myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बच्चों को सर्दी और खांसी होना एक आम बात है। हल्की ठंड भी बच्चों में सर्दी खांसी की वजह बन जाती है। इस दौरान रोगाणुओं के संपर्क में आने और उनसे लड़ने से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ने में मदद मिलती है। सामान्यतः बच्चों की खांसी दो सप्ताह में ठीक हो जाती है। कई बार खांसी के लिए सामान्य वायरस जिम्मेदार होते हैं, ऐसे में आपके बच्चे को इलाज की आवश्यकता नहीं होती है। सामान्य तरह के वायरस से होने वाली खांसी को आप घर पर ही ठीक कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बच्चों की देखभाल कैसे करें)

इस लेख में आपको बच्चों की खांसी के लिए घरेलू उपचार के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। साथ ही आपको बच्चों की खांसी के घरेलु उपाय, नुस्खें और अन्य घरेलू इलाज के बारे में भी बताया गया है।   

(और पढ़ें - शिशु टीकाकरण चार्ट)

  1. बच्चों की खांसी के लिए घेरलू उपाय - Bache ki khansi ka desi upay
  2. बच्चों की खांसी के लिए घरेलू नुस्खे - Bache ki khansi ka gharelu nuskha
  3. बच्चों की खांसी के लिए क्या करना चाहिए - Bache ki khasi jar se kaise khatam kare
  4. बच्चों की खांसी को ठीक करने वाले अन्य तरीके - Baccho ki khansi ko theek karne vale anya gharelu tarike

बच्चों की खांसी के घरेलू उपाय हैं गरारे - Baccho ki khansi ke liye gharelu upay me shamil hai garare karna

गरारे करना आपके बच्चों की खांसी को आराम पहुंचाने का सबसे आम और प्रचलित तरीका है। इस दौरान आप दिन में करीब दो से तीन बार बच्चे को गर्म पानी से गरारे कराएं। खांसी से जल्द आराम पाने के लिए आप बच्चे के गरारे वाले पानी में एक चम्मच नमक भी डाल सकते हैं। इससे बच्चे को गले में होने दर्द से राहत मिलती है। ध्यान दें कि बच्चे के गरारे का पानी हल्का गर्म हो, ज्यादा गर्म पानी से बच्चे का मुंह जल सकता है।

(और पढ़ें - गरारे करने का तरीका

बच्चों की खांसी के लिए करना चाहिए हल्दी दूध का उपयोग - Baccho ko khansi me de haldi vala doodh

गले में दर्द और खांसी के घरेलू उपाय में सदियों से हल्दी वाले दूध का उपयोग किया जाता है। घरघराहट वाली खांसी में हल्दी का दूध एक बेहतर उपाय माना जाता है। हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण मौजूद होते हैं, जो वायरल इन्फेक्शन को दूर करने का काम करता है। आप गर्म दूध में आधी चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर बच्चे को रात के समय दें और ऐसा तब तक करें, जब तक बच्चे को खांसी में आराम ना आ जाए।  

(और पढ़ें - हल्दी दूध बनाने की विधि

बच्चों की खांसी का घेरलू नुस्खा है शहद वाली चाय - Baccho ki khansi ka gharelu nuskha hai honey tea

कुछ रिसर्च से पता चला है कि शहद के उपयोग से खांसी में आराम मिलता है। रात के समय होने वाली खांसी के इलाज पर हुए अध्ययन में शोधकर्ताओं ने तीन ग्रुप में बच्चों को विभाजित किया पहले ग्रुप के बच्चों को खांसी की दवा दी गई वहीँ दुसरे ग्रुप के बच्चों को खांसी के लिए शहद दिया गया और तीसरे ग्रुप के बच्चों को खांसी के लिए कोई भी उपचार नहीं किया गया। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि शहद खांसी की दवाओं के मुकाबले बच्चों को काफी आराम पहुंचाता है। 

(और पढ़ें - हल्दी और शहद के फायदे)

बच्चों की खांसी के घरेलू उपाय में शहद के उपयोग के लिए आप गर्म पानी या हर्बल चाय में शहद की दो चम्मच मिक्स करके बच्चों को दे सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान दें कि एक साल से कम आयु के बच्चे को शहद नहीं देना चाहिए। 

(और पढ़ें - दूध और शहद पीने के फायदे)

छोटे बच्चों की खांसी के घरेलू उपाय है पर्याप्त तरल - Baccho ki khansi ke gharelu nuskhe me shamil hai pani

जब आपका बच्चा बीमार हो तो उसको पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाते रहें। पानी से शरीर बीमारी से लड़ने के लिए सक्षम बनता है और वायुमार्ग में नमी बनी रहती है। कुछ अध्ययन के मुताबिक एक साल के बच्चे को 0.23 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। इसके बाद जैसे जैसे बच्चे की आयु साल दर साल बढ़ती है उसकी आवश्यकता भी दोगुनी और तीगुनी होती जाती है। उदाहरण के तौर पर दो साल के बच्चों को दिन में 0.23 लीटर दो बार पानी पीने की आवश्यकता होती है। 

(और पढ़ें - पानी कैसे पीना चाहिए)

अगर बच्चा दूध पीने से माना करें या खाना कम खाएं तो ऐसे में बच्चे को अधिक पानी पीने की आवश्यकता होती है। ऐसे में आप बच्चे को हर एक या दो घंटे में पानी पीन के लिए दे सकती हैं, लेकिन इस दौरान आप बच्चे को जबरदस्ती पानी न पिलाएं। 

(और पढ़ें - गुनगुना पानी पीने के फायदे)

छोटे बच्चों की खांसी के लिए घरेलू नुस्खे में करें अदरक का उपयोग - Baccho ki khansi ka gharelu nuskha hai adrak

एंटी वायरल गुणों की वजह से अदरक को खांसी के इलाज के लिए अच्छा माना जाता है। बाजार में अदरक के गुणों वाली कई मीठी टॉफी आती है, लेकिन आप बच्चे को खांसी से जल्द आराम देने के लिए अदरक को सीधे तौर पर भी दे सकते हैं। अदरक के साथ शहद को मिलाकर आप इसके स्वाद को और अधिक बढ़ा सकते हैं। 

(और पढ़ें - अदरक की चाय के फायदे)

बच्चे को अदरक देने के लिए आप करीब एक चौथाई चम्मच अदरक को कद्दूकस कर लें। इसके बाद इसमें दो चम्मच सेब का सरीका, एक चम्मच शहद और दो चम्मच पानी को मिलाकर सिरप तैयार करें और दिन में दो बार बच्चे को दें। 

(और पढ़ें - काढ़ा बनाने की विधि)

बच्चों की खांसी का घरेलू उपचार है ह्यूमिडी फायर - Baccho ki khansi ka gharelu upchar hai humidifier

शुष्क वातावरण व कम नमी से गले में बलगम और वायुमार्ग शुष्क हो जाती है। इस तरह की समस्या सूखी खांसी को को बढ़ा सकती है। ह्यूमिडी फायर (कमरे में नमीं बनाए रखने वाला यंत्र) बच्चों की खांसी को ठीक नहीं करता, लेकिन ये खांसी से होने वाली परेशानी को कम कर देता है। ह्यूमिडी फायर रात के समय बच्चों को खांसी की वजह से होने वाली परेशानी को कम करने का कार्य करता है। इससे बच्चे के वायुमार्ग में नमी बनी रहती है और वह साफ रहता है। 

(और पढ़ें - सूखी खांसी दूर करने के उपाय)  

बच्चों की खांसी का घरेलू इलाज है भाप - Baccho ki khansi ke gharelu ilaaj me shamil hai steam

गीली खांसी की वजह से बच्चे की बंद नाक और वायुमार्गों को खोलने के लिए भाप का उपयोग करें। गर्म भाप बच्चे की नाक को बंद करने वाले बलगम को ढीला करके, उसे आसानी से बाहर निकालने में मदद करता है। बच्चे की खांसी को आराम पहुंचाने के लिए आप एक बड़े बर्तन में पानी गर्म करें और इस पानी में नीलगिरी के तेल (eucalyptus oil) की कुछ बूंदों को मिला दें। इसके बाद सावधानी से बच्चे को सांस के जरीए भाप को अंदर लेने के लिए दें। इसके आलावा भाप लेने के अन्य तरीके में आप बाथरूम के अंदर गर्म पानी को रख दें और दरवाजा बंद कर दें, कुछ देर बाद जब बाथरूम में भाप इकट्ठा हो जाए तो बच्चे को अपने साथ थोड़ी देर के बाथरूम में ही बैठाए। इससे भी बच्चा आसानी से भाप को ले पाता है। 

(और पढ़ें - भाप लेने का तरीका)

बच्चों की खांसी ठीक करने का उपाय वैपर रब बाम - Baccho ki khansi ka gharelu upay hai vapor rub balm

बच्चों की खांसी के लिए बाजार में कई तरह के वैपर रब बाम मौजूद हैं। भारतीय महिलाएं कई वर्षों से अपने बच्चों में इस बाम का उपयोग करती आ रही है। वैपर रब बाम में कई तरह के हर्बल ऑयल मौजूद होते हैं, जिससे खांसी के समय नाक बंद होने की समस्या में आराम मिलता है। इसको आप घरघराहट और गीली खांसी में इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बलगम निकालने के उपाय)

इसके इस्तेमाल के लिए आप बच्चे के सीने में वैपर रब बाम से मसाज करें। इसके अलावा बच्चे के ऊपरी श्वसन तंत्र में बाम लगाने से बलगम से बंद नाक खुल जाती है। आप बच्चे की पीठ और गले पर भी इस बाम को लगा सकते हैं, लेकिन बच्चे की आंखों के आसपास व नाक के अंदर बाम लगाने से बचाना चाहिए। 

(और पढ़ें - खांसी में क्या खाएं)

बच्चों की खांसी को ठीक करने व उनकी परेशानी को कम करने के लिए अन्य कई उपायों को अपनाया जा सकता है। इनमें से कुछ घरेलू उपायों को निम्नलिखित बताया गया है।

(और पढ़ें - अजवाइन का पानी पीने के फायदे)

और पढ़ें ...