toddlers in Hindi
  7. बच्चों के लिए शहद दूध - Honey Milk for Toddlers in Hindi
  8. केसर दूध बच्चों के लिए - Kesar Milk for Toddlers in Hindi
  9. दूध में अगर ये मिलाएँगे तो आपके बच्चे दूध पीने से कभी मना नहीं करेंगे के डॉक्टर

बादाम का दूध बच्चों के लिए दूध की स्वास्थ्यप्रद क़िस्मों में से एक है। यह पाचन और मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

इसे बनाने का तरीका - 

  • रात भर एक कप पानी में 8-10 बादाम को भिगोएं।
  • अगली सुबह उनको छीलें और पीसकर उबले हुए दूध के साथ मिक्स करें।
  • आप छलनी से छानकार उसमें चीनी या गुड़ का पाउडर मिलाएँ।
  • ध्यान दें कि बादाम का पाउडर अच्छी तरह से मिक्स हो जाए।
  • आप इस दूध को ठंडा और गुनगुना करके अपने बच्चे को पिलाएँ। 

(और पढ़ें – बादाम के फायदे और नुकसान)

गाजर विटामिन और बीटा कैरोटीन से परिपूर्ण होता है जो आंखों, बालों और त्वचा के लिए बहुत अच्छे होते हैं।

इसे बनाने का तरीका - 

  • आधी गाजर को कस लें। अब 1 कप दूध उबाल लें और उसे ठंडा होने दें।
  • अब एक साथ गाजर और दूध को मिक्स करें। अब इस प्राकृतिक नारंगी गाजर के दूध को छान लें। क्योंकि यह स्वाभाविक रूप से मीठा है तो आप इसमें गुड़ या चीनी ना डालें। जबकि स्वाद और पोषण का महत्व बढ़ाने के लिए कूटे हुए बादाम मिला सकते हैं।
  • गाजर का दूध ठंडा भी परोसा जा सकता है। 

(और पढ़ें – गाजर के फायदे और नुकसान)

यह बच्चों के लिए सबसे आसान दूध किस्मों में से एक है।

इसे बनाने का तरीका - 

  • आधा चम्मच चॉकलेट सिरप को एक गिलास गर्म या ठंडा दूध में डालें और अच्छी तरह से मिक्स करें।
  • आपका स्वादिष्ट चॉकलेट दूध तैयार है। 

(और पढ़ें – गाय का दूध या बकरी का दूध – बेहतर स्वास्थ्य के लिए किसके हैं अधिक फायदे)

इसे बनाने का तरीका - 

  • गर्म पानी में 5 खजूर भिगोएं।
  • इसके बीज निकालें और दूध के साथ बलेंडर में मिक्स कर लें।
  • स्वादिष्ट मीठा खजूर का दूध तैयार है और अब इसको छान लें!

आप खजूर की जगह इसका सिरप भी उपयोग कर सकते हैं। बस आधा चम्मच सिरप को गर्म या ठंडे दूध में मिक्स करें। 

(और पढ़ें – खजूर (छुहारे) खाने के फायदे और नुकसान)

इसे बनाने का तरीका - 

  • सभी सूखे मेवों का पाउडर बना लें और और एक एयर टाइट कंटेनर में स्टोर करें।
  • अब इस पाउडर के एक से दो स्पून उबले हुए दूध में मिक्स करें।
  • यह एक आसान तरीका है अपने बच्चों को सूखे मेवे देने का। (और पढ़ें – वज़न बढ़ाने के लिए खाएँ सूखे मेवे)

आप इन सूखे मेवों के साथ शहद या खजूर सिरप का उपयोग भी कर सकते हैं।

यह दूध प्रतिरक्षा को भी बढ़ाता है। हल्दी दूध ठंड और सर्दियों में खाँसी के खिलाफ बहुत अच्छा काम करता है। हल्दी दूध में एंटीबैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण होते हैं, जो बच्चों के लिए बहुत अच्छे रहते है।

इसे बनाने का तरीका - 

  • एक कप दूध उबाल लें और उसमें एक चुटकी हल्दी की मिलाएँ। 
  • आप गुड़ या चीनी मिलाकर गुनगुना हल्दी का दूध अपने बच्चे को दे सकते हैं।

(और पढ़ें – हल्दी दूध बनाने की विधि, फायदे और नुकसान)

उबलते हुए दूध में एक चम्मच शहद को अच्छे से मिलाएँ और अपने बच्चे को पिलाएँ। 

(और पढ़ें – क्या बच्चों की सर्दी-खांसी का इलाज है शहद?)

केसर दूध बनाने के लिए उबलते हुए दूध में एक चुटकी केसर को मिलाएँ। आप चीनी या गुड़ का पाउडर भी डाल सकते हैं। 

(और पढ़ें – केसर के फायदे और नुकसान)

Dr. Dhavan Patel

Dr. Dhavan Patel

सामान्य चिकित्सा

Dr. Priya Patel

Dr. Priya Patel

सामान्य चिकित्सा

Dr. Giri Prasath

Dr. Giri Prasath

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...